अस्थमा यानी दमा : Asthama ; Major Respiratory Tract Disorders


आज विश्व अस्थमा दिवस है । पिछले पैतालिस सालों से दमा के मरिजों को देखते चला आ रहा हुं । बचपन में गांव में सुनते चले आ रहे थे कि दमा दम के साथ जाता है , लेकिन एक बात जरूर देखी कि भले ही दमा के मरीजों को सान्स उखड्ने की तक्ळीफ हो, मगर उनका जीवन काल बहुत लम्बा होता था । ऐसे मरीजों की लम्बी उमर होती थी ।

उस जमाने में आयुर्वेदिक दवायें अधिकतर लोग खाते थे और यही एक मात्र चिकित्सा व्यवस्था थी जिससे दमा के मरीज इलाज कराते थे । उस समय होम्योपैथिक चिकित्सा को बहुत कम लोग जानते थे । मेरे पिता जी बन्गाल में रहते थे, वहां होम्योपैथिक दवाओं का अधिक चलन था , इसलिये पिता जी होम्योपैथी के बारे मे अच्छा ज्ञान रखते थे । दमा के मरीज उनसे होम्योपैथी की दवाये लेते थे ।

मैने चिकित्सा कार्य में दमा के बहुत से मरीजों को देखा है और उनका इलाज किया है । आयुर्वेद में दमा का इलाज बहुत अच्छा है, लेकिन जानकारी का अभाव होने के कारण वर्तमान की पीढी को यह भी पता नहीं है कि वे बेहतर तरीके का आयुर्वेदिक इलाज दमा जैसी बीमारी के लिये करें तो उनकी तकलीफ कम होकर उनको लम्बी उमर भी प्राप्त होगी और सुरक्षित होगी ।

वास्तविकता यह है कि लोगों को पता ही नहीं कि आयुर्वेद में दमा जैसी बीमारियों का इलाज बहुत सटीक और अचूक है । आज का महौल यह हो गया है कि बात बात में आधुनिक चिकित्सा की ओर बिना सोचे समझे भागे चले जाते है ।

मेरा अनुभव यही है कि शल्य चिकित्सा में आधुनिक चिकित्सा विज्ञान ने बहुत तरक्की की है । पिछले ४५ सालों में जब मै पीछे मुड़्कर देखता हुं तो उस समय मेडिकल साइन्स की सर्जरी और आज की सर्जरी में बहुत बड़ा क्रान्तिकारी परिवर्तन आया है , लेकिन दवाओं द्वारा की जाने वाली चिकित्सा में तुरत फुरत के आराम के लिये जितनी अच्छी दवायें कुछ अवस्थाओं के लिये आधुनुक चिकित्सा विज्ञान में है , वे सरहनीय है, लेकिन आयुर्वेद और होम्योपैथी में भी बहुत सी ऐसी स्तिथियों के लिये औषधियां है ।

दमा के रोग के इलाज के लिये मेरा अनुभव बहुत अच्छा है, यदि Electro Tridosha Graphy ETG AyurvedaScan की मदद लेकर और इसकी Findings पर आधारित होकर चिकित्सा वयवस्था की जाये और समय समय पर ई०टी०जी० परिक्षण करके मानीटरिन्ग करते रहे और तदनुसार चिकित्सा वयवस्था में फेर बदल करके दवाओं का चुनाव करते रहे तो दमा रोग से मुक्ति मिल जाती है ।

एक टिप्पणी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s