SPECIAL Hahanemann Birth day POST on 10th April 2012 ;; डा० हाहनेमान ने जो Organon of medicine मे बताया , क्या होम्योपैथिक डाक्टर वह सब कर रहे हैं ………?


जो भी डाक्टर होम्योपैथिक की प्रैक्टिस या चिकित्सा कार्य करता है , वह सही मायने मे होम्योपैथिक चिकित्सा के आविष्कारक डा० क्रिश्चियन फ्राइड्रिख साइमुअल हाहनेमान का एक फालोवर मात्र होता है , जैसे कि डा० बोनिघसन. क्लार्क्स, एलन, बोरिक, कैन्ट आदि आदि अतीत के होम्योपैथिक के चिकित्सक थे और उन्होनें अपने अपने तरीके से हाहनेमान के कार्यों और उनकी फिलोसोफी को अधिक विस्तृत व्याख्या की और अपने अपने अनुभवों को शामिल करके जो भी उनकी समझ में आया , उन्होने लिखा और सबको बताया /

लेकिन सभी ने आधा अधुरा सत्य ही हाहनेमान के कार्यों के बारे में बताया / होम्योपैथी के डाक्टर केवल दवा के चुनाव , दवा की पोटेन्सी, दवा के रेपीटीशन और अन्य बातों की तरफ ही उलझे रहे / कौन सा स्केल की दवा दी जाय, डेसिमल, सेन्टीसिमल या ५० मिलेसिमल कौन सी प्रयोग की जाय इसी मे ही सारी उर्जा बरबाद करते चले गये और इसके अलावा कोई भी अन्य constructive कार्य जो हाहनेमान ने Organon of medicine के अन्तिम १० या १२ पैराज में बताया था , अफ्सोस की बात है , कम से कम अपने देश में तो नही हुआ /

Organon of medicine के अन्तिम कुछ पैराज में हाहनेमान ने लिखा है और सबको निर्देशित किया है और यह इशारा किया है कि………….

[अ] होम्योपैथिक के चिकित्सकों को “इलेक्ट्रोथेरापी” का उपयोग करना चाहिये / उस जमाने में किसी ने गैलवेनिक करेन्ट का एक जेनेरेटर तैयार किया था / चिकित्सा क्षेत्र की therapeutic use के लिये , यह शायद पहली मशीन थी , जो गठिया, वात विकार, musculo skeletal anomalies के treatment के लिये उपयोग में लायी जाती थी / इस मशीन के उपयोग के लिये हाहनेमान ने निर्देशित किया है / आज भी यह मशीन उसी कार्य के लिये उपयोग में लायी जा रही है जैसा कि उस जमाने में करते थे /

यह अवश्य हुआ है कि आज के जमाने में चिकित्सा कार्य के लिये , थेरापेउटिक उपयोग के लिये बहुत सी मशीने आ गयीं हैं, जिन्हे Physiotherapy चिकित्सक आज भी उपयोग मे ला रहे हैं /

सवाल यह है कि होम्योपैथी के चिकित्सकों नें इस विधा को क्यों छोड़ दिया और इस पर क्योण ध्यान नही दिया गया ?

[ब] हाहनेमान ने hydrotherapy यानी जल चिकित्सा के बारे में लिखा है / पानी के चिकित्सकीय उपयोग सदियों से मानव समाज कर रहा है / प्राकृतिक चिकित्सा में जल का उपयोग करते हैं जो सर्व विदित है / जब मै म्यूनिख , जरमनी में Krankenhaus fuer Naturhaeilwissen मे homoeopathy पढ रहा था, उस समय वहां पर जल चिकित्सा, इलेक्ट्रो थेरापी, हर्बल थेरापी, मैगनेट थेरपी, साइको थेरपी [हिप्नोटिस्म] आदि आदि Organon में हाहनेमान द्वारा बताये गये चिकित्सा के उपायों को मरीजों के उपयोग के लिये व्यवहार मे लाया जाता था /

सवाल यह है कि होम्योपैथी के डाक्टर और नीति नियन्ता और होम्योपैथी के लीडरान और धुरन्धर और धाकड़ से धाकड़ तथा कथित academicians ने क्या होम्योपैथिक् चिकित्सा विग्यान की इन उपलब्धियों को इन परिवेश में शामिल न करके ये सब किस अग्यानता का परिचय दे रहे है ?

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s