“MINISTRY OF AYUSH” MODI GOVERNMENT FORMATION ; HUNDREDS AND THOUSANDS CONGRATULATIONS TO MODI GOVERNMENT ; “आयुष मन्त्रालय” के गठन पर मोदी सरकार को लाख लाख बधाइयां


मोदी सरकार द्वारा भारत देश को दुनियां के नक्शे पर कमजोर से शक्तिशाली और   परम से परम वैभव का दर्जा दिलाने और विश्व गुरू की जमात मे शामिल करने और सम्मान जनक स्थान दिलाने के लिये भरपूर प्रयास किये जा रहे है / ऐसा हम सभी देश के नागरिक गौरान्वित  होकर अपने अन्दर भारतीय होने का  गर्व  मह्सूस कर रहे है /

भारत मे जन्मी और भारत मे ही विकसित की गयी  भारतीय आयुर्वेद और सिध्ध चिकित्सा विग्यान  और योग के अलावा  इस देश मे दूसरे देशो से आयी चिकित्सा विग्यान की पध्ध्यतिया यथा होम्योपैथी और यूनानी और तिब्बती चिकित्सा विग्यान   जहां इन्के मूल विकास    वाले देशो ने ही तिरस्कृत करके और अछूत समझ कर कूडे दान मे फेन्क दिया है , ऐसी उपेक्षित चिकित्सा विग्यान को मोदी सरकार ने “जीवन दान” दिया है /

अभी तक आयुष विभाग एक तरह से एलोपैथिक माइन्डेड और एलोपैथी को बढावा देने वाले  लोगो के हाथ मे था / इसीलिये यह  सभी आयुष  चिकित्सा विग्यान उपेक्षा का शिकार रहे / कहा जाता है कि बजट का ९६ प्रतिशत रुप्या एलोपैथी के लिये खर्चा किया जाता था और ४ प्रतिशत आयुष चिकित्सा मे खर्चा किया जाता था जिसमे उक्त पान्च या छ्य चिकित्सा विग्यान शामिल है /

मुझे याद है जवाहर लाल  नेहरु के मन्त्रिमन्डल मे शामिल एक स्वास्थय मन्त्री ने कहा था कि देश मे आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान को खत्म कर देना चाहिये और केवल एलोपैथी     चिकित्सा विग्यान को ही इस देश मे एक मात्र चिकित्सा का दर्जा देना चाहिये इसके अलावा किसी को भी नही / 

इसी मानसिकता को लिये हुये   आयुर्वेद इस देश मे उपेक्षित रहा और यह किसी कारण से पनप नही सका /  आयुर्वेद को खत्म करने के लिये बहुत प्रयास किये गये / आयुर्वेद झुका तो जरूर लेकिन टूट कर खत्म नही हुआ/ यह  इसीलिये जीवित रहा  क्योन्कि इस देश की जन्ता को आयुर्वेद पर अनन्त समय से विश्वास और श्रध्धा बनी हुयी है जो आदिम काल से अब तक चली आ रही है /

जब श्री मती  सुषमा स्वराज जी स्वास्थय मन्त्री थी तो उन्होने ही अलग थलग पडे हुये इन सभी चिकित्सा विग्यान को “AYUSH” आयुष नाम दिया था/  श्री मुरली मनोहर जोशी जी ने आयुर्वेद के शल्य यन्त्रो की डिजाइनो पर भी काम किया था /

मोदी सरकार    ने आयुर्वेद को और दूसरी चिकित्सा विग्यान और पध्ध्यतियो    के विकास के लिये  अलग से  आयुष   मन्त्रालय बनाकर इन सभॊ च्विकित्सा विग्यान के पुष्पित होने और   पल्लवित  होने  और स्वतन्त्र रूप मे   फूलने फलने  और विकास करने और शोध करने का भरपूर   मौका दिया इसके लिये श्री नरेन्द्र भाई मोदी जी, प्रधान सेवक,   बधाई के पात्र है /

आयुर्वेद, योग और सिध्धा चिकित्सा विग्यान के अलावा अन्य दूसरे चिकित्सा विग्यान यथा होम्योपैथी, तिब्बती और यूनानी  चिकित्सा बिग्यान उन मूल देशो से एक्दम ही खत्म हो गयी है या खत्म होती जा रही है , इन सभी को भारत  देश मे बढने और पुष्पित और पल्लवित और  विकास करने का पूरा पूरा और अनन्त   मौका मिलेगा जिससे प्राप्त परिणामो से सारी दुनिया के लोग फायदा उठायेन्गे /

आशन्का सिर्फ इसी बात की है कि अफसर शाही के कारण कही अच्छे कदम गर्त मे न चले जाय / क्योन्कि सरकार अपनी नीयत से कितना भी अच्छा करे भारत की  अफसर शाही अव्छे कामो मे भी पानी फेर देती है /

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s