पित्त की थैली की पथरी के आपरेशन कराने के बाद फिर दुबारा पित्त की थैली में पथरी हो गयी है, इलाज बताइये……??? Recurrence of Gall Bladder Stone gain after previous OPERATION of GALL BLADDER STONE, what to do ……?


ऐसा हमेशा होता है कि पित्त की थैली का अपरेशन करा लेने के बाद दुबारा फिर से पथरी हो जाती है , जैसा कि नीचे भेजी गयी ई०मेल मे मुझसे सवाल किया गया ? आप सभी लोग इसे पढिये /

“respected sir,
i beg to say that my mom ko kidney or pitt ki thaili me badi badi pathari he or unka pahle pathari operation bhi ho chukaa he or peration ke bad phir se pathari ho gayi ,meri mom ki age 40 years he ,please aap bataye ki ye pathari kisse banti he or isme kya khana chahiye jise ye pathari na bane .meri mom ko kamar dard 24 hours rahta he hum bhahut hi poor he .or hum doctor se medicine bhi nahi le sakte actuly my father is deth,so paiso ki problem he,plz aap kuch aisa bataiye jisse meri mom ka dard theek ho jaye or pathari bhi khatam ho jaye ..
thank u

sir aap hindi me written karke send kijiyega

meri mom ki pathari ka size he 6.5mm”

आप सभी के लिये जानकारी देना चाहून्गा कि जैसा कि मैने अपनी पिछली कई पोस्ट में , जो पित्त की थैली की पथरी से सम्बन्धित लिखी जा चुकी है और उनमे वह सभी जरूरी सूचनायें दी जा चुकी है, को दुबारा अवलोकन करने का प्रयास करें /

फिर भी मै सम्क्षिप्त मे दोहराना चाहता हूं कि पित्त की थैली की पथरी यदि ७ मिलीमीटर तक है तो किसी नजदीक के expert आयुर्वेदिक या होम्योपैथिक चिकित्सक से इलाज करायें / लम्बे समय तक इलाज कराने और परहेज करने से पथरी धीरे धीरे melt होकर गल जाती है अथवा अनुकूल साइज आ जाने पर CBD से निकल जाती है /

यहां यह ध्यान रखना जरूरी है कि CBD नलिका का आन्तरिक साइज ६.५ मिलीमीटर से लेकर ७.५ मिलीमीटर तक ही औसतन होता है / किसी किसी रोगी में CBD का आन्तरिक साइज कुछ घट या कुछ बढ जाता है / इसकी माप करने का सबसे बेहतर तरीका Utrasound examination द्वारा ही सम्भव है /

जब भी आयुर्वेदिक या होम्योपैथिक इलाज करायें, प्रत्येक ३० अथवा ४० दिन बाद पथरी की वास्तविक स्तिथि जानने के लिये Ultrasound परीक्षण करा लेना चाहिये /

पित्त की थैली की पथरी का साइज अधिक बड़ा हो जाने से फिर केवल आपरेशन कराने का रास्ता ही बचता है /

गुर्दे की पथरी चाहे जितनी बड़ी हो गयी हो आपरेशन कराने से बचना चाहिये और पथरी का इलाज होम्योपैथिक अथवा आयुर्वेदिक तरीके से कराना चाहिये / मेरे यहां जितने भी गुर्दे की पथरी के रोगी इलाज के लिये आये, उनके सभी की पथरियां गल करके और छोटे टुकड़ों मे तब्दील होकर मूत्र मार्ग से निकल गयीं है, यह एक आश्चर्य जनक तथ्य है /

लेकिन मै पथरी के इलाज के लिये ETG AyurvedaScan परीक्षण पर आधारित डाटा को लेकर आयुर्वेदिक / होम्योपैथिक इलाज करता हूं, जिससे अवश्य सफलता मिलती है / मरीज को परहेज के लिये उसके ETG AyurvedaScan report डाटा पर आधारित आन्कड़ों के हिसाब से जीवन शैली और खान्पान के लिये बताया जाता है /

Advertisements

14 टिप्पणियाँ

  1. ETG AyurvedaScan report डाटा kya hai

    ………..reply………..ETG AyurvedaScan ki report lagabhag 150 page ki taiyar hoti hai, jisame [1] ETG Ayurvedascan ki report,[2] Ayurveda Thermal scanning ki report [3] Sono AYUSH Scan ki report [4] Patient measurment and examination ki report [5] Homoeopathy scan ki report [4] Human Body sectorwise evaluation ki report ityadi sab milakra sare sharir ka DATA deti hai aur isase yah pata chal jaataa hai ki [a] sharIr ki jis takalif ke ilaj ke liye marij aayaa hai , vah bimari aa kahaa se rahi hai [2] bImaarI ke aane kaa raastaa kahaaM se hai aur [3] bimaari paida hone ki mukhy vajah kyaa hai aur kaunse aise ang hai jo maujuda bimari ko paida kara rahe hai yaa bimari ko paida hone me madad kar rahe hai

    ETG Ayurveda Scan pure sharIr ka adhik se adhik parikshan karake bimari ke nidan ke liye DATA ikaththa karati hai aur jab adhik se adhik data ho jata hai to ilaj karana bahut asan ho jata hai

    DATA se matalab yaha par yahi hai

    1. Mane gallbladder ka operation krwae hoe 5 saal ho Chuke h lekin abi b agar m Wight uthata Hun to Pat m pain hojata h nahi meri mustle gross ho rhi h olta practice krne de dikt aarhi h please koe sugestion btaiye
      Gallbladder nikal di h

      ——- REPLY ——-

      YOUR MENTIONED DISEASE CONDITION IS CURABLE BY OUR LATEST INVENTED E.T.G. AyurvedaScan examination and other diagnostics METHODS OF AYURVEDA DIAGNOSIS BY HI-TECHNOLOGICAL MACHINES AND AYURVEDA AND AYUSH COMBINATION TREATMENT AND AYURVEDA MENTIONED LIFE STYLE MANAGEMENT PROCEDURE’S ADOPTIONS.

      ETG AYURVEDASCAN PARIKSHAN KARAKAR AYURVEDIC / AYUSH YANI AYURVEDA AUR HOMOEOPATHY AUR UNANI AUR YOGA PRAKRATIK CHIKITSA KA MILAJULA ILAJ KARANE SE SABHI TARAH KE ROG JINAKO LAILAJ BATA DIYA GAYA HO YAH SABHi AVASHY THIK HOTE HAI.

      See interview of cured patients and lectures on ETG AyurvedaScan technology. You can talk and conversation directly to patient by logging at our account at below ;
      http://www.youtube.com\drdbbajpai

      For Appointment and Fees and charges;
      ask Directly to Dr. A.B. Bajpai , Assistant to
      Dr. D.B.Bajpai and ETG AyurvedaScan Specialist , Kanak Polytherapy Clinic and Research Center, 67 / 70, Bhusatoli Road, Bartan Bazar, Kanpur, UP, India , Mobile no: 08604629190 Morning – 9 to 10 AM and Evening 7 to 8 PM
      अगर इलाज कराने के लिये APPOINTMENT और इलाज कराने की फीस के बारे मे जानकारी लेना चाहते है तो नीचे लिखे मोबाइल नम्बर पर सम्पर्क करें /08604629190
      PATIENTS FROM OTHER COUNTRIES / NEIBOURING States & COUNTRIES / OUT SIDE INDIA / CONTINENT’S CITIZENS / OVERSEAS SICK PERSONS , who want our treatment for any disorders, should contact Dr. D.B. Bajpai by e-mail because telephonic contacts / telephonic talks / telephonic conversations are not possible for us. E-mail; drdbbajpai@gmail.com
      हमारे यहां से ठीक हो चुके रोगियो और ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन टेक्नोलाजी के बारे मे जानकारी चाहते है तो आप हमारे नीचे लिखे यू ट्यूब एकाउन्ट मे लाग आन करे / http://www.youtube.com\drdbbajpai
      you can go for more details about our activities and talks directly to patients who have taken our treatment of various LAILAJ BIMARIYAN / INCURABLE DISEASE CONDITIONS / INCURABLE DISORDERS at logging on OUR WEB SITE
      http://www.ayurvedaintro.wordpress.com
      आप हमारे द्वारा ठीक किये जा चुके मरीजो से सम्पर्क कर सकते है /you can directly make conversation to our patient, who have been treated by us.
      Please remember that EVERY PATIENT HAS ITS OWN REMEDY BASES ON THE EXAMINATION CONCLUSION AND THE REMEDIES DIFFERS FROM PATIENT TO PATIENT THAT MEANS ONE PATIENT MEDICINE CANNOT SUIT TO OTHER SIMILAR COMPLAINTS PATIENT AND MAY HARM SERIOUSLY EVEN TO DANGER TO LIFE. So donot presserise below given patient number asking for remdies.
      Disease condition……contact person…………mobile number
      1- Leucoderma>>>>>>RAJESH>>>>>>>>>9717759899
      2- Leucoderma>>>>>>Anil >>>>>>>>>>> 9452528904
      3- Leucoderma>>>>>>Rakesh >>>>>>>> 9415039517
      4- Leucoderma >>>>> . Manjhi ..>>>>>>>..7275465838
      5- Epilepsy >>>>>>— Shashi Kumar >>>9934219731
      6- Epilepsy———Sahib Singh————9871478336
      7- Epilepsy ———- Pandey ————–9926521182
      7-[a] Epilepsy—— K. Manjhi————9752974404
      8- Fistula ———–Kumar ————— 9919477058
      9- H.I.V.———– Kumar ————–8877362655
      9-[a] H.I.V.——- Bhaijaan———–8624890177
      10- Body GLANDS—Mohan ———- 9973308564
      11- Spinal Cord—–Hoshiyar Singh — 9812560221
      12- Incurable Disease–Ritesh ——– 9997629280
      13- Incurable disease-Sandeep ——- 9829612990
      14- Cancer————–Manish ———7607857989
      15- A.V.N. Avascular Necrosis-Danish - 9026938052
      मोबाइल द्वारा रोगियो से सम्पर्क करने वाले लोगो से अनुरोध है कि वे ऊपर बताये गये मरीजो के नम्बर पर सम्पर्क करके रोगियो को अनावश्यक बाते पूछ्कर परेशान मत करें / बहुत से लोग बताये गये नम्बरो पर फोन करके दवाओ के बारे मे जानकारी करने का प्रयास करते है / ऐसे लोगो को सावधान किया जाता है कि हर मरीज का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन परीक्षण से प्राप्त रिपोर्ट को आधार करके उसके व्यक्तिगत और चरित्रगत बातो को ध्यान करके दवाये लिखी जाती है / एक जैसे रोगो की दवाये रोगी के मिजाज और उसकी ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन परीक्षण से प्राप्त डाटा से बदल जाती है / एक मरीज की दवा दूसरे मरीज को कभी सूट नही करती है उल्टे तकलीफ बहुत भयानक तरीके से बढ जाती है / इसलिये ऐसी गलती मत करें /
      Please note that we have NO BRANCH anywhere in the country and outside of the country / देश अथवा विदेशों मे हमारी कोई भी ब्रान्च किसी भी शहर मे नही है / सभी परीक्षण मशीनो द्वारा किये जाते है और कनक पालीथेरापी क्लीनिक एवम रिसर्च सेन्टर, ६७ / ७०, भूसाटोली रोड, बर्तन बाज़ार,कानपुर शहर, उत्तर प्रदेश, भारत के अलावा दूसरी किसी भी जगह पर ऐसी सुविधा उपलब्ध्ध नही है /
      DOWNLOAD e-book FREE OF COST written by Dr D.B.Bajpai, the inventor of ‘’ ETG AyurvedaScan ‘’ in Hindi Language title; आयुर्वेद सिध्धान्तो का
      आधुनिक हाई-टेक्नोलाजी इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफ ;
      ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन आधारित
      वैग्यानिक अध्ध्य्यनAyurveda fundamentals in view of ETG AyurvedaScan studies from below URL link
      http://www.slideshare.net/drdbbajpai/documents/आयुर्वेद सिध्धान्तों का आधुनिक हाई टेक्नोलाजी इलेक्ट्रि त्रिदोष ग्राफ ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन आधारित वैग्यानिक अध्ध्य्यन
      Hurry !!! Download Book free download Gifted by Dr. D.B. Bajpai
      This book is available at WEKIPEDIA under WIKIBOOKS FREE OF COST DOWNLOAD THE BOOK

  2. मेरे पित्‍त के थैली का आपरेशन हो गया है क्‍या खान पान का ध्‍यान देना है।कृपया बताने की कृपा करेँ।

    ………..उत्तर……….जिस शल्य-चिकित्सक से अपना आपरेशन कराया है , उनसे मिलकर पथ्य और परहेज के बारे मे जानकारी प्राप्त कर लें /

  3. 21 mm की पित्त की थैली में पथरी है डॉक्टर का कहना है कि थैली निकालनी पड़ेगी,
    क्या थैली निकालने के बाद क्या परेशानी हो सकती है
    आप कोई उपाए इलाज बतलाये
    मैं आप के क्लीनिक पर मिलना चाहिती हूं

    ………….REPLY BY DRDBBAJPAI…………AP JIS DOCTOR SE APANA OPERATION KARANA CHAHATI HAI USI SE YAH SAB SAVAL PUCHCHIYE VAHI APKI BAT KA UTTAR SAHI SAHI DE PAYENGE

  4. मेरी पत्नी का पिट का ऑपरेशन हो गया है एक साल हो गया है उसको खाना नहीं पचता है और पेट भो सही नहीं रहता है काफी कमजोर हो गई है कृपया उपचार बताएं

  5. Sir meri pathri ka pura pitashay nikal liya hai Ab muje kuch ho sakta hai kya please batao mu dubara ho sakti hai

    ——- REPLY ——-

    YOUR MENTIONED DISEASE CONDITION IS CURABLE BY OUR LATEST INVENTED E.T.G. AyurvedaScan examination and other diagnostics METHODS OF AYURVEDA DIAGNOSIS BY HI-TECHNOLOGICAL MACHINES AND AYURVEDA AND AYUSH COMBINATION TREATMENT AND AYURVEDA MENTIONED LIFE STYLE MANAGEMENT PROCEDURE’S ADOPTIONS.

    ETG AYURVEDASCAN PARIKSHAN KARAKAR AYURVEDIC / AYUSH YANI AYURVEDA AUR HOMOEOPATHY AUR UNANI AUR YOGA PRAKRATIK CHIKITSA KA MILAJULA ILAJ KARANE SE SABHI TARAH KE ROG JINAKO LAILAJ BATA DIYA GAYA HO YAH SABHi AVASHY THIK HOTE HAI.

    See interview of cured patients and lectures on ETG AyurvedaScan technology. You can talk and conversation directly to patient by logging at our account at below ;
    http://www.youtube.com\drdbbajpai

    For Appointment and Fees and charges;
    ask Directly to Dr. A.B. Bajpai , Assistant to
    Dr. D.B.Bajpai and ETG AyurvedaScan Specialist , Kanak Polytherapy Clinic and Research Center, 67 / 70, Bhusatoli Road, Bartan Bazar, Kanpur, UP, India , Mobile no: 08604629190 Morning – 9 to 10 AM and Evening 7 to 8 PM
    अगर इलाज कराने के लिये APPOINTMENT और इलाज कराने की फीस के बारे मे जानकारी लेना चाहते है तो नीचे लिखे मोबाइल नम्बर पर सम्पर्क करें /08604629190
    PATIENTS FROM OTHER COUNTRIES / NEIBOURING States & COUNTRIES / OUT SIDE INDIA / CONTINENT’S CITIZENS / OVERSEAS SICK PERSONS , who want our treatment for any disorders, should contact Dr. D.B. Bajpai by e-mail because telephonic contacts / telephonic talks / telephonic conversations are not possible for us. E-mail; drdbbajpai@gmail.com
    हमारे यहां से ठीक हो चुके रोगियो और ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन टेक्नोलाजी के बारे मे जानकारी चाहते है तो आप हमारे नीचे लिखे यू ट्यूब एकाउन्ट मे लाग आन करे / http://www.youtube.com\drdbbajpai
    you can go for more details about our activities and talks directly to patients who have taken our treatment of various LAILAJ BIMARIYAN / INCURABLE DISEASE CONDITIONS / INCURABLE DISORDERS at logging on OUR WEB SITE
    http://www.ayurvedaintro.wordpress.com
    आप हमारे द्वारा ठीक किये जा चुके मरीजो से सम्पर्क कर सकते है /you can directly make conversation to our patient, who have been treated by us.
    Please remember that EVERY PATIENT HAS ITS OWN REMEDY BASES ON THE EXAMINATION CONCLUSION AND THE REMEDIES DIFFERS FROM PATIENT TO PATIENT THAT MEANS ONE PATIENT MEDICINE CANNOT SUIT TO OTHER SIMILAR COMPLAINTS PATIENT AND MAY HARM SERIOUSLY EVEN TO DANGER TO LIFE. So donot presserise below given patient number asking for remdies.
    Disease condition……contact person…………mobile number
    1- Leucoderma>>>>>>RAJESH>>>>>>>>>9717759899
    2- Leucoderma>>>>>>Anil >>>>>>>>>>> 9452528904
    3- Leucoderma>>>>>>Rakesh >>>>>>>> 9415039517
    4- Leucoderma >>>>> . Manjhi ..>>>>>>>..7275465838
    5- Epilepsy >>>>>>— Shashi Kumar >>>9934219731
    6- Epilepsy———Sahib Singh————9871478336
    7- Epilepsy ———- Pandey ————–9926521182
    7-[a] Epilepsy—— K. Manjhi————9752974404
    8- Fistula ———–Kumar ————— 9919477058
    9- H.I.V.———– Kumar ————–8877362655
    9-[a] H.I.V.——- Bhaijaan———–8624890177
    10- Body GLANDS—Mohan ———- 9973308564
    11- Spinal Cord—–Hoshiyar Singh — 9812560221
    12- Incurable Disease–Ritesh ——– 9997629280
    13- Incurable disease-Sandeep ——- 9829612990
    14- Cancer————–Manish ———7607857989
    15- A.V.N. Avascular Necrosis-Danish - 9026938052
    मोबाइल द्वारा रोगियो से सम्पर्क करने वाले लोगो से अनुरोध है कि वे ऊपर बताये गये मरीजो के नम्बर पर सम्पर्क करके रोगियो को अनावश्यक बाते पूछ्कर परेशान मत करें / बहुत से लोग बताये गये नम्बरो पर फोन करके दवाओ के बारे मे जानकारी करने का प्रयास करते है / ऐसे लोगो को सावधान किया जाता है कि हर मरीज का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन परीक्षण से प्राप्त रिपोर्ट को आधार करके उसके व्यक्तिगत और चरित्रगत बातो को ध्यान करके दवाये लिखी जाती है / एक जैसे रोगो की दवाये रोगी के मिजाज और उसकी ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन परीक्षण से प्राप्त डाटा से बदल जाती है / एक मरीज की दवा दूसरे मरीज को कभी सूट नही करती है उल्टे तकलीफ बहुत भयानक तरीके से बढ जाती है / इसलिये ऐसी गलती मत करें /
    Please note that we have NO BRANCH anywhere in the country and outside of the country / देश अथवा विदेशों मे हमारी कोई भी ब्रान्च किसी भी शहर मे नही है / सभी परीक्षण मशीनो द्वारा किये जाते है और कनक पालीथेरापी क्लीनिक एवम रिसर्च सेन्टर, ६७ / ७०, भूसाटोली रोड, बर्तन बाज़ार,कानपुर शहर, उत्तर प्रदेश, भारत के अलावा दूसरी किसी भी जगह पर ऐसी सुविधा उपलब्ध्ध नही है /
    DOWNLOAD e-book FREE OF COST written by Dr D.B.Bajpai, the inventor of ‘’ ETG AyurvedaScan ‘’ in Hindi Language title; आयुर्वेद सिध्धान्तो का
    आधुनिक हाई-टेक्नोलाजी इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफ ;
    ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन आधारित
    वैग्यानिक अध्ध्य्यनAyurveda fundamentals in view of ETG AyurvedaScan studies from below URL link
    http://www.slideshare.net/drdbbajpai/documents/आयुर्वेद सिध्धान्तों का आधुनिक हाई टेक्नोलाजी इलेक्ट्रि त्रिदोष ग्राफ ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन आधारित वैग्यानिक अध्ध्य्यन
    Hurry !!! Download Book free download Gifted by Dr. D.B. Bajpai
    This book is available at WEKIPEDIA under WIKIBOOKS FREE OF COST DOWNLOAD THE BOOK

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s