एक्स-रे तथा सी० टी० स्कैन और ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन परीक्षणों की तुलनात्मक प्रस्तुति ; मरीज को फेफड़ों की Lymphadenopathy की तकलीफ


बीमारियों के रोग निदान के लिये आधुनिक चिकित्सा विग्यान ने बहुत महत्व्पूर्ण योगदान दिया है / अभी तक रोग निदान की तकनीक केवल आधुनिक चिकित्सा विग्यान के पास थी /  इन सब तकनीकों में एक्स-रे तथा सी०टी० स्कैन तकनीक अपना महत्व पूर्ण स्थान रखती हैं /
आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान में रोगों की पहचान करने के लिये नाड़ी विग्यान यानी Radial Pulse examination की तकनीक ही उपलब्ध रही है / आयुर्वेद की अति आधुनिक तकनीक “ईलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी ; ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन” के प्रचिलित होने से जहां आयुर्वेद के पास रोग निदान तथा इन निदान ग्यान पर अधारित होकर सटीक चिकित्सा मरीजों को उपलब्ध कराने और बीमारियों का शीघ्र शमन करने की तकनीक का उपयोग होने लगा है, उससे अब आयुर्वेद की वैग्यानिकता पर उठने वाले सवालों पर
विराम अवश्य लगेगा /
णीचे दिये गये एक्स-रे और सी०टी० स्कैन रिपोर्ट की तुलना ई०टी०जी० आयुर्वेदस्कैन की रिपोर्ट से करिये और देखिये कि भारतीय Indigenous Technology क्या आपको कहीं से कम नज़र आती है ?
यह एक मरीज का विवरण है जिसे Pulmonary Lymphadenopathy है /
 
सी०टी० स्कैन की रिपोर्ट

सी०टी० स्कैन की रिपोर्ट

मरीज का एक्स-रे परिक्षण रिपोर्ट

मरीज का एक्स-रे परिक्षण रिपोर्ट

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s