महीना: जुलाई 2014

सफेद दाग के रोगी की ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन डाटा आधारित व्याख्या ; ANALYSIS OF A VITILIGO / LEUCODERMA PATIENT IN VIEW OF AYURVEDA FUNDAMENTALS WITH DIAGNOSIS AND MANAGEMENT AND TREATMENT DATA BASED ON E.T.G. AYURVEDASCAN FINDINGS


सफेद दाग के एक रोगी का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन डाटा की व्याख्या की जा रही है , जिसके आधार पर सम्पूर्ण वैग्यानिक आधार आश्रित आयुर्वेदिक औषधियो का चुनाव और पथ्य परहेज के लिये रोगी को बताया गया / डाटा देखने और अध्ध्य्यन करने पर पता चलता है कि उसके शरीर के किन अन्गो मे विकृति हुयी और इसके परिणाम स्वरूप उसको सफेद दाग की स्तिथि पैदा हुयी /

इस मरीज की original report  की कापी यहा दी जा रही है /

VITI001

मरीज कई सालो से सफेव्द दाग की बीमारी से परेशान था / इसने काफी इलाज कराया पर कोई फायदा नही हुआ / उल्टे इसकी तकलीफ  बढती चली गयी / मरीज ने कई साल एलोपैथी का इलाज कराया उससे जब नही ठीक हुआ तो फिर होम्योपैथी का इलाज कई साल तक कराता रहा जब होम्योपैथी से कॊइ आराम नही मिला तो फिर आयुर्वेद का इलाज कराता रहा , लेकिन इसे आराम मिलने की बजाय इसकी तकलीफ दिनो दिन बढती चली गयी /

मरीज मूल रूप से दक्षिण भारत SOUTH INDIA  का रहने वाला है  और वही इसका निवास स्थान है / कानपुर मे इसकी  ससुराल है यानी इसकी पत्नी कानपुर की है लेकिन है south indian /

कानपुर के रिश्ते दारो को किसी सफेद दाग के मेरे द्वारा ठीक हो चुके पूर्व मरीज ने बताया कि मै सफेद दाग के मरीजो का इलाज करता हूं इस पर मरीज के रिश्तेदारो ने मुझसे सम्पर्क साधा और परीक्शण के लिये समय appointment मान्गा /

रिपोर्ट फाइनल बन जाने के बाद सार  रूप मे पता चला कि इसका PIGMENTATION  LEVEL   सामान्य ९१ से १०५ ई०वी० निर्धारित लेवल से ४० प्रतिशत कम है / इसके साथ इसके cumulative LIVER -PANCREAS – SPLEEN  की pathophysiology बहुत अधिक स्तर की मौजूद है /

मरीज की छॊटी आन्त और बड़ी आन्त का आन्कड़ा भी बढा हुआ निकला /

सबसे बड़ी बात यह कि इस मरीज का PULSE RATE  कम निकला /

इसके अलावा और भी बह्त सी anomalies  निकली है /

VITI001 001

SKIN DATA  से प्ता चलता है कि यह सामान्य से बहुत अधिक है इसका मतलब यह है कि त्वचा की सामान्य physiology अव्यवस्तिथि है और त्वचा से समबन्धित सभी channels  सामान्य कार्य नही कर रहे है /

पित्त दोष के पान्च भेदो मे से एक भेद भ्राजक पित्त है जो सारे शरीर को  एक रन्ग मे  बनाये रखता है /  रूप रन्ग sensations आदि का अनुभव भ्राजक पित्त कराता है / भ्राजक पित्त का प्राप्त डाटा लेवल ३९ ई०वी० है यह सामन्य बताये गये लेवल से काफी कम है /

रोगी को पसीना बहुत आता है / पसीना अधिक आने का मतलब यह है कि शरीर की मेटाबालिक प्रक्रिया मे कही गड़बडी है और इससे electrolytic imbalances अधिक बढते है /

शरीर के electrolytes  की अनियमितता से बहुत से ailments  पैदा हो जाते है / जैसे sodium की कमी से चक्कर आने लगना और दिल की धड़कन के gap  मे कमी या अधिक होना यानी rhythmic effects या पोत्तस्सिउम सल्त का कम ज्यादा होने से PULSE RATE का घत्ना अथवा बढना / पसीना ज्यादा अयेगा तो इस तरह की दिक्कते बढती है /

भ्राजक पित्त की कमी की वजह से त्वचा के नीचे अधिक गर्मी भर जाती है जिसको release  करने के लिये त्वचा को अपने रोम कूप को अधिक विस्तारित करने की जरूरत होती है ताकि शरीर की गरमी न अधिक हो और न कम हो /

VITI001 002

मरीज की आन्तो का आन्कलन देखिये / यह सामान्य से अधिक है / LIVER   और PANCREAS और SPLEEN  और SMAAL INTESTINES तथा LARGE INTESTINES  के अलावा आयुर्वेद के मौलिक सध्धान्त यथा अपान वायु और रन्जक पित्त का डाटा  देखिये / अपान वायु कितनी कम लेवल की है और रन्जक पित्त कितने हाई लेवल का है /

कम स्तर की अपान वायु अगर अधिक स्तर के रन्जक पित्त के आन्कड़े के साथ हो तो ऐसा देखा गया है कि मरीज को गुदा से सम्बन्धित बीमारी अवश्य होती है / यह ववासीर तथा गुदा पाक अथवा  गुदा का बाहर निकला इस तीन अवस्थाओ मे मिलता है / लेकिन बड़ी आन्त के तीन हिस्से यथा ASCENDING COLON य़ा TRANSVERSE COLON य़ा DECENDING COLON / SIGMOID COLON / RECTUM इनका आन्कड़ा अगर अधिक या सामन्य से कम हो तो बवासीर PILES / HEMORRHOIDS   रोगी को अवश्य होती है /

रोगी से पूछने पर मरीज ने बताया कि उसे १० पन्द्रह साल से बवासीर की तकलीफ है / इसने बबासीर के इलाज के लिये सभी तरह की दवाओ के हथकन्डे उपयोग किये लेकिन इसकी बवासीर नही दूर हुयी /

VITI001 003

ऊपर के डाटा शीट मे ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन तकनीक के  द्वारा प्राप्त आन्कड़ा से short out  करने के बाद जब डाटा  narrow down  किये जाते है तो असली तस्वीर मरीज की बीमारी के बारे मे समझ मे आती है कि शरीर के किस अन्ग मे और कहां और किस  किस अन्ग मे किस intensity level  की तकलीफ उपस्तिथि है /

VITI001 004

ऊपर की डाटा शीट मे आयुर्वेद के मौलिक सिध्धान्तो का अधिक तम लेवल से लेकर कम से कम लेवल तक का डाटा दिया हुआ है / रन्जक पित्त का डाटा सबसे ऊपर है और अपान वायु का सबसे नीचे है /

इसी तरह शुक्र कफ  सप्त धातु सबसे ऊपर के लेवल पर है और रस धातु सबसे नीचे लेवल पर है / इसका तात्पर्य यह है कि रस धातु की गड़बडी है जो ANABOLIC  >>>>>>>> METABOLIC प्रक्रिया को सुचारु रूप से नही सम्पादित कर पा रही है /

VITI001 005

उपरोक्त डाटा शीट से gastro intestinal system और  integumentary system  के बारे मे प्राप्त आनकड़ो को बताता है / दोनो आन्कड़ो को एक साथ analysis  करके मरीज की बीमारी की picture  बहुत कुछ साफ और स्पष्ट होने लगी है कि इसे किस तरह की combined integrated problems of body systems  की पैदा हो रही है /

VITI001 006

अब आइये देखा जाय कि इस मरीज के शरीर के अन्दर आयुर्वेदिक मौलिक सिध्धान्त किस intensity level  के   मौजूद है /

त्रिदोष  उपस्तिथि का लेवल वात सामन्य लेवल की और पित्त सामान्य से अधिक स्तर का और कफ सामान्य से कम लेवल का पाया गया है /

अपान और व्यान वायु के भेद सामान्य से बहुत कम पाये गये है /

रन्जक पित्त सामान्य से अधिक और भ्राजक पित्त भेद सामान्य से कम प्राप्त हुये है /

श्लेष्मन कफ सामान्य से अधिक और रसन कफ सामान्य से कम प्राप्त हुआ है /

 

VITI001 007

 

 

समपूर्ण सप्त धातुओ का आनकलन करने पर पता चलता है कि मान्स धातु सामान्य से बहुत अधिक है /

सप्त धातु अगर वात से प्रभावित है तो रस धातु सामान्य से बहुत कम है और पित्त से प्रभावित रस  धातु भी सामान्य से अभुत कम है तथा  कफ दोष से प्रभावित सप्त धातु सामान्य से बहुत अधिक है /

इस रोगी को पेट मे गैस बहुत बनती है यह शिकायत उसने बतायी है जिसका वह कई साल से इलाज कर रहा है लेकिन पेट की गैस मे उसको कोई आराम नही मिला/

 

VITI001 008

अब श्रोतो दुष्टि का विवेचन करते है

मरीज के कई श्रोतों मे  anomalies  प्राप्त हुयी है /

रस वह श्रोत सामान्य से अधिक है / यह श्रोत हृदय  और धमनियो के श्रोत पर अधिकार करता है / इस व्यक्ति का BLOOD PRESSURE  सामान्य से कम है और इसका PULSE RATE   सामान्य से कम है /

मान्स वह श्रोत के मूल मे स्नायु और त्वचा है / यह बाहर से ही देखने मे पता चल जाता है कि इसे त्वचा का रोग है / इसके कमर से नीचे की मान्स पेशियो खिचती है जिससे यह ठीक से चल नही पाता , यह muscula0-ligamntous-skeletal anomalies  मौजूद होने का सन्केत है / पूर्वोक्त डाटा शीट के अवलोकन से यह स्पष्ट होता है कि यह सही है /

VITI001 009

इस मरीज का पाचन बहुत खराब है जो कई साल से है / यह बहुत भयानक पेट गैस बनने की शिकायत से परेशान है / पेट की .गैस का इलाज बहुत किया गया लेकिन कोई सफलता नही मिली / इस रोगी के अन्न वह श्रोत तथा पुरीष वह श्रोत तथा स्वेद वह श्रोत सामान्य से अधिक है, इसलिये यह बिन्दु स्थापित हुआ कि यह तीन श्रोत सामान्य कार्य अवस्था मे नही है /

इसकी पुष्टि अन्य डाटा शीट को देखने से confirm  हो जाती है /

VITI001 010

उक्त डाटा शीट के अवलोकन से यह पता चलता है कि पित्त दोष stronger  अवस्था मे है और यह २++ स्तर का है जब्कि कफ दोष weak स्तर का है और १- [एक माइनस] स्तर का है /

जबकि वायु दोष सामान्य स्तर का है /

इसका मतलब यह हुआ कि वायु दोष तो सामान्य है लेकिन पित्त कुपित अवस्था मे है और इस वजह से पित्त ने कफ को कमजोर बना दिया / यह imbalance  दोष की स्तिथि है /

इस तरह के combinations  की चर्चा आयुर्वेद के शास्त्रोक्त ग्रन्थ “माधव निदान”  मे की गयी है /  वाग भट्ट ने भी अपने ग्रन्थ मे भी ऐसे  combinations  की निदानात्मक चर्चा की है /

VITI001 011

महर्षी चरक ने रचित  ग्रन्थ चरक सम्हिता मे त्रिदोषो के सन्निपातज दोषो के ६३ के लगभग combinations  बताये है / इस combinations  का विस्तार से वर्णन चरक सम्हिता मे ही ्देखने चाहिये /

यहा ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन तकनीक से मरीज का डाटा लेकर जिस तरह का सन्निपातज  combination  बना है , उसे ही प्रस्तुत किया जा रहा है /

इस  combination  मे वात और पित्त १- और १- [एक माइनस] अवस्था मे है और पित्त  २++ अवस्था मे है / इससे पता चलता है कि रोगी को पित्त दोष को बढाने मे शारीरिक वायु का कम्जोर अवस्था मे हो जाना है /

जब शरीर मे वायु कमजोर होगी तो दोष का imbalance होना लाजिमी है / यही रोग की अवस्था है /

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

रोगी के हाथो के अलावा अन्य कुछ स्थानो पर सफेद दाग है जिनका चित्र future reference  के लिये रख लिया गया है /

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

CONCLUSION  ;  निष्कर्ष

ऊपर दिये गये सभी प्राप्त आन्कड़ो से इस मरीज के सभी आयामो से देखने के बाद जिस तरह का निदान CHIEF COMPLAINTS   मे वर्णित किया गया है उसकी पुष्टि होती है /

पित्त दोष की प्रधानता

वायु दोष का कम होना

पित्त भेद और वायु के भेदो का न्यूनाधिक होना

रोग निदान मे यकृत तथा पैन्क्रियाज और spleen  की pathophysiology का उपस्तिथि होना

छोटी आन्त और बड़ी आन्त  की pathophysiology  का मौजूद होना

Anabolic >>>>>>metabolic functional anomalies  के कारण blood chemical chemistry का imbalance  होना

इन सभी imbalances  से जब ionic changes  होते है तो शरीर की सामान्य electrical diffusion मे बाधा आती है और cellular metabolism  की प्रक्रिया सामान्य से असामान्य अवस्था की ओर बढती है/

यह अवस्था LYMPHATIC SYSTEM के लिये मुफीद साबित होती है और melanin का सारे शरीर मे कम होने का  cellular massage जहा तहा पहुचाने का काम lymph glands  के जरिये होने लगता है / जहां जहां शरीर के हिस्से मे ऐसा सन्देश पहुन्चता है , वहीं वही सफेद  दाग / white spots / leucoderma / vitiligo  SPOTS पैदा होने शुरू हो जाते है /

सफेद दाग के बारे मे मेरा जितना अध्ध्य्यन है मैने इसे बहुत ही सूच्छ्म रूप मे देने का प्रयास किया है / यह मेरा अपना विचार है और स्व-अध्ध्य्यन पर आधारित है / यह स्व अध्ध्य्यन ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के सभी जान्चो के निष्कर्ष और आयुर्वेद के रक्त परीक्शन तथा आयुर्वेद के मूत्र परिक्षण पर आधारित  है /

चिकित्सा के लिये जिस बिन्दु का सबसे पहले सन्ग्यान लिया गया वह “पित्त” दोष है क्योन्कि पित्त दोष के कुपित होने के कारण ही यह तकलीफ हो रही है /

पित्त दोष की शान्ति और अन्य दूसरी तकलीफो के लिये आयुर्वेदिक दवाओ का चयन युक्ति पूर्वक किया गया /

मरीज को आयुर्वेदिक दवाओ का PRESCRIPTION   दे दिया गया है और उसको क्या खाना है और कया नही करना है यह सब भी बता दिया गया है /

दवाओ के सार्वजनिक दुरुप्योग को रोकने के लिये PRESCRIBE  की गयी पर्चे की दवाओ को काट कर छिपा दिया गया है /

मरीज को १२० दिन दवा खाने के लिये कहा गया है , उसे परहेज भी बता दिया गया है और जीवन शैली किस तरह की अपनानी चाहिये उसका management भी  बता दिया गया है /

LEUCODERMA  एक बहुत sensitive  रोग है. यह बहुत तेजी से बढता है / आधुनिक चिकित्सा मे इस बीमारी का  कोई इलाज नही है /

लेकिन ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन आधारित आयुर्वेद्क और आयुष इलाज करने से leucoderma सफेद दाग   की बीमारी अवश्य ठीक होती है /

PRES001

नेउरोलोगिचल पैन 009

 

आयुर्वेद के महान ग्रन्थ “चरक सम्हिता” मे महर्षि चरक द्वारा सूत्र स्थान मे “सप्त दशो अध्ध्य्याय” मे वर्णित “”शिरसीय अध्ध्याय”” व्याख्या और इसका ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन तकनीक द्वारा साक्ष्य आधारित प्रस्तुति ; AN EVIDENCE BASED PRESENTATION OF “AYURVEDIC FUNDAMENTALS” MENTIONED IN “”CHARAK SAMAHITA”” BY MAHARSHI CHARAK


आयुर्वेद के महान ग्रन्थ “चरक सम्हिता” मे महर्षि चरक ने सूत्र स्थान मे “सप्त दशो अध्ध्य्याय” मे शिरसीय अध्ध्याय व्याख्या की है /

सूत्र / श्लोक ४० और ४१ मे सन्निपात दोष के कितने combinations बन सकते है इसका वर्णन किया गया है /

आयुर्वेद की आधुनिक तकनीक ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के द्वारा महर्षि चरक द्वारा बताये गये इन combinations का STATUS QUANTIFY करने का प्रयास किया गया है /

यह एक मरीज का रिकार्ड है जिसे PACE MAKER लगा हुआ है और इसका कई बार रीढ की हड्डी का SPINAL CORD operation किया जा चुका है / जिस रीध की हड्डी की तकलीफ को आराम दिलाने के लिये आपरेशन किये गये , मरीज की वह तकलीफ तो ठीक नही हुयी उलटे कमर से नीचे का हिस्सा सुन्न हो गया / मरीज दो मिनट से अधिक चल नही सकता / मरीज सरकारी कर्मचारी है / अपने काम के लिये उसे रिक्शे से आना जाना पड़्ता है / इसने बहुत इलाज कराया है और पन्चकर्म का भी इलाज कराया लेकिन इसे कोई आराम नही मिला /

ayurvedafundamentals001

…………………..

ayurvedafundamentals001 001

……………………

ayurvedafundamentals001 003

……………………

ayurvedafundamentals001 004

इस मरीज का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन और अन्य परीक्षणो से इसकी बीमारी का सटीक निदान किया गया और इसे बाज़ार से उपयोग करने के लिये आयुर्वेदिक दवाओ का prescription दिया गया /

आप सभी सुधी पाठक गण हमारे रिसर्च सेन्टर द्वारा आयुर्वेद आधार भूत सिध्धान्त AYURVEDIC BASIC FUNDAMENTALS के status quantify किये गये है / हमार रिसर्च सन्स्थान  द्वारा किये गये आयुर्वेद के इस कार्य का अवलोकन करे /

हमारे विचार से आयुर्वेद की इस सुपर हाई तकनीक द्वारा प्राप्त डाटा से रोगी की प्रभाव कारी चिकित्सा के लिये रोग निदान करके औषधियो का चयन बहुत सटीक साबित होता है , क्योन्कि कई तरह के intensity level presence का आन्कड़ा मिल जाने से चिकित्सा के कार्य मे बहुत सरलता होती है और रोगी के management set-up  करने का फायदा होता है जिससे यह निर्धारित कर सकते है कि मरीज को किस तरह की औषधियां और management की जरूरत है /

आयुर्वेद की इस आधुनिक तकनीक द्वारा हम बहुत गर्व के साथ कह सकते है कि हमारे आयुर्वेद के ग्रन्थों मे हमारे देश के महर्षियो ने जो कुछ भी लिखा है वह सर्वथा सत्य है और  इस सत्य और तथ्य  को विग्यान की कसौटी पर रखक्रर सिध्ध भी कर सकते है /

हमारा सन्स्थान आयुर्वेद के उन और गूढ बातो को साक्ष्य आधारित अमली जामा पहनाने के लिये प्रतिबध्द्ध है जो हमारे आयुर्वेद के ग्रन्थो मे दिये गये है /

“RACHITIS” ; DISEASES OF CHILDRENS ; “सूखा रोग” : बच्चो का रोग


RACHITIS यानी सूखा रोग ; आयुर्वेद मे इसे “सुखन्डी” रोग के नाम से जाना जाता है / वास्तविकता यह है कि आयुर्वेद अथवा होम्योपैथी अथवा यूनानी क इलाज करने से यह बीमारी शत प्रतिशत ठीक होती है / यह आयुर्वेद और आयुष चिकित्सा का गारन्टीड इलाज कहा जा सकता है /

मेरे पास जितने भी सूखा रोग अथवा RACHITIS के रोगी बच्चे चिकित्सा कराने के लिये आये है वे सब के सब शत प्रतिशत ठीक हुये है /

[ABHI MATTER LOAD KARANA  BAKI HAI ]

A CURED CASE OF “OSTEO-ARTHRITIS” BY AYURVEDA TREATMENT ; PATIENT WAS ADVISED FOR KNEE JOINT REPLACEMENT ; “घुटना प्रत्यारोपड़” के लिये एडवाइस किये गये ओस्टियो-आर्थ्राइटिस रोगी का आयुर्वेदिक उपचार से पूर्ण आरोग्य ;


आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान मे आर्थ्राराइटिस के रोग का बहुत सटीक और उत्तम किस्म का इलाज सम्भव पहले भी था आदि काल से था और अब आयुर्वेद के परीक्षण पर आधारित तकनीको के अमल मे लाने से यह अधिक सटीक और fool proof  हो गया है /

एक महिला ४७ साल उम्र , जिसको ओस्टियो आर्थ्राइटिस की तकलीफ थी , उसको घूटना प्रत्यारोपड़ KNEE JOINT REPLACEMENT के लिये कहा गया / लेकिन इस महिला के पास पैसा होते हुये भी उसने घुटना प्रत्यारोपड़ नही करवाया , इसका कारण जो भी रहा हो / क्योन्कि उसने जब देखा कि घुटना का प्रत्यारोपड़ किये गये लोगो को किस तरह की हालत होती है उसे देखकर रोगिनी ने knee joint replacement  का इरादा बदल दिया /

यह बीमारी हड्डियो के जोड़ो से सम्बन्धित होती है और इसमे हड्डी के joints  मे बदलाव पैदा होते है /

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

ऊपर जिस माडल को दिखाया गया है , यह माडल सारे शरीर की हड्डियो के जोड़ों को दर्शाता है / इस माडल के जरिये साधारण मनुष्य भी समझ सकता है कि मानव शरीर की बनावट मे joints का क्या महत्व है /

किसी ने इस महिला को आयुर्वेद की चिकित्सा कराने के लिये कहा / इस महिला ने यह ढून्ढना शुरू किया कि कौन सा आयुर्वेद का चिकित्सक उसकी सहायता कर सकता है / किसी जानकार ने इस महिला को बताया कि आप कानपुर के डा० बाजपेयी से समपर्क करे और उनके पास इलाज के लिये जाये/ उसने अपने कानपुर के एक रिश्तेदार को मेरे पास भेजा और मेरे बारे मे पता किया / मैने उसको अपनी सारी तकनीक और इसकी विधि तथा उपचार के बारे मे जानकारी दी /

दिनान्क २८ सितम्बर २०१२ को यह महिला गोरखपुर से अपने को दिखाने के लिये हमारी क्लीनिक मे आयी / इसका ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन परीक्शन के अलावा अन्य परीक्शनो को किया किया गया /

मरीज की हालत ऐसी नही थी कि वह जरा सा भी चल सके / इसको चार पान्च लोग हाथो से टान्ग कर मेरे दवाखाने मे लाये थे / मरीज एक कदम भी नही चल पा रहा था / उसके घुटने इतने सूजे हुये थे कि जरा सा भी movement नही हो पा रहा था / मरीज ठीक से कह्डा भी नही हो पा रहा था / उसकी हालत बहुत खराब थी /

 

shrotodushti001 003

MUSCULO-SKELETAL SYSTEM  की अवस्था देखकर और SPINE  से समबन्धित डाटा से पता चला कि इसको क्या problems  है /

shrotodushti001 004

महिला की रिपोर्ट , जिसमे उसके सारे शरीर के परीक्षण मे जिस तरह की anomalies प्राप्त हुयी उसे बताया गया है /

shrotodushti001 005

उक्त डाटा से पता चलता है कि शरीर के कुछ अन्गो मे किस तरह की pathophysiology और pathology विद्यमान है /

shrotodushti001 006

आयुर्वेद विग्यान के मौलिक सिध्धन्तो क क्या मरीज के शरीर मे उपस्तिथि निली है उसकी कितनी intensity  है यह बताया गया है / यह बहुत महत्व पूर्ण है क्योन्कि इसी पर अधाइर्त होकर मरीज का इलाज किया जाता है , मरीज को किस तरह की दवाओ की जरूरत है , उसके क्या दोष है जिन्हे ठीक करने पर मरीज को रोग से छूटकारा मिलेगा और इसी डाटा पर आधारित होता है कि उसे किस तरह की जीवन शैली और क्या खान पान adopt  करना चाहिये  /

shrotodushti001 007

मरीज के ETG AyurvedScan  की रिकार्ड की गयी प्रति ट्रेसेस /

मरीज के अन्य परीक्षण किये गये और यह पता करने का प्रयास किया गया कि मरीज की किस तरफ की मान्श्पेशियो कमजोर है या उनमे किस तरह की कार्य विकृति पैदा हो रही है / ताकि उस तरफ की मान्शपेशियो की कार्य विकृति को दूर करने का प्रयास विशेष तौर पर किया जा सके /

इसके अलावा मरीज का आयुर्वेदिक रक्त परीक्षण किया गया ताकि पता चले कि उसके  रक्त मे क्या विकृतिया पैदा हो रही हैं /

मरीज को निम्न दवाये दी गयीं , यह मरीज का पहला prescription  है जो नीचे दिया गया है / कुछ prescribed औषधियो को सावधानी और दुरुपयोग को रोकने के लिये कुछ दवाओं को काट दिया गया है ताकि अनावश्यक रूप से सार्वजनिक तौर पर दवाये mass level  पर आयुर्वेदिक दवाओ क दुरुप्योग रोका जा सके/ यह इसलिये आवश्यक है क्योकि आयुर्वेद की औषधियो का prescription  और दवाओं का चयन तथा पथ्य परहेज सभी कुछ आयुर्वेद के सिध्धान्तो पर आधारित है / जैसा कि सभी को ग्यात होना चाहिये कि हर व्यक्ति की प्र्कृति और दोष की  intensity  अलग अलग level  की होती है और इसमे ’GENERALISATION’   का कोई महत्व नही होता जैसा कि आधुनिक चिकित्सा विग्यान मे है उदाहरण के लिये दर्द चाहे जैसा हो pain killers  खाने से अवश्य कम होगा / लेकिन आयुर्वेद मे ऐसा कम ही है / यहां root cause  पर ही ज्यादा ध्यान दिया जाता है / ROOT PROBLEM  का इलाज करने से दर्द की समस्या फौरी तौर पर ठीक होती है / आयुर्वेद मे अधिकान्श दर्द “दशमूल काढा” का सेवन करने से ठीक होते है / यह आयुर्वेद के महर्षियो ने ऐसा दध औषधियो का मिष्रण तैयार किया है जो शरीर के अधिकान्श MUSCULAR, MUSKULO-SKELETAL , NEURO-MUSCULAR , NEUROLOGICAL और इसी तरह के सभी दर्द की स्तिथियो को आरोग्य करता है / यह अनुपान के रूप मे भी उपयोगी है / यानी वात विकार या पित्त विकार या कफ विकार नाशक औषधियो के साथ अगर इस्का प्रयोग करते है तो यह इन औशढधियो के गुणो को और अधिक आरोग्य कारी बना देता है /

दिनान्क 29 SEPETEMBER 2012 को इस मरीज को दवा खाने के लिये बताया गया / इसके लिये निम्न पर्चा दिया गया /

SUBHADRA001

मरीज ५ अथवा ६ माह के अन्तराल से follow-up  के लिये आता रहा / उसकी हालत मे सुधार आता चला गया /

आज दिनान्क २० जुलायी २०१४ को मरीज ने बताया कि अब वह अपने पैरो के बल पर बिना क्सि सहायता के लम्बी दूरी तक पैदक चलता फिरता है और वह अब ९५ प्रतिशत तक ठीक है /वह अपना सभी काम कर रही है / मरीज बहुत प्रसन्न है कि मेरे इलाज से उस्को अपना  घुटना रिप्लेस नही कराना पड़ा  है /

मैने उसको सलाह दी कि वह अभी ६ माह तक नीचे लिखी द्वा और सेवन करे इसके बाद चाहे तो वह दवा धीरेधीरे बन्द कर  सकती है /

इस मरीजा को नीचे लिखी दवा prescribe  की गयी /

SUBHADRA001 001

दवाओ का दुरुप्योग रोकने के लिये prescription मे लिखी गयी दवाओ को काट दिया गया है /

मैने हमेशा बताया  है कि ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन तकनीक पर आधारित इलाज करने से सभी तरह की बीमारिया अवश्य ठीक होती है चाहे वे कैसी भी हो और उनका कोई भी नाम क्यो न देद इया गया और चाहे उनका नाम कितना भी बड़ा हो और बीमारी का नाम सुनने मे चाहे कितनी भी भयानक लगती हो , अगर आयुर्वेद की नवीन तकनीक पर आधारित इलाज करते है तो अवश्य आराम मिलती है रोग ठीक होते है और आरोग्य प्राप्त होता है /

आयुर्वेद के हिसाब से यह रोग वात कफ अथवा वात पित्त अथवा कफ पित्त दो दोष अथवा वत पित्त कफ तीनो दोषो के साम्मिलित के प्रभाव से होता है / इस महिला को जन्म समय की प्रकृति का डाटा मे “कफ” दोष कम निकला है / इस महिला का जान्च के समय भी कफ दोष कम निकला है / अत: प्रधानता “कफ दोष” की मौजूदगी रही है  जो इसके जन्म समय से लेकर व्याधि के समय तक एक जैसी ही  intensity level  की आयी है /  जब जान्च की गयी तो इसका पित्त normal निकला है जबकि इसके जन्म के समय मे  पित्त सामान्य नही था / इस प्रकार से दोषो का imbalance  बना जिससे पित्त और कफ मिलक्रर विकृति पैदा करते रहे /

सप्त धातुओ का आन्कलन करने पर पता चला कि इसे अस्थि धातु आधिक नप करआयी है / पित्त का चरित्र गत लक्षण और कफ का चरित्र गत लक्षन तथा आस्थि  धातु की विकृति ने स्पष्ट कर दिया कि मरीजा को किस तरह का आयुर्वेदिक उपचार देना चाहिये/ इसके साथ शरीर के सभी सिस्टम्स का आन्कलन करने के बाद पता चला कि इस मरीजा को शरीरिक रूप से क्या कया व्याधिया हो गयी है /

आयुर्वेद चिकित्सा की यही खूबसूरती है कि जब सब तरफ से मरीज की समस्या का अन्कलन करके इलाज करते है तो अव्श्य और sure  आरोग्य मिलता है /

चिकित्सा विग्यान की सभी पधध्यतियो मे LIMITATIONS  अवश्य होते है / आयुर्वेद मे भी लिमीटेशन्स है /

हिस्टीरिया और पागलपन के सम्मिलित अटैक के रोगी का प्रसन्ग ; A CASE OF FEMALE PATIENT IN COMBINATION OF MANIA AND HYTERIA DISORDERS ; TREATED SUCCESSFULLY BY AYURVEDA


साधारण तौर पर हिस्टीरिया के मरीज अथवा मिर्गी के मरीज एकल यानी एक ही  तकलीफ से पीडा भोगने वाले होते है यानी उनको मिर्गी के दौरे पड़्ते है लेकिन इसके अलावा उनको कोई दूसरी बहुत major किस्म की तकलीफ नही होती है सिवाय कुछ anomalies  के और कुछ hidden disorders के /

लेकिन कुछ ऐसे भी मरीज मिले जिनको पागल पन की बीमारी के साथ साथ मिर्गी के दौरे पड़ने लगे और उनको कुछ दूसरे किस्म की अन्य बीमारिया जो hidden  stages  मे थी उनसे भी यदा कदा परेशानी होने लगी /

जिस महिला का जिक्र यहां किया जा रहा है उसकी उम्र इस समय ३० साल है और इसे hysteria  का दौरा ८ साल की उमर से पड़ रहा था / यह महिला कान्पुर से लगभग ६० किलोमीटर की दूरी पर स्तिथि एक ग्रामीण क्षेत्र की निवासी है / इसकी शादी ६ साल पहले हो चुक्ली है और इसके एक तीन साल का male child  है / इसकी ससुराल वालो ने इसे मा बा के पास भेज दिया और कहा कि जब तक यह ठीक नही होगी तब तक इसे अपने यहां नही रखेन्गे/ इस कारण से यह महिला अपने पिता के घर मे ही रहती है और वही इसका इलाज करा रहे है / इसके पिता एक किसान है और गांव मे कृषि कार्य करते है /

इस महिला को मेरे पास इलाज कराने के लिये इसके एक रिश्तेदार जो अपने बच्चे का मिर्गी का इलाज कराचुके है और उनका बच्चा मिर्गी रोग से अब बिल्कुल मुक्त हो चुका है और उसको अब किसी किस्म की मिर्गी के झ्हटके नही आते है उनके किसी रिश्तेदार ने जब देखा कि मिर्गी ठीक हो गयी है तो उसने यह उदाहरण देखकर इस महिला के पिता से बताया कि कानपुर के डा० बाजपेयी से इलाज क्रराइये /

मेरे यहा आने से पहले इसस महिला का इलाज अन्ग्रेजी allopathic  दवाओ द्वारा किया जा रहा था , लेकि द्वाये खाने के बाद भी इसकी हालत बिगड़ती चली जारही थी और दौरे दिन मे कई कई बार  पड़्ते पड़्ते  एक या दो घन्टे तक बेहोश हो जाती थी तथा दौरे रुकने का नाम नही ले रहे थे/

इसके सथ साथ पागल पन का दौरा भी पड़्ता था जिससे गांव के पड़ोसी और आस्पास के लोग भी हालत देखकर भयभीत होने लगे /

दिनान्क २ अप्रेल २०१४ को इस महिला के सभी ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन और इसके supplementary exmination and test  परीक्षण किये गये और निष्कर्ष स्वरूप क्या कया और किस तरह की बीमारियां है उनका इलाज किया जाना चाहिये उस हिसाब से उसे आयुर्वेदिक दवा बाज़ार से लेकर  सेवन करने  के लिये बताया गया / यह निर्देश दिया गया कि १२० दिन दवा का सेवन करके दुबारा review करा ले और दवा और परहेज का परिवर्तन करा ले /

यह महिला आज दिनाक १३.०७.२०१४ को follow-up review के लिये आयी / कुछ जान्च करने के बाद यह पाया गया कि इसे लगभग ४० प्रतिशत आराम होना चाहिये /

महिला और उसके पिता से जब पूछा कि उसे कितना आराम है , जब से वह मेरा इलाज कर रही है तो उसने कहा कि मुझे ३० % प्रतिशत आराम है / मैने एलोपैथी की दवा जो मुझे रोजाना छह गोलिया दिन भर मे लेनी होती थी अब घटकर एक गोली पर आ गयी है / पागल्पन का दौरा और बेहोशी अब नही होती है / मै अब अपने को सामान्य समझती हू , लेकिन मुझे hysteria के झटके लगने का डर बना रहता है / इसके अलावा जो अन्य तकलीफे है वे अब कम हो गयी है और अब इतना परेशान नही करती है /

इस महिला की ससुराल वाले भी मुझसे मिलने मई २०१४ को आये थे / वे भी बता रहे थे कि कुछ आराम है / ससुराल के लोगो ने मुझसे पूछा कि “यह तो लाइलाज बीमारी है , यह सारी जिन्दगी नही ठीक होती है ” /मैने उनको बताया कि अगर मिर्गी या हिस्टीरिया का या पागल्पन का इलाज ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन तकनीक से करते है तो यह बीमारी अवश्य ठीक होती है / बाद मे उनको भी स्कैनरऔर मशीनो और उपचार की पध्यति से परिचय कराया जिससे वे बहुत प्रभावित हुये /

मैने लड़्की के ससुराल वालो को आश्वस्त किया कि यह महिला पनी बीमारी से छुटकारा अवश्य पा लेगी /

आज दिनाक १३.०७.२०१४ को इस महिला का दिमाग के सभी हिस्सो का etgasctreaa पेइक्शन किया गया / जिसमे निम्न anomalies का observation किया गया /

सभी पाठक इसका अलोकन करे /

shrotodushti001 001

महिला के दिमाग की लगातार ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन की रिकार्डिन्ग ६४ मिनट करने के बाद पता चला कि इस महिला के  Brain neurons Electrical diffusion  सामान्य से अचानक कुच देर मे होते है जिससे महिला के सोचने का तारतम्य एक जैसा नही हो पाता है /  ६४ मिनट की रिकार्डिन्ग मे ऐसा कई बार  रिकार्ड हुआ है / यह स्तिथि बहुत धीमे लेवल की थी बहुत LOW INTENSITY LEVEL का मिला /

shrotodushti001 002

जब यही स्तिथि बार बार होने लगती है और neurons  की  pathophysiology  का intensity level  अह्दिक से अधिकतम की ओर बढता है तो extreme level  पर आते ही दिमाग का दौरा या मिर्गी का दौरा या हिस्टीरिया का दौरा पड़ जाता है /

ऐसा हमारा अध्य्यन  मिर्गी रोग और इसी तरह की दिमाग की बीमारियो के बारे मे अभी तक establish हुआ है / यह स्तिथि तभी बनेगी जब वात के साथ कफ की स्तिथि  व्यक्ति की प्रकृति के साथ उसी लेवल पर मेल खाती है जिस लेवल पर व्यक्ति की प्रकृति  जन्म के समय निर्धारित हो चुकी है /

हमारे सन्स्थान KPCARC KANPUR द्वारा इस  प्रकार की दिमागी बीमारियो पर शोध कार्य का विकास लगातार जारी है /

“श्रोतो – दुष्टी” ; आयुर्वेद के सिध्धान्त का भी आन्कलन ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन तकनीक द्वारा सम्भव हो गया है ; “BODY CHANNEL SYSTEM” ; ESTABLISHED BY CHARAK’S AYURVEDA FUNADMENTAL HAVE BEEN QUANTIFIED NOW BY E.T.G. AYURVEDASCAN SYSTEM


…………और अब आयुर्वेद के महान आचार्य महर्षि चरक द्वारा स्थापित आयुर्वेद के सिध्धान्त “श्रोतो-दुष्टि ” का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन तकनीक द्वारा आन्कलन करना सम्भव हो गया है / अब वर्तमान मे किसी भी मरीज या रोगी का श्रोत यानी channels का STATUS QUANTIFY किया जा सकता है / किसी भी मरीज काश्रोत-दुष्टि का स्तर अब नापा जा सकता है और इसके आधार पर यह establish  किया जा सकता है कि रोगी के किन किन अन्गो और प्रतयन्गो मे बिकृति है /

आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान के लिये यह एक बहुत अच्छी उपलब्धि हासिल की जा चुकी है और इसे और अधिक विकसित करने के लिये प्रयास किये जा रहे है / मरीज के विकृति श्रोतो को पहचान कर उसी अनुकूल आयुर्वेदिक दवाओ का उपयोग करने से रोगियो को कम समय मे रोग मुक्ति मिलने की सम्भावनाये बढ गयी हैं / यह उन रोगो के लिये चिकित्सा मे सहायता करेगा जिन्के बारे मे पता ही नही चलता कि बीमारी शरीर मे कहा कहां पर है ????

इसकी रिपोर्ट का एक उदाहरण नीचे दिया जा रहा है / आप सभी पाठक गण इसका evaluation  करे /

shrotodushti001

हमारा मानना है कि आयुर्वेद के सिध्धान्तो को जिन्हे हमारे विद्वान महर्षियो ने अपनी practical skill  की कसौटी पर बार बार हाजारो बार और अन् गिनत बार परखा है जान्चा है और फिर उसके बाद हम स्बके लिये धरोहर स्वरूप दे गये ताकि मानव जाति  का कल्याण हो, इस भावना के साथ हमारे पूर्वजो ने अथक परिश्रम करके हमारे लिये आयुर्वेद की यह महान धरोहर सौपी है और इसे मानव जाति के लिये छोड़ा है /

हमारा आप सबका इस धरती पर रहने वाले सारे मानव समूह का फर्ज बनता है कि हम इस कीमती धरोहर को आगे बढाये और इसे अधिक से अधिक  evidence based  बनाने का प्रयास करे / हमारा सन्स्थान इसी भावना को ध्यान मे रखते हुये शोध कार्यो मे सन्लग्न है और यही कर रहा है /

prescription 001

“STEROID” EFFECTS ON BODY ; A CASE OF LADY , SUFFERING FROM “SCLERODERMA” TAKING REGULAR STEROIDS MASSIVE DOSES ; DEVELOPED MANY PHYSICAL PROBLEMS


A lady aged 51 years is taking regularly since 8 years , “STEROIDS” prescribed by the Physicians of well known hospital for her SCLERODERMA,  a kind of SKIN DISORDER, in which the skin becomes indurated in chronic condition..

She developed many physical problems after taking STEROIDS, but after complaining to the treating physician about her troubles, physician asked that “we have only this medicine for you, which you have to take regularly”.

The lady patient  belongs to KAVAL Town of UP.  When she felt more and unbearable problem , she asked to everyone who was in her touch, asking any physician, who could suggest any physician, who can well manage her case.

The patient belongs to a city , which is away 350 kilometers  from KANPUR. My one lady patient, who was suffering from LEUCODERMA / vitiligo,  now totally cured from LEUCODERMA, suggested  me for treatment  by the sister of this patient, who is working in that city, with this lady visitor.

She was told about my way of Ayurvedic treatment and management to this lady.

I recorded her E.T.G. AyurvedaScan traces along with the E.T.G.AyurvedaScan Continuous Trace Record.

steroids001

The traces recorded shows the depressed   lines not well elevated, and the gaps are wider than the normal level. Comments are given with the trace records , indicated by the arrows.

steroids001 001

See and observe and compare the records, at the start of the traces recording.

steroids001 002

Compare the traces above mention minutely and in zoom state. Anomalies are presenting in wider range.

The Lady patient was treating for her skin problem since 8 years back.

Presently she is suffering from DIGESTIVE DISORDERS, VOMITTING, MUSCULO-SKELETAL ANOMALIES AMD HORMONAL PROBLEMS. These problems are diagnosed by the ETG AyurvedaScan  examination.

She is taking AYURVEDIC and HOMOEOPATHIC MEDICINE simultaneously with relief.

Below is photo of the recording session of a patient for readers info. LOWER ABDOMEN of the patient and FOREHEAD area is being examined for his trouble, which is SOMATO=PSYCHIC  nature.

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

The regular  trace recording on COMPUTER through the recording device After recording the traces are analyzed and finally established the observations.

 

 

Homoeopathic and Ayurvedic students visited our OUT-DOOR HOSPITAL in June 2014.


On 16th June 2014, Students and Professor from HOMOEOPATHIC MEDICAL COLLEGE AND AYURVEDIC MEDICAL COLLEGE , for understanding and observing the E.T.G. AyurvedaScan and E,H.G. HomoeopathyScan for their knowledge.

Dr. D.B.Bajpai described in limited sphere about the ETG AyurvedaSCan technology and EHG HomoeopathyScan to the Students and practically shows the AYURVEDA BLOOD EXAMINATION and AYURVEDA URINE EXAMINATION practically before the students.

A case of MENTAL DISORDER was checking at the time of Student’s visit by E.T.G. AyurvedaScan Continuous Trace recording devices . The Photographs are taken at the time of the student’s visit are given below ;

10304501_251538521714101_8183109407988487579_n

Dr. Om Veer Singh , Professor in Ayurvedic Medical College, FATEHGARH, FARRUKHABAD, U.P. is observing the ETG AyurvedaScan Continuous Trace record. Dr. D.B. Bajpai is describing the  recorded traces interpretations with the progress of the traces records.

10306453_251537201714233_1738911980208936125_n

.Dr. D.B.Bajpai is discussing with the students and Professor Dr Om Vir Singh  about the technical aspects of the newly invented FOUR E.T.G. AYURVEDASCAN TECHNOLOGIES   with their uses in Ayurveda Diagnosis and Disease diagnosis and management .

10360703_251537545047532_3493638503835190838_n

A MENTAL DISORDER CASe is being examined for long time say FOUR HOURS to understand the activities of Brain by ETGACTExamination device.

10438585_251538155047471_8087322072975747918_n

………………………………….

10473177_251540428380577_3346438788989879657_n

A HOMOEOPATHIC GRADUATE is trying to understand the technology in vented by Dr DBBajpai.

10487289_251538768380743_565927112223790731_n

E.T.G. AyurvedaScan is now being popularized among the students of the various disciplines of the medical sciences. Dr DBBajpai is giving a very limited description of the technology.

 

MUSCULAR ATROPHY ; MUSCULAR DYSTROPHY ; AYURVEDA AYUSH TREATMENTसभी प्रकार की मस्कुलर डिस्ट्रोफी और सभी प्रकार की मस्कुलर एट्रोफी का अचूक और सटीक आयुर्वेदिक आयुष इलाज


atrophy

सिर के गिरते और झड़्ते हुये बालों के लिये तथा सिर के गन्जेपन को रोकने के लिये “केशोत्तम उपचार” ; KESHOTTAM TREATMENT FOR FALLING OF HAIRS and prevention of BALDNESS


40 साल से अधिक हो गये है , जब हमारे सन्स्थान और क्लीणिक मे सिर के गिरते हुये बालो और गन्जापन का इलाज बहुत सफलता के साथ किया जाता रहा है / हमने इस गन्जेपन को रोकने और गिरते बालो को रोकने की दिशा मे बहुत काम किया और गिरते बालो को रोकने और गन्जापन दूर करने तक का अचूक और सटीक और मुकम्मल इलाज का रास्ता सफलता पूर्वक विगत वर्षो मे खोज निकाला गया है /

यह एक चार उपयोगी हरबल काम्बिनेशन का किट है जिसमे चार तरह की अति उपयोगी बालों को गिरने से रोकने और Dandruff और सिर की त्वचा की किसी भी anomalies को दूर करने और बालो के इन्फ़ेक्शन को दूर करने तथा बालो की ग्रोथ को बढाने का कार्य करके बालो के रोगो को दूर करने का मुकम्मल और अचूक और सटीक इलाज करता है /

keshottam001

पिछले १५ सालो से हमारे यहा ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन तकनीक के अलावा दूसरी अन्य आयुर्वेद की HI-TECHNOLOGY के विकास करने की दिशा मे काम करने के कारण बालो से सम्बन्धित सभी प्रकार की गतिविधिया धीरे धीरे कम होती गयी है /

हमने बालो के इलाज मे जिस तरह की हरबल काम्बिनेशन का development किया है उसके लिये हमारे यहां आने वाले actual users को यह KIT उपलब्ध करयी जाती है / हमारे पुराने मरीज जो अपने गिरते बालो का इलाज केसोत्तम किट का उपयोग करके करा चुके है , वे बराबर अपने उपयोग के लिये और अपने परिवार के दूसरे नाते रिश्तेदारों और मित्रो के लिये केसोत्तम किट मान्गते रहते है /

इस किट के उपयोग से गिरते बालो की समस्या का स्थायी समाधान होता है /

गिरते बालो की समस्या के निदान के लिये पूरा किट उपयोग करना चाहिये तभी बालो के गिरने से स्थायी समाधान होता है /

यह किट केवक ACTUAL USERS के लिये है और इसे प्राप्त करने के लिये केवक और केवक हमारे रिसर्च केन्द्र मे आना होगा तभी यह किट मूल्य अथवा किट की कीमत देकर प्राप्त कर पायेन्गे / किट को प्राप्त करने के लिये यातो खुद आये अथवा किसी के माध्यम से मन्गा सकते है / हमारे यहा से किट को भेजने की कोई व्यवस्था नही है और न यह सार्वजनिक बिक्री के लिये उपलब्ध है /