“एकान्ग वीर रस” एक तरफ के लकवा मार जाने की आयुर्वेदिक दवा ; one sided PARALYSIS curative Ayurvedic remedy “Ekang Vir Ras”


आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान ने लकवा अथवा इसी तरह की मिलती जुलती बीमारियों के इलाज के लिये कई श्रेष्ठ दवाओं का शाश्त्रों में उल्लेख किया है /

हलान्कि लकवा के रोग के इलाज के लिये आयुर्वेद मे बहुत से योग दिये गये हैं , चिकित्सा के लिये औषधीय प्रयोग के अलावा रक्त मोक्षण, जलूका का प्रयोग, दाह कर्म और पन्चकर्मादि का उपयोग करने का विधान बताया गया है, लेकिन औषधियों मे “एकान्ग वीर रस” का अपना अलग स्थान है /

अधिकान्शतया इस औषधि का उपयोग एक तरफ के पैरालाइसिस की बीमारियों के लिये ही करते हैं, लेकिन इसका उपयोग उन अन्य बीमारियों में भी करते है, जो पैरालाइसिस से मिलती जुलती अन्य रोग की अवस्थायें होती है /

इस औषधि के निर्माण में निम्न प्रक्रिया और सामग्री की आवश्यकता होती है ;

घटक द्रव्य; रस सिन्दूर, शुध्ध गन्धक, कान्त लौह भस्म, वन्ग भस्म, नाग भस्म, ताम्र भस्म, अभ्रक भस्म, तीक्षण लौह भस्म, सोन्ठ, मिर्च, पीपल, सब समान भाग लेकर कूट पीस छानकर पानी के साथ खरल में डालकर अच्छी तरह एक दिन घोण्टे /

बाद में त्रिफला और त्रिकुटा और सम्भालू और चित्रक और भ्रन्गराज और सहजना और कूठ और आवला और कुचला और आक और धतूरा और अदरख के रस अथवा क्वाथ से तीन तीन भावनायें देकर सुखा कर और एक एक रत्ती या १५० मिलीग्राम की गोली बनाकर रख लें /

यह फार्मूला आयुर्वेद शास्त्र बृहत निघन्टु रत्नाकर का है /

इस औषधि की मात्रा १५० मिलीग्राम से लेकर ३०० मिलीग्राम तक है / इसे शहद अथवा किसी वात नाशक अनुपान के साथ देना चाहिये /

यह औषधि पक्षाघात यानी Paralysis, one sided paralysis or complete paralysis, अर्दित, फेसियल परालाइसिस, ग्रध्रसी यानी Sciatica nerve inflammation, एकान्ग वात, अर्धान्ग वात, आदि वात विकारों मे सफलत पूर्वक उपयोग करते है /

यह औषधि शरीर का विकास करती है, शरीर के लिये जीवन दायनी है, कीटाणु नाशक है और शरीर के अन्दर के विजातीय द्रव्य यानी toxines बाहर निकाल देती है /

एकान्वीर रस के बारे में अधिक जानकारी के लिये आयुर्वेद की materia medica का अध्ध्यन करना चाहिये /

2 टिप्पणियाँ

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s