दिन: जून 28, 2008

Ayurveda ka Nadi Parikhshshan Gyan ; आयुर्वेद का नाड़ी परीक्षण ग्यान


नाड़ी परिक्षण , आयुर्वेद विग्यान की एक स्पेसियलिटी के समकक्ष   समझा जाता है / आज भी नाड़ी परीक्षण आयुर्वेद की चिकित्सा करने वाले वैद्य करते है /  लेकिन यह सिर्फ एक ढोन्ग के अलावा और कुछ भी नहीं है / आयुर्वेद के चिकित्सक जितना भी मरीज को बताते है , यह कितना सटीक होता है, यह मैने जानने की कोशिश की है / मै स्वयम आयुर्वेद  का चिकित्सक हू और अयुर्वेद का चिकित्सा कार्य करता हू  , इसलिये मुझे बहुत गहरायी से पता है कि वास्तविक नाड़ी परीक्षण क्या है ?

सही तो यह है कि 99.99 प्रतिशत वैद्य या आयुर्वेद के चिकित्सकों को नडी का सही सही ग्यान क्या होता है , उसके बारे में जानते या समझते नहीं हैं /  तमाम वैद्य ऐसे है जो केवल नाड़ी ग्यान का दिखावा करते है और केवल मात्र.आयुर्वेद के बताये गये शारिरिक लक्षणो के आधार पर , अनुमान और कयास लगाकर , तीर और तुक्का लगाकर और लन्तरानी लगाकर मरीज को बताते जाते है कि  उनको फलां फला बीमारी परेशान कर रही है /  यह सब वे आयुर्वेद शास्त्रों मे बताये गये वात, पित्त और कफ प्रकृति की रूप रेखा देखकर बताते जाते है  और अपनी वाक पटुता और चालाकी का उपयोग करके अधिकतर मरीज को बेवकूफ बनाते है /

आयुर्वेद का सारा ग्यान , प्रकृति, त्रिदोष, त्रिदोषा भेद, सप्त धातु, मल, ओज, अग्नि बल आदि आदि सिध्धान्तों पर आधारित है /

Kul milaakar mera anuman hai ki ye sab milakar 200-250 ke bich mein honge. Itani badi sankhya mein ayurveda ke practitioner , kewal nadi parikshan  dwara kaise status quantify kar lete honge, isamein sanshay hai. Jab tak in sabaka status quantify na ho, tab tak ayurveda ka ilaj sandigdha hi rahega, yah pata hi nahin chal payega ki marij ko sahi dawa mil rahi hai, sahi ilaj mil raha hai ya nahin, yahi karan hai ki Ayurveda ka ilaj karaane wale marij shikayat karate hain , ki unhone Vaidyon ka ilaj kiya lekin unaki takalif mein koi kami nahin aayi.

Vajah saaf hai, jab Doshon ka , jise atiology kahatey hain, Jab dosha-bhedon ka, jise pathophysiology kahatey hain, jab sapta dhatuon ka , jise ayurveda ki pathology kahatey hain, ityadi ka nidan nahi karenge, vah bhi sahi sahi, tab tak yah kaise ummid ki ja sakati hai ki bimar vyakti ko sahi Ayurveda ka ilaj mil raha hai ya nahin.

Aaaj haal yahi hai ki vaidya swayam nari parikshan ke baare mein kam jankari rakhatey hain, jo bhi unako pataa hai vah kewal , anuman aur kalpana par adharit hai, isamein vastavikata ka samavesh 0.5 pratishat se adhik ka nahin hai..

Advertisements