दिन: जून 20, 2014

बन्ध्यत्व यानी महिलाओं मे बच्चे न पैदा होने की बीमारी ; एक बन्ध्यत्व दोष से ग्रसित महिला का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन और इसके सम्बन्धित परीक्षणो से निष्कर्ष ; AN INFERTILITY CASE, EXAMINED AND CONCLUDED BY E.T.G.AYURVEDASCAN AND ITS SUPPLEMENTARY EXAMINATIONS AND TESTS


बन्ध्यत्व यानी महिलाओं मे बच्चे पैदा करने की क्षमता का निष्क्रिय हो जाना आदिकाल से चली आ रही रोग विकृति है / प्रजनन करना सभी महिला का पहला उद्देश्य है , जिसके लिये कुदरत ने उन्हे रचित किया है / यह सन्सार ही महिलाओ की प्रजनन क्षमता के कारण ही आगे बढ रहा है / युगो युगो तक इसी प्रजनन क्षमता के ्कारण यह धरती आबाद रहेगी /

लेकिन जब महिलाओ की इस प्रजनन करने की क्षमता पर विराम लग जाय तब यह एक चिन्ता का विषय होता है /

आयुर्वेद के महर्षियों ने इस phenomenon को समझा और तदनुसार इस विषय को अष्टान्ग आयुर्वेद मे शामिल किया ताकि महिलाओ के स्वास्थय की सुरक्षा और उनकी प्रजनन क्षमता को सक्रिय बनाये रखा जा सके और प्रजनन सन्सथान से जुडे सभी तरह के रोगों से मुक्ति मिले ऐसे उपचार और management का उल्लेख किया गया है / “प्रसूति तन्त्र और कौमार भृत्य” के भाग मे इसी से सम्बन्धित चिकित्सा दिशा निर्देश दिये गये है /

आयुर्वेद ने आधुनिक विग्यान की तरह यानी Midwifery  तथा Gyneacology तथा Peadiatric की तरह सभी विषयों को अलग अलग न करके इन सभी विषयों को एक मे ही समाहित कर दिया है / मेरा मानना है कि प्रजनन के पूर्व और प्रजनन के पश्चात तथा प्रजनित बच्चे की डॆखभाल और रख रखाव  यह सब एक दूसरे से जुडे हुये है और comprehensive तथा एक दूसरे से चेन की तरह जुडे़ होने के कारण इन सभी  विषयो  को एक मे ही समाहित कर दिया गया है /

नीचे एक ३२ साल की महिला का विवरण दिया गया है जिसका E.T.G. AYURVEDASCAN  तथा अन्य सप्लीमेन्टरी परीक्शण किये गये और इसके रोग के conclusion  मे जितना भी ग्यात हुआ उससे पता चलता है कि INFERTILITY  अकेले अथवा स्थानिक अथवा केबल मात्र  UTERUS and REPRODUCTIVE SYSTEM  से जुडी pathophysiology  या pathology  से सम्बन्धित बीमारी अकेले नही है बल्कि यह बीमारी शरीर के अन्य systems  सभी एक दूसरे से जुड़ी हुयी होती है जिनके सम्यक या सम्पूर्ण इलाज के बिना infertility ; sterility ठीक नही हो सकती है /

infertilitycase001

बनध्यत्व के रोगियों का इलाज करने मे यही अनुभव मे आया है कि जब तक मूल या जड़ या ROOT CAUSE  नही ठिक होन्गे बन्ध्यत्व जैसी बीमारी का इलाज this or that”  के विचार पर चलती रहती है /

infertilitycase001 001

कुछ बाते और भी शामिल है जिनसे बन्ध्यत्व INFERTILITY रोग कभी भी नही ठीक होता है जैसे कि प्रजनन अन्गो मे कोई छोटा या बड़ा आप्रेशन होना / प्रजनन अन्गों की किसी भी तरह की बाहरी छेड़्छाड़ यानी Minor or major Surgical Interventions होने से अन्गों की विकृतिया और अधिक बढ जाती है ऐसा देखने मे आया है /

मेरे Observation  मे यह बात सामने आयी है कि जिन महिलाओं ने किसी भी प्रकार का छोटा या बड़ा आपरेशन नही कराया उनके आयुर्वेद -आयुश का इलाज करने से बच्चे अव्श्य पैदा हुये  जब्कि इन महिलाओं की शादी को हुये कई कई साल बीत चुके थे / 

CONTRASTINGLY  उन महिलाओं के कोई भी बच्चा नही हुआ जिन्होने किसी भी प्रकार का कोई भी छोटा या बड़ा आप्रेशन करा लिया था अथवा इन महिलाओ के प्रजनन अन्गों मे किसी तरह की minor or major surgical interventions  किये गये थे अथवा किये जा चुके थे/

यह एक शोध का विषय चिकित्सा वैग्यानिको के लिये होना चाहिये और इस पर मुझे विश्वास है कि मेडिकल साइन्टिस्ट अवश्य अपना ध्यान देने का प्रयास करेन्गे /

जिस महिला का इस पोस्ट मे जिक्र किया गया है उसने किसी भी तरह का छोटा या बड़ा आप्रेशन नही कराया है / इसे आयुर्वेदिक इलाज लेने के लिये बताया गया है /

infertilitycase001