GERMAN CITIZENS VISITED OUR RESEARCH CENTER KANAK AYURVEDA RESEARCH CENTER, BHUSATOLI ROAD, BARTAN BAZAR, KANPUR UP INDIA ON 2nd FEBRUARY 2016


TWO CITIZENS from Germany known DEUTCHLAND, on 2nd February 2016 visited at our research center at Bhusatoli road, Baratan bazar, Kanpur UP India. The citizen was very eager to know and understand the procedure of treatment, which we provide because they wanted to treat some patient from Germany on Ayurveda lines, which was declared incurable by their doctors at Germany.

These citizens consulted Dr DB Bajpai and his assistant Dr A.B. Bajpai about few patient and they described their conditions and ailments, by which they are suffering in Germany. Dr Bajpai assured them that if they will be treated on the line of ETG AyurvedaScan and its supplementary tests bases Ayurveda AYUSH treatment they will certainly relieved / cured.

 

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

OLYMPUS DIGITAL CAMERA ; INSIDE THE CLINIC AT KANPUR , UP , INDIA 

THE GERMANS  wanted to see the procedure of our treatment approaches and for that I requested him to come next day in morning at 10 am to see , how we do examination and prepares report accordingly.

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

They came in next day morning and watched the procedure of examination and related tests.

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

German citizens was astonished to see that AYURVEDA have such an ultra modern  hi-technology for diagnosis of body disorders, which was developped by an Indian Ayurveda doctor and is still practicing and available to anyone who desire to examine.

They assured that they will come soon from Germany with the patient , to whom they want to examine and want to treat them by Ayurveda lines .

 

 

They wanted to know

HOMOEOPATHIC NEW INNOVATION IN DIAGNOSIS AND SELECTION OF REMEDIES


In Homoeopathic medical system new innovation have been introduced already and are widely used by Homoeopathic practitioners.

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

 

In Diagnosis ;

Dr DBBajpai introduced Electro Homoeo Graphy and named it EHG HomoeopathyScan. This scan is done by the machine and the report is of the svevral pages including diagnosis of disorders and diagnosis of the Fundamentals of Homoeopathic principles.

In Selection of remedies;

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

Several SOFTWARES have been developed by the Homoeopaths , in which some softwares are of use like HOMPATH and RADAR. Besides these two many others are in practice. I myself is using both the above softwares with good results.

Mechanical systems should be used by the Homoeopaths because now ia the time of the technological advancement and in this view both the diagnosis and selection of remedies are two cardinals which should not be avoided by the Homoeopathic peactitioners.

KITS / MEDICINAL PACKAGES AVAILABLE FOR THOSE PATIENT WHO ARE UNABLE TO COME AT OUR RESEARCH CENTER AT KANPUR, UTTAR PRADESH INDIA


iso001 001AFTER TREATING AND TREATMENT EXPERIENCES GAINED AFTER  OF THOUSANDS PATIENTS OF THE FOLLOWING DISEASE CONDITIONS , NOW WE ARE IN POSITION TO PROVIDE TREATMENT TO THOSE PATIENTS WHO ARE UNABLE TO COME AT OUR RESEARCH CENTER AT KANPUR UTTAR PRADESH INDIA 

KITS / MEDICINAL PACKAGES ARE AVAILABLE FOR THE FOLLOWING DISORDERS WHICH HAVE BEEN CURED 100 PERCENT BY OUR INVENTED E.T.G. AYURVEDASCAN SYSTEM

H.I.V.

LEUCODERMA / VITILIGO

AVASCULAR NECROSIS

EPILEPSY

FISTULA

DIGESTIVE DISORDERS

GOUT

ARTHRITIS

JOINTS DISORDERS

MUSCULAR ATROPHY / DYSTROPHY 

AND  

 MANY  DISORDERS WHICH ARE NOT MENTIONED HERE

CONTACT ;

Dr  D.B. BAJPAI

09336238994

Dr A.B. BAJPAI

08604629190

aamachine

 

100 PERCENT CURE OF FOLLOWING DISORDERS BY AYURVEDA AYUSH TREATMENT BASED ON E.T.G. AYURVEDASCAN TESTS AND FINDINGS


100 PERCENT CURE OF FOLLOWING DISORDERS BY AYURVEDA AYUSH TREATMENT BASED ON E.T.G. AYURVEDASCAN TESTS AND FINDINGS

H.I.V.

AVASCULAR NECROSIS

FISTULA

ABDOMINAL DISORDERS

EPILEPSY

LEUCODERMA

CONTACT ;

09336238994

OR 

Dr. A.B. BAJPAI

08604629190

THYROID ANOMALIES ; SYNDROMES AND PROBLEM REFLECTION IN HUMAN BODY ; AYURVEDA COMPLETE TREATMENT SOLUTION ; थायरायड ग्रन्थि की समस्या और इसका मानव शरीर पर प्रभाव ; आयुर्वेद उपचार से आरोग्य प्राप्ति


थायरायड  ग्रन्थि मानव शरीर की एक महत्व्पूर्ण हार्मोनल ग्रन्थि है / हार्मोन्स का स्राव होने के कारण यह शरीर की बहुत सी क्रियाओ का नियन्त्रण करती है /

अगर इस ग्रन्थि मे विकार पैदा होते है तो फिर मानसिक और शारीरिक दोनो तरह के विकार पैदा होते है जिनका विचार इस पोस्ट मे क्या जायेगा /

 

 

[matter to be loaded soon ]

TWO CASES OF H.I.V. ; E.T.G. AYURVEDASCAN RECORD SHOWS SIMILARITY OF WAVES ; OBSERVE THE SIMILARITY IN BOTH CASES ; एच०आई०वी० सन्क्रमित एक पुरुष तथा एक महिला का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन की रिकार्डिन्ग का नमूना ; दोनो रिकार्ड किये गये नमूनो मे कितनी समानता है यह देखिये


आयुर्वेद की आधुनिक हाई टेक्नोलाजी ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के द्वारा बहुत चम्त्कारिक तरीके से रोगियो की रोग मुक्ति की जा सकी है /

अब तक बता दी गयी कुछ लाइलाज  बीमारियो यथा मिर्गी और सफेद दाग और भगन्दर तथा गठिया वात और अन्य  बहुत सी बीमारियो को जिनको लाइलाज बताया जा रहा है , उनका इलाज आयुर्वेद की इस तकनीक द्वारा ढून्ढ लिया गया है /  हमारे यहा आकर इलाज कराने वाले रोगियो को ऊपर बताये गये रोगो से शत प्रतिशत रोग मुक्ति मिली है / इसलिये अब हम इस स्तिथि मे यह कहने के लिये विश्वस्त है कि आज के दिन यह सभी बीमारिया अब लाइलाज नही है औए इनका इलाज आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान मे मौजूद है /

एच० आई०वी० के रोगियो का इलाज हमारे सन्स्थान द्वारा किया गया है और हम आप सभी पाठको को बताना चाहते है कि हमारे द्वारा इलाज किये गये  HIV  के सभी रोगी ठीक हुये है और वे आज स्व्स्थय है और अपना सामन्य जीवन बिता रहे है /

हमारे सन्स्थान मे जितने भी रोगी आये है वे सभी ई०टी०जी० आयुर्ठीवेदास्ककैन आधारित आयुर्वेदिक इलाज से ठीक  हुये है /

ई०टी०जी० यानी इलेक्ट्रो त्रिडोषा ग्राफी आयुर्वेद का परीक्षण सिस्टम है जो इसकी मशीन द्वारा किया जाता है / अभी हमारे यहा सात प्रकार के ई०टी०झी०  परीक्षणो का विकास किया जा चुका है जो आयुर्वेद के मौलिक सिध्धन्तो का आन्कलन तो करता ही है सारे शरीर का परीक्षन करके बीमार अन्गो की  physiological या pathological consitions को बताता है / हमारी कोशिश होती है कि हर रोगी के शरीर का अधिक से अधिक उसके शरीर के अन्गो और कार्य प्रणाली का विस्तार से डाटा प्राप्त किया जाय /

अधिक्तम डाटा प्राप्त करने का उद्देश्य यह है कि चार आयामी बीमारी की डायग्नोसिस की जाय जो आयुर्वेद के मौलिक सिध्धान्तो पर आधारित हो / आयुर्वेद मे दवाओ का चुनाव और पथय परहेज और लाइफ स्टाइल को मरीज को बताने मे इसकी अहम भूमिका है ताकि पूर्ण वैग्यानिक विधान से आयुर्वेद की चिकित्सा की जा सके और वह भी perfection  के साथ / इसीलिये परीक्षण की विधिया एक के बाद एक विकसित की गयी /

ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन पुण ऋप से वैग्यानिक है और इस सिस्टम को भार्त सरकार द्वारा जान्चा जा चुका है और इस तकनीक के बारे मे जिसे भी जानकारी चाहिये वह सूचना के अधिकार के अन्तर्गत जाकर Ministry of AYUSH , Government of India , New Delhi  से प्राप्त कर स्कता है ./

हमारे यहा  एच०आई०वी० के मरीजो का इलाज किया जाता है / इन मरीजो के अध्ध्य्यन मे कुछ बाते और रिकार्ड किये गये ट्रेसेस बहुत कामन देखे गये है / इन कामन ट्रेसेस मे किये गये अध्ध्य्यन से पता चलता है कि उनके किन अन्गो मे pathophysiology  और pathology  समायी हुयी है /

आयुर्वेद की द्वाये आयुर्वेद के मूल सिध्धन्तो पर आधारित है और उसी अनुसार उनका प्रयोग किया जाता है जिससे रोगी को अवश्य और शत प्रतिशत आराम मिलता है

नीचे दो H.I.V. POSITIVE  रोगियो के ट्रेस रिकार्ड दिये गये है / इन रिकार्दॊ मे समानता देखना चाहिये /

HIV001

…………………………………..

HIV001 001 HIV001 002

………………………………HIV001 003

……………………………

HIV  के रोगियो मे ऐसी समानता अधिकतर देखने मे आयी है / आयुर्वेद के अनुसार की गयी शरीर की mapping और division  के  शरीर के अन्दर व्याप्त त्रिदोष यथा वात और पित्त और कफ की तथा त्रिदोष भेद और सप्त धातु और ष्रोतो दुष्टि आदि आदि के आन्कलन के बाद दि गयी आयुर्वेद की दवाये शरीर को आरोग्य पहुचाती है /

आयुर्वेद मूल कारण और अन्गो की विकृति और इन अन्गो की कार्य क्षमता और इन्टेन्सिटी लेवल आदि आदि को मीजर्मेन्ट करके दवाओ का चुनाव रोग को दूर करने मे मदद करता है /

bhut001

DENGUE VIRAL FEVER ; डेन्गू वाइरल फ़ीवर ; डेन्गू बुखार ; काम्बीनेशन इलाज से २ से ५ दिन मे ठीक हो जाता है


DENGUE  डेन्गू बुखार से घबराने की जरूरत नही है , यह उपचार से ठीक होने वाली वायरल बीमारी है / देश के नागरिको को इस बीमारी से घबराने की जरूरत नही है / दवाओ के सेवन और  पथ्य परहेज करने से यह बहुत जल्दी दो से पान्च दिन मे ठीक हो जाती है /

आयुर्वेद की निम्न दवाओ के सेवन से और आयुर्वेद होम्योपैथी तहा एलोपैथी दवाओ के काम्बीनेशन इलाज करने से यह बुखार दो से लेकर पान्च दिन मे ठीक हो जाता है /

दवाये इस प्रकार है ;

१- आयुर्वेदिक दवाये;
महाज्वरान्कुश रस एक गोली
कफ केतु रस एक गोली
महासुदर्शन घन वटी एक गोली
गोदन्ती टेबलेट एक गोली

ऊपर बतायी गयी चारो गोलियो को एक साथ मिलाकर दवा की यह एक खुराक होती है /

२- HOMOEOPATHIC REMEDIES ;
TINOSPORA CARDIFOLIA Q
CHIRAYATA Q
KALMEGHA Q
AZADIRACHTA INDICA Q
CEASALPEANIA BONDUCELLA Q

MIX ALL FIVE MOTHER TINCTURE AND MAKE ONE

DOSES ; TWO TEASPOONFUL TO BE TAKEN WITH SMALL HALF CUP WATER

3- ALLOPATHIC REMEDIES ;

PARACETAMOL 500 MG TABLET

ऊपर बतायी गयी आयुर्वेदिक और होम्योपैथिक और एलोपैथिक की दवाये एक वयस्क के लिये है / बच्चो को आधी दवा और बहुत छोटे बच्चो को चौथायी मात्रा देनी चाहिये /

उक्त सभी बतायी गयी दवाओ को एक एक करके यानी पहले आयुर्वेदिक दवाओ का काम्बीनेशन फिर उसके दो घन्टे बाद होम्योपैथिक दवाओ का कामबीनेशन फिर इसके बाद एलोपैथिक दवाओ को दो दो घन्टे के अन्तर से खाना चाहिये /

अगर अधिक एमरजेन्सी हो तो यही द्वाये एक एक घन्टे के अन्तर से देना चाहिये जब बुखार और अन्य दूसरे लक्षन कमजोर होने लगे तो समय बढा देना चाहिये /

भोजन मे हल्का खाना और जल्दी हजम होने वाला पदार्थ देना चाहिये जैसे चाह और दूध और पके आलू का भर्ता बनाकर आग मे सेकी हुयी टिकिया और दलिया और खिचडि देना चाहिये /

दो दिन से लेकर पान्च दिन तक ऊपर लिखी दवाये देने से डेन्गू बुखार ठीक हो जाता है /

इस काम्बीनेशन इलाज से बुखार बढता नही है और न शरीर मे किसी तरह के अन्य काम्प्लीकेशन होते है / दवा शुरू करते ही डेन्गू के लक्षण कमजोर होने लगते है /

रोगी को आराम करना चाहिये और शारीरिक परिश्रम बिल्कुल नही करना चाहिये /

साफ सफाई का ध्यान रखे / मरीज को पूरा आराम करने दे /

घबराये नही यह आसानी से ठीक होने वाली तकलीफ है / हमारे यहा जितने भी डेन्गू के मरीज आये है सब ठीक हुये है और उनको इलाज के दौरान किसी भी तरह के कोई भी काम्प्लीकेशन नही हुये है /