बीमारी जब पुरानी हो जाये तो क्या करना चाहिये ???? WHEN DISEASE / AILMENTS BECOMES CHRONIC / OLD, WHAT TO DO ?????


ऐसा देखने मे आया है कि आजकल के समय मे देश और विदेश की आम जनता को यह तक नही पता है कि अगर उनको कोई रोग हो जाये तो उनको क्या करना चाहिये ? किस तरह का इलाज करना चाहिये ? जो उनकी बीमारी दूर करने मे सहाय्क तो हो ही , उनके शरीर को किसी तरह का side effects  जैसा नुकसान भी न हो ?

आज से तीस पैतिस साल पहले तक चिकित्सा क्षेत्र मे BRITISH IDEOLOGY का बोलबाला था / चिकित्सा विग्यान मे औषधियों के क्षेत्र में और चिकित्सा शिक्षा मे BRITISH PATTERN  की पुस्तकों का अध्य्यन  चिकित्सा विग्यान की सभी धारा के छात्र / छात्राये किया करते थे / उस समय ५० के दशक की दवाये मिला करती थी और मारकेट मे उपलब्ध होती थी / यह दवाये ऐसी होती थी जिनके खाने से न तो कोई साइड प्रभाव होता था और न मरीज को कोई दिक्कत होती थी /

इसका कारण यह था कि  BRITISH PATTERN  की प्रभाव MISSIONARY के तौर तरीके का था, जहां सेवा भावना पहले होती थी और बाकी सब बाद में /

लेकिन आज से ३५ साल के अन्दर ही जब से अमरीकन प्रभाव का चिकित्सा के क्षेत्र मे प्रवेश हुआ है , तब से सब कुछ और सोच विचार “राक्षसी विचार धारा” का हो गया है / सारी सोच बदल गयी और मनुष्य को मनुष्य नही “मशीन” की तरह से समझा जाने लगा है / क्योंकि जब मनुष्य को मशीन समझा जायेगा तो इलाज भी मशीन के पुर्जे की ही तरह से किया जायेगा /

और आज यही हो रहा है /

[to be loaded soon]

 

एक टिप्पणी

  1. Mera bai ko mirgi dura padta hai bachpan se pata chala 18 year Mai ab uski 26 year hai are ab dura 5-6 month Mai ek bar padta hai uski Madison zen retard hai 6 year se kha raha hai plz ans jaror dena sir

    …………reply…………”mirgi dura padta hai bachpan se pata chala 18 year Mai” / aisa lagata hai ap CONFUSED MIND ke vyakti hai , ek taraph kah rahe hai ki bachapan se daura pad raha hai aur dusari taraph kah rahe hai 18 saal ki umar se daura pad raha hai

    hakikar yah hai ki aap america USA AMERICA ki ID vale log hai jo sivay bevakuphi bhare saval kevak mujhe target karake pareshan karane ke niyat aur uddeshy ko lekar isi tarah ke ulate sidhe saval kiya karate hai yah mai kai mahino aur bahut dino se dekh rahe hu aur dusari bat yah hai ki ap jaise log saval puchchane ke maamle me katai serious nahi hote hai kyonki sval puchchane ki niyat me hi jab khot hogi to comments ka uddeshy hi nasht ho jata hai

    isiliye mai ap jaise logo ke saval ka uttar dena munasib nahi samajhata lekin isaka nukasan ap jaise logo ko to hota hi hai aur isi ID me aane vaale sahi logo ko bhi jinako sahi ilaj ke uttar ke liye salah chahana hota hai unako bhi uttar nahi mil paata aur aise logo ka nukasan bhi ap jaise log kara rahe hai

    krapa karake is tarah ka nukasaan ap apni bevakuphi se kam se kam dusare logo kaa mat kare /

    ap logo ki aisi harakat aur bevakuphiyo ki vajah se hi sahi aaur vastavik rogiyo ko to nukasan to hota hi hai / thoda sa sochiye ki is tarah se aur dusaro ka aisa nukasan karake apko kya phayada hoga ??????

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s