ETG AyurvedaScan ; how the system detects the entire body problems and how accurate Ayurvedic-AYUSH treatment is possible?; ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन सिस्टम किस तरह से सारे शरीर का परीक्षण करता है और कैसे आयुर्वेद-आयुष द्वारा सही और सटीक इलाज सम्भव करता है ?


आयुर्वेद की नयी निदान ग्यान की क्रान्तिकारी तकनीक ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन द्वारा किस तरह से सारे शरीर का परीक्शण होकर किस तरह से सही और सटीक सभी बीमारियों का इलाज समभव हो जाता है , जिनके बारे मे धारणा है कि ऐसी बीमारियों का इस दुनियां में कोई इलाज नही है ?

सही बात यह है कि आयुर्वेद की इस क्रान्तिकारी तकनीक द्वारा सम्पूर्ण शरीर की तीन आयामी यानी 3 Dimentional अध्ध्य्यन किया जाता है / यह अध्ध्यन ठीक उसी तरह से है जिसे उदाहरण स्वरूप किसी पेड़ से तुलनात्मक रूप में कर सकते हैं / कैसे ?

यहां दिये गये स्केच चित्र के {A} भाग का अवलोकन कीजिये / इसमें दिये गये एक पेड़ को देखिये और उसका बेसिक structure समझिये / कोई भी पेड़ तीन मुख्य हिस्सों में बन्ट जाता है / ये हिस्से होते हैं [१] जड़ यानी root [२] तना यानी trunk और [३] ऊपर की शाखा यानी branches के साथ अन्य / यह एक पेड़ का मूल स्वरूप है , जो तीन हिस्सों में मुख्यतया बटा हुआ होता है / इस पेड़ की सारी जीवन कथा इन्ही तीन भागों मे समाहित है /

ETGchart

अब इसी स्केच चित्र के दूसरे {B} भाग को देखिये और समझिये / यही वह मुख्य समझने वाला तत्व है जो ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन को विशिष्ट बनाता है / दरअसल आयुर्वेद के मौलिक सिध्धान्तों के निदान और शरीर के रोगों के निदान ग्यान को त्रिआयामी यानी Three Dimentional रूप यहीं बनता है / जब इस तकनीक के फाइनल रिजल्ट मिलते हैं तो इसमें तीन स्तर का निदान हो जाता है / इन तीन स्तरों मे पहला स्तर Manifestation / Symptoms / Unhealthy conditions का होता है यानी वह मुख्य तकलीफें या वह मुख्य पीड़ायें, जिनके इलाज के लिये मरीज डाक्टर के पास आता है / दूसरा स्तर उस pathway यानी रास्ते का होता है , जिससे होकर मुख्य तकलीफ या व्यथा या पीड़ा उस स्थान से चलती है जहां मुख्य तकलीफ की जड़ बुनियाद होती है / यानी तीसरा स्तर जहां pathophysiology या pathology पैदा होती है, उन Organs / Vital parts / Torso Organs में , जिनकी कार्य विकृति या विकृति के कारण मौजूदा तकलीफ होती है और जिस तकलीफ का इलाज मरीज डाक्टर के पास कराने के लिये आता है / यहा उल्लेखनीय होगा और कहना होगा कि त्रिआयामी यानी Three Dimentional Diagnosis की सुविधा ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के जरिये मिल जाती है /

यहां दिये गये स्केच चित्र के तीसरे भाग यानी {C} हिस्से को देखिये / यह वह महत्वपूर्ण चरण हैं जहां आयुर्वेद की दवाओं के multi-functional area का लोहा मानना पड़ता है / ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन की फाइन्डिन्ग्स रिपोर्ट के तीन आयामी पहलू के अध्ध्य्यन के पश्चात यह विभाग सुविधा देता है कि ऐसी आयुर्वेदिक औषधियों का चुनाव किया जाये तो [१] पहला और [२] दूसरा और [३] तीसरा यानी तीनों चरण की बीमारियों को एक ही दवा या बहुल दवा और उसका अनुपान बीमारी को जड़ बुनियाद से आरोग्य प्रदान कर देने की क्षमता पैदा कर देता है / चाहे उस बीमारी का कोई भी नाम दिया गया हो, चाहे उस बीमारी का कितना भी डरावना नाम हो , चाहे उस बीमारी का कितना भी भयभीत करने वाला आकार प्रकार बता दिया गया हो या बीमारी को यह बता दिया गया हो कि इसका कोई इलाज नही है /

यह बात सब्को समझ लेना चाहिये कि कोई भी बीमारी होगी तो यह शरीर में ही पैदा होगी और इस बीमारी को शरीर के विकृत अन्ग ही पैदा करेन्गे / बीमारी कहीं बाहर से नही आयेगी , न ही इसे कोई implant कर सकता है / ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन की इस तकनीक से तीन आयामी यानी पहला मुख्य बीमारी के लक्षण दूसरा इस बीमारी को लाने वाला या बनाकर लाने वाला रास्ता और तीसरा मुख्य बीमारी को पैदा करने वाला शरीर का अन्ग, आदि सभी बातों का पता चल जाता है / जिससे बीमारी कोई भी हो और उसका कोई भी नाम दिया गया हो , सभी आरोग्य होते है /

FreeETG

3 टिप्पणियाँ

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s