दिल की धड़कन के घटने और बढने की बीमारी ; Tachycardia and Bradycardia


अन्गरेजी मे Rapid Puls और Low Puls rate तथा  मेडिकल साइन्स में Tachycardia and Bradycardia जैसे शब्द नब्ज की गति को पहचानने के लिये उपयोग करते है /

लाखों की सन्ख्या में रिकार्ड किये गये ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के परीक्षण करते समय यह आदत पड़ गयी है कि जैसे ही पहली ट्रेस रिकार्ड होती है , मरीज के बारे में काफी कुछ समझ में आ जाता है कि इसे क्या बीमारी है ? सबसे पहले आबजर्वेशन में यह बात आती है कि इसकी धड़कन प्रति मिनट कितनी है और इसकी रिदम कैसी है/ धड़कन के कम होने से यानी ६० धड़कन से कम बीट होने पर यह मान लिया जाता है कि इस व्यक्ति को ध्ड़कन कम होने की tendency  है अथवा ८५ से अधिक धड़्कन होने पर यह अन्दाजा लग जाता है कि इसे  धड़्कन अधिक होने की Tendency है /  इसके साथ रिदम यानी नाड़ी की चाल अगर घटती बढ़ती है तो इसका मतलब यह होता है कि इसे electrolytic imbalances  की प्रोब्लेम्स है /

आयुर्वेद की निदान ग्यान की इस मेकेनिकल तकनीक से इस पहली ट्रेस के रिकार्ड से ही प्रारम्भिक तौर पर मरीज के बारे मे बहुत कुछ पता चल जाता है , जैसे कि वात पित्त कफ की उपस्तिथि और शरीर में मौजूद intensity की सप्त धातुओं की स्तिथि और आयुर्वेद के मौलिक सिध्धन्तों से जुड़ी बहुत सी जानकारियां /

हलान्कि पूरे निदान ग्यान और इलाज के लिये ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन की पूरी रिपोर्ट बहुत जरूरी है, लेकिन emergent condition मे तुरत फुरत चिकित्सा व्यवस्था के लिये प्रारम्भिक इलाज और केस के मैनेज्मेन्ट के लिये पहली ट्रेस से ही इलाज कन्फर्म करके Ayurvedic Emergency Treatment with management की व्यवस्था शुरू कर सकते हैं /

कम धड़कन में और अधिक धड़कन में जवाहर मोहरा, याकूती और योगेन्द्र रस का उपयोग महत्व पूर्ण है, emergent condition में इसके एक या दो खुराक खिलाने से मरीज की स्तिथि सम्भल जाती है और सामान्य होने लगता है / साथ साथ यदि रिपोर्ट पर आधारित इलाज करते हैं तो शीघ्र लाभ होता है /

ऊपरोक्त बतायी गयी औषधियों में electrolytic imbalance को सुधारने के लिये बहुत कीमती दवाओं का उपयोग किया जाता है, जिससे सोडियम, पोटैसियम, कैल्सियम, आयरन, मैग्नेसियम, सेलेनियम, फास्फेट्स आदि की पूर्ति हो जाती है जिससे दिल की धड़कन कम या अधिक होने वाले फिजियोलाजिकल फेनामेनान को सामान्य स्तर पर ला देती है / इसी स्तर पर आकर मरीज अपने को स्वस्थय समझने लगता है और उसका Basic Metabolic rate भी सुधर जाता है /

Advertisements

2 टिप्पणियाँ

  1. Tachycardia को कसे ठीक क्या जा सकता है। मुझे tachycardia ki problam .hai 2003 se hai abhi tak kuch bhi fayda nahi huaa kafi इलाज कराने के बाद भी।हर दूसरे तीसरे महीने मेरे दिल की धड़कन 180 तक हो जाती । एक दम दिल की धड़कन को कम करने का का कोई घरलू तरीका बताये। medicton।

    …………..reply……………apko jo bimari hai kya ap use phunsi jaisa ya chchink ane jaisa bimari samajh rahe hai aur gharelu ilaj ke liye puchch rahe hai

    gharelu ilaj bahu simit dayare ka ilaj hai aur sympatomatic ilaj hai jo halke phulake management ke liye hota hai

    agar ap apni jindagi bavhana chahate hai to phauran kisi doctor se salah le aur apni janch karaye aur yah pata kare ki apko is tarah ki talaif kyo ho rahi hai

    ETG AyurvedaScan aur isake any parikshan karakar ilaj karane se sabhi tarah ki tachycardia thik ho jati hai

    yah apki ichcha par nirbhar hai ki ap kis tarah ka ilaj karana chahate hai

  2. Heart beat normal krne ka tarika

    ——- REPLY ——-

    WE TRY AND DO OUR BEST TO FIND THE EXACT REASONS AND GENESIS OF THE DISEASE CONDITIONS and physical disorders. THIS IS VERY ESSENTIAL BEFORE START OF THE TREATMENT OF ANY DISEASE CONDITION. WE DO OUR BEST TO MANAGE THE CASE TREATMENT BY BEST CLASS AYURVEDIC AND HOMOEOPATHIC AND UNANI AND OTHER MEDICATIONS AND BEST LIFE STYLE AND OTHER MANAGEMENTS suggestions INDIVIDUALLY FRAMED FOR EACH PATIENT.

    YOUR MENTIONED DISEASE CONDITION IS CURABLE BY OUR LATEST INVENTED E.T.G. AyurvedaScan examination and other diagnostics METHODS OF AYURVEDA DIAGNOSIS BY HI-TECHNOLOGICAL MACHINES AND AYURVEDA AND HOMOEOPATHIC and Unani INTEGRATED / AYUSH COMBINATION TREATMENT AND AYURVEDA MENTIONED LIFE STYLE MANAGEMENT PROCEDURE’S ADOPTIONS.

    ETG AYURVEDASCAN PARIKSHAN KARAKAR AYURVEDIC / AYUSH YANI AYURVEDA AUR HOMOEOPATHY AUR UNANI AUR YOGA PRAKRATIK CHIKITSA KA MILAJULA ILAJ KARANE SE SABHI TARAH KE ROG JINAKO LAILAJ BATA DIYA GAYA HO YAH SABHi AVASHY THIK HOTE HAI.

    See interview of cured patients and lectures on ETG AyurvedaScan technology. You can talk and conversation directly to patient by logging at our account at below ;
    http://www.youtube.com\drdbbajpai


    For Appointment and Fees and charges;
    ask Directly to Dr. A.B. Bajpai , Assistant to
    Dr. D.B.Bajpai and ETG AyurvedaScan Specialist , Kanak Polytherapy Clinic and Research Center, 67 / 70, Bhusatoli Road, Bartan Bazar, Kanpur, UP, India , Mobile no: 08604629190 Morning – 8 AM to 8 PM.
    अगर इलाज कराने के लिये APPOINTMENT और इलाज कराने की फीस के बारे मे जानकारी लेना चाहते है तो नीचे लिखे मोबाइल नम्बर पर सम्पर्क करें /08604629190
    PATIENTS FROM OTHER COUNTRIES / NEIBOURING States & COUNTRIES / OUT SIDE INDIA / CONTINENT’S CITIZENS / OVERSEAS SICK PERSONS , who want our treatment for any disorders, should contact Dr. D.B. Bajpai by e-mail because telephonic contacts / telephonic talks / telephonic conversations are not possible for us. E-mail; drdbbajpai@gmail.com
    हमारे यहां से ठीक हो चुके रोगियो और ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन टेक्नोलाजी के बारे मे जानकारी चाहते है तो आप हमारे नीचे लिखे यू ट्यूब एकाउन्ट मे लाग आन करे / http://www.youtube.com\drdbbajpai
    you can go for more details about our activities and talks directly to patients who have taken our treatment of various LAILAJ BIMARIYAN / INCURABLE DISEASE CONDITIONS / INCURABLE DISORDERS at logging on OUR WEB SITE
    http://www.ayurvedaintro.wordpress.com
    आप हमारे द्वारा ठीक किये जा चुके मरीजो से सम्पर्क कर सकते है /you can directly make conversation to our patient, who have been treated by us.
    Please remember that EVERY PATIENT HAS ITS OWN REMEDY BASES ON THE EXAMINATION CONCLUSION AND THE REMEDIES DIFFERS FROM PATIENT TO PATIENT THAT MEANS ONE PATIENT MEDICINE CANNOT SUIT TO OTHER SIMILAR COMPLAINTS PATIENT AND MAY HARM SERIOUSLY EVEN TO DANGER TO LIFE. So donot presserise below given patient number asking for remdies.
    Disease condition……contact person…………mobile number
    1- Leucoderma———RAJESH————
    2- Leucoderma——-Anil —————–
    3- Leucoderma——– Rakesh ————
    4- Leucoderma ———-Manjhi ————
    5- Epilepsy ————- Shashi Kumar ——
    6- Epilepsy————Sahib Singh————
    7- Epilepsy ————- Pandey ————–
    8- Epilepsy——— K. Manjhi————
    8-[a] Epilepsy—-Guptaji————
    9- Epilepsy children—— Tewari——-


    10- Fistula ————–Kumar —————
    11- H.I.V.—————– Kumar ————–
    12- H.I.V.———— Bhaijaan———–
    13- H.I.V.—————BHAI—————
    14- Body GLANDS—Mohan ———-
    15- Spinal Cord—–Hoshiyar Singh —
    16- Incurable Disease–Ritesh ——–
    17- Incurable disease-Sandeep ——-
    18- Cancer————–Manish ———
    19- A.V.N. Avascular Necrosis-Danish -
    (ऊपर दिये गये मरीजो के नाम और बीमारियों का इलाज हमारे द्वारा किया गया और यह सभी मरीज पूरी तरह से ठीक हो चुके है / इनके मोबाइल नम्बर लिस्ट से हटा दिये गये है, क्योन्कि लोगो और पब्लिक द्वारा इन मरीजो को परेशान किया जा रहा था और यह सभी मरीज लोगो द्वारा आये दिन किये जा रहे दुर्व्यवहार की शिकायते हमसे करते रहते थे / इसलिये हमने निर्णय लिया है कि सभी मरीजो के नम्बर हटा दिये जाय / हमने निर्णय किया है कि जो लोग हमारे यहा इलाज के बारे मे उपरोक्त मरीजो से सीधे बात करना चाहते है और ज्यादा जानकारी करना चाहते है , ऐसे लोग इन मरीजो के मोबाइल फोन नम्बर हमसे डायरेक्ट बात करके प्राप्त कर सकते है )
    मोबाइल द्वारा रोगियो से सम्पर्क करने वाले लोगो से अनुरोध है कि वे ऊपर बताये गये मरीजो के नम्बर पर सम्पर्क करके रोगियो को अनावश्यक बाते पूछ्कर परेशान मत करें / बहुत से लोग बताये गये नम्बरो पर फोन करके दवाओ के बारे मे जानकारी करने का प्रयास करते है / ऐसे लोगो को सावधान किया जाता है कि हर मरीज का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन परीक्षण से प्राप्त रिपोर्ट को आधार करके उसके व्यक्तिगत और चरित्रगत बातो को ध्यान करके दवाये लिखी जाती है / एक जैसे रोगो की दवाये रोगी के मिजाज और उसकी ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन परीक्षण से प्राप्त डाटा से बदल जाती है / एक मरीज की दवा दूसरे मरीज को कभी सूट नही करती है उल्टे तकलीफ बहुत भयानक तरीके से बढ जाती है / इसलिये ऐसी गलती मत करें /
    Please note that we have NO BRANCH anywhere in the country and outside of the country / देश अथवा विदेशों मे हमारी कोई भी ब्रान्च किसी भी शहर मे नही है / सभी परीक्षण मशीनो द्वारा किये जाते है और कनक पालीथेरापी क्लीनिक एवम रिसर्च सेन्टर, AN I.S.O. CERTIFIED AYURVEDA RESEARCH INSTITUTION, ६७ / ७०, भूसाटोली रोड, बर्तन बाज़ार,कानपुर शहर, उत्तर प्रदेश, भारत के अलावा दूसरी किसी भी जगह पर ऐसी सुविधा उपलब्ध्ध नही है /
    DOWNLOAD e-book FREE OF COST written by Dr D.B.Bajpai, the inventor of ‘’ ETG AyurvedaScan ‘’ in Hindi Language title; आयुर्वेद सिध्धान्तो का
    आधुनिक हाई-टेक्नोलाजी इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफ ;
    ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन आधारित
    वैग्यानिक अध्ध्य्यन in HINDI Language ; Ayurveda fundamentals in view of ETG AyurvedaScan studies from below URL link
    http://www.slideshare.net/drdbbajpai/documents/आयुर्वेद सिध्धान्तों का आधुनिक हाई टेक्नोलाजी इलेक्ट्रि त्रिदोष ग्राफ ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन आधारित वैग्यानिक अध्ध्य्यन
    http://www.slideshare.net/drdbbajpai/documents/an introduction to ETG AyurvedaScan

    AYURVEDA DO AND DONTS ; PATHYA AUR PARAHEJ ; IN HINDI LANGUAGE ; KYA KYA KARANA CHAHIYE ; Free Book DOWNLOAD FROM ABOVE MENTIONED LINK
    AND MANY OTHERS e-BOOKS of use to general public as well as Ayurveda Lovers and AYURVEDICIANS
    Hurry !!! Download Books
    free download
    Gifted by
    Dr. D.B. Bajpai
    This book is available at WEKIPEDIA under
    WIKIBOOKS FREE OF COST / DOWNLOAD THE BOOKS

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s