ETG AyurvedaScan Publicity campaign in Hindi Language Newspaper DAINIK JAGARAN, KANPUR edition; started from 23 July 2010


Majority of the gentlemen and gentleladies complains of the non-hearing & non-availability of the newly invented Ayurveda Technology Electro Tridosha Graphy; ETG AyurvedaScan.

We have started newspaper publicity from 23rd July 2010 to approach the citizen of Kanpur and its surroundings areas.
The glimpse of the advertisement is given below;

Published advertisement of Electro Tridosha Graphy ; ETG AyurvedaScan in Dainik Jagaran Hindi Language newspaper

Published advertisement of Electro Tridosha Graphy ; ETG AyurvedaScan in Dainik Jagaran Hindi Language newspaper

बहुत से लोगों को आयुर्वेद की आधुनिक व्याधि निदान ग्यान तकनीक इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी ; ई-टी-जी- स्कैन के बारे में जानकारी नही थी / यह शिकायत सभी लोग करते रहते थे / अभी तक होता यह था कि जो लोग ई०टी०जी० परीक्षण कराके अपना इलाज कराते थे और आरोग्य प्राप्त कर लेते थे, वही लोग दूसरों से इस परीक्षण के बारे में बताते थे / हमें भी ज्यादा publicity करने में रूचि नहीं थी /
 
लेकिन जैसे जैसे इस तकनीक से जांचे गये लोगों को शीघ्र आरोग्य प्राप्त होना शुरू हुआ और लोगों ने यह कहना शुरू किया कि इस तकनीक के बारे में सभी लोगों को बताना चाहिये ताकि सभी लोग इसका लाभ उठायें, इसके लिये उपाय यही समझ में आया कि कानपुर शहर के सबसे ज्यादा लोकप्रिय और सबसे अधिक पढा जाने वाला अखबार ” दैनिक जागरण, कानपुर शहर” सन्सकरण में सर्व साधारण के बीच प्रचार के लिये विग्यापित किया जाय /
हमने लोगों को जानकारी मुहैय्या कराने के लिये अखबार का सहारा लिया है /

 

 

यह विग्यापन प्रत्येक शनिवार और सोमवार को सप्ताह में दो दिन प्रकाशित होगा /

A CASE OF ASTHAMA TREATED SUCESSFULLY BASING ON THE FINDINGS OF THE ‘’ ELECTRO TRIDOSHA GRAM; ETG AyurvedaScan ‘’ REPORT


On 5th May 2010, one patient consulted me for his complaints. He came from remote area of Kanpur and was reffered by some earlier patient, who have taken my treatment previously.

At the first appearance, I observed the constitution. He was lean and thin and was unable to free walk because of his rapid respiration and easy fatigue.

Patient's Data Sheet containing all estmations in summerized form

Patient's Data Sheet containing all estmations in summerized form

The accompanied person told me the major complaints and symptoms similar to what I observed earlier.

I told them my way of treatment that first I will do an Electro Tridosha Gram examination and after that I will treat on the findings , whatever the report will provide.

Patient's recorded traces by Electro Tridosha Graphy system

Patient's recorded traces by Electro Tridosha Graphy system

They agreed and I recorded his traces. On seeing the traces, I simply gave some medicine for immediate starting of treatment and asked him to come day after tomorrow for complete ETG Report and then treatment accordingly.

ETG Reprt’s Findings

PART [a] ;The status of TRIDOSHA and TRIDOSHA BHED ; [From Highest to lowest numerical order]

153.68 Pitta Dosha
149.29 Snehan Kaphha
145.50 Kaphha Dosha
139.38 Pachak pitta
127.50 Ranjak Pitta
120.71 Shleshaman Kaphha
112.50 Pran vata
110.00 Sadhak Pitta
99.64 Kledan Kaphha All parameter’s NORMAL LIMIT is
90.00 Udan Vata
90.00 Lochak Pitta 95 to 99 e.v. [+- 5 e.v.]
88.10 Avalamban Kaphha
87.50 Bhrajak Pitta
84.17 Apaan Vata
82.97 Saman Vata
78.93 Rasan Kaphha
77.34 VATA
65.83 Vyaan Vata

PART [b} ; The Status of SAPTA DHATU including TRIDOSHA affected Sapta dhatu [From Highest to Lowest number orders]

108.10 Asthi Vata
104.69 Majja Vata
103.75 Asthi Pitta
102.67 Asthi
102.34 Majja Pitta
100.29 Majja
97.35 Asthi Kaphha
96.88 Ras Pitta
96.67 Maans Pitta
95.83 Majja Kaphha
94.17 Med Pitta
89.67 Ras
89.05 Med Kapha
88.93 Ras Kapha
88.75 Ras Vata
88.33 Mans Vata
88.00 Mans
87.33 Med
86.67 Rakta Vata
86.59 Shukra Pitta
85.61 Shukra Vata
85.56 Rakta
85.28 Rakta Pitta
85.24 Mans Kaphha
85.21 Shukra
83.89 Med Vata
83.51 Shukra Vata
83.49 Rakta Vata

PART [c]

• Oaj is 52 [Normal 48 e.v.]
• Vitality / Vital Force/ Smpurna Oaj is 40 [Normal 84 to 104 e.v.]
• Heart Beat/Pulse 115 per minute
• Health condition 143.74 e.v. [Normal 95 to 99 e.v.]

PART [d] Interpretation of traces ; Disease conditions Observed ; Diagnosis Findings

• Aneamia
• Bowel’s pathophysiology
• Cervical spondylitis
• Colon Ascending inflammation,hardness and swelling
• Colon decending inflammation, hardness and swelling
• Diaphragmatic problems
• Enlarged Liver with poor function
• Epigastritis with inflammation and hardness
• Excited Mental and Emotional Behaviour
• Eye and ENT anomalies
• Inflammatory and irritable Bowel syndromes
• Laryngopharyngotracheal anomalies
• Musculoskeletal anomalies
• Pulmonary organs anomalies
• Tachycardia

PART [e] Diseased parts on DATA BASE – Upper Ten and Lower Ten, Auto selection Data from Highest to lower and Lower towards Higher, have selected for treatment and selection of medicine purposes.

364.44 Thoracic Spine
362.22 Lumber Spine
300.00 Liver / Pancrease/Spleen
254.00 Epigastric pathophysiology
237.67 Urinary Bladder
218.57 Auto Nervous system [Data of Auto Nervous system and Heart stress
171.43 Heart stress/ Pulse stress are not considered in analysis but they have
155.56 Coccygeal spine diagnosis value. NormalParameters of these data
146.67 Sacral spine is not setup and fixed as they are under observations]
124.00 Spleen
112.50 Pulmonary Organs
108.61 Urine Evacuation

75.00 Thymus Pathophysiology
73.33 Frontal Brain
73.33 Mental/ Emotional/Intellect
73.33 Sinusitis
71.67 Occipital Brain
66.67 Abdomen/Intestine/Colon anomalies
60.00 Liver anomaly
59.58 Prostate Pathophysiology
52.78 Upper Limbs / Joints/ Muscles
45.00 Parietal Brain

This was the data sheet of the patient.

Summerizes Data for Treatment and management of case. ETG AyurvedScan facilitates physician for AUTOMATIC SELECTION OF APPROPRIATE AYURVEDIC CLASSICAL MEDICINE can be seen in this sheet

Summerizes Data for Treatment and management of case. ETG AyurvedScan facilitates physician for AUTOMATIC SELECTION OF APPROPRIATE AYURVEDIC CLASSICAL MEDICINE can be seen in this sheet

Discussion;

After going thorugh the ETG report, it was observed the highest data aquired area , are Thoracic Region in four dimensions including Lumber region. That means these entire areas are affected much more. I asked about his occupation. He told me that he is a truck driver and driving heavy vehicle many hours or thorugh out a day.

His Liver data was high. I asked about his habits. He told me that he is consuming Liqour daily in heavy quantity to avoid fatigue and pressure.

Over all in conclusion of his diagnosis, I observed both the [a] diagnosis from recorded traces and [b] diagnosis from Data received. Both are taken into consideration and in conclusion it is found that he is suffering from Tachycardia, Pulmonary anomaly, poor function of Liver, Epigastritis , Bowel’s pathophysiology etc.

Treatment / Medicine prescription;

The following medicine was pescribed;

1- Kutaj ghan vati , Arogya vardhini, Gandhak Rasayana, Prabhakar Vati, Triphala Vati and Shwas kuthar ras was prescribed
2- Arjunarisht, Kumari asav with shankhadrav was prescribed after meal both the time
3- This treatment was given for 15 days
4- I instructed him to not to consume Alcohol and should take complete rest with Pathya and Parhez.

The patient came with satisfactory relief after 15 days.His pulse was 95 per minute, which was earlier 115 per minute. His Asthama was relieved.

He was given again the similar treatment for 15 days. After this period, his pulse rate becomes normal limit and his Asthma was much better.

Recently, he have taken again 15 days medicine. On examination of his Lungs, I found that he is having a little problem, which I think, will be over rid soon.

Conclusion;

This is one of the case which I cited here to convey the massage to the entire Ayurvedic community, how Electro Tridosha Graph/gram ; ETG AyurvedaScan system is helpful to treat the patient confidentaly, quickly, safely and scientifically with the evidence, how Ayurvedic treatment is effective in those condition, which is under estimated by the Modern Western Medicine system?

Electro Tridosha graphy ETG AyurvedaScan Report‘s Ninth Page ; Evaluation of AYURVEDIC FUNDAMENTALS’ DATA in Lowest to Highest numerical orders


The Ninth page of ETG AyurvedaScan Report contains the followings;

  • Evaluated data of SIGN & SYMPTOMS of VATA Dosha
  • Evaluated data of SIGN & SYMPTOMS of  PITTA Dosha
  • Evaluated data of SIGN & SYMPTOMS of KAPHHA Dosha

 

Electro Tridosha graphy ETG AyurvedaScan Report‘s Ninth Page ; Evaluation of AYURVEDIC FUNDAMENTALS’ DATA in Lowest to Highest numerical  orders

Electro Tridosha graphy ETG AyurvedaScan Report‘s Ninth Page ; Evaluation of AYURVEDIC FUNDAMENTALS’ DATA in Lowest to Highest numerical orders

 

Apart from this , each FIVE BHEDA of DOSHAS’ SIGN & SYMPTOMS are given in this data sheet .

 

This Data sheet contains the Lowest Evaluation to Highest Evaluated SIGN & SYMPTOMS of TRIDOSHA & TRIDOSHA BHED.

 

This evaluation helps clinician to correct diagnosis and then proper selection of medicine and management of the case.

 

ETG AyurvedaScan Report’s Sixth page


ETG AyurvedaScan Report’s Sixth page

ETG AyurvedaScan Report’s Sixth page

This page contains the following important data ;

 

  • Estimation of MISLLANEOUS DIAGNOSTIC IMPORTANT
  • Evaluation of ANATOMICALLY SCANNED BODY SECTORS

 

In this page, electrically scanned & counted “Heamoglobin percentage Hb%,” which is approximately given. “Serum Calcium” is also estimated and is approximately given. This is a unique feature of the ETG AyurvedaScan.

 

Besides these dignosis ETG AyurvedaScan diagnose the followings;

 

  1. Tendency of Blood pressure, whether it is High or Low
  2. Tendency of Diabetes, whether it is Low or High

 

Electro Tridosha Graphy ; ETG AyurvedaScan Report’s Third page


The third page of the ETG AyurvedScan is consists of the “Organ’s Pathophysiology / Pathology”. The computer generated analysed data of various organs are shown with their intensities.

Some datas are shown by marking *PNA, that means * Parameters Not Applicable. PNA datas are those datas, which are not fully confirmed, as what should be normal value established. It is due to their sensitivity, which varies according to the age, activities and sensitive nature of the patient / individual.

For example Auto Nomic Nervous system evaluation is in *PNA section. The reason is that it is very high observed in youngestors say 300 to 600 e.v.

The e.v. means “etg value, which is differ from scan to scan areas. [1] some e.v. is observed 95 to 99 e.v. as a normal level. Some e.v. [2] is in between 90 to 105 e.v. as a normal level. Some [3] e.v. are inbetween 80 to 115 e.v. considers normal level.

Electro Tridosha Graphy ; ETG AyurvedaScan  Report's Third Page

Below 50 e.v. is observed that body parts are pathologically affected. If parameters are inbetween 80 to 50 e.v. it is considered that condition is of pathophysiological.

Above than 120, the condition is observed that parts are going towards the inflammatory and painful stage. Blow level shows that parts are going to towards hardness and painless development of the disease condition.

The third page of the ETG Report shows the [1] intensity, [2] functioning, [3] health condition of the visceras and other sections of the body for evaluation in view of the comprehensive treatment , which is an unique concept of the Ayurved medical system.

This page have a short evaluation & also for quick observation of the scanned parts, provides instant picture of the patient to Ayurvedic Doctor for quich analysis and selection of medicine accordingly.

इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी ई०टी०जी० मशीन का निर्माण कार्य आज दिनान्क २६ सितम्बर २००९ शुभ दिन शनिवार “दुर्गा अष्टमी” के दिन से शुरू : Fabrication of Electro Tridosha Graphy E.T.G. Machine begins from today dated 26 September 2009 on the pious day of “Durga Ashtami”


ईश्वर की कृपा, भगवान धनवन्तरि देव के आशिर्वाद और माता दुर्गा भवानी की अनुकम्पा से आज दिनान्क २६ सितम्बर २००९ को कई वर्षों से लम्बित आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान के लिये नवीन आविष्कृत रोगों के निदान ग्यान और आयुर्वेद के मौलिक सिद्धान्तों को साक्ष्य स्वरूप प्रस्तुत करने वाली तकनीक इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी ई०टी०जी० मशीन का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है ।

इसके निर्माण कार्य में लगे हुये हार्डवेयर और साफ़्ट वेयर इन्जीनियरों ने बताया है कि वे इस मशीन का निर्माण एक निश्चित समय सीमा के अन्दर कर देंगें ।

इस मशीन में २१ से अधिक लीड की रेकार्डिंग एक साथ होगी और रिकार्डिंग के साथ ही तत्काल रिपोर्ट मिल जायेगी जिसमे कुछ मिनटॊं का समय लगेगा ।

हमारा प्रयास रहेगा कि इस मशीन को अत्याधुनिक तकनीक से लैस किया जाये । हलाकि इसके साथ एक लैप्टाप कम्प्यूटर तथा एक प्रिन्टर की आवश्यकता होगी । मशीन और साफ्ट वेयर इनके साथ ही यू०एस०बी० पोर्ट से जोड़े जायेंगे । मशीन से जुड़े सेन्सर रोगियों के शरीर में निर्धारित स्थानों पर चिपकाये जायेंगे ।

जैसा कि सभी जानते हैं कि अभी तक इस परीक्षण के लिये हृदय रोग की जान्च के लिये प्रयोग की जाने वाली इलेक्ट्रो कार्डियो ग्राफी ई०सी०जी० मशीन के केवल रिकार्डर का उपयोग आयुर्वेद के इस स्कैन ई०टी०जी० के लिये किया जाता है । इस रिकार्ड किये गये ट्रेस को बाद में कम्प्य़ूटर की मदद से मैनुअली तरीके से रिपोर्ट बनायी जाती थी जिसमें लगभग २ घन्टे लग जाते थे । प्रस्तावित मशीन केवल कुछ मिनटॊ में यह काम पूरी कर देगी ।

आयुर्वेद और ह्रूदय की बीमारियां : Ayurveda and Cardiac disorders


आयुर्वेद हर व्यक्ति को यह बताता है कि शरीर को स्वस्थ्य कैसे बनाये रखना चाहिये । इस शिक्षा के बाद आयुर्वेद यह बताता है कि यदि कोई व्यक्ति बीमार पड़ जाय तो उसे क्या सावधानी बरतना चाहिये, क्या दवायें उपयोग करना चाहिये जिससे बीमार व्यक्ति शीघ्र स्वास्थय प्राप्त कर ले । पुन: स्वस्थय हो जाये ।

यह नियम सभी प्रकार के बीमारियों से ग्रसित व्यक्तियों के लिये है ।

आयुर्वेद बताता है कि गलत रहन सहन और आद्तों से ओयक्ति बीमार होता है । इसलिये दिल के बीमारों को इस बात का विशेष खयाल करना चाहिये ताकि वे स्वस्थय बनें रहें ।

आयुर्वेद में दिल के रोगों की चिकित्सा के लिये बहुत सी औषधियां हैं जिनके सेवन से दिल के रोगों से बचा जा सकता है और यदि दिल के रोग हो जायें तो उनकी चिकित्सा भी की जा सकती है ।

Regular intake of Ayurvedic medicines LOHASAVA & KUMARIASAV can prevent Cardiac disorders. These medicines can be taken by all heart problem’s sufferers.

कुदरती खानपान और बताये गये तौर तरीकों के अपनानें से दिल के रोगॊं से बचा जा सकता है ।

आयुर्वेद को समझिये


 

 

 

 

 

 

    picture-41.jpg                                   

 

 

     भगवान धन्‍वन्‍तरि , जिनसे आयुर्वेद की उत्‍पत्ति हुयी  /

    

 

आयुषमन  

                                                                                                                                                                                                                          वैकल्पिक चिकित्‍सा विधियों के अलावा समन्वित चिकित्‍सा के साथ साथ, अन्‍य सभी प्रकार की चिकित्‍सा विधियों का ज्ञान बोध कराने का प्रयास इस ब्‍लाग के माध्‍यम से रहेगा । 

 

आयुषमन AYUSHMEN को इस प्रकार से समझा जा सकता है ।                                                                                                                                                                                                                                    

 A – for  आयुर्वेद, आकूपन्‍क्‍चर, आकूप्रेशरचिकित्‍सा

Y – for योग चिकित्‍सा 

U – for यूनानी चिकित्‍सा 

S – for  सिद्ध चिकित्‍सा

H- for होम्‍यापैथी चिकित्‍सा

M – for Magneto therapy मैग्‍नेट / चुम्‍बक चिकित्‍सा E – for Electrotherapy including physiotherapy विद्युत चिकित्‍सा के साथ साथ फिजियोथेरेपी चिकित्‍सा  N – for Nature-cure प्राकृतिक चिकित्‍स

 

इलेक्‍ट्रोत्रिदोषग्राफी ई0टी0जी0 टेक्‍नोलांजी के  उपयोग और प्रयोग के बारे में तकनीक के आविष्‍कारक डा0 देशबन्‍धु बाजपेयी को सुनिये ।

picture-52.jpg  

 

फोटो  घृतकुमारी , घीकुवार, ग्‍वारपाठा English: Barbedols Aloe, Latin:Aloe Veraयह आयुर्वेदिक औषधि यकृत, रक्‍त विकार, प्‍लीहा, त्‍वचा के रोग, गांठ इत्‍यादि बीमारियों में प्रयोग की जाती है । .

                                                                    

 

                                                                                               

 

 

आयुर्वेद , जिसे भारतीय चिकित्‍सा पद्यति भी कहते हैं, भारत भू खंड में विकसित लगभग 5000 वर्ष प्राचीन स्‍वास्‍थ्‍य से संबंधित विज्ञान है । यह वेदों से निकला हुआ ज्ञान है ,जिसे समय के अंतराल के साथ बाद में एक स्‍वतंत्र विज्ञान के स्‍वरूप में स्थिति हुआ ।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

आजकल भले ही आयुर्वैद के चिकित्‍सक को डाक्‍टर शब्‍द से संबोधित किया जा रहा हो , लेकिन प्रचीन काल से प्रयोग किया जानें वाला शब्‍द वैद्य है , जो आज भी लोग प्रयोग करते हैं । वैद्य शब्‍द वेद और द्वय दो शब्‍दों से मिला हुआ शब्‍द है  , जिसका शब्दिक अर्थ है दो वेद । अर्थात जो  दो वेद जानते थे यानी एक , जो चार वेदों में से कोई एक मुख्‍य वेद जानने वाला है और दूसरा , स्‍वास्‍थ्‍य रक्षा से जुड़ा हुआ वेद, जिसे आयुर्वेद कहते हैं , को जाननें वाला है ।  

picture-51.jpg 

फोटो: पत्‍थर चूर    Latin : Bryophyllum . यह औषधि गुर्दे , यूरेटर, मूत्राशय की पथरी को पिघलाकर मूत्र के साथ बाहर निकाल देती है । गुर्दे की सभी प्रकार की बीमारियों में इसका उपयोग करते हैं ।

 

 

                    आयुर्वैद , भारतीय जीवन पद्धति का अंग 

भारतीय जीवन दर्शन में प्राचीनकाल से धर्म, कर्म, अर्थ , काम , मोक्ष आदि आस्‍थाओं और विश्‍वासों पर विजय पानें और इस उद्देश्‍य को प्राप्‍त करनें  के लिये सबसे जरूरी यह समझा गया कि पहले मानव शरीर की रक्षा की जाय । शरीर की रक्षा कैसे हो , क्‍या आहार, विहार अपनायें जांय जिससे शरीर स्‍वस्‍थ्‍य रहे और बीमारियों से दूर रहे । तभी जीवन के चरम उद्देश्‍य को पाया जा सकता है ।

   

मनीषियों नें मानव जीवन को जीवन्‍त बनानें के लिये चार आश्रमों में बांटा हैं ।

 1- बालाश्रम 2- गृहस्‍थाश्रम 3- सन्‍यासाश्रम 4- वानप्रस्‍‍थाश्रम,

ये चारो आश्रम 25 25 वर्ष की आयु को विभाजित करके बनाये गये हैं । इस प्रकार से हमारे पूर्वजों नें मनुष्‍य की आयु 100 वर्ष की र्निधारित की है । उक्‍त आश्रमों में 25 वर्ष के अन्‍तराल में क्‍या क्‍या करना है, इसका वर्णन बताया गया है ।   

 

picture-50.jpg 

 

फोटो केशराज  Latin: Ecalypta Alba    यह औषधि  उच्‍च रक्‍तचाप, हृदय रोगों, यकृतप्‍लीहा से संबंधित रोगों, सफेद दाग, सभी प्रकार के इन्‍फेक्‍शन इत्‍यादि को दूर करती हैं ।        

 

ks3.jpg

 

 

ksv1.jpg 

  

ks21.jpg

 

 

 

       आधुनिक आयुर्वेद

 

आयुर्वेद चिकित्‍सा विज्ञान को नष्‍ट करनें के लिये समय समय पर छोटे बड़े सभी प्रकार के प्रयास किये गये । सम्राट अशोक के जमानें में खून खराबा रोकनें के नाम पर आयुर्वेद का  ‘’ शल्‍य चिकित्‍सा विज्ञान ‘’ सबसे अधिक प्रभावित हुआ । अपनें राज्‍य में सम्राट अशोक नें वध करनें , मार काट से संबंधित सभी कार्यों को रोक दिया । जिससे उस समय होंनें वाले समस्‍त ‘’शल्‍य चिकित्‍सा कार्य’’ बन्‍द हो गये ।  लेकिन इस प्रतिबन्‍ध के बाद  रस चिकित्‍सा ने बहुत प्रगति की । महात्‍मा बुद्ध के कई योग्‍य शिष्‍यों ने कठिन और असाध्‍य रोंगों के उपचार के लिये बहुत सी नई औषधियों की खोज की, जिनमें नागार्जुन सबसे प्रमुख हैं ।  समय समय पर विदेशी आक्रान्‍ताओं के भारत पर आक्रमण करनें के कारण आयुर्वेद के मूल ग्रंथ आक्रान्‍ताओं द्वारा लूट लिये गये । मुगलों के आने के बाद तो स्थिति और खराब हो गयी । अंग्रेजों के आनें के बाद , यद्यपि आयुर्वेद को कोई विशेष प्रोत्‍साहन नहीं मिला , फिर भी इस समय के अन्‍तराल में आयुर्वेद जहां और जैसा था, यह स्थिर रहा । अंग्रेजों   के समय में  युरोपियन चिकित्‍सा का आगमन हुआ । जिसे एलोपैथी के नाम से सभी जानते और समझते हैं ।स्‍वतन्‍त्रता के पश्‍चात भारत सरकार ने धीरे धीरे और धीमीं गति से आयुर्वेद को विकास करनें हेतु प्रोत्‍साहन प्रदान किया है । शिक्षण, प्रशिक्षण, शोध, प्रचार, प्रसार, व्‍यावसायिक और गैर व्‍यावसायिक क्षेत्रों मे आयुर्वेद की विभिन्‍न शाखाओं मे उल्‍लेखनीय कार्य किये जा रहे हैं । 

                       आयुर्वेद हमें क्‍या शिक्षा देता है ?

 

 

आयुर्वेद हमें कई प्रकार की शिक्षा देता है । एक तो यह कि हमे वे कौन से नियम पालन करनें चाहिये, जिससे शरीर स्‍वस्‍थ्‍य रहे, शरीर की कार्य प्रणाली सुरक्षित रूप से काम करती रहे ताकि शरीर बीमार न हो । दूसरा , यदि किसी कारण से शरीर बीमार हो जाये, तो कौन सा उपचार करना चाहिये ताकि बीमार शरीर पुन: स्‍वास्‍थ्‍य प्राप्‍त कर ले । तीसरा यह हमें उन द्रव्‍यों के औषधीय गुण, कर्म के   बारे में बताता है जो वनस्‍पति, प्राणिज, जान्‍तव , धात्विक या अन्‍य स्‍वरूप में प्रकृति में पाये जाते है । चौथा , यह खाद्य पदार्थों के गुण कर्मों के बारे में बताता है , जो परिवार मे खानें , पीनें , लगानें आदि में उपयोग करते हैं 1 पांचवां , यह मीमांसा दर्शन को दर्शाता है , जिसमें प्रकृति और पुरूष के सम्‍बन्‍ध की बात कही गयी है ।  धर्म , दर्शन, सदाचार, सामुदायिक हित आदि आदि के बारे में बहुत कुछ बताया गया है । इस प्रकार जहां   आयुर्वेद एक तरफ चिकित्‍सा विज्ञान है , वहीं दूसरी तरफ यह पूर्ण एवं स्‍वस्‍थ्‍य जीवन प्राप्‍त करनें का साधन बताता है ।     

 

herbalpainreliever.jpg

हर्बल दर्द निवारक चाय , उत्तम कोटि की आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का विशुद्ध मिश्रण है । यह चाय पीनें से सभी प्रकार के दर्द ठीक होते हैं । यह सूजन को कम करती है और हल्‍के बुखार को ठीक करती है ।

* * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * * *

 

       

निम्‍न वेब साइट आयुर्वेद , होम्‍योपैथी और आधुनिक चिकित्‍सा विज्ञान के विषयों से संबंधित है । इन्‍हें जन साघारण हिन्‍दी भाषा में भी प्रस्‍तुत किया गया है ।  

* * * * * * * * * * 

यह वेबसाइट आयुर्वेद के 5000 वर्षों के इतिहास मे साक्ष्‍य आधारित प्रस्‍तुति इलेक्‍ट्रो-त्रिदोष-ग्राफी की खोज के बारे में जानकारी देती है ।

http://etgind.wordpress.com

यह वेब साइट होम्‍यापैथिक चिकित्‍सा विज्ञान को साक्ष्‍य आधारित चिकित्‍सा सिद्ध करनें की खोज से संबंधित जानकारी प्रदान करती है ।

http://electrohomoeography.wordpress.com

* * * * * * * * * *

यह वेब साइट इलेक्‍ट्रोकार्डियोग्राफी की नई खोज की गयी मशीन के बारे में जानकारी देती है ।

http://ecgi.wordpress.com

****************************************** 

‘’कन्‍या भ्रूण हत्‍या’’ , यह एक समस्‍या है जो सामाजिक और आर्थिक तानाबाना से जुड़ी हुयी है । लोग लड़कियों का गर्भपात क्‍यों कराना चाहते हैं, इस बारे में जानिये और समझिये ।

http://larakiyan.wordpress.com  

 

   डा0 देशबन्‍धु बाजपेई से आन लाइन कन्‍सल्‍टेशन   के लिये , स्‍वास्‍थ्‍य और चिकित्‍सा से सम्‍बन्धित सभी प्रकार के प्रश्‍न , निम्‍न वेब साइट के ‘’ कमेंन्‍ट बाक्‍स ‘’ के द्वारा भेज सकते हैं । डा0 देश बन्‍धु बाजपेयी पिछले 40 वर्षों से एलोपैथी, होम्‍योपैथी और आयुर्वेद के साथ साथ अन्‍प चिकित्‍सा विधियों का प्रयोग करके लाभ प्रदान कर रहे हैं ।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                    http://drdbbajpai.wordpress.com


 

***********************************************************  

कृपया इन वेब साइट के बारे में दुंनिया के लोंगों का बतायें । ये सब तकनीकें एक भारतीय द्वारा ईजाद की गयीं हैं ।