महीना: मार्च 2011

“होम्योपैथिक कार्ड रेपर्टरी” , जिसे मैने “रेपर्टराइजेशन प्रासेस के एड्वान्टेज और डिसेड्वान्टेजेज” दोनों को समझने के लिये रिसर्च एन्गिल को आधारित करके बनाया


सन १९७० सेमै खत्री धर्मशाला होम्योपैथिक डिस्पेन्सरी, बिरहाना रोड, कानपुर में अपने गुरू जी डा० श्री राम चतुर्वेदी बी०एम०एस० के साथ बैठकर चिकित्सा अभ्यास करता था / हमारे साथ प्रसिद्ध होम्योपैथिक चिकित्सक  डा० श्याम जी मेहरोत्रा भी बैठते थे / मेरा ध्यान और मेरा होम्योपैथिक चिकित्सा का आकर्षण “पुरानी बीमारियों” की चिकित्सा करने मे ज्यादा था / अपने छात्र जीवन में जब मै होम्योपैथी पढ रहा था उस समय मै आयुर्वेद का भी छात्र था / आयुर्वेद की कछायें सुबह ८ बजे से दोपहर १२ बजे तक लगती थी और होम्योपैथी की कछायें दोपहर बाद २:३० बजे से शाम ६ बजे तक चलती थी  / इस तरह मै दिन भर चिकित्सा बिग्यान का अध्ध्यन करता रहता था /

 

मेरे साथ विडम्बना यह थी कि सुबह मै आयुर्वेद हिन्दी और सन्सकृत में पढता था और दोपहर में अन्ग्रेजी में चिकित्सा विग्यान की पुस्तकें पढता था / यह एक तरह का ऐसा घालमेल था, जिसमे चिकित्सा विग्यान का प्राचीन और आधुनिक स्वरूप दोनो के अध्ध्यन का एक साथ मुझे अवसर मिलता था / इस तरह से जाने या अन्जाने में आयुर्वेद , होम्योपैथी और आधुनिक चिकित्सा विग्यान का एक साथ अध्ध्यन बहुत अभूत्पूर्व लगता था / [remaining part will be given soon]

Advertisements

ETG AyurvedaScan recorded traces of a case of CARDIAC SURGERY including grafting of arteries ; Impacts on body due to changes of Electrical behaviour


This is a case of Open Heart CARDIAC SURGERY including grafting of arteries, done eight years back.

The patient originally belongs to Ahamadabad , Gujarat and he came to his relative  at Kanpur during HOLI vacation, , where he heared about the newly invented Ayurveda technology ETG AyurvedScan by his relations.

When I recorded his ETG traces, it was an amazing  and wonderful experience to me at academic level in view of research , which  is unusual, rare and very peculiar.

OBSERVATION of the recorded traces;

1- See minutely the recorded traces and observe the ELECTRICAL BEHAVIOUR  of the patient, which is very peculiar

2- The ELECTRICAL BEHAVIOUR  is not met with the parameters of general recorded traces and in view of NORMAL ELECTRICAL BEHAVIOUR  of human body. 

3- In this case, we have observed that in every second and in every heart beat in “e” recorded trace, the waves “c” “d” “e” “s” are at one time in ‘upward’ [positive] direction and at the immediate next movement in  ‘downward’ [negative] defelection shows.

 4- The same lead shows absence of “c” wave in upward trace and “e” wave in down trace.

 5- The electrical behaviour of this patient is in ‘clock like direction’ that means the flow of body current is from right to left in circular nature. 

6- Due to frequentaly and second to second, electrical behaviour changes in body , patient have sudden HIGH and sudden LOW Blood pressure, which causes him uneasiness and uncomfort in his daily work. He is not able to sleep well in night and move in nightoff and on, when all members of his family sleeps.

 Many more anomalies have developed with the patient, which was not to patient earlier.

Below is the followup ETG AyurvedaScan , recorded on 20 / 08 /2011. See and observe the changes in Electrical Behaviour of the patient.

 Obsrvation with the comparision of the earlier recorded trace shows tremendous changes in the traces recorded afterwards.

First Follow-up ETG AyurvedaScan , recorded on 20 / 08 /2011. See and observe the changes in Electrical Behaviour of the patient.

First Follow-up ETG AyurvedaScan , recorded on 20 / 08 /2011. See and observe the changes in Electrical Behaviour of the patient.

 Obsrvation with the comparision of the earlier recorded trace shows tremendous changes in the traces recorded afterwards.

On 20 March 2011, when patient first visited in clinic , he gave the following complaints, which developed  after cardiac surgery . 

  1. 1.     Fever always persisted in between 99 F to 100 F degree.  After five months Ayurvedic treatment , fever is cured. No problem again reappeared.
  2. 2.     Rapid respiration , severe Dyspnea on least movement, even moving body and changing postures. After five months Ayurvedic treatment , resoiratory problem is cured. No problem again reappeared.
  3. 3.     Lumber pain since 7 years, now cured
  4. 4.     Gaining weight after cardiac surgery , which was 90 kgs on 20/08/2011. Now after five month the weight is 83 kgs.
  5. 5.     Swelling in whole body, now he have no swelling in his body
  6. 6.     Severe constipation and goes for stool after two / three days, now he is going daily stool. No constipation.
  7. 7.     Infection in blood was present before five months, now presently have no infection

 On 20th August 2011, patient followup was recorded. Patient belongs to Ahamadabad , Gujarat. He was happy with his progress of his problem aroused after grafting of artery in his heart.

 Conclusion; In conclusion, it shows that ETG AyurvedaScan system is beneficial on those disease conditions , where it is supposed no treatment. The patient is again given a fresh prescription on the new findings of the ETG report.

An ETG AyurvedaScan Tracings of 22 years old lady suffering from HYSTERIA disorders


This is a case of a 22 years old lady suffering from HYSTERICAL FITS, when she was 15 years old. She belongs to FAIZABAD district of UP. Her elder sister is suffering from LEUCODERMA disorders of whole body and is recovering with the black colors of the skin by my treatment basing on the line of the findings of ETG AyurvedaScan.

Seeing recovery of the disease condition of her elder sister’s LEUCODERMA and allied complaints, which is said an INCURABLE disease  and was maltreated earlier, her gaurdians decided to treat the lady by me. Her ETG AyurvedaScan was done. 

See and observe the above three traces, which provides the data of the complaints she have.

“a” trace is showing the tendency of LOW BLOOD PRESSURE and an acute sudden attack of anxiety, while traces were recorded. See the gaps of the waves, tall peaked waves at one instance have a gap of 15 , comparatively other one is having 17.5

“b” trace is showing the similar trend

“c” trace is showing the internal activity of BRAIN , marked arrow shows the abnormal waves pattern than recorded regular, sudden brain excitement changes the electrical behaviour of the visceral activities

Lady is suffering from Hysterical fits, when she was 15 years old. She took Allopathic treatment, Ayurvedic treatment and Homoeopathic treatment without any result,

Today, on 16 March 2011 her ETG AyurvedaScan recorded and we have studied that she is having more anomalies , which triggers her complaints.

We are starting treatment and time to time we will provide the progress of the patient for entire readers.

Second visute on SUNDAY,03rd April 2011 ; After 15 days Ayurvedic medicines intakes, she have almost no attack of HYSTERICAL FITS, while it was common to her  earlier that she have attack of the HYTERIA after two or three days.

She have again taken 15 days Ayurvedic medicine and we are watching the further followup.

Next followup on  01 May 2011 ;

The Lady Patient  belongs to FAIZABAD  DISTRICT , her father

came to Kanpur on 01 , May 2011 and collected medicine for further 15 days . Her father narrated to me that she is almost normal except some times she feels unesiness.

I clarified her father that it is due to tendency of the hysterical fits, earlier  she have , therefore due to this tendency , she is feeling uneasiness sometimes. 

“आयुर्वेद का इलाज कितने दिन तक करना चाहिये या किया जाये”,यह सवाल हर मरीज पूछता है What is duration of Ayurvedic Treatment ?


आज से लगभग चालिस पचास साल पहले तक लोग यह सब जानते थे कि आयुर्वेद का इलाज कितने दिन तक किया जाये, क्योंकि उस समय तक चिकित्सा के लिये केवल यही एक्मात्र चिकित्सा विग्यान था , जिसका लगभग सभी भारतीय परिवार उपयोग करते थे / होम्योपैथी अधिक उन्नत अवस्था में नहीं थी और इसे केवल बच्चों के इलाज तक ही सीमित था / यह इसलिये कि बच्चे एलोपैथी या आयुर्वेद की कड़वी दवा खाना पसन्द नहीं करते थे / मजबूरन बच्चों के इलाज के लिये होम्योपैथी की दवाओं का उपयोग करना पड़्ता था /

पुराने समय मे लोग आयुर्वेद के महत्व को समझते थे / इसलिये उनको जानकारी थी कि बीमारी के इलाज में कितना समय लगेगा , बड़े बूढे भी अपने अनुभव से बता देते थे और बता देते थे कि ” हर मर्ज के ठीक होने की एक मियाद होती है” या ” ये तो असाध्य या कष्ट साध्य या याप्य रोग है” या ” यह तो जिन्दगी भर चलने वाला रोग है और अब तो दवाओं के सहारे ही जीवन बिताना पड़ेगा” /

आज के जमाने में यह बताने वाला कोई है ही नहीं, न समझाने वाला कोई है, वजह साफ है , इन सब बातों के बारे मे ग्यान रखने वालों का एक दम अभाव / नतीजा अब यह है कि लोगो को पता ही नहीं कि जब वे बीमार हों तो उनको क्या करना चाहिये ?

मेरे यहां आने वाले मरीज मुझसे पूछते है कि वे कितने दिन आयुर्वेदिक दवा खायें , जिनसे उनकी बीमारी का ठीक ठीक इलाज हो सके / सवाल हर मरीज पूछता है और उसका सवाल पूछना भी जायज है /

आयुर्वेद का इस सम्बन्ध में क्या कहना है, उसे मै सार भाग में और अपने अनुभव को जोड़ कर आप सबके साथ अपने अनुभव को जोड़ने की कोशिश कर रहा हूं /

आयुर्वेद में ऐसा निर्देशित किया गया है कि किसी भी बीमारी का इलाज उसके पैदा होने, देश, काल और वातावरण तथा अन्य अनुकूल या प्रतिकूल परिस्तिथियों के ऊपर निर्भर करता है / इसलिये किसी भी बीमारी का इलाज कुछ घन्टे से लेकर एक दिन या कुछ दिन तक की मियाद मे हो सकता है और कुछ अन्य बीमारियां कुछ दिन से लेकर कई महीने या कई कई साल तक हो सकती है या फिर जीवन पर्यन्त तक /

मैने मानव शरीर में होने वाली बीमारियों का वर्गीकरण निम्न सात कैटेगरी में किया है / मेरे हिसाब से सारी दुनिया के लोग इन्ही सात कारणो से बीमार होते है / ये कारण है ;

१- भौतिक यानी Physical
२- मानसिक यानी Mental
३- इन्फेक्सियस यानी Infections
४- जेनेटिक यानी Genetics
५- ट्राउमैटिक यानी Traumatic
६- ईयट्रोगेनिक यानी Iatrogenic
७- अन्य कारण Others

उपरोक्त श्रेणी को देखने के बाद इस बात का अन्दाजा लगाया जा सकता है कि बीमारियों का निदान किस श्रेणी के अन्तरगत आता है / फिर इसमें यह तलाश करनी होगी कि जो भी बीमारिया है वे [a] Acute है या [b] Semi acute है या [c] Chronic है या [d] Long lasting Disease condition है /

कितने समय तक आयुर्वेद का इलाज कराना चाहिये, यह इस बात पर निर्भर करता है कि तकलीफ कैसी है /

१- अगर तकलीफ acute है तो यह कुछ घन्टे में ही दवाओं से response कर जाती है जैसे पेट का दर्द, सिर का दर्द, दान्त का दर्द, वमन होना, हिचकी आना, पेट में ऐठन होना आदि / लेकिन यहां इन सबमे एक फर्क है / अगर दर्द कैन्सर का है, अगर सिर दर्द स्पान्दिलाइटिस या माइग्रेन का है, अगर दान्त का दर्द सड़े  हुये दान्त का है तो फिर मूल रोग की चिकित्सा ही करना एक मात्र उपाय है, / अब इसमे कितना समय लगेगा यह बताना बहुत मुश्किल होता है /

२- अन्य सभी बीमारियों मे आयुर्वेद का निर्देश है कि कम से कम ३० दिन तक दवा करना चाहिये / अगर ३० दिन में लाभ न मिले तो ४० दिन या ६० दिन या ९० दिन या १२० दिन या १८० दिन तक इलाज कराना चाहिये /

३- कुछ बीमारियों ऐसी होती हैं जिनमे समय सीमा सही सही निर्धारित नहीं की जा सकती / इसलिये इनमे देश , काल, परिस्तिथि के अनुसार दवाओं तथा परहेज का निर्धारण किया जाता है, जिसे वैद्य / आयुर्वेदिक चिकित्सक के बिना करना सम्भव नहीं होता है / इस श्रेणी में कष्ट साध्य, अति कष्ट साध्य रोग और असाध्य रोग आते है /

४- सुख साध्य रोग के लिये ऊपर बताई गयी [कालम सन्ख्या -२ ] समय सीमा ठीक और सही अन्कित की गयी है / 

कुछ हद तक Homoeopathic चिकित्सा में भी यही समय सीमा तथा बतायी गयी परिस्तिथियां लागू होती है,  ऐसा मैने अनुभव किया है /

हाइपर थाय्ररायडिज्म से पीड़ित एक महिला रोगी को आरोग्य प्राप्ति का केस ; A case of Lady Patient suffering from HYPER THYROIDISM cured by basing the findings of ETG AyurvedaScan reports


यह केस एक ३५ साल की महिला का है , जिसको Hyper Thyroidism की शिकायत कई साल से थी / मरीजा ने दिनान्क २६.०६.२०१० को परामर्श किया था /

महिला को निम्न शिकायते थी, जिनके लिये वह परामर्श के लिये आयी थी /

१- अनियमित मासिक धर्म
२- मासिक होने से १० दिन पहले से मानसिक तनाव , अत्यधिक गुस्सा, झगड़ालू प्रवृति
३- मासिक के समय अत्यधिक रक्त श्राव, जिसके कारण रोगिणी बहुत कमजोर हो जाती थी
४- रोगिणी के स्तनॊं में सूजन और गान्ठे पड़ जाती है
५- पेट में सूजन

रोगिणी एलोपैथी का बहुत इलाज करा चुकी थी, उसको एलोपैथी के इलाज से कोई आराम नही मिला / मैने उसको सलाह दी कि अगर वह आयुर्वेदिक इलाज कराना चाहिती है तो वह एक ई०टी० जी० आयुर्वेदस्कैन का परीक्षण करा ले तो उसके सारे शरीर की बीमारियों के बारे मे पता चल जायेगा / दूसरा ऐसा कोई सरल तरीका नहीं है, जिससे उसकी बीमारी के बारे मे पता लगाया जा सके /

रोगिणी ने अपना ई०टी०जी० परीक्षण कराया, जिसकी फाइन्डिन्ग्स निम्न प्रकार से थी /

[अ] त्रिदोष;

कफ १३७.५२
पित्त ६८.७६
वात ५८.१५

[ब] सप्त धातु ;

मान्स १०२.०३
मेद ८१.००

[स] शरीर मे व्याप्त तकलीफॊं का अन्कलन

Mammery Glands 134.00
Lumber spine 122.22
Urinary Bladder 112.50
Mental/emotional/intellect 110.00
Sinusitis 110.00
Thyroid Pathophysiology 106.67
Uterus anomalies 88.50
Pelvic inflammatory disease 88.50
Renal anomalies 80.00
Menstrual anomalies 46.67

[द] रोग निदान ;

Bowel’s pathophysiology
Cervical spondylitis with Lymphadenitis
Epigastritis
Hormonal anomaly
Inflammatory and irritable bowel syndromes
Large intestines anomalies
Lumber pain
Mammary glands anomalies
Nervous temperaments
Tachycardia

इस रोगुणी को बताया गया कि उसे उक्त बीमारियां है / यह देखकर वह घबरा गयी कि इतनी बीमारियां एक साथ हो गयीं है / मैने उसको बताया कि ई०टी०जी० सिस्टम चूंकि सारे शरीर का स्कैन करता है इसलिये जो भी बीमारी या कार्य विकृति होती वह यह सब बता देता है / आयुर्वेद में सम्पूर्ण शरीर की चिकित्सा करने का विधान है, इसलिये जो भी फाइन्डिन्ग्स है उन सबका इलाज एक साथ होगा और आपको सारी तकलीफॊं में एक साथ आराम मिलेगा /

यह सुनकर मरीजा आश्वस्त हो गयी और उसको निम्न चिकित्सा व्यवस्था दी गयी /

अ- कान्चनार गुग्गुल १ गोली ; गले की गान्ठ के लिये
रज: प्रवर्तिनी वटी १ गोली ; मासिक धर्म की अनियमितता के लिये
ब्राम्ही वटी १ गोली ; नरवस्नेस और धड़कन के लिये
पुष्य्यानुग चूर्ण २ ग्राम के साथ दिन में दो बार सादे पानी से

ब- दश्मूलारिष्ट १० मिलीलीटर
कुमारीआसव १० मिलीलीटर
भोजन करने के बाद दोनों समय

मरीजा को १२० दिन दवा सेवन करायी गयी / दवा सेवनोपरान्त वह पूर्ण स्वस्थय है और उसे मासिक सम्बन्धी कोई तकलीफ नहीं है / उसकी थायरायड भी अब सामान्य कार्य कर रही है /

निष्कर्ष;

आयुर्वेद की इस अत्याधुनिक मशीन आधारित निदान ग्यान की तकनीक इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी ; ई०टी० जी० आयुर्वेदास्कैन से हजारों मरीजो का इलाज करने के पश्चात यह स्थापित हो चुका है कि इस तकनीक से सभी मरीजों का इलाज सफलता पूर्वक किया जा सकता है / चाहे उनको कोई भी बीमारी हो /

आयुर्वेद की जड़ों मे जहर घोलनेवाले सी०सी०आई०एम० के मेम्बरों की काली करतूतों का चिठ्ठा


आयुर्वेद की जड़ों को नेस्तनाबूद करने वाले बाहर के विदेशी लोग तो प्रयास कर ही रहे है कि कैसे इस विग्यान को कब्र मे दफ़ना दिया जाय, लेकिन इन विदेशियों के भी बाप अपने ही देश में पैदा होकर आयुर्वेद की कैसे दुर्दशा करने में जुटे है, इसका भी मुलाहजा नीचे भेजी गयी चिठ्ठी को पढ्कर समझ लीजिये /

्जयचन्द और मीर जाफर की ऐसी औलादों से हमे और क्या उम्मीद हो सकती है / हम आप सभी इन मेम्बरों को चुनकर इस आसरे के साथ CCIM भेजते है कि ये हमारी मदद करेन्गे , लेकिन ये वहां जाकर क्या करते हैं , ये मै कई बार सभी को बता चुका हूं / मेरी बात सच निकली /