Nutraceutical remedy for Pulmonary ; Laryngopharyngotracheal ; Respiratory anomalies ; श्वसन सन्सथान से सम्बन्धित सभी रोगों के लिये आयुर्वेद की न्यूट्रास्यूटिकल खाद्य-औषधि



श्वसन सन्सथान से सम्बन्धित रोगों के लिये हजारों बार परीक्षित किये गये खाद्य औषधि को बनाने का तरीका तथा इसके उपयोग के बारे में बता रहा हूं / यह प्रयोग उन रोगियों के लिये है जो दवायें खाते खाते ऊब चुके है और चाहते है कि ऐसा उपाय कोई हो जिससे दवा न खानी पड़े और तकलीफ भी दूर हो जाये /

२ या ३ खजूर, ५ मुनक्का, १ या २ चम्मच कच्ची हल्दी, १ चम्मच अदरक का पेस्ट, शक्कर स्वादानुसार लेकर इसे एक उबाल तक पका ले / पकाने के बाद इसे गुन्गुना ठन्डा होने दें, पिर इसे मसल लें और इसे एक मोटी छन्नी से छान लें /

ईसे गुन्गुना रहते पी लेना चाहिये /

उपरोक्त बतायी गयी सामग्री में बीमारी के हिसाब से अन्य औषधीय द्रव्य मिलाये जा सकते है /

१- खान्सी के लिये इसमें “अडूसा” का पाउडर एक या दो या तीन या अधिक आवश्यकतानुसार मिला सकते है / चाहे जैसी खान्सी हो इससे उपयोग से ठीक हो जाती है /

२- श्वांस, दमा, इसनोफीलिया, गले की खरास, आवाज का अवरुद्द हो जाना, गले का चोक हो जाना आदि तकलीफों में ” भारन्गी, गुलबनफ्सा, मुलहठी” तीनों बराबर बराबर लेकर मोटा चूर्ण करलें / यह चूर्ण एक या दो चम्मच इस उपरोक्त फार्मूले में मिला लें और बतायी गयी विधी से पकाकर कर उपयोग करें /

३- श्वसन सन्सथान के कैन्सर में “गुर्च” की शाखा का २ इन्च का ताज टुकड़ा लेकर कुचल लें और इसमें मिलाकर पका ले / इससे बढने की गति कम होगी तथा रोग के उपद्रव से शान्ति मिलती है /

४- जो लोग नपुन्सक है, शीघ्र पतन की बीमारी से ग्रसित है, जिनके लिन्ग में उत्तेजना नहीं होती , जो लोग वीर्य की कमी से पीड़ित हैं, इसमें आधा दूध और थोड़ी मलाई मिलाकर पीयें /

इसे दिन में तीन या चार बार पी सकते हैं / बीमारी से ग्रस्त लोगों के लिये यह हल्का टानिक है और इसे सभी लोग उपयोग कर सकते है /

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s