A case of CANCER post operative stage of Uterus removal complications ; ETG AyurvedaScan treatment approach ; गर्भाशय कैन्सर के एक महिला रोगी का आपरेशन करने के बाद पैदा हुये कामप्लीकेशन्स का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन आधारित इलाज


चार साल पहले एक ५२ साल की महिला को गर्भाशय का कैन्सर हुआ था / कैन्सर युक्त गर्भाशय का आपरेशन करके removal कर दिया गया / आपरेशन कराने के कुछ दिन के बाद से महिला को योनि मार्ग से discharges होना शुरू हो गये / इस तकलीफ का इलाज एलोपैथी चिकित्सा की लगभग सभी विधियों से किया गया और जो भी सम्भव इलाज और उपाय हो सकते थे सब के सब किये गये, लेकिन महिला की तकलीफ कम नही हुयी, बल्कि उसकी तकलीफ में और अधिक इजाफा हो गया /

महिला के लिये यह एक ऐसी असहाय की स्तिथि थी कि उसकी समझ में नही आ रहा था कि वह करे तो क्या करे ? किसी ने इस महिला को होम्योपैथी का इलाज करने की सलाह दी/ मरता क्या न करता वाली हालत थी / महिला का सारा धन और जमा पूंजी आपरेशन कराने और इलाज कराने में ही खर्च हो गयी / ऊपर से तकलीफ जैसे जैसे दवा और इलाज करते जा रहे थे वैसे ही वैसे बढती चली जा रही थी और कन्ट्रोल होने का नाम नही ले रही थी / कुछ न करने से अच्छा था कि कुछ इलाज किया जाये / जिसने होम्योपैथिक के डाक्टर को दिखा कर इलाज करने की सलाह दी थी, वह उसी डाक्टर के पास गयी /

होम्योपैथी की दवा खाने और इलाज करने से महिला को बहुत आराम मिली और उसके discharge तथा अन्य दूसरी तकलीफों में कमी आ गयी / होम्योपैथी का इलाज चालू रहा, लेकिन जो डाक्टर इलाज कर रहे थे , उनकी अचानक मृत्यु हो गयी / महिला ने दूसरे होम्योपैथी के डाक्टर को दिखाया लेकिन उसको इस दूसरे होम्योपैथी के डाकटर की दवा से कोई खास आराम नही मिली / किसी ने बताया कि कोई बाबा जी आश्रम में आयुर्वेदिक दवा देते है, वह वहां चली गयी और बहुत दिनों तक इलाज करती रही, लेकिन उसको आराम नही मिली बल्की उसकी तकलीफ और अधिक बढ गयी /

यह वह स्तिथि थी जब इस महिला को मेरे द्वारा किये जा रहे एक कैन्सर के रोगी को, जो अब रोग मुक्त हो चुका है , सलाह दी कि वह अपना इलाज कराने के लिये मुझसे समपर्क करे /

महिला दिसम्बर २०१२ के महीने में जानकारी लेने आयी कि मेरा इलाज करने का क्या तौर तरीका है ? मैने उसको बताया कि पहले मै ETG AyurvedaScan का परीक्षण करता हूं, इसके साथ अन्य बहुत सी स्क्रीनिन्ग तथा जान्चे की जाती है और जब सारी फाइन्डिन्ग्स आ जाती है तो उसके आधार पर इलाज करते हैं/ महिला दिसम्बर २०१२ के दूसरे सप्ताह में जानकारी करने और पूछने के लिये आयी थी /

इसी बीच उसे कोई दूसरा सलाह देने वाला मिल गया / वह वहां इलाज के लिये चली गयी / महिला की तकलीफ और बढ गयी / यह वह स्तिथि थी जब वह दुबारा मेरे पास इलाज कराने के लिये आयी /

मैने उसको बताया कि मेरा इलाज करने का तरीका दूसरे आयुर्वेदिक और आयुष चिकित्सकों से अलग है / सबसे पहले मै ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन का परिक्शण करता हू और इसके साथ साथ अन्य दूसरे परीक्षण भी होते है, जिनमे करीब एक या दो घन्टे का समय लग जाता है / इसके बाद परीक्षण की रिपोर्ट जब मिल जाती है और सारे परीक्षण के परिणाम मिल जाते हैं तब तीन डाय्मेन्शनल यानी 3 Dimentional तकलीफ को निष्कर्ष निकाल कर देखते हैं कि [१] मुख्य तकलीफ़ की क्या स्तिथि है [२] मुख्य तकलीफ कहां से generate होकर आ रही है और [३] मुख्य तकलीफ को पैदा करने वाले कौन कौन से organs involve हैं / जब तक यह पता नही चलेगा कैन्सर जैसी बीमारियों का इलाज जटिल हो जाता है /

मरीजा भी यही चाहती थी कि उसकी तकलीफ की जड़ बुनियाद क्या है , यह पता करना चाहिये और वह चाहती थी कि उसका इलाज सही सही हो / मरीजा अपने साथ कुछ डाकूमेन्ट्स लेकर आयी थी जो उसके कैन्सर ग्रस्त Uterus के Operation से समबन्धित थे और जिसमे उसके शरीर के अन्दर कैन्सर होने की पुष्टि की गयी थी साथ मे इलाज कराने के पर्चे आदि थे /

मरीजा का लगभग चार साल पहले गर्भाशय का आपरेशन किया गया था जिसमे उसका कैन्सर युक्त गर्भाशय काट कर निकाल दिया गया था / इस आपरेशन के कराने के बाद उसको डेढ साल बाद योनि मार्ग से पानी निकलने की शिकायत होने लगी / पहले एलोपैथी का इलाज किया गया जिसमे कोई कामयाबी नही मिली , बाद मे दूसरे उपचार किये गये, जिनका जिक्रा ऊपर किया जा चुका है /

महिला का ETG AyurvedaScan examination किया गया, जिसका अवलोकन कीजिये /

malatigupta53years
malatigupta53yearssecond

Comments by Dr DBBajpai, Chef ETG AyurvedaScan investigator;
In cancer patient, it is observed that the recorded traces from different locations of the body seems very dull and of the weak equal level of diffussion of body electrical behaviour. This almost happen might be due to metastatsis of the inflammatory condition of the visceras spreading almost every part of the body by Lymphatic system and spleen or by blood stream.

This lady on physical examination of Abdomen areas shows very tender almost below from the Lowest rib upto pubic area, even a slight touch or slight pressure caused her untolerable pain.

One weak medication of AYURVEDA + AYUSH gave her relief from tenderness of the abdomen. After a week, abdomen examination shows relief in tenderness and relief from pain. She also have some relief in her discharge.

FOLLOW-UP; on 13 May 2013
The patient’s swewlling on abdomen and of some part of the body and her permanent body temperature , including pain in various parts and lazyness, like syndromes are almost gone , her discharges are changes and bleeding is stopped. She was almost feeling pain in her lumber region , which is now relieved and she is very active than before and feeling well.

I estimated after examination of blood by AYURVEDA HEAMO METER and assessed that she is almost 60 percent relieved.

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s