Ayurvedic Nutraceutical ; Spinach soup आयुर्वेदिक खाद्यौषधि ; पालक सूप


स्पैनेच सूप, इसे साधारण सूप समझने की भूल कभी न करियेगा / वर्ना एक हेल्दी रेसीपी से अथवा खादौषधि के लाभ से वन्चित रह जायेन्गे /

इसे बनाने क तरीका बहुत सरल है /

पान्च से आठ पत्तियां पालक की ले, इसे पानी से धोकर साफ कर लें /

सभी पत्तियों को सिल्बट्टा अथवा खरल या मिक्सी में डालकर लुगदी बना लें /

इस लुगदी में डेढ कप पानी डालकर आन्च पर रखाकर उबाल लें /

उबालने के बाद इसे गुन्गुना होने तक ठन्डा होने के लिये रख दें /

जब गुन्गुना हो जाय , तब इस लुगदी को मसलकर कप्डे अथवा छन्नी से छान ले /

इस छने हुये सूप में भूना हुआ जीरा, भूनी हुयी हीन्ग, थोड़ी शक्कर अथवा शहद अथवा गुड़ इच्छा अनुसार, थोड़ा सा नीबू का रस, कला नमक अथवा सेन्धा नमक या दोनों नमक. एक चम्मच अदरख का रस, मिला लें / बतायी गयी सामग्री अपनी रुचि के अनुसार मिला लें /

ऊपर बताये गये सामग्री में यदि कोई वस्तु नापसन्द हो तो उसे हटा सकते है / इसे रुचिकर स्वाद में बना सकते है /

जब इसे पीना चाहें तो इसमें एक चम्मच मक्खन मिलाकर यदि चाहें तो मिला सकते है /

पालक का यह सूप सभी के लिये लाभ दायक है / इस सूप के पीने से मन्दाग्नि, या जिन्हे भूख न लगने की शिकायत हो, जिन्हें पाचन समबन्धी विकार हों और कोई भोजन हजम न हो रहा हो, शरीर कमजोर हो रहा हो , चाहे उसकी कोई भी वजह हो, यह सूप निर्बलता को दूर करने में सहायक है /

जिन्हे यह लगता हो कि बतायी गयी वस्तुयें मे से कुछ उन्हे नुकसान पहुन्चा सकती हैं, वे उन नुकसान करने वाली वस्तुओं को हटा सकते है / जैसे नीबू का रस यदि किसी को नुकसान करे तो वे नीबू का रस न मिलाकर अनार या मुसम्मी या सन्तरा या कोई दूसरा रस मिलाकर सेवन कराना चाहें तो कर सकते है /

यह क लाभ दायक पेय है और इसे सभी सीजन में उपयोग कर सकते है/

Advertisements

एक टिप्पणी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s