सेक्स शिक्षा व्याख्यान माला – दूसरा ; आयुर्वेद का “बाजॊकरण” अन्ग Lectures on Sex Education – part Second ; Astang of Ayurveda “BAJIKARAN”


मुझे कुछ बातों का पता चला कि आज कल के नौजवानों या नवयुवतियों को सही सही सेक्स या सेक्स से सम्बन्धित विषयों के बारे में जानकारी नही है / वे समझते हैं कि सम्भोग करना ही सेक्स है और इसके अलावा कुछ भी नहीं / वास्तविकता यह है कि इस विषय को समझाने की कोशिश भी नहीं कि गयी, जिसके कारण तरह तरह की भान्तियां मन के अन्दर बनती चली गयी / खुलकर भारतीय समाज में सेक्स की बाते करना सिवाय मित्र मन्डली या आपस के दोस्तों तक ही सीमित है / इसकी वजह यह है कि भारतीय समाज एक रूढिवादी समाज है, जहां इस अतरह की बातें करना वर्जित है /

हलांकि आयुर्वेद कहता है कि सेक्स के विषय और सेक्स की कलाओं का ग्यान प्रत्येक बयक्ति को होना चाहिये और इसी भावना के तहत आयुर्वेद के आठ अन्गों में एक अन्ग “बाजीकरण” को जोड़ा गया है जिसका मकसद सेक्स के कार्य कलापों से जुडा है / आयुर्वेद में “बाजीकरण” अध्याय जोड़ने के पीछे आयुर्वेद के मौलिक सिध्धान्त का चिन्तन जुड़े हुये है , आयुर्वेद के दर्शन शास्त्र को समझने के लिये “बाजीकरण” को समझना भी जरूरी है / इसके बारे में किसी अन्य पोस्ट में विस्तार से क्रम् वार चर्चा करने का प्रयास करून्गा /

खेद की बात है कि आयुर्वेद के इस पवित्र विषय को बहुत से लोगों ने व्यावसायिक सवरूप देकर आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान को यह बताने का प्रयास किया है कि आयुर्वेद सेक्स का विग्यान है और जहां सेक्स के इलाज के अलाव दूसरा कुछ भी नहीं है / अफसोस और दु:ख और झोभ तब अधिक बढ जाता है जब यह बात समझदार लोग कहते है / मेरे कई आधुनिक चिकित्सा विग्यान के डाक्टर मित्रों ने जब यह बात कहीं तो मुझे बहुत खेद के साथ उनको बताना पड़ा कि ऐसा समझना बहुत बड़ी भूल है और उनको इस भूल का सुधार करना चाहिये /

वास्तविकता और जमीनी हकीकत यह है कि आयुर्वेद एक पूर्ण चिकित्सा विग्यान है / कमियां हर चिकित्सा विग्यान में हैं . चाहे वह जो भी हो / मैने जब चिकित्सा प्रक्टिस सन १९६८ में शुरू की थी उस समय मै “एलोपैथिक” की दवाओं का टोटल उप्योग करता था / यह सिलसिला कई साल चला / बाद में मै सन १९७३ में पश्चिम जरमनी के म्य़ूनिख शहर चला गया जहां मैने होम्योपैथी की शिक्षा पोस्ट ग्रेजुयट लेवेल की ग्रहण की / भारत लौटने के बाद मैने एलोपैथी की दवाओं के प्रयोग को त्याग दिया और होम्योपैथी की प्रक्टिस शुरू कर थी /

कई साल तक होम्योपैथी की प्रक्टिस करने के बाद जब मुझे पता चला कि आयुर्वेद के मौलिक सिध्धान्तों का आन्कलन evidence based presentation द्वारा किया जा सकता है तब मैने एलोपैथी और होम्योपैथी की दवाओं के साथ साथ आयुर्वेद की दवायें भी शामिल करके मरीजों के उपयोग के लिये व्यवहार करना शुरू कर दिया / फिर भी मुझे यह लगा कि चिकित्सा विग्यान में अभी भी बहुत सी कमियां हैं जिन्हे दूर करने के लिये मैने drugless therapies का उपयोग करना शुरू किया /बाद में ETG AyurvedaScan Technology द्वारा आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान में तरह तरह के प्रयोग करने से मुझे ्विश्वास हो गया कि ऎट्घ तकनीक का सहारा लेकर यदि किसी भी रोग का इलाज करते है तो उसमें सफलता अवश्य मिलती है / ई०टी०जी० तकनीक का सहारा लेकर आयुर्वेद के आठ अन्गों का प्रारम्भिक आन्कलन करने से पता चला कि आयुर्वेद के सभी सिध्धन्तों के पीछे एक बहुत बड़ी लाजिक है जिसे समझना धीरे धीरे ही सम्भव है /

आज का आधुनिक सेक्स विग्यान और आयुर्वेद के बाजीकरंण अन्ग और आयुर्वेद के मूल सिध्धन्तों के बीच में बहुत सी समानतायें हैं , जिन्हे सेक्स के सम्बन्ध में जानना और समझना हर उस वयक्ति के लिये जरूरी है , जिन्हे सेक्स विग्यान को जान लेने की आकान्छा है /

5 टिप्पणियाँ

  1. Sir
    Me Aapki Bato Se Sahmat Hun Par Yaha To Aurved Bahut Mahngi Hone Ke Karan Aam Admi Ke Bas Se Bahar Hoti Jarahi Hai Is Me Dr. Ko Mota Kamisan Jata Hai Davai Chahe Angreji , Homyo pethi ho Ya Desi Sab Me Dr. Ka Fayda Jyada Hai taha tak ki test karane par bhi…. Is Ke Bare Me Aap Kya Kahenge

    ……….reply by Dr. DBBajpai………..aapako kaha se gyaan praapt ho gayaa ki AYURVEDA ka ilaaj bahut mahangaa hai aur aadami ke bas ke baahar ka hotaa jaa rahaa hai. haa ek baat se mai apake jarUr sahamat hu ki Dr log kamisan kha rahe hai, apaki baat sahi hai aur isake bare me mai kai baar likh cukaa hu.

    Pahale ayurved aur Homoeopathy tathaa dusari chikitsa vidhao ke Dr is baat ko dhyan m rakh kar PRACTICE karate the ki yah unaka MANAV JATI ke prati ek sevaa bhav jaisa samarapan hai jo unaki sharirik takalifon ko dur kar sak yadi ve prayas karate hai to, lekin vah samay aur tha jab logo ki avashyakataye simit thi aur unaka mukhy kary KHETI AUR KISANI se juda huaa thaa,us samay log paise ko kam mahatv dete the aur samaj seva ke liye log apane star se bharasak prayas karate the/ aj samay badal gayaa hai, seva karane ki bhavana ka lop ho cukaa hai , sab kuch dhan sancay par akar tik gayaa hai, yahi dhan arjit karane ki soch ek jahaam sare samaj me aayi hai aur har varg isase prabhavit hai ki kaise dhan kaa sangrah kiyaa jaye / jahan sabhi log is tarah ki prabrutti me jude huye hai vahan chikitsakoM se log yah ummid kare ki ve sia na kare , yah nahi ho sakataa, akhir unake bhi parivar hai, unako bhi apanaa ghar chalana hai unako bhi paise ki jarurat hai, isaliye agar ve kamisan lekar apanaa dhan sanchay karate hai to ise kharab kahan se kahenge / yah to ab shudhdh vyavasaay ho gayaa / pahale Dr rogi ko MARIJ samajhataa thaa ab Dr MARIJ ko GRAHAK samajhate hai / jaha grahak valaa bhav aa jaataa hai vahaM vyavasayiktaa aati hai /

    Rahi baat AYURVEDA dvaraa ilaj karane ki, sarakari Ayurvedic Dispensaries me davaye muft di jati hai aur salah bhi muft dete hai / Jitane bhi AYURVEDA ke MEDICAL COLLEGES hai unake INDOOR HOSPITALS me marijon ka bharti karake ilaaj karate hai aur vah bhi muft ya bahut naminal charge lekar / ab koi vahan ilaj ke liye na jaye ya salah ke liye na jaye to isake liye kya kiya ja sakata hai /

    Janch aur parikshan rogi ke bhale ki liye aur achche ilaj ke liye kiye jate hai, pahale ROG NIDAN ke liye bahut kam parikshan the ab adhik ho gaye hai / bahut se rog aise hote hai jiname NIDAN karana mushkil hota hai, isaliye satik nidan ke liye yah jarUri hota hai ki parikshan karaliye jay / Man lijiye kisi ko bukhar ya jwar aa rahaa hai, yah jvar kuch din ka ho gayaa to pata lagaana padega ki yah jwar kaisa hai, ho sakata hai yah TYPHOID ho, ho skata hai yah TYPHO MALARIAL ho, ho skata hai yah khun ki kami se ho, hoskata hai yah malaria ho, ho sakata hai yah TB ka ho ya any any koi bhi vajah ho sakati hai, isaliye yah jaruri hota hai ki nidan ki avashyakata ko dhyan me rakahte huye jaruri parikshan kara liye jay /

    ab aap hi bataiye Dr yah sab na kare aur marij ko TYPHOID ka ilaj dene lage aur use TYPHOID BUKHAR NA HO, tab marij ka kya hal hoga ?

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s