E.T.G. AyurvedaScan’s Innovation ; ” Treadmill ETG AyurvedaScan examination” ; ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन का अन्य नवोदित अनुसन्धान ; “ई०टी०जी० आयुर्वेदस्कैन ट्रीडमिल परीक्शण और जान्च


आयुर्वेद की क्रान्तिकारी रोग निदान और शरीर परिख्शण की विधि ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के वर्तमान स्वरूप में ्शरीर के रोगों के निदान ग्यान को और अधिक सूच्छ्म सवरूप में जान लेने और आयुर्वेद के मौलिक सिध्धान्तों को और अधिक गहरायी से समझ लेने और अधिक जान लेने की उत्कन्ठा से प्रभावित होकर ई०टी०जी० ायुर्वेदास्कैन का नवोदित अनुसन्धानात्मक स्वरूप “ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन ट्रीडमिल परीक्षण जान्च” पर अनुसन्धानातम्क कार्य का प्रारम्भ हमारे कानपुर स्तिथि अनुसन्धान केन्द्र में कर दिया गया है /

पिछले बहुत से वर्षों से ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन परीक्षण और जान्च शरीर को लिटाकर resting position मे किया जाता रहा है / टेस्ट बहुत अधिक सेन्सिटिव होने के कारण मरीज को चुपचाप बिना हिले डुले तनाव रहित स्तिथि में परीक्षण के लिये हिदायत की जाती रही है, जिससे कि ट्रेस रिकार्ड बहुत बेहतर स्तिथि के प्राप्त हो ताकि रोग निदान और रोग चिकित्सा मे उच्च कोटि के परिणाम प्राप्त हो जायें /

ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन पर किये जा रहे परीक्षणॊं और प्राप्त चिकित्सा परिणामों और मरीज की जीवन शैली के अध्ध्यन के पश्चात यह पता चला कि मरीजों में कुछ शारीरिक बीमारियां अपने चरम शारीरिक कार्य कलापों और शारीरिक श्रम करने के बाद ही उत्कृष्ट स्वरूप में manifest या express करती हैं / यह manifestations या expressions शरीर की आराम अवस्था में नही प्राप्त होती हैं /

यह विचार ही वह प्रेरणा श्रोत बना जिसने यह राह दिखाई कि कैसे इस विचार को मूर्त स्वरूप में साकार किया जाये / इसके लिये पहले मरीज को कुछ व्यायाम कराकर और फिर ETG AyurvedaScan examination करने से कुछ बात बनी /शारीरिक श्रम कराकर जब ETGAS परीक्शण किये गये तब पता चला कि बहुत सी शरीर की अन्दरूनी हालात का expressin और बहुत सी hidden anomalies जिन्हे सामान्य अवस्था में जान्च करते समय पता नही चलता था या पता नही चल पाता था उनके बारे में intensity level मे बहुत से बदलाव पता चलने लगे /

इस प्रकार प्रयोगों में किये गये परिणामों को देखकर इस नये विचार को मूर्त रूप में परिवरतित किया गया और परीक्षण के लिये रिसर्च केन्द्र में Treadmill की व्यवस्था की गयी / इस ट्रीड मिल के साथ जान्च के लिये अन्य इलेक्ट्रानिक मीटरों का उपयोग करते हैं जिनसे वात दोष, पित्त दोष और कफ दोष का विभिन्न आयामी अध्ध्यन और अनुसन्धान सही और सटीक और अचूक रूप में किया जा सके /

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s