महीना: अक्टूबर 2013

Understand UNANI SYSTEM OF MEDICINE


unani01
unani02 001
unani03
unani04
unani05

unani06

Unani System of Medicine developed in ARAB countries and practiced there. Later it came back to India and flourised in this INDIAN continent.

Unani system of medicine is very near to AYURVEDA.

For convenient to understand basics of the Unani system , see and observe the loaded pages.

Advertisements

H.I.V. Syndromes can be cured by Ayurvedic Medicaments based on the E.T.G.AyurvedaScan Findings ; Ayurveda Solution of Incurable disease conditions


H.I.V. can be well managed by Ayurvedic medicaments and management according to Ayurveda. Among the many H.I.V. patient, here is given a patient’s progress in evidenced way.

Below is the case and report recorded on 27/06/2013 and after review, done on 01/10/2013.
HIVTK001
HIVTK002
HIVTK003
HIVTK004
HIVTK005
The Progress can be judge and seen after some parameters were checked and it is found that patient blood pressure and weight is gained and his thermal condition of body is now within normal limit. It is observed that HIV infected patient have abnormal temperature, which can go upto 102 degree F and more. When patient health progresses , his body temperature becomes normal.
HIVTKA1
HIVTKA2
HIVTKA3
HIVTKA4Recently One HIV Positive patient is treated Ayurvedically based on the findings of E.T.G.AyurvedaScan and other developed Ayurveda Technology of Blood and Urine.

The 28 yrs old patient previous and recently examination done data is given here.

Test / experiment of LAUH BHASMA, one of the best Ayurvedic Medicaments, to understand the curative properties and characteristics of Ayurvedic drug.


lauh01
Test / experiment are done with LAUH BHASMA, which is one of the best Ayurvedic Medicaments, to know and to understand the properties and characteristics of this Ayurvedic drug.

The LAUH BHASMA is purchased from CHAWALA AYURVEDA PHRAMACEUTICALS, AMRITSAR, PUNJAB. The simple LAUH BHASMA is used in this test. Although 100 puties Lauh bhasma and 500 puties Lauh Bhasma and 1000 puties Bhasma is used in the treatment of various ailments.

In this test / experiment with simple LAUH BHASMA is used.

Comments;

1- It is well known with the properties of LAUH BHASMA that it is used in , according to Ayurveda , in Pandu ,Rakta Vikar, Unmad, Dhatu Daurbalya, Grahani, Mandagni, Pradar, Medo,bradhdhi, Krami, Kustha, Udar Rog, aam vikaar, kShay, jwar, Hridaya Rog, Bavasir, Rakta Pitta, Amla Pitta, Shotha and other disease conditions, with the recommended Anupana .
2- It is established that LAUH BHASMA have RASAYANA and BAJIKARAN qualities.
3- The present evidence based test done by AYURVEDA-AYUSH MULTI-PURPOSE TEST METER, provides the data, which is given here.
4- The obtained Data is below; [value per amtmr or / amtmr ; Ayurveda-ayush Multi-purpose Test Meter Readings]

VATA 21.40 [amtmr]
PITTA 27.94 [amtmr]
KAPHA 09.98 [amtmr]

RAS 42.00 [amtmr]
RAKTA 103.80 [amtmr]
MANS 66.40 [amtmr]
MED 59.40 [amtmr]
ASTHI 104.40 [amtmr]
MAJJA 88.80 [amtmr]
SHUKRA 74.00 [amtmr]

5- In this Reading at top ASTHI gets 104.40 value and RAKTA gets 103.80 value and MAJJA gets 88.80 value, this facts show the entire central structural characteristics mentioned about the LAUH BHASMA in the classical books of AYURVEDA about Disease conditions of its usage.
6- Regarding Ayurveda Dosha , PITTA is 27.94 and VATA is 21.40 and KAPHA is 09.98.
7- Lauh Bhasma is used in mostly Paittik disorders related to LIVER, GALL BLADDER, SPLEEN, PANCREAS, METABOLISM, ASSIMILATION, ELECTROLYTIC IMBALANCES etc.
8- Regarding VATIK disorders Lauh Bhasma is used in Aam vikar, Udar roga etc.
9- Regarding KAPHA disorders Lauh Bhasma is used in Unmad, Hridaya roga and so on.
10- The above classification of Lauh Bhasma shows the Classical use of the drug, which some-how matches with the findings of AMTM.
11- The test confirms that according to the SAPTA DHATU evaluation in this way, the Lauh Bhasma can be used in ASTHI DHATU, RAKTA DHATU and MAJJA DHATU disorders confidently.
12- In SHUKRA DHATU disorders, say for RASAYANA and BAJIKARAN uses , SHUKRA gets 74.00 , that means LAUH BHASMA can be used in the disorders of REPRODUCTIVE ORGANS both Male and Female.
13- The description and characteristics about LAUH BHASMA is given in the AYURVEDA SAR SANGRAH mostly covered by the latest findings , which is done in our research center.

दुनिया की एक मात्र आयुर्वेदिक – आयुष सुपर स्पेशियलिटी सुविधा युक्त लाइलाज बीमारियों के इलाज के लिये स्थापित क्ळीनिक ; Only entire Globally specialist facility available Ayurveda- ayush clinic for Incurable disease conditions


ad001

Testing of Distilled Water and Chlorinated Tap Water and Nimbadi Churna of Ayurveda ; Test are done by Ayurveda-Ayush Multi-purpose Testing Meter


amt01 001
amt02
amt03The aim and objective of the test of the mentioned subjects are done for the primary evaluation of their hidden properties of nourishing and curing qualities and to establish the specific individual charecteristics of the items in view of Ayurveda Medical system.

Normal Urine parameters are taken for the comparison, but the original parameters of the individual items refelects some thing else and differs, and is not seems actual.

All the three test differs in their qualities.

De-ionised water shows Vata qualities in High, which could be due to its distillation. Sapta Dhatu Ras is Low, that could be assumed that Distill water is not for the use of general intake or for the drinking purposes. Rakta is showing high, which is might interpret that de-ionised water is useful in Injections, which is given by Intra Muscular or Intravenous root.

So is of the Chlorinated water, which is supplied by the Municipal corporation and is used in our daily tasks.

Nimbadi Churna parameters came high level in Rakta, kapha,Ras and Med, which seems to be very near to the use of this churna in the complaints mostly mentioned.

The test on the other remedies and food articles are going on and the results will be given accordingly. Test are done for the purpose of data collection and data evaluation. Opinion and comments given here, should not be taken final and should be understand at experimental level.

Women’s Infertility cases are increasing in large numbers ; what is the reason behind it ? ; महिलाओं में बच्चा पैदा करने की क्षमता यानी बन्ध्यत्व के केसेस बहुत बड़ी सन्खया में क्यो और किस कारण से बढ रहे है ????


mahila001
mahila002
mahila003

पिछले कुछ वर्षों से मेरे पास महिलाओं के बन्ध्यत्व यानी Infertility के बहुत से केसेस आये / मैने अपने डाक्टर मित्रों के साथ इस विषय पर चर्चा की और उनके अनुभव share किये / मैने इस विषय पर जैसा कि मेरी कुदरती आदत है , गहन छान बीन करने का मन बनाया और जहां भी जैसा भी मौका जानने और समझने का मिला, उसे भरपूर भुनाने की कोश्सिश की और ज्यादा से ज्यादा जानने की उत्सुकता हमेशा बनी रही /

महिलाओं मे बध्यत्व अथवा Infertility से अर्थ अथवा मतलब यह है कि ” वे महिलायें जो बच्चे पैदा करने मे असमर्थ हो चुकी है अथवा महिलाये बच्चे पैदा करने मे समर्थ नही है यानी incapable or unable to bear pregnency or difficult to pregnent से है / ”

बन्ध्यत्व की स्तिथि क्यों आई है ? इसको समझना बहुत जरूरी है / इसके कारणों को समझना और उन कारणों का निवारण करना ही बन्ध्यत्व से बचने का उपाय हो सकता है /

इन कारणो को समझने के लिये बहुत से चिकित्सकों से बात चीत की , उनके अनुभव शेयर किये / हमारे यहां आये हुये बहुत से बनध्यत्व के केसेस की शुरुआत से History और sequential analysis करने के बाद दो बातें सामने मुख्य रूप से आयी /

कारण ; १- ऐसे बन्ध्यत्व के केसेस जो कुदरती तौर पर किसी un-known phenomenon से ग्रस्त रहे

कारण ; २- ऐसे बन्ध्यत्व केसेस जो मरीज की अपनी गलती या चिकित्सकों के गलत सलाह के कारण से हुये

पहले कारण से ग्रसित महिलाओं में बन्ध्यत्व की वजह में [अ] अनियमित मासिक धर्म का होना [ब] मासिक धर्म की विकृतियां [स] हारमोन्स प्रणाली की अनियमित कार्य विधियां [द] गर्भाशय का छोटा होना या पूर्ण विकसित न होना [य] गर्भाधान के लिये जरूरी डिम्ब का निर्माण न होना [र] ओवरी की नलिका की विकृतियां यथा नलिका का बन्द होना अथवा बन्द होना [ल] योनि पथ की pH value का अनुकूल न होना [व] योनि पथ का सन्क्रमण होना जिससे पुरुष के शुक्राणु जीवित न बच पाये / इसके अलावा अन्य कारण भी होते है, जो हर मरीज में विशेष रूप से अलग अलग पाये जाते है, जो उनकी personality तथा individual charecteristics से जुडे हुये होते हैं /

दूसरा कारण man made कहा जा सकता है / ऐसे बन्ध्यत्व के केसेस मरीज की अपनी गलती से मरीज खुद पैदा कर लेते है या चिकित्सकों की गलती या लापरवाही और किसी वजह से चिकित्सक के निर्णय से जुड़ा हुआ होता है / इन कारणों में [अ] बार बार गर्भपात या abortion कराना [ब] गर्भाधान रोकने के लिये गोलियों का सेवन करना [स] family planning के लिये लूप अथवा पेसरी का उपयोग [द] गर्भाशय का मुख बड़ा करने के नाम पर Dilation and Curation विधि का उपयोग [य] किसी भी तरह का छोटा अथवा बड़ा Operation ्करा लेना [र] अन्य इन्ही बताये गये कारणो से जुड़े किये गय़ॆ कार्य कलाप / इन्ही कारणों से permanent Infertility पैदा हो जाती है /

पहले कारण से जुड़ी समस्यायों का समाधान आयुर्वेद अथवा होम्योपैथी अथवा यूनानी की दवाओं द्वारा ९९.९ % सम्भव हुआ और चिकित्सा करने से बन्ध्या महिलाओं में pregnency होकर बच्चे जरूर पैदा हुये और महिलाओं की जननान्गो से समबन्धित मूल समस्याये भी ठीक हुयी /

लेकिन दूसरे कारण से पैदा हुआ बन्ध्यत्व किसी भी महिला नही ठीक हुआ और इस तरह से इन महिलाओं को permanent infertility का शिकार होना पड़ा है / इन महिलाओं मे बहुतों ने कृत्तिम गर्भाधान भी कराया लेकिन इसमे से किसी को भी १% एक प्रतिशत भी सफलता मिली हो, ऐसा मेरी जानकारी मे नही आया है / यद्यपि कुछ लोगों ने बताया कि अमुक दम्पत्ति को कृत्तिम गर्भाधान से सफलता मिली है , लेकिन साक्षात और वास्तविक और व्यक्तिगत सम्पर्क स्वरूप में मुझे कोई नही मिला, इस लिये मै इसके बारे मे authantically बता नही सकता /

यहां उन कुछ कारणों का उल्लेख किया गया है , जिनसे infertility की समस्या पैदा होती है /

मैने कई ऐसे infertility के केसेस का इलाज किया है जिन्होने किसी प्रकार का कोई सर्जिकल आप्रेशन छोटा अथवा बड़ा किसी भी किस्म का नही कराया था और ये महिलायें अक्दम सिरे से ही और शुरू से ही आयुर्वेदिक या होम्योपैथी का इलाज करती रहीं / ऐसी महिलाओं के जननान्ग कुदरती अवस्था मे रहे / ऐसी महिलाओं को इलाज करने के साथ साथ preganancy हुयी और उनके बच्चे पैदा हुये /

ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन तथा अन्य आयुर्वेद के विकसित निदान ग्यान की तकनीक यथा आयुर्वेद रक्त परीक्षण और आयुर्वेदा मूत्र परीक्षण तथा आयुर्वेदा थेर्मल परीक्षण आदि रोग निदान ग्यान तकनीक द्वारा अध्य्यन करने के बाद ऐसी महिलाओं मे यह पाया गया कि ;

१- आयुर्वेद के मौलिक सिध्धन्तों के अनुसार कफ और वात के मिलित दोष मिले /
२- त्रिदोष भेद के अनुसार वात भेद मे अपान वायु और समान वायु के दोष, पित्त भेद के पाचक और कफ दोष के श्लेष्मन दोष की प्रमुखता मिली /
३- सप्त धातुओं में रस धातु, मेद धातु, मज्जा धातु और शुक्र धातु के दोष प्राप्त हुये / सप्त धातुये वात, पित्त और कफ के दोषो की प्रमुखता के साथ साथ individual to individual intensity level मे मौजूद रहे हैं /

४- Pathophysiology और pathology के हिसाब से Uterus, mammery glands, thyroid और Autonomic Nervous system के साथ साथ बड़ी और छोटी आन्तों की कार्य विकृति तथा Liver, Spleen और Pancreas की pathophysiology और pathology मौजूद रही है /