दिन: अगस्त 14, 2010

इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी ; ई०टी०जी० आयुर्वेदस्कैन के जन्मदाता डा० देश बन्धु बाजपेयी को “विश्व मित्र” सम्मान से नवाजा गया


आयुर्वेद के महान चिकित्सक आचार्य चरक की जयन्ती हर साल नाग पन्चमी के दिन सभी वैद्य और आयुर्वेद की चिकित्सा करने वाले तथा आयुर्वेद से सम्बन्धित लोग मनाते हैं / नाग पन्चमी इस साल २०१० में दिन शनिवार दिनान्क १४ अगस्त को पड़ी है /

जिला उन्नाव , उत्तर प्रदेश में आज के दिन मुझे Brambharsi vishvamitra vaidik vigyaan shodh sansathaan ब्रम्हर्षि विश्वामित्र वैदिक विग्यान शोध सन्सथान, उन्नाव द्वारा आयोजित निशुल्क चिकित्सा शिविर, मुर्तज़ा नगर में आगन्तुक रोगियों को मुझे इलेक्ट्रो त्रिदोषा ग्राफी ; ई०टी०जी० आयुर्वेदस्कैन परीक्षण के लिये बुलाया गया था, जहा मैने रोगियों का परीक्शण करके उनकी बीमारियों को तुरन्त बताया और इसके बाद मरीजों को उपचार के लिये अन्य उपस्तिथि चिकित्सकों के पास रेफर किया गया /

सुबह ९ बजे से दिन २ बजे तक निशुलक चिकित्सा शिविर चला बाद में सम्मान समरोह और दो पुस्तकों का विमोचन किय जाना था / इसके लिये जिला उन्नाव के बान्गर मऊ के विधायक श्री कुल्दीप सिह सेन्गर और पुरवा क्षेत्र के विधायक श्री यादव जी आमन्त्रित किये गये थे/

इस अवसर पर मुझे यह प्रशस्ति पत्र दोनों विधायकों द्वारा प्रदान किया गया / २२ वर्षो के ETG AyurvedaScan की उपलब्धि के बाद यह मुझे दिया गया पहला सम्मान है / इससे पहले मुझे किसी भी सन्स्था ने सम्मान देने के इस काबिल ही नहीं समझा / जीवन का पहला सम्मान पाने के कारण यह मुझे आजीवन याद रहेगा /

Advertisements