सेल फोन Cell Phone के रेडिएशन से बचने का असान तरीका ;


जब से यह रिपोर्ट अखबारों मे छपी है कि सेल फोन के उपयोग से मस्तिष्क का कैन्सर पैदा होने की सम्भावना अधिक होती है, तबसे सेल फोन का उपयोग करने वालों को इस तरह के रेडियेशन के बचने के तौर तरीके सूझने लगे है /

कोई कुछ तरीका बताता है कोई कुछ, अब यह कितने सही है या सटीक है यह तो वही जाने, जिन्होने अनुभव किया है, लेकिन जैसा मेरे साथ होता रहा और उसका बचाव मैने कैसे किया , इसका जिक्र मै यहां कर रहा हूं /

मै सेल फोन का उप्योग करता हूं / पिछले कई सालों से इसका लगातार इस्तेमाल कर रहा हू / मुझे इसके रेडियेशन के बारे में तब पता चला, जब एक दिन मै अपने कम्प्य़ूटर के पास अपना मोबाइल रखकर सन्योग वश कम्प्यूटर पर कोई काम कर रहा था / इसी बीच में किसी मरीज का फोन आ गया / जैसे ही मोबाइल की घन्टी बजी , स्क्रीन पर झिलमिलाहट होने लगी / यह झिलमिलाहट मोबाइल की घन्टी के साथ साथ घट बढ रही थी / मैने इसे केवल मात्र देखा और बात आयी गयी हो गयी /

कुछ देर बाद मुझे इस बीत चुकी घटना का ध्यान आया , कि किस प्रकार मोबाइल की घन्टी के साथ कम्प्यूटर स्क्रीन झिल्मिला रही थी / मै समझ गया कि यह और कुछ नहीं , यह electro magnetic radiation है , जो signal और मोबाइल फोन के द्वारा पैदा हो रहा है, जिसे कम्प्य़ूटर का sensitive screen पकड़ लेता है और इस तरह झिल्मिलाहत पैदा होती है /

बात आयी गयी हो गयी, लेकिन यह प्रश्न छोड़ गयी कि मोबाइल के उपयोग से रेडियेशन होता अवश्य है चाहे उसकी intensity कम या अधिक हो /

पिछले साल २०१० के अक्टूबर माह मे मुझे एक विचित्र अनुभूति हुयी / जब मै कपडे उतारता था तो कपडे उतारते समय जब मेरा हाथ किसी धातु जैसे लोहा, स्टील, ताम्बा के करीब आता या छू जाता तो मेरे हाथ की उन्गली से एक spark यानी चिन्गारी सी निकलती और वह धातु मे चटाख जैसी आवाज से समा जाती / मुझे हल्का सा झटका लगता / पहले तो मै इसे हल्के में लेने लगा, लेकिन जब यह झटका अधिक जोर का लगने लगा, तब मैने विचार किया कि अब इसके लिये कुछ उपाय सोचना चाहिये /

जनवरी २०११ के मध्य में मुझे ध्यान आया कि अगर इस तरह के रेडियेशन से बचना है तो क्यों न एक छोटा सा COINE MAGNET यानी छोटे सिक्के के आकार का मैग्नेट पाकेट / जेब में रख लिया जाय और देखा जाय कि क्या होता है ?

मै मैग्नेट थेरापी के लिये अपने पास बड़े और छोटे सभी साइज के मैग्नेट रखता हू / मैने दो छोटे मैग्नेट अपनी पैन्ट की जेब में दाहिनी तरफ़ रखना शुरू किया / मै अपना मोबाइल फोन पैन्ट की बेल्ट में एक पाकेट पाउच में रखता हू जो बाज़ार मे मिल जाते है और इसी दाहिनी तरफ़ रखता हू जिस तरफ मै मैग्नेत रखता हू /

इस प्रयोग से तुरन्त ही झटके और चिन्गारी समाप्त हो गयी / अब मै पिछले पान्च / छह माह से लगातार अपनी पाकेट में coine shaped magnet अवश्य रखता हूं /

मेरा अनुभव है कि इस प्रयोग से electro magnetic exposure से शरीर का बचाव किया जा सकता है / ्मैग्नेट के अन्दर कुदर्ती गुण होते है जो मग्नेटिक एमीशन को पी लेते है /

यह बहुत सरल और सस्ता प्रयोग है मोबाइल अथवा अन्य सभी प्रकार के एलेक्ट्रो मैग्नेटिक रेडियेशन से बचाव करने का / आप सभी इसे आज्माइये /

2 टिप्पणियाँ

  1. this is one of the most incredible blogs Ive read in a very long time. The amount of information in here is stunning, like you practically wrote the book on the subject. Your blog is great for anyone who wants to understand this subject more. Great stuff; please keep it up

    …………reply by Dr DBBajpai………..thanks for the compliments, we remain

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s