महीना: अगस्त 2011

“गणपति बप्पा “ ; गणेश चतुर्थी और इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी ; ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन का महत्वपूर्ण सन्योग


 
GANESH CHATURTHI ke pavitra avasar par sabhi desh vashiyoM ko SHUBH    KAAMANAAYE 
 
                               Devadhidev sabaki kaamanao ki purti kare
 
बात सन २००४ की है / यह गणेश चतुर्थी का दिन था / देवाधिदेव गणेश जी की पूजा और वन्दना का समाज में माहौल था /
 
दिन के १२.३० और १ बजे के बीच का समय होगा / मै अपनी क्लीनिक में आराम से बैठा हुआ कम्प्यूटर में डिश टी० वी० के टेलीकास्टों को देख रहा था /

“आज तक” टी०वी० चैनल, गणेश महोत्सवों से सम्बन्धित समाचारों का प्रसारण मुम्बई से सीधा दर्शकों को दिखा रहा था / प्रसारण को कवर करने वाले एन्कर ने एक विशेष बात यह कही कि ” ऎसी लोगों की मान्यता है कि आज के दिन शुरू किये जाने वाले कार्य अवश्य पूरे होते हैं “/

यह बात मेरे मष्तिष्क में बैठ गयी / National Innovation Foundation, Ahamdabad की सन २००४ की National level प्रतियोगिता में मैने दो entry भेजी थी / पहली वाली entry ‘पेन्टास्केल आयुर्वेदिक दवाइयों द्वारा किये गये क्लीनिकल ट्रायल’ से सम्बन्धित थी और दूसरी entry ‘शन्खद्राव आधारित औषधियों और उनके क्लीनिकल ट्रायल’ से सम्बन्धित था /

मै तीसरी entry के तौर पर इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी / ग्राम की entry भेजना चाहता था, लेकिन यह समझ कर विचार त्याग दिया कि इसकी script लिखने में बहुत समय लगेगा और पैसा भी / इसकी शोध सामग्री जुटानी भी आसान नहीं था / इसलिये यह विचार किया कि इसे सन २००६ की प्रतियोगिता मे भेजून्गा /

लेकिन आज तक टी०वी० चैनल के एन्कर की बात सुनकर मै बहुत motivated हुआ और मैने विचार किया कि इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी / ग्राम की इन्ट्री National Innovation Foundation की 2004 प्रतियोगिता में भाग लेने के लिये मुझे भेज देना चाहिये /

जैसे ही यह विचार मेरे दिमाग में कौन्धा, मैने तुरन्त ही देवाधिदेव गणेश जी का स्मरण किया और उनका नाम लेते हुये एक कागज लेकर मैने ई०टी०जी० से सम्बन्धित preamble / introductory statement पहले एक कागज में रफ लिखा / फिर जो कुछ भी लिखा था उसमें सन्शोधन करके बाद मे सब फेयर करके लिखा /

इस फेयर की गयी कापी का पृष्ठ नीचे दिया हुआ है /

देवाधिदेव गणेश जी को मन ही मन में प्रार्थना करके और उनको ईलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी ; ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन तकनीक को समर्पित करके बार बार प्रार्थना की कि देवाधिदेव गणेश जी महाराज आयुर्वेद की इस पहली और अकेली तकनीक को इतना श्रेष्ठ बनाने का आशीर्वाद दें , जिससे यह निदान ग्यान और चिकित्सा का वही स्तर प्राप्त करे जैसा आदिकाल से आज तक आयुर्वेद विग्यान को  प्राप्त हुआ है /

 हर्ष की बात है कि देवाधिदेव श्री गणेश जी महाराज ने मेरी यह कार्य पूरा किया / मेरी विनती सुनी और भारत सरकार ने इसका परीक्षण किया और इसे उपयोगी पाया /

 मुझे सबसे बड़ी चिन्ता इस बात की है कि मै इस तकनीक के प्रचार और प्रसार के लिये और सभी वैद्यों और चिकित्सकों के उपयोग के लिये एक स्वतन्त्र आधुनिक सुविधाओं से युक्त ई०टी०जी० मशीन के निर्माण कार्य को करना चाहता हूं ताकि सभी चिकित्सकों को इस मशीन की उपयोगिता और उपयोग करने का मौका मिले / दु:ख की बात यह है कि अभी तक जितने भी प्रयास किये है , उनमें मुझे कोई सफ़लता नहीं मिली है /

 आज गणेश चतुर्थी का दिन है , मै देवाधिदेव से प्रार्थना और अर्चना करून्गा कि “देव मेरे ऊपर कृपा करिये कि मै सभी चिकित्सकों को इस वर्ष आधुनिक कम्प्य़ूटराइज्ड ई०टी०जी० मशीन Latest Ultra modern Computerised ETG Ayurveda Scanner Machine का निर्माण करके चिकित्सा कार्य हेतु  उपलब्ध करा सकूं” /

Electrical changes occurs after Ayurvedic Treatment, EVIDENCES cure of problems of a CARDIAC SURGERY and grafting of Arteries, post operative complications case, bases on the findings of ETG AyurvedaScan report


A patient from Ahamdabad , Gujarat came to Kanpur before five months on 20th March 2011 for the treatment of his coplaints , arouses after CARDIAC SURGERY and grafting of arteries.

Patient gave his complaints likely;
1- He was suffering from FEVER after surgery and was not cured by taking best medications
2- Dyspnea on least and little movement and walk, causing rapid respiration, which persists upto long hours
3- Lumber pain causing inhibition of movements and long walk
4- His weight is increasing gradually, medications are not effective
5- Swelling in whole body, lower limbs are more affected, facial swelling increases after waking
6- Constipated ; stool evacuation after three days, hard stool difficult to expel out
7- Skin infection, itching , dermatic eruptions, Allopathic physician diagnosed infection of blood
8- High Blood pressure, which is not comming normal after taking best Antihypertensive medications.

I suggested patient to go for an ETG AyurvedaScan examination. His ETG AyurvedaScan recorded on the 20th March 2011. The record is for the observation of the readers.

Below is the followup ETG AyurvedaScan , recorded on 20 / 08 /2011. See and observe the changes in Electrical Behaviour of the patient.

Observation with the comparision of the earlier recorded trace shows tremendous changes in the traces recorded afterwards.

On 20 March 2011 , when patient first visited in clinic , he gave the following complaints, which developed after cardiac surgery .

1. Fever always persisted in between 99 F to 100 F degree.

 After five months Ayurvedic treatment , fever is cured.

No problem again reappeared.

2. Rapid respiration , severe Dyspnea on least movement, even moving body and changing postures.

After five months Ayurvedic treatment , resoiratory problem is cured.

No problem again reappeared.

3. Lumber pain since 7 years, now cured

4. Gaining weight after cardiac surgery , which was 90 kgs on 20/08/2011.

Now after five month the weight is 83 kgs.

5. Swelling in whole body, now he have no swelling in his body
6. Severe constipation and goes for stool after two / three days, now he is going daily for  stool. No constipation.
7. Infection in blood was present before five months, now presently have no infection

8. His Blood pressure is now normal and he is taking very nominal HBP Allopathic medications along with Ayurvedic medicines

On 20th August 2011, patient followup was recorded. Patient belongs to Ahamadabad , Gujarat. He was happy with his progress of his problem aroused after grafting of artery in his heart.

Treatment given; The following Ayurvedic medicines were prescribed on 20th March 2011.

1- Punarnavamandur
2- Gandhak Rasayan
3- Nagarjunabhra ras
4- Hridyarnavaras
5- Abhayarist
6- Sarivadyasav

To be taken Morning and Evening and after meal. Patient uses these medicines for five months.

The patient is again given a fresh prescription on the new findings of the ETG report.

Conclusion; In conclusion, it shows that ETG AyurvedaScan system is beneficial on those disease conditions , where it is supposed no treatment. The follow-up traces record shows in evidenced way of the efficiency of the diagnosis done by the ETG system. The Electrical changes occurs after Ayurvedic Treatment , evidences cure of problems, which patient had, if bases on the findings of ETG AyurvedaScan report.

VOMITTING ; tendency of Vomit ; the symptom indicates acute to severe problem



Retching or vomitting is a common disease condition , often seen in general practice. But in fact, the symptom indicates some problem in the internal organs or any system of body.

Any thing , which is eaten, comes out with force by a spasmodic action of stomach. Some times only vomit action repeats without any food.

The reason of this symptom is related with the more acid formation in stomach or weak secretion of acid, which helps in digestion. When food remains in stomach , over the due time , bacterias increases and the infection level beomes more in stomach, causing weak anabolic to metabolic action. This process creates failure or slow to go down the food into gut, which is considered as an abnormal physiological process.

When food remains in stomach more than the normal time, autonomic nervous system activates and trigers the signals to stomach areas for emptying and evacuation of food by spasmodic action of stomach muscles. As soon as the signals activates a vigorous neuro-muscular contraction takes place, which contracts the stomach walls and thus the food comes out through mouth.

In many disease condition, the autonomic nervous sysem , which controls various internal organs and visceras , when becomes pathophysiological and pathological abnormal, the internal impact of these abnormalities express their condition through this symptoms.

The disease condition could be of any kind and nature internally, it may be Uterus related problem, it may be Bowel problem, it may be Liver problem, it may be Kidney problem, it may be hormonal problem and others, but the expression of VOMIT symptom should be consider seriously, if it repeates often.

The treatment can be symptomatic in acute stage, but in chronic cmndition the main problem should be detected and then treated accordingly.

AYURVEDA have many remedies for this condition. As for as AYURVEDA is concern, in obstinate cases of VOMIT syndromes, an ETG AyurvedaScan based treatment is sure to cure the condition.

उपवास यानी FASTING अथवा STARVATION


प्रत्येक व्यक्ति को चाहे वह नर हो या नारी रोजाना कम से कम 1500 kcal [१५०० किलो कैलोरी] शरीर को चुस्त दुरुस्त बनाये रखने के लिये जरूरत होती है /

जब उपवास करते है या फास्ट करते है या starvation की स्तिथि होती है तो शरीर का सन्चित ग्लूकोज और चर्बी , जो एडीपोज सेल्स मे जमा रहती है , बह धीरे धीरे शरीर को जिन्दा बनाये रखने के लिये खर्च करती है , ऐसा होना शरीर की कुदरती प्रक्रिया है /

चिकित्सा विग्यान की Human Physiology मे बताया गया है कि कोई भी जवान और young व्यक्ति बिना खाना पीना के केवल चार सप्ताह [ Only Four weeks] जिन्दा रह सकता है / यानी लगभग ३० दिन तक जिन्दा रह सकता है और फ़िर बाद मे मृत्यु अव्श्यम्भावी है /

FAST / STARVATION के duration मे Harmonal secretion तथा हार्मोनल इम्बैलेन्स की स्तिथि पैदा हो जाती है जिससे नाड़ी की गति प्रभावित होती है और heart beat affected होने लगती है / इसके साथ Basic Metabolic Rate भी affected होने लगता है जिससे Liver तथा Kidney पर भी असर पड़्ने लगता है /

भोजन न करने से stomach सिकुड़ जाता है और इससे कभी कभी ऐठन और spasmodic pain
होने लगता है /

जैसे जैसे FASTING or STARVATION के दिन बीतते जाते है , life expectency की आशा भी धूमिल होती जाती है /

शरीर का वजन जैसे ही ५० प्रतिशत तक कम हो जाता है , वयक्ति की जिन्दा रहने की सम्भावनायें कम से कम होती जाती हैं /

Research paper published in VAIDYA SAKHA monthly magazine, August 2011 special issue, on ETG AyurvedaScan achievements ; हिन्दी भाषा की आयुर्वेद विग्यान की पत्रिका “वैद्य सखा” मासिक पत्रिका के अगस्त २०११ अन्क में आयुर्वेद की आधुनिक तकनीक ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के बारे मे प्रकाशित शोध-पत्र


अलीगढ, उत्तर पदेश से प्रकाशित होने वाली आयुर्वेद की सर्वाधिक प्रसार और प्रचार की पत्रिका “वैद्या सखा” के अगस्त २०११ के अन्क में विशेष सम्पादक श्री अशोक भाई तलाविया, अमरौली, गुजरात द्वारा सम्पादित ‘कष्ट साध्य और असाध्य रोगों के निदान और चिकित्सा’ विषय पर प्रकाशित विशेष अन्क में ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के बारे मे शोध पत्र प्रकाशित हुआ है / इस शोध पत्र की स्कैन की गयी प्रति यहां परस्तुत है /

VAIDYA SAKHA, a bilingual english and hindi monthly magazine published from Aligarh, Uttar pradesh, India, devoted to the upliftment of Ayurvedic medical system has published research paper on ETG AyurvedaScan . The special issue of VAIDYA SAKHA, August 2011 is edited by the Special Editor Shri Vaidya Ashok Bhai Talaviya, Amarauli, Gujarat, specially subjected to INCURABLE AND LONG LASTING DISEASE CONDITIONS THEIR AYURVEDIC DIAGNOSIS, TREATMENT AND MANAGEMENT ETC. Many Ayurvedic scientist and writers have given their contribution in this issue.

 

 

 

 

 

 

 

पेट के कीड़े यानी Intestinal Worms ; आयुर्वेदिक उपचार Ayurvedic Treatment


मनुष्य की आन्तों के अन्दर प्राय: Ascarides, Pin worms, Thread worms अधिकतर पाये जाते है / आन्तों के अन्दर ये worms एक पतली झिल्ली का आवरण बनाकर उसके अन्दर पनपते रहते है और अपनी वन्श बृद्धि करते रहते है /

जब एक सीमा से अधिक इनका आकार बढ जाता है, तब इस झिल्ली में cracks होकर ये पूर्ण वयस्क कीडे मल / पाखाना / stool के साथ निकलने लगते है / इससे पहले इनके बारे में किसी को कुछ ग्यात नहीं होता कि उनकी आन्तों में कीडे भी पल रहे है /

हां, कुछ लक्षण जरूर पैदा हो जाते है जिनमें प्रमुख है [१] सोते रहते के समय में मुंह से लार गिरना या बहना [२] मीठी चीज खाने की इच्छा [३] सोते समय दान्तों का किटकिटाना [४] चेहरे पर लालीपन लिये हुये सफेद रन्ग के धब्बे हो जाना आदि Observational symptoms होते है, जिनसे यह रोग निदान करने में मदद मिलती है /

आयुर्वेद मे इसे “कृमि रोग” मानते है / कृमि रोग के उपचार के लिये ऐसे बहुत से योग शास्त्रों में बताये गये है जिनकी सन्ख्या हजारों मे होगी जिनमे एकल औषधि से लेकर रस औषधि और कीमती धातुओं तक के योग दिये गये है / यह सभी इस रोग के उपचार के लिये प्रभाव कारी हैं /

नीचे एक चूर्ण का योग दिया जा रहा है , जो सभी प्रकार के कृमि रोगों को दूर करने के लिये प्रभाव कारी है /

विडन्गादि चूर्ण Vidangaadi Churna

योग; वाय विडन्ग, सेन्धा नमक, सुध्ध हीन्ग, कालानमक, कबीला, बड़ी हरड, छोटी पीपल, निशोथ की जड़ की छाल ; इतने द्रव्य बराबर बराबर लेना है /
Combination; Vay vidang, sendha namak, shudhdh Hing, Kala namak, kabilaa,badi harad, chchoti pipal, nishoth ki jad ki chchaal in equal quantity

इन सभी द्रव्यों का महीन चूर्ण बना लें / इस चूर्ण की मात्रा १ ग्राम से लेकर तीन ग्राम तक है / इसे गरम / गुनगुने जल या दही की पतली लस्सी या मठ्ठा के साथ दिन मे दो या तीन बार लेना चाहिये /Make a fine powder of these all ingredients and the dose is 1 gramm to 3 gramm to be taken with lukwarm water or with butter milk combination one , two or three times a day

उपयोग; इस चूर्ण के सेवन करने से आन्तों में पैदा होने वाले सभी प्रकार के कीड़े , आन्त्र कृमि Intestinal worms of all kinds , Ascarides, Pin worms, Thread worms and other intestinal worms जडमूल से समाप्त हो जाते है / This combination cures all kinds of Intestinal Worms.

आयुर्वेदिक उपचार करने के बाद आन्तों के कीड़े हमेशा के लिये समाप्त हो जाते है और दुबारा इसी तरह की similar problem शायद ही किसी को होती है /

Ayurveda Scanner

Ayurveda Scanner

अब बारी आयी होम्योपैथी के “झोला छाप” डाक्टरों की ; Homoeopathy QUACKS in Uttar Pradesh State



ऊत्तर प्रदेश सरकार के होम्योपैथी के मन्त्री श्री नन्दी जी को अब शायद याद आयी है कि प्रदेश में “झोला छाप” यानी ऐसे होम्योपैथी के चिकित्सक प्रैक्टिस कर रहे है जिनके पास न तो होम्योपैथी की डिग्री है और न होम्योपैथिक चिकित्सा बोर्ड से रजिस्ट्रेशन / देखिये दैनिक जागरण कानपुर दिनान्क ०७ अगस्त २०११ मे प्रकाशित यह खबर /

मानसिक रोग Psychological Disorders


“मन के रोग” या ये कहा जाय कि “मानसिक रोग” आदि काल से मानव मात्र को हर युग और हर काल में हमेशा से पीडित करते रहे हैं /

आज भले ही आधुनिक चिकित्सा विग्यान यह कह ले कि उसने मानसिक रोगों की पहचान सबसे पहले की है लेकिन सत्य यह है कि आयुर्वेद चिक्त्सा विग्यान ने ही सबसे पहले इस बात को पहचाना कि मन तथा व्यक्ति के विचार उसे बीमार बनाते है /

मानव स्वभाव में मानसिक सम्वेदनायें बहुत सूछ्म स्वरूप में होती हैं / ये देश, काल, परिस्तिथि, उम्र आदि के साथ साथ develop होती रहती है / व्यक्ति के जीवन में ऐसे बहुत से कारण पैदा हो जाते हैं , जिनसे उसकी मनों भावनायें आहत होती है, जिसके परिणाम स्वरूप विभिन्न प्रकार के मानसिक असन्तुलन पैदा हो जाते है / यही मानसिक असन्तुलन मानसिक विकार पैदा करते हैं /

भय, चिन्ता, डरपोक स्वभाव, अचानक बिना बात के घबरा जाना, घबराहट के साथ दिल का जोर जोर से धड़कना, ऊठ ऊठ कर भागना, नींद न आना, पागलपन का दौरा पड़ना, मर जाने का भय, मृत्यु भय, यह सोचना कि अचानक मर जाउन्गा, अकेले जाने में भय लगना, बिना किसी कारण के डरना, अनावश्यक चिन्ता करना आदि आदि नाना प्रकार के मानसिक रोग हो जाते है /

मानसिक रोग होने के बहुत से कारण है / वन्शानुगत यानी genetics से, hormonal anomalies से, सिर में चोट लग जाने के उपरान्त तुरन्त या समयान्तराल के कई सालों के बाद, किसी बीमारी के गलत इलाज हो जाने के कारण से, Autonomic Nervous system की किसी विकृति से, किसी गम्भीर घटना से मानसिक अवसाद पैदा हो जाने और उसके लगातार मनन करते रहने से भी मानसिक रोग पैदा हो जाते है / कारंण बहुत से है , यहां पर केवल कुछ ही बाते जानकारी के लिये बतायी गयी हैं /

आयुर्वेद में मानसिक रोगों के इलाज के लिये आयुर्वेद के मनीषियों ने काय चिकित्सा में तथा भूत विद्या चिकित्सा अध्यायों में मानसिक रोगों की चिकित्सा विधि बताई है /

आधुनिक निदान ग्यान की तकनीक ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन की रिपोर्ट से प्राप्त डाटा का उपयोग करके और मूल रोग की विकृति को ठीक करके मानसिक रोग ठीक होते हैं /

आयुर्वेद मे मानसिक रोगों के लिये रस, रसायन, घृत , तेल, चूर्ण आदि का उपयोग करते है और इसके साथ साथ general health condition को improve करते हैं जिनसे रोगी का रोग मुक्त होता है /