दिन: मार्च 2, 2011

आयुर्वेद की जड़ों मे जहर घोलनेवाले सी०सी०आई०एम० के मेम्बरों की काली करतूतों का चिठ्ठा


आयुर्वेद की जड़ों को नेस्तनाबूद करने वाले बाहर के विदेशी लोग तो प्रयास कर ही रहे है कि कैसे इस विग्यान को कब्र मे दफ़ना दिया जाय, लेकिन इन विदेशियों के भी बाप अपने ही देश में पैदा होकर आयुर्वेद की कैसे दुर्दशा करने में जुटे है, इसका भी मुलाहजा नीचे भेजी गयी चिठ्ठी को पढ्कर समझ लीजिये /

्जयचन्द और मीर जाफर की ऐसी औलादों से हमे और क्या उम्मीद हो सकती है / हम आप सभी इन मेम्बरों को चुनकर इस आसरे के साथ CCIM भेजते है कि ये हमारी मदद करेन्गे , लेकिन ये वहां जाकर क्या करते हैं , ये मै कई बार सभी को बता चुका हूं / मेरी बात सच निकली /

Advertisements