A Case of Neuro-musculo-skeletal Arthritis ; नसों-मान्सपेशियों-अस्थियों की सम्मिलित गठिया वात रोग का एक रोगी का विवरण


यहां एक महिला रोगी , जिसकी उम्र ५० + साल के लगभग की है , जिसे नसो-मान्शपेशियों-अस्थियों का सम्मिलित गठिया रोग पैदा हुआ और जिसका यह महिला लगभग १४ साल से एलोपैथी का इलाज बिना किसी शारीरिक आराम और फायदे के लगातार कराती चली आ रही है /

इस महिला को ALLOPATHY एलोपैथी यानी अन्ग्रेजी दवाओं से 14 साल इलाज करने पर कोई भी आराम नही मिली , उलटे उसकी तकलीफ बढती चली गयी/

यह महिला पहले नई दिल्ली मे रहती थी, इसे वहां लगभग १४ साल पहले बहुत मामूली सी पैरों में दर्द की शिकायत हुआ करती थी / एलोपैथी की दवायें खाने के बाद दर्द और दूसरी तकलीफे आराम हो जाती थीं, लेकिन तकलीफ कभी ठीक नही होती थी / धीरे धीरे इस महिला को कमर का दर्द होने लगा, फिर पैरों मे झन्झनाहट और सुबह उठने के बाद पैरों में खिचावट, RIGIDITY, STIFFNESS, चलने और उठने और बैठने मे दर्द और अन्य शारीरिक तकलीफ होने लगी / समय बीतने के साथ साथ एलोपैथी के बेहतर से बेहतर इलाज होते हुये भी और लगातार करते हुये धीरे धीरे दिन और महीने और साल बीत गये, लेकिन इस महिला की हालत ठीक होने के बजाय और ज्यादा खराब होती चली गयी / ज्यादा हालत बिगड़ने पर इस महिला ने नई दिल्ली को छोड़्कर कानपुर अपने मायके मे आकर रहने लगी / पैरों की उन्गलियों मे जब टेढापन आने लगा तो यह अपने परिवार के सदस्यों पर आश्रित रहने लगी / पहले पैर तकलीफ देने लगे थे , बाद मे दोनों हाथों मे उन्गलियों का टेढा पन आने लगा / एलोपैथी के डाकटरों का इलाज चल रहा था, पैदा हो रही और ज्यादा बढ रही तकलीफों के बारे मे शिकायत करने पर डाक्टर यही आश्वासन देते थे कि “बीमारी ठीक हो जायेगी ” /

यह सिलसिला कई साल तक चलता रहा / अन्त में महिला ने बिस्तरा पकड़ लिया और चलने फिरने के लिये मोहताज हो गयी /

इस महिला के एक पुरुष रिश्तेदार अपनी इसी तरह की तकलीफ musculo-skeletal rheumotoid arthritis का इलाज पिछले तीन महीने से [अक्टूबर २०१३] मेरे सन्सथान से करा रहे है, उनको अपनी बीमारी मे बहुत आराम मिला / उन्होने ही इस महिला को हमारे यहां इलाज कराने के लिये बताया / यही रोगी-सज्जन अपने साथ ही इस रोगी को लेकर इलाज और जान्च कराने के लिये आये थे /

इस महिला को डाकटरों ने बताया कि उसकी पैरों की टेढी हो गयी उनगलियों को सीधा करने के लिये आपरेशन किया जायेगा / लेकिन इस बात कॊ कोई गारन्टी नही है कि उन्गलिया सीधी हमे्शा के लिये हो जायेन्गी /
OLYMPUS DIGITAL CAMERA
…………
OLYMPUS DIGITAL CAMERA
………….
OLYMPUS DIGITAL CAMERA
…………….
OLYMPUS DIGITAL CAMERA
…………….
OLYMPUS DIGITAL CAMERA
…………….
OLYMPUS DIGITAL CAMERA

रोगी ने क्या इलाज कराया, उसके दवाओं के पर्चे, जो स्थानीय मेडिकल कालेज के आर्थोपीडिक विभाग के प्रोफेसर-डाक्टर ने लिखे है, साथ मे लेकर आयी /

दवाओं में STEROID आधारित दवाओं की मात्रा देखकर मै तो दन्ग रह गया / इतनी heavy doses का उपयोग करना प्रक्टिस के हिसाब से क्या यह उचित लगता है ? यह विचार करने का एक बिन्दु हो सकता है /
yamini001 001

yamini001 002

yamini001
मैने रोगी को विस्तार से बताया कि आयुर्वेद क गर इलाज करान्मा चाहती है तो आको ETG AyurvedaScan तथा दूसरे परीक्शण करना होगा तभी पता चलेगा कि आपके शरीर मे कहां कहा उर क्या क्या परेशानियां हो रही जिनके कारण आपको यह तकलीफे हो रही हैं /

मरीजा का परीक्षण करने के बाद उसकी findings नीचे दी गयीं हैं /
z1
…………..
z1 001
…………..
z1 002
………..
z1 003
………..
z1 004
…………..
z1 005
………….
…………..
z1 006
ऊपर दिये गये सभी कोणों से देखने से यह पता चला कि मुख्य रूप से इस महिला को निम्न प्रकार की तकलीफे हैं

१- इस महिला को हमेशा बुखार बना रहता है यानी शारीरिक ताप मान इस महिला का कभी सामान्य से कम यानी 96.6 F से कम और कभी सामान्य से अधिक यानी 98.6 F से अधिक होता है / यह इसलिये होता है क्योंकि Basic Metabolic Rate [BMR] अगर बाधित हो तो ऐसी नौबत आती है /
२- इस महिला का रक्त का OXIDATION प्रोसेस ठीक नही है, जिससे इसको Oxyheamoglobin की समस्या है / आक्सीजन मान्सपेशियों मे कम पहुचने से मान्सपेशियों की physiology बाधित होती है /
३- इस महिला को बड़ी आन्त और छोटी आन्तो की परेशानी है और इनमे सूजन है जिस कारण इसको पाखाना कभी होता है और कभी नही होता है / कई कई दिन तक पाखाना न होने की तकलीफ और शिकायत रहती है /
४- आयुर्वेद रक्त परीक्षण की रिपोर्ट बताती है कि महिला को “वात दोष” सामान्य से कम है और “पित्त दोष” सामान्य से कम है / इस प्रकार रोगी की तकलीफ प्रमुखतया द्वि-दोषज है / सप्त धातुओ में रक्त धातु और मान्स धातु और अस्थि धातु सामान्य से कम है और शुक्र धातु सामान्य से अधिक है / इससे यह निष्कर्ष एकदम साफ और स्पष्ट हैं कि महिला को जो भी तकलीफ हो रही है उसके लिये शुक्र धातु triggering factor है यानी महिला के जननान्गों reproductive system की pathophysiology के कारण तकलीफ का generation हो रहा है /
५- आयुर्वेद के एक दूसरे रक्त परीक्षण से cumulatively यह पता चला कि टोटल फास्फेट और क्लोराइड और पोटैसियम और आयरन और मग्नेशियम और अमोनिया और यूरिक एसिड और क्रियेटीन और यूरिया सामन्य से कम निकले हैं / आयुर्वेद की इस रिपोर्ट से प्राप्त सभी डाटा का एक साथ विवेचन किया जाता है और अलग अलग विवेचना नही करते हैं / इस डाटा का मिलान अन्य दूसरे श्रोतों से प्राप्त डाटा से करते है ताकि सही और pin-point diagnosis हो / प्राप्त सभी डाटा मान्स पेशियों और renal system और metabolic disorders तथा electrolytic imbalances को बता रहे है /
६- ETG AyurvedaScan के डाटा से भी य़ूटे्रस २२४ और आन्त्र विकृति १९७ और छोटी आन्त १८८ और पैर और पैर के जोड़ १८५ ई०वी० माप मिली है / लीवर १६८ और तिल्ली १६८ ई०वी० माप है / पन्क्रियाज ७३ ई०वी माप कर आया है / यह सभी डाटा ९१ से लेकर १०५ ई०वी० के बीच मे होने चाहिये / रोगी की शारीरिक जान्च करने पर उपरोक्त सभी अन्ग सूजन ग्रस्त पाये गये /
७- आयुर्वेद मूत्र परीक्शण में भी यही सब विकृतियां निकल कर आयी हैं /

प्राप्त डाटा की पूर्ण विवेचना करने के उपरान्त मरीजा को आयुर्वेदिक औषधियों का PRESCRIPTION और उसको क्या खाना है और क्या नही खाना है और जीवन शैली मे परिवर्तन के साथ विशेष हिदायते दी गयी, जो उसको लाभ पहुन्चा सके /

ARTHRITIS कैसी भी हो और किसी भी स्तर की हो , हमारे रिसर्च केन्द्र मे आयुर्वेद की जान्च पर आधारित सभी रोगी रोग मुक्त हो रहे है , उनको आराम मिल रही है, उनकी तकलीफे दूर हो रही है / हम उम्मीद करते है कि भविष्य मे आने वाले सभी ARTHRITIS के रोगी चाहे उनका रोग का स्तर कैसा भी हो, हमारे केन्द्र द्वारा खोजी गयी आयुर्वेद की नवीनतम तकनीको के उपयोग से अवश्य लाभान्वित होन्गे, जैसा कि अनुभव हमने उपवार करके अभी तक पाया है /

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s