कमर दर्द अथवा Lumber region pain or Back ache ; Ayurvedic Homoeopathic treatment


Back ache तकलीफ देने वाला रोग है / अपने अध्ध्य्यन मे मैने observe किया है कि यह कई कारणों से होता है और जब तक कारण का निवारण नही हो जाता , यह बहुत मुश्किल से ठीक हो पाता है /

कमर दर्द के होने के बहुत से कारण होते हैं / लिन्ग के अनुसार इसके कारंण भी बहुत अजीबो गरीब से है /

पुरुषों में इसका कारण मुख्य रूप से कार्य विभाजन के साथ जुड़ा हुआ है / जैसे आजकल मोटर साइकिल या स्कूटर चलाने वाले लोगों को गलत posture के कारण नवयुवक इसके शिकार होते हैं / ऐसा होना मॊटर साइकिल चलाने और सड़्क की स्तिथि और स्पीड और उम्र और दूरी तथा बीच बीच में विश्राम कितना करते है , आदि आदि इन सभी फैक्टर्स पर आधारित होता है /  एयर कन्डीशनिन्ग के अन्दर काम करने वाले लोगों को ठन्डक की वजह से शरीर की काम करने वाली मेजर मान्श्पेशियां  अकड़्ती हैं / बैअठे बैठे काम करने से यह मान्श्पेशियां एक निश्चित movement  मे कार्य करने की आदी हो जाती हैं और यह एक लिमिट सेट हो जाती है / अचानक उठने बैठने से यह limit टूटती है इसलिये मान्श्पेशियों के टीश्यूज में अचानक बदलाव आ जाते हैं , जिससे दर्द होना शुरू हो जाता है / ऐसा बदलाव हल्के से लेकर अधिक गहरायी तक हो सकता है / जैसे superficial skin से मान्शपेशी और मान्शपेशी से लीगामेन्ट्स और टेन्डन्स  तक , फिर यहां से रीढ की हड्डियों को जोड़ने वाले अन्य अवयव तक affected हो जाते हैं /

ऐसा प्राय: विकृति या pathological phenomenon सभी तरह के कमर दर्द में होता है / दूसरे अन्य कारण भी है जैसे कमर के हिस्से में thrust या injury या किसी चीज या वस्तु से hit हो जाना या गिर जाना या कोई accident हो जाना , इनसे भी होता है और यह एक कारण है / कभी कभी बवासीर के रोगियों मे या भगन्दर के रोगियों में कमर का दर्द हो जाता है / कमर की मान्शपेशियों के सिकुड़ने के कारण यह तकलीफ हो जाती है /

महिलाओं में यह तकलीफ बहुधा देखी जाती है / ऐसा इसलिये है, क्योंकि महिलायें गर्भावस्था के समय में गर्भाशय में पल रहे और दिन प्रतिदिन भ्रूण के साइज के बढते रहने की वजह से पेट तथा spine तथा कमर की हड्डी यानी pelvis bone का आकार सामन्य  से अधिक होता है जिसके कारण इन अन्गों मे आवश्यकता से अधिक जोर पड़्ता है और आकार भी ब्ढ जाता है / बच्चा पैदा होने के बाद यह धीरे धीरे सामन्य अवस्था में आते है और मान्स्पेशियों का ढीलापन धीरे धीरे दूर होता है / अगर किसी कारण से यूटेरस या मासिक की कोई विकृत बची रह जाती है तो यह सब विकृति मिलकर PID पी०आई०डी० यानी Pelvic Inflammatory Disorders पैदा कर देते है / इस कारण से कमर में दर्द होने लगता है /

बृध्धावस्था में कमर का दर्द मान्स्पेशियों की कार्य क्षमता का कम हो जाने, मान्श्पेशियों में कुदरती सिकुड़न होने यानी contraction Tendency पैदा होने के कारण होती है  /

कुल मिलाकर कहने का तात्पर्य यह है कि कमर का दर्द एक प्रकार की Musculo-skeletal problem है और इसे इसी सन्दर्भ में देखा जाना चाहिये /

आयुर्वेद में कमर दर्द का सही और सटीक और परिपूर्ण इलाज है / आयुर्वेद की औषधियां, management, पन्चकर्म की विधियां, पथ्य , परहेज, रहन सहन  और जीवन शैली में बदलाव आदि के धारण करने से कमर दर्द ठीक हो जाता है /

अगर ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन की सहायता लेकर रोग निदान और मौलिक सिद्धान्तों का आन्कलन करके इलाज किया जाय तो कमर दर्द मे शीघ्र फायदा होता है /

7 टिप्पणियाँ

  1. आज डेड साल आगे भगन्दर कि अप्रेसन करके ठिक हूवा था फिर डेड साल बाद फिर उमर आया अब फिर अप्रेशन करे कि क्या करे डक्टर साप

  2. मुझे cervical spine की समस्या है। जिस का कुछ डॉ आपरेशन का बोल रहे है। कुछ मना कर रहे है। पर मुझे काफी तकलीफ है सो नही पाता हु। लेटते ही दर्द शुरू हो जाता है। ना तो सीधा सो पाता हू। ना करवट लेकर सो पाता हु। बैठै बैठे सोना पडता है। आप कृपया करके कोई उपचार बताएं 20/07/2015 से परेशान हू। इस बिमारी से। मेरा न है 09827335588 मै इदौर निवासी हू। मप्र से

    ………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..………reply by ………………
    Dr DBBajpai MD Ph.D
    Ayurvedic – Ayush Diagnostician and
    Chief ETG AyurvedaScan Investigator,
    KANPUR UTTAR PRADESH
    INDIA
    ……………………………………………………………………………………………………….…………………………………………………. …………………………………………………….. MANY DOCTORS CONVEYS TO PATIENTS THAT THEY HAVE INCURABLE DISEASE CONDITION AND THERE IS NO TREATMENT

    BUT INFACT THEY ARE TOTALLY WRONG BECAUSE WHATEVER THEY SAY / THEY SAY ACCORDING TO THEIR SYSTEMS IN WHICH THEY PRACTICES

    These doctors donot know about the other systems of medicine like Ayurveda and homoeopathy and unani and yoga and prakratik chikitsa, where treatment of INCURABLE DISEASE CONDITION IS POSSIBLE

    PATIENT SHOULD NOT BELIEVE ON THEIR STATEMENTS AND SHOULD NOT BE CONFUSED

    YOUR MENTIONED DISEASE CONDITION IS 100% CURABLE BY OUR LATEST INVENTED METHODS OF AYURVEDA DIAGNOSIS BY HI-TECHNOLOGICAL MACHINES AND AYURVEDA AND AYUSH COMBINATION TREATMENT AND AYURVEDA MENTIONED LIFE STYLE MANAGEMENT PROCEDURE’S ADOPTIONS.

    Listen computer recorded announcement by Dr DBBajpai
    09336238994 General Informations / Lailaj Bimariyon ke liye
    05122367773 Leucodrma / *1 for etg fees and expences/ *2 for appointment informations/*3 for duration of treatment
    08090327728 Mirgi / Epilepsy / general announcements/ ……………………………………………………………………………………………………………Record your questions as per directed in ANSWERING SYSTEM MACHINES………………………………………………………………………………………………………………………………….. Please speak in slow and clear TONE so that COMPUTER ANSWERING SYSTEM record it clearly / listen carefully recorded matter IN VOICE OF DR D.B.BAJPAI and do accordingly as directed……………………………..
    ……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..ETG AYURVEDASCAN PARIKSHAN KARAKAR AYURVEDIC / AYUSH YANI AYURVEDA AUR HOMOEOPATHY AUR UNANI AUR YOGA PRAKRATIK CHIKITSA KA MILAJULA ILAJ KARANE SE SABHI TARAH KE ROG JINAKO LAILAJ BATA DIYA GAYA HO YAH SABHi AVASHY THIK HOTE HAI

    Hamari website http://www.ayurvedaintro.wordpress.com par jakar ayurved se sambandhit tamam prakar ki janakari le sakate hai

    Ap you tube VIDEO CHANNEL par log on karake mujhe aur mere sansthaan ke bare me video dekhe
    http://www.youtube.com/drdbbajpai

    You can send your e-mail; drdbbajpai@gmail.com

    1. जवाब दिजीएगा

      ………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..………reply by ………………
      Dr DBBajpai MD Ph.D
      Ayurvedic – Ayush Diagnostician and
      Chief ETG AyurvedaScan Investigator,
      KANPUR UTTAR PRADESH
      INDIA
      ……………………………………………………………………………………………………….…………………………………………………. …………………………………………………….. MANY DOCTORS CONVEYS TO PATIENTS THAT THEY HAVE INCURABLE DISEASE CONDITION AND THERE IS NO TREATMENT

      BUT INFACT THEY ARE TOTALLY WRONG BECAUSE WHATEVER THEY SAY / THEY SAY ACCORDING TO THEIR SYSTEMS IN WHICH THEY PRACTICES

      These doctors donot know about the other systems of medicine like Ayurveda and homoeopathy and unani and yoga and prakratik chikitsa, where treatment of INCURABLE DISEASE CONDITION IS POSSIBLE

      PATIENT SHOULD NOT BELIEVE ON THEIR STATEMENTS AND SHOULD NOT BE CONFUSED

      YOUR MENTIONED DISEASE CONDITION IS 100% CURABLE BY OUR LATEST INVENTED METHODS OF AYURVEDA DIAGNOSIS BY HI-TECHNOLOGICAL MACHINES AND AYURVEDA AND AYUSH COMBINATION TREATMENT AND AYURVEDA MENTIONED LIFE STYLE MANAGEMENT PROCEDURE’S ADOPTIONS.

      Listen computer recorded announcement by Dr DBBajpai
      09336238994 General Informations / Lailaj Bimariyon ke liye
      05122367773 Leucodrma / *1 for etg fees and expences/ *2 for appointment informations/*3 for duration of treatment
      08090327728 Mirgi / Epilepsy / general announcements/ ……………………………………………………………………………………………………………Record your questions as per directed in ANSWERING SYSTEM MACHINES………………………………………………………………………………………………………………………………….. Please speak in slow and clear TONE so that COMPUTER ANSWERING SYSTEM record it clearly / listen carefully recorded matter IN VOICE OF DR D.B.BAJPAI and do accordingly as directed……………………………..
      ……………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………..ETG AYURVEDASCAN PARIKSHAN KARAKAR AYURVEDIC / AYUSH YANI AYURVEDA AUR HOMOEOPATHY AUR UNANI AUR YOGA PRAKRATIK CHIKITSA KA MILAJULA ILAJ KARANE SE SABHI TARAH KE ROG JINAKO LAILAJ BATA DIYA GAYA HO YAH SABHi AVASHY THIK HOTE HAI

      Hamari website http://www.ayurvedaintro.wordpress.com par jakar ayurved se sambandhit tamam prakar ki janakari le sakate hai

      Ap you tube VIDEO CHANNEL par log on karake mujhe aur mere sansthaan ke bare me video dekhe
      http://www.youtube.com/drdbbajpai

      You can send your e-mail; drdbbajpai@gmail.com

  3. sir mere guda dhuwr ke pass ek foda ho gya usko krib 1 year ho gye kai base treatment krwaya PR sir kuch din aaram r h ta h phir , pain krne lagta h baar guda dhuwar ke pass vo phoda me se mavad or paani niklta h hole clear dekhta h ko clean krna padta h sir meri feeling h mujhe cancer ho gya h sayad sir plzzz help me
    ——- REPLY ——-

    YOUR MENTIONED DISEASE CONDITION IS CURABLE BY OUR LATEST INVENTED METHODS OF AYURVEDA DIAGNOSIS BY HI-TECHNOLOGICAL MACHINES AND AYURVEDA AND AYUSH COMBINATION TREATMENT AND AYURVEDA MENTIONED LIFE STYLE MANAGEMENT PROCEDURE’S ADOPTIONS.

    ETG AYURVEDASCAN PARIKSHAN KARAKAR AYURVEDIC / AYUSH YANI AYURVEDA AUR HOMOEOPATHY AUR UNANI AUR YOGA PR——-AKRATIK CHIKITSA KA MILAJULA ILAJ KARANE SE SABHI TARAH KE ROG JINAKO LAILAJ BATA DIYA GAYA HO YAH SABHi AVASHY THIK HOTE HAI.

    See interview of cured patients and lectures on ETG AyurvedaScan technology. You can talk and conversation directly to patient by logging at our account at below ;
    http://www.youtube.com\drdbbajpai

    For Appointment and Fees and charges;
    ask Directly to Dr. A.B. Bajpai , Assistant to Dr. D.B.Bajpai and ETG AyurvedaScan Specialist Mobile no: 08604629190 Morning – 9 to 10 AM and Evening 7 to 8 PM
    अगर इलाज कराने के लिये APPOINTMENT और इलाज कराने की फीस के बारे मे जानकारी लेना चाहते है तो नीचे लिखे मोबाइल नम्बर पर सम्पर्क करें /08604629190
    PATIENTS FROM OTHER COUNTRIES / NEIBOURING States & COUNTRIES / OUT SIDE INDIA / CONTINENT’S CITIZENS / OVERSEAS SICK PERSONS , who want our treatment for any disorders, should contact Dr. D.B. Bajpai by e-mail because telephonic contacts / telephonic talks / telephonic conversations are not possible for us. E-mail; drdbbajpai@gmail.com
    हमारे यहां से ठीक हो चुके रोगियो और ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन टेक्नोलाजी के बारे मे जानकारी चाहते है तो आप हमारे नीचे लिखे यू ट्यूब एकाउन्ट मे लाग आन करे / आप हमारे द्वारा ठीक किये जा चुके मरीजो से सम्पर्क कर सकते है /
    http://www.youtube.com\drdbbajpai
    you can go for more details about our activities at log on
    http://www.ayurvedaintro.wordpress.com

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s