LEUCODERMA / VITILIGO / SAFED DAAG ; CURE OF A FEMALE CASE


A lady aged 45 years have been cured from LEUCODERMA / WHITE SPOTS/ SAFED DAAG by AYURVEDIC TREATMENT based on ETG AyurvedaScan findings and other innovative examination procedures like Ayurveda Blood Examination and Ayurveda Urine Examination and Ayurveda Thermal Scanning invented by our research center at KANPUR, UP, INDIA.

Photographic evidence shows the progress of cure, shooted time to time according to the need , here is shooted phorographs of begginning and end of the cure process.
surekha-verma-1
surekhavarama21111b
OLYMPUS DIGITAL CAMERA
The above and many other photographs are taken time to time for evidencing the process of cure by Ayurvedic medications and management accordingly mentioned in Ayurvedic classics.
She was having white spots almost upper and lower extremeties, corners of lips, below nose and some other sites of body parts.

Below photograph is taken recently, which is showing the complete cure of the LEUCODERMA / WHITE SPOTs PROBLEMS, which she have yester years, now is totally cured by AYURVEDA treatment.
OLYMPUS DIGITAL CAMERA
LATEST Technology of Ayurveda ETG AyurvedaScan bases treatment always fruitful and result oriented in LEUCODERMA DISORDERS.

Tribhuvan Kirti Ras ; an Ayurvedic classical remedy for Winter Season


Every year winter season comes and while its commencement, it brings many health problems with the persons almost every one of all ages. Those who are living in those areas, where almost all months of a year, winter or winter like atmosphere persists, they also feel problems from more cold.

In those countries, where atmosphere of winter is persists around the year, in this region the skin of the person becomes more harder than comparatively to person of the tropical region. The persons, who are living in a cold atmosphere, their skin quality is somehow changed comparatively to those who are living in tropical regions and where cold or winter persists only few days or few months.

Case studies with the help of ETG AyurvedaScan system reveals that traces recorded from European countries and Tropical regions patients are differs from elevation , which is due to hard and soft skin of the patient belongs to specific regions. Where cold season is very prominent the skin of the person are thick and deposition of fat layer in under skin persists.

Although the diagnosis of disorders are same, ayurvedic fundamentals evaluations are same and no differences seen in between the results except the hights and longitudinal appearence of traces, which is due to skin of the subjects undergone for the test.

However, this dose not matter. Here TRIBHUVAN KIRTI RAS is beneficial in the following ailing conditions;

1- Cures exposure of cold either from cold of winter or wetting in rain
2- Used in almost all kinds of FEVER of any origin, whatever they may be.
3- Lower down HIGH FEVER just like PARACETAMOL do in feverish conditions.
4- suppressed sweat comes out after use of this remedy
5-= Very fast acts in Just appeared fever
6- acts fast in Phlegm-cough-Fever conditions
7- Useful in Pneumonia and Pneumonia like syndromes
8- Influenza of any origin and anywhere
9- Useful in small pox and measles and like syndromes

Doses; One /two tablets should be taken four hourly with tea or warm water or Ginger Tulasi tea

Ayurveda have many remedies for winter ailing conditions, TRIBHUVAN KIRTI RAS is one of them. Those who desire they should use this safe remedy.

Aletris Ferinosa ; a Homoeopathic Remedy for Women ; एलेट्रिस फेरीनोसा ; महिलाओं के लिये एक अमृत तुल्य औषधि


This is one of the Female remedy of Homoeopathic medical system, used almost in many clinical conditions in the ailments related to Female Genital systems.

1- It is well suited to those who are aneamic and feels tired all the times with the complaints of profuse Leucorrhoea
2- Digestive disorders , week digestion with aversion to food

3- a safer remedy for Vomitting during pregnancy

4- Menstruation with severe pain as if happened in labour

5- Prufuse and heavy Menstruatuion flow

6- Premature Menstruation with any complaints

7- Habitual Tendency of Abortion

8- Prolapses of Uterus or like syndromes

Those who are suffering with these complaints / syndromes, they should think over use of this valuable Homoeopathic remedy.

ALETRIS FERINOSA should be taken in ” Mother Tincture ” or “Q” potency. The Mother tincture or Q doses are 05 to 10 minims / drops with one or two spoonful of fresh and clean water three or four times a day in general but repeatition of doses can be frequent depending upon  the intensity of the complaints and problems patient have.

A safe and without any side effects remedy for women.

1x, 2x,3x, 6x decimal potencies or 30 and 200 centicimal scale potencies can be taken for stable cure with the consultation of a Homoeopathic physician.

ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन तकनीक द्वारा सिर के बालों के गिरने से पैदा गन्जापन का आयुर्वेदिक मौलिक सिद्धान्तों के द्रूष्टिकोण का पुष्टिकरण ; Confirmation about the trueness of Ayurvedic Fundamentals in BALDNESS Cases based on the studies of ETG AyurvedaScan


आयुर्वेद के मौलिक सिध्धन्त शाश्वत है और यह सिध्धान्त जिनका प्रतिपादन आयुर्वेद की चिकित्सा व्यवस्था के लिये किया गया है आदि काल में भी सत्य थे, आज भी है और आगे भी रहेन्गे /

ETG AyurvedaScan maps and scans of the area of KAPHA DOSHA always shows the Normal configeration of traces r

ETG AyurvedaScan maps and scans of the area of KAPHA DOSHA always shows the Normal configeration of traces r

मैने और मेरे सहयोगी टीम के सदस्य हकीम मोहम्मद शरीफ अन्सारी जी ने ऐसे बहुत से रोगियों का समय बध्ध होकर आबजर्वेशन किया है, जिनके सिर के बाल नदारत होकर गन्जे हो गये थे और उनमें तरह तरह की बनावटॆ पैदा हो गयी थी /

Circulation towards head is an abnormal condition according to ETG AyurvedaScan , which means problems related to MENTAL, INTERNAL BRAIN, EXTERNAL HEAD, EMOTIONAL and PSYCHOLOGICAL DISORDERS etc

Circulation towards head is an abnormal condition according to ETG AyurvedaScan , which means problems related to MENTAL, INTERNAL BRAIN, EXTERNAL HEAD, EMOTIONAL and PSYCHOLOGICAL DISORDERS etc

हमने ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन डाटा आधारित निदान्ग्यानात्मक आबजरवेशन में निम्न बातें पायी हैं ;

१- गन्जापन उन्ही रोगियों में देखने को मिला है जिनको यह निदान किया गया कि उनको Circulation towards Head की तकलीफ है /
२- यह उन रोगियों में कम देखने को मिला जिनका Circulation सामान्य रहा और पैरों की तरफ रहा है /
३- जो रोगी “पित्त” दोष से affected रहे , उनको माथे की ओर यानी फ्रन्टल रीजन से लेकर दोनों कानों की सिर की ओर मिलाती हुयी मिडिल लाइन तक “गन्जापन” की शिकायत रही /
४- जो रोगी ” कफ” दोश से affected रहे , उनको “गन्जापन” सिर के पिछले हिस्से, जिसे चान्द भी कहते है, में देखने को मिला /
५- जो रोगी “वात ” दोष से affected रहे , उनको Forehead के ऊपर बाल एक गुच्छे के रूप में मौजूद रहे हैं / यह बालों के गुच्छे वात दोष की intemsity  की उपस्तिथि के अनुसार साइज में छोटी अथवा बड़ी दिखाई देती है /

BALDNESS areas shown in the sketch for easy understading. Diagnosis of disorders either physical or mental becomes easy  in view of treatment and also for studies and confirmation of PRAKRUTI, TRIDOSHA, TRIDOSHA BHED , SAPTA DHATU  and many other features

BALDNESS areas shown in the sketch for easy understading. Diagnosis of disorders either physical or mental becomes easy in view of treatment and also for studies and confirmation of PRAKRUTI, TRIDOSHA, TRIDOSHA BHED , SAPTA DHATU and many other features

६- भ्राजक पित्त जो पान्च पित्त के भेदों मे से एक है , ऐसे रोगियों मे हमेशा कम इन्टेन्सिटी लेवल पर पाया गया है , यह लेवल २० या ३५  ई०वी० के दर्मियान पाया गया है /

७- स्नेहन कफ , जो कफ दोश का एक भेद है , वह भी बहुत अधिक इन्ट्न्सिटी में पया गया है /

८- व्य़ान वायु , जो बात दोष का एक भेद है, सामान्य से अधिक अवस्था में पाया जाता है /

८- अस्थि धातु, जो सप्त धातुओं में से एक धातु भेद है,  का इन्टेन्सिटी लेवल बहुत हाई लेवल पर पाया गया है /

सारे डाटा लेकर जब ऐसे रोगियों का इलाज किया गया तो उनको गन्जेपन की अवस्था में अवश्य आराम मिला /

हम इस दिशा में और अधिक रिसर्च कार्य कर रहे हैं , ताकि आयुर्वेद के दृष्टिकोण से र ई०टी०जी० आयुर्वेदस्कैन आधारित डाटा के सम्मिलित सहयोग से  Baldness के इलाज में अपेक्षित सफलता मिल सके /

मानसिक रोगी का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन का ट्रेस रिकार्ड ; Psychosomatic Disorders of a patient , studies of ETG AyurvedaScan Traces


लगभग ३०० किलोमीटर दूर से आये एक पुरूष रोगी का नीचे दिया गया ट्रेस रिकार्ड है, जो दिनान्क १८ अक्टूबर २०११ को अन्कित किया गया / मरीज ने अनुरोध किया कि उसे अपने घर वापस जाने के लिये कानपुर सेन्ट्रल स्टेशन से चार पान्च घन्टे बाद रेल गाड़ी मिलेगी , इसलिये वह चाहता है कि उसकी रिपोर्ट बनाकर दवा आदि की जैसी व्यवस्था हो सके , सीमित समय के अन्दर करके दे तो बहुत अच्छा होगा, ताकि वह वापसी की गाड़ी पकड़ कर अपने घर वापस जा सके /
मैने उसका अनुरोध मान लिया और कहा कि अर्जेन्ट रिपोर्ट बनवाने में उसे रूपये ४०० अतिरिक्त और अधिक लग जायेन्गे और लगभग तीन घन्टे के अन्दर रिपोर्ट मिल जायेगी /

मैने रोगी की यह बात सुनकर कहा कि पहले आप अपना तुरन्त ETG AyurvedaScan करायें और फिर बाद में जब रिपोर्ट बन जायेगी तब देखून्गा कि क्या क्या आपके शरीर के अन्दर बीमारियां निकली हैं / मैने इस रोगी का पहले ई०टी०जी० रिकार्ड किया फिर उसके बाद जितनी जल्दी हो सका step by step सारे procedure निपटा करके लगभग ३ घन्टे बाद उसकी रिपोर्ट बन पायी /

इस व्यक्ति के निम्न रोगों का निदान ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के अध्ध्यन के पश्चात निर्धारित हुआ/

१- रोगी को लेटने [on lying position] की स्तिथि में High Blood Pressure की tendency है जिसके कारण उसे रात में नीन्द न आने की तकलीफ है /
२- रोगी का रक्त का प्रवाह सिर की ओर अधिक है , ऐसा ट्रेस रिकार्ड ‘ई’ मे देखने में आया है / जब भी इस तरह की पाजिटिव ट्रेसेस होती है , यह मानसिक रोग यानी psychological disorders दर्शाती हैं /
३- ३- ‘ई’, ‘एफ’, ‘जी’ ट्रेसेस रिकार्ड देखने में पाजिटिव और निगेटिव डिफ्लेक्सन एक जैसे नेचर के हैं / ‘जी’ ट्रेस के ट्रेस अन्र्तराल को देखने से पता चलता है कि इस व्यक्ति को “डायबिटीज” की बीमारी है / लगभग २८० पीका की नाप से यह स्थापित हुआ कि, जिस समय इस व्यक्ति का ट्रेस रिकार्ड किया गया था, उस समय इस व्यक्ति के रक्त में रक्त शर्करा को इसी सीमा में उपास्तिथि होना चाहिये / इसी समय तुरन्त ही Glucometer से जान्च करने में पता चला कि व्यक्ति की रक्त शर्करा Blood sugar level 268 mg per dilution उपस्तिथि है /

४- इसे हाई ब्लड प्रेशर की तकलीफ है, ट्रेस ‘a’ को देखने से पता चला कि रोगी को ब्लड प्रेशर की बीमारी है /

इसे अन्य बीमारियां भी निकली, जो उसकी रिपोर्ट बनने के बाद बतायी गयी /

रोगी ने बाद मे सारी बात बतायी कि उसकी पत्नी पागल है और उसका पारिवारिक जीवन सुखी नहीं है / उसे खाना भी हॊटलों में जाकर खाना पड़ता है /

मैने उसे प्रेस्क्रिप्सन लिख कर आयुर्वेदिक दवाये खाने के लिये कहा और उससे कहा कि उसे शारीरिक बीमारी कम है और मानसिक अधिक / इसलिये मानसिक दबाव जितना ही कम से कम होगा , उसकी तकलीफ उतनी ही तेजी से ठीक होगी /

Similarly another one case of Psychosomatic disorders case came for the treatment on 18th October 2011. His ETG AyurvedaScan Trace rcords are  having  similar pattern as to earlier. Although he have some other PSYCHOLOGICAL PROBLEMS , which tends him sick, below is his trace records  to evaluate in view of AYURVEDIC TREATMENT.

ETG AyurvedaScan , which examines the whole body for purpose of AYURVEDIC TREATMENT and management , have major diagnostic value for physical ailments detection.

सफेद दाग बढने और न ठीक होने का कारण ; जीवन शैली में बदलाव , प्रतिकूल खान-पान और कुछ Allopathic दवायें ; LEUCODERMA & Life-style and some Remedies


बहुत से आयुर्वेदिक वैद्य और आयुर्वेदिक चिकित्सक अक्सर पूछते रहते हैं कि सफ़ेद दाग Leucoderma के रोगियों का रोग अचानक ही बहुत तेजी से बढने लगता है , जबकि वे दवा दे रहे होते है और अच्छे से अच्छा इलाज कर रहे होते हैं , उनके रोगी ठीक भी हो रहे होते है फिर ऐसा क्यॊं होता है कि सफेद दाग ठीक होने के बजाय बढते चले जाते है? इस तरह की रोग-बढने से रोकने के सारे उपाय कम नहीं होते, जिससे मरीज और चिकित्सक दोनो के सामने बहुत विचित्र स्तिथि पैदा हो जाती है ?

यद्यपि यह स्तिथि मेरे सामने पिछले २० सालों से कभी नहीं आयी / मैने इस सवाल पर और ऐसी स्तिथि के लिये जिम्मेदार कारणो का पता करने का प्रयास किया है /

पहला कारण मेरी समझ में यह आया है कि लियूकोडर्मा के मरीज स्वस्थय वृत्त के नियमों का पालन नहीं करते है, जिससे उनको पाचन सन्स्थान से सम्बन्धित कार्य- विकृति बनी रहती है / ऐसे रोगी अपचन, एसीडिटी, Irritable Bowel syndromes, Inflammatroy condition of bowels, constipation, irregular bowels आदि आदि से ग्रसित होते हैं / Digestive system से सम्बन्धित यह तकलीफें दूषित खान पान से पैदा होती हैं / कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे है जो सफेद दाग बढाने में सबसे आगे है / जैसे चाऊमिन, सिरका या Vinegar या सिरका युक्त खाद्य पदार्थ, non-veg foods, अत्यधिक मसाला और चर्बी युक्त खाद्य पदार्थ जैसे चाट, समोसा आदि आदि / इन और इन जैसे खाद्य पदार्थ खाने से सफेद दाग बढते है / ऐसे खाद्य पदार्थ Digestive system के लिये बहुत सेन्सिटिव होते है और यह एक तरह से sudden painless allergical reaction like action पैदा करते है जिससे त्वचा की melenine अचानक घटकर सफेद दाग को और अधिक बढाने का काम करती है /

बहुत से रोगियों के रोग-इतिहास chronological case-history को देखने और समझने के बाद यह बात दृस्टिगत हुयी हैं कि जीवन शैली के कारण और दूषित खानपान के कारण सफ़ेत दाग अधिक तेजी से विकसित हुये और उनके रोकने के सभी प्रयास फ़ेल हो गये / किसी किसी रोगी ने बताया कि उनके सफ़ेद दाग हर मिनट में बढते चले गये / किसी ने बताया कि उनके सफ़ेद दाग एक दो दिन में ही इतने बढ गये जो उनकी उम्मीद से परे थे / ऐसा तभी होता है जब शरीर का सिस्टम बहुत सम्वेदन शील हो जाये और अक तरफा कार्य करने लगे /

कई रोगियों के रोग इतिहास को देखने के बाद यह बात भी पता चली कि एलोपैथिक चिकित्सा विग्यान की कुछ दवायें सेवन करने के बाद शरीर में कुछ ऐसे परिवर्तन हुये , जिनके कारण सफ़ेत दाग अधिक तेजी से विकसित हुये और दागो को बढने से रोकने के सभी प्रयास फ़ेल हो गये /

इसी कारण से रोगियों कॊ हिदायत दी जाती है कि उन्हे चाहे कैसे भी acute problem हों या sudden ailments हो जायें , वे एलोपैथी की कुछ दवायें न लें तो बेहतर होगा / देखा गया है कि एलोपैथी की दवा खाने के बाद सफेद दाग किसी किसी रोगी के बहुत बढ जाते हैं फिर किसी तरह से ठीक नहीं होते है या ठीक होने में बहुत ज्यादा समय लग जाता है / इसलिये यदि तकलीफ हो तो फिर आयुर्वेदिक दवायें लें या प्राकृतिक उपचार लेना चाहिये /

Leucoderma के इलाज में बहुत सावधानी बरतनी होती है, यह बहुत sensitive disease condition है, इसलिये पथ्य परहेज , जीवन शैली में बदलाव, खान पान में परहेज और दूसरी हिदायतो को यदि follow किया जाये तो आरोग्य शीघ्र प्राप्त होता है /

विटामिन की गोलियां खाने से कोई फायदा नहीं


यह हम नहीं कह रहे है, यह कह रहे है ब्रिटॆन के चिकित्सा शोध कर्ता / प्रकाशित खबर को पढ ले , आपको जानकारी हो जायेगी /

हम पहले भी कई बार कह चुके है कि विटामिन के अधिक उपयोग से शरीर मे “हाइपर विटमिनोसिस” की स्तिथि पैदा हो जाती है, जिसके परिणाम स्वरूप बहुत सी ऐसी बॊमारियां हो जाती है, जो बाद में असाध्य रोगॊ की श्रेणी में शुमार होने लगता है /