सफ़ेद दाग अथवा वीटीलिगो रोग पर इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी ; ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन की सहायता लेकर किये गये रोग निदान और रोग चिकित्सा सम्बन्धी अध्ध्यन के बारे में


सफ़ेद कुष्ठ की बीमारी कैसे कैसे शरीर के अन्दर पनपती है , यह नीचे दिये गये फ्लो चार्ट में बताया गया है /

हमारे सन्सथान KERI INDIA द्वारा सफ़ेद कुष्ठ के बारे में बहुत गहरायी के साथ अध्य्यन किया गया है /

इस अध्ध्यन मे यह पाया गया कि शरीर के अन्दर के कई वाइटल अन्गों और कई सिस्टम्स की कार्य विकृति यानी Pathophysiology और विकृति Pathology के कारण से होने वाले असामान्य असर से “श्वेत कुष्ठ” पैदा होता है /

ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन सिस्टम की सहायता से इस रोग के पैदा होने के एकाधिक कारणों को समझने और इन कारणों को एकीकृत करने का प्रयास किया गया है, जिसे अभी तक unexplained समझा जाता रहा है /

अध्ध्यन मे यह पाया गया कि VITILIGO के प्रत्येक रोगी मे उसके रोग से सम्बन्धित कुछ व्यक्तिगत विशेष बातें होती है, जो उसी तरह के दूसरे किसी अन्य रोगी में नही मिलती है / यह एक तरह का individualise peculiarism है जो दुसरे मरीज को अलग करता है / प्रत्येक रोगी का लिया गया डाटा भी अलग अलग होता है / महिला और पुरुष दोनों के डाटा में बहुत फर्क देखा जाता है / प्राप्त डाटा की Intensities में भी बहुत फर्क देखा गया है /

हर रोगी निदान के द्रस्टिकोण से और इस प्रकार चिकित्सा करने के लिहाज से कहीं न कहीं अलग होते है / यही कारण है कि जब रोगी के इन विशेष्ताओं को ध्यान मे रखकर औषधि का चुनाव और पथ्य परहेज का निर्धारन करते है, तो सफेद दाग अवश्य आरोग्य होते है /

नीचे दिये गये फ्लो चार्ट में यही बात समझने की कोशिश की गयी है /

निष्कर्ष; सफ़ेद दाग के रोगियों का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन परीक्षण के उपरान्त प्राप्त डाटा से [पहला] यह पता लग जाता है कि मरीज के शरीर के कौन कौन से अन्गों में किस प्रकार की विकृति पाई गयी है और उनकी  Intensities कितनी है [दूसरा] Intensities  के हिसाब से उन विकृत अन्गों की  pathophysiology  को सामान्य लेवेल पर पुन: करने का प्रयास किया जाता है / जैसा कि आयुर्वेद में बताया गया है कि “शमन” चिकित्सा की आवश्यकता है या “बृन्हण” चिकित्सा का सहारा लेकर इलाज किया जाय /

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s