THL ; Total Hip Replacement ; टोटल हिप रेप्लेसमेन्ट के एक मरीज का अनुभव : an experience of a patient


fistula 001

लगभग २० दिन पहले मुझे पन्जाब से सटे एक राज्य में चिकित्सा कार्य करने वाले एलोपैथी के एक स्पेशियलिस्ट डाकटर ने फोन द्वारा समपर्क किया / सन्योग की बात है कि उस दिन शुक्रवार था और मेरा Clinic बन्द था, शुक्रवार को मेरे दवाखाने की साप्ताहिक छुट्टी होती है / जब डाक्टर साहब ने फोन किया उस समय मै कानपुर शहर से लगभग ६० किलोमीटर दूर था /

अपना परिचय देने के बाद जब डाक्टर ने अपनी रोग कथा के साथ किये गये उपचार और उसके बाद के प्रभाव के बारे मे बताया और Total Hip replacement से पैदा हुयी उनकी मन की व्यथा का ग्यान हुआ तो मुझे बहुत अफ्सोस हुआ और दुख भी /

जैसा कि मोबाइल पर ५० मिनट की बातचीत से जैसा भी उन्होने बयान किया , उससे जितना भी मुझे समझ में आया है . वह मै यहां आप सबके साथ शेयर कर रहा हूं / हुआ यह कि चिकित्सक महोदय को Avascular Necrosis की तकलीफ हुयी , Allopathy के चिकित्सक होने के नाते जितना भी Allopathy का इलाज कर सकते थे, उन्होने भरसक किया , लेकिन उनकी तकलीफ ठीक नही हुयी / अन्त में उनके साथी और कोलीग्स और सभी चिकित्य्सकों ने सलाह दी कि डाक्टर साहब को Total Hip Replacement करा लेना चाहिये /

डाक्टर साहब ने कुछ महीना पहले अपना THL करा डाला / इस Operation को करा लेने के बाद उनको कुछ खास किस्म की anomalies और problems पैदा हो गयी , जिसका उन्होने मुझसे जिक्र किया और इन तकलीफों को दूर करने के लिये AYUSH सम्भव सहायता करने के लिये आग्रह किया /

मैने चिकित्सक महोदय को बताया कि मेरे पास Avascular Necrosis के मरीज ETG AyurvedaScan आधारित अपनी आयुर्वेदिक आयुष मिश्रित चिकित्सा करा रहे है और उनमें से सभी मरीजों को फायदा हो रहा है, जबकि इन मरीजों को Allopathy के Doctors ने Total Hip Replacement कराने की सलाह दी थी / आपने बेकार THL Operation करा लिया , इससे तो आप्को बहुत तकलीफ हो रही होगी /

उन्होने बताया कि उनको पता ही नही चलता कि उनका दिल धड़्क रहा है या नही / इसका उनको कोई sensation पता नही चलता / वे ज्यादा देर तक खड़े नही रह सकते / सार्वजनिक वाहन से आ जा नही सकते / पैदल रास्ता और भीड़ भरे हुये स्थानों पर जा नही सकते / कमर का हिस्सा पता ही नही चलता और न पैरों में कोई sensation का पता चलता है / ज्यादा पैदल चल नही सकते / एक्दम से उठ बैठ नही सकते / बाहर निकलने मे डर बना रहता है कि कहीं किसी का धक्का न लग जाय, जिससे गिरने का खतरा बना रहता है कि कही अगर जमीन पर गिर गया तो क्या होगा ? सीढियां चढ नही सकते हैं / समतल जमीन पर ही चलने के लिये कहा गया है , जमीन पर फिसलने का डर बना रहता है /

सबसे ज्यादा डाक्टर साहब को पिछले चार महीने से , जब से उन्होने आपरेशन कराया है , इस बात की मानसिक Anxiety and deppression पैदा हो गया है , जिससे वह बहुत परेशान है ?

उन्होने request करते हुये कहा कि मेरे लिये कुछ करिये, जिससे मेरी परेशानी दूर हो ?

लगभग तीन साल पहले की बात है कानपुर के एक मध्ध्यम दरजे के उद्योगपति ने जिनको Avascular Necrosis हो गयी थी , काफी दिनों तक इस बीमारी का इलाज Allopathy के डाकटरों से कराते रहे, लेकिन उनको आराम नही मिली, उलटे उनकी हालत और अधिक खराब हो गयी / पता करते हुये हमारे पास किसी तरह से पहुचे / latest MRI Scan लेकर आये और आयुर्वेदिक इलाज के लिये आग्रह किया / मैने उनको ETG AyurvedaScan कराने की सलाह दी / आयुर्वेदिक इलाज वे करते रहे / कुछ माह बाद MRI परीक्शण कराया और improvement को चेक कराने के लिये उसी Ortho-Surgeon के पास गये
जो उनका इलाज कर चुका था / उसने बताया कि आपको 80 % आराम है और पिछले वाले MRI scan के comparison मे जो 60 % था, उसमें अब २० % अधिक improvement है /

मरीज ने बताया कि वे पहले मकान की सीढियां नही चढ पाते थे, अब चढ लेते हैं / पहले दुकान और फैक्ट्री नही जा पाते थे , अब जाने लगे है और उनको पहले से आराम है / इसी बीच में कानपुर के एक सबसे अधिक मशहूर स्थानीय समाचार पत्र में Avascular Necrosis के बारे मे कोई नई दिल्ली के अस्पताल के expert का लेख छपा / यह expert किसी प्रायवेट अस्पताल के डाक्टर ने लिखा था / इसमे उनका पता तथा e-mail आदि दिया गया था /

मरीज के पास पैसे की कोई कमी नही थी, कितनी भी बड़ी रकम और पैसा इलाज मे खर्चा हो , इसके लिये उनको कुछ सोचना ही नही था / मरीज करोड़ो की रकम खर्चा करने की हैसियत वाला था /
मरीज के लड़के नही माने / उनको हमारा इलाज पसन्द नही आया / मरीज ने बताया कि उनके लड़के दिल्ली में किसी अस्पताल मे ले जाकर चेक कराना चाहते है / मैने कहा जरूर जाइये , लेकिन आपरेशन मत कराइयेगा /

इसके बाद वह मरीज हमारे यहां कभी नही आया / इस मरीज को जो सज्जन लेकर आये थे , उन्होने जो बताया , वह इस प्रकार है / मरीज के लड़्कों ने इन्का Total Hip Replacement दिल्ली के अस्पताल मे ले जाकर करा दिया और वापस कानपुर आ गये / मरीज की हालत दिन पर दिन गिरती चली गयी / तीन – चार महीने बाद मरीज का फोन हकीम साहब के पास आया कि मरीज फिर Ayurveda का इलाज कराना चाहता है , हकीम साहब ने मुझसे मशविरा किया मैने मना कर दिया कि अब कुछ इलाज करने लायक बचा ही नही / मरीज को इलाज करने से इन्कार कर दिया गया / हमे उसी मरीज ने बताया , जो उनको लेकर हमारे पास आया था, कि THL operation कराने के बाद “लाला जी” जब्से दिल्ली से लौट कर आये तब से उन्होने बिस्तरा पकड़ लिया था और उसके बाद अभी कुछ दिन पहले बिस्तरे पर पडे ही पडे उनका इन्तकाल हो गया /

ETG AyurvedaScan की फाइन्डिन्ग्स के आधार पर इस समय वर्तमान में कई मरीज अपना इलाज करा रहे है और वे सब के सब improve कर रहे है / अभी तक जितने भी AN के मरीज मिले और उनके रोग इतिहास की तह तक समझने और रोग का जड़ मूल समझने और जानने के बाद पता चला कि सभी मरीजों को बुखार हुआ था जिसका इलाज उन्होने Allopathy द्वारा कराया था / बुखार चला गया लेकिन मान्स्पेशियों और जोड़ॊं मे दर्द रहने लगा, पीठ में दर्द होने लगा, कमर में दर्द होने लगा / सभी मरीजों ने बताया कि वे दर्द की दवा खाते रहे / उन्होने दवाओं का prescription भी दिखाया / मैने दवाओं मे पाया कि अधिकान्श चिकित्सकों नें Pain kileers और steroids और Antibiotics और Vitamin calcium antacids का भरपूर और बहुत तगड़ी Heavy Doses मे मरीजों को खिलायी गयी थी /
इतनी हैवी डोजेज खिलाने से मरीज की metabolic प्रक्रिया ही बदल गयी /

ईसे SUPPRESSIVE DISORDERS कहते हैं / Supressive disorders हमेशा शरीर की सामन्य physiology के deviation के कारण होते हैं / जब सही इलाज मिल्ता है, तब यही deviation की प्रक्रिया सामान्य Physiology की तरफ होने लगती है, जिससे शरीर के अन्दर की हो रही कमी दूर होने लगती है और स्वास्थय सामन्य होने लगता है /

यही आयुर्वेद का इलाज करता है और ETG AyurvedaScan आयुर्वेद के इलाज मे सहायता करता है /

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s