FIBROSIS FAT GLANDS ; BELOW SKIN DERMIS GLANDS IN WHOLE BODY IS CURABLE ON THE LINE OF THE FINDINGS OF E.T.G. AYURVEDASCAN EXAMINATIONS BASES AYURVEDA TREATMENT ; शरीर की चमड़ी के नीचे पैदा हो रही गान्ठो का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन जान्च आधारित आयुर्वेदिक दवाओं द्वारा रोग-मुक्त उपचार


बहुत से लोगो को शरीर की चमड़ी के नीचे मुलायन चर्बी – युक्त गान्ठे हो जाती है / इन्हे कई नामो से पुकारते है , कोई इसे  फाइब्रोसिस FIBROSIS  कहता है , कोई इसे FAT GLANDS   कहता है , कोई वात रोग की गुमड़ी कहता है , कोई कुछ और कोई कुछ /

So many  human beings suffers from the Glands called FIBROSIS by some one in general language , which are soft in nature and persists below the dermal layer of skin. Some say “FAT GLANDS” , some says deposition of FAT and NOXIOUS waste product  accumulation and so on.

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

ऊपर के दिये गये चित्र मे रोगी की गान्ठो को देखा जा सकता है / इस रोगी के सारे शरीर मे इसी तरह की गान्ठे भरी पड़ी हुयी है / कोई कोई तो इतनी बड़ी है जैसे कि कोई नीम्बू का आकार प्रकार हो / मेरे पास एक परिवार ऐसे भी  देखने मे   आया है जिनके दादा परदादा से लेकर  नाती पोते तक सबको ऐसी ही गान्ठे शरीर मे रही है और अभी भी next generation  मे देखने मे आया है कि उनके यहां भी यह तकलीफ हो रही है /

Above photograph shows the GLANDULAR PRESENCE , the patient have a large number of glands in his whole body and every part of body is full of smaall and large glands both, some of them are of small LIME SIZE glands. I know one family whio is having this type of complaints right from Great Grand Father to the great grandson. All the males are suffering with this complaints but non of female I have seen in this family, who is suffering with this complaints.

लेकिन एक विशेष बात यह देखने मे आयी है कि यह गान्ठे केवल MALE GENDER  मे ही देखी गयी है / अभी तक जितने भी मरीज आये है उनमे लगभग 99 % MALE  और केवल 2% FEMALES  रोगी इस तरह की गान्ठ वाले देखे गये है /

But one thing I have noticed that among this type of complaints MALES are affected 98 % and FEMA:LES 2%, this came in my observation.

इस रोग का कोई इलाज नहि है ऐसा बहुत से लोग कहते है / यह गलत धारणा है जो लोगो के मन मे बैठ गी है लेकिन इस बीमारी का आयुर्वेद मे इलाज है और बहुत सटीक और बहुत अचूक इलाज मौजूद है /

It is presumed that this disease condition have no treatment as is propagated by the medical fraternity. I am afraid here to say that the presumption about this disease condition is now proved wrong and I must say that this can be cured /relieved by the AYURVEDIC TREATMENT bases on the line of the findings of E.T.G. AyurvedaScan and its supplementary tests and examinations. Thus prescribed  present Ayurvedic  treatment is perfect and fool-proof and have curative effects.

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन और इसके तत्सम्बन्धित जान्च और परीक्षण की विधियो पर आधारित आयुर्वेद दवाओ द्वारा  इलाज करने से यह बीमारी अवश्य ठीक हो जाती है /

This disease condition is sure cured by the Ayurvedic treatment as is said before on the line of the findings of ETGAS.

फाइब्रोसिस के  एक रोगी का कम्प्यूटराइज्ड  ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन और ट्रीड-मशीन ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के द्वारा परीक्षण करने पर पता चला कि उसे किस तरह के शारीरिक patho-physiology  और pathology  का परिवर्तन होकर यह तकलीफ पैदा हो रही है /

A FIBROSIS Glands suffered  patient is examined recently at our research center and the trace record shows the anomalies present in his body both patho-physiological and pathological basis grounds.

fibrosis001 004

रोगी के ऊपर बताये गये ट्रेस रिकार्ड शरीर के mapping के अनुसार रिकार्ड किये गये है / ये रिकार्ड कम्प्यूटेराइज्ड ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन और ट्रीड मशीन / एक्सर्साइजीन्ग ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के द्वारा रिकार्ड किये गये है /

इस रिकार्ड को देखने से पता चलता है कि त्वचा के नीचे से आने वाले विद्युतीय सिगनल बहुत देर से आ रहे है और इनमे एकरूपता नही है / त्वचा के नीचे से आने वाले late signal का यही अर्थ है कि त्वचा का काम सामान्य नही है और इसमे विकार उपस्तिथि है / यह विकार क्यो पैदा हो रहे है और कैसे पैदा हो रहे है तथा त्वचा के नीचे गान्ठे क्यो बन रही है ?? इसके बारे मे जब सारे शरीर के परीक्षण के बाद प्राप्त डाटा से पता चला कि इस रोगी के शरीर के आन्तरैक अन्गो के कार्य असामान्य है और इसके refelection के तौर पर गान्ठे बन रही है /

The above records are taken after selected mapping of the body.These records are taken by Computerised ETG AyurvedaScan machine and Tread machine / exercising ETG AyurvedaScan machine,

Observing these records , it is established that signals are cropping very late and there is no equality. Below skin signals , if comes late , it is due to skin natural functions anomalies. Why this is happening and why signals are comming late and why Glands are generating beneath the skin , this is established after the data collection from report. The reprot indicates which organs are not functioning well or in deranged conditions. As a refelection of these organs anomalies , problem is arising with the patient.

fibrosis001

ऊपर के चित्र मे चमड़ी का वरणन किया गया है / तीर वाले बताये गये निशान का स्थान चमड़ी के सबसे अन्तिम हिस्से के एक भाग को बता रहा है / सामान्यतया चमड़ी मे चर्बी इसी स्थान पर जमा होती है और यह आवश्कतानुसार चमड़ी की कई पर्तो को impregnete करती है /

The above figure is showing the deposition of FAT Molecules beneath the Skin. The Fat deposite is used when in need.

नीचे के चित्र के त्वचा के नीचे के इन्गित किये गये हरे रन्ग के हिस्से को हाइपर डर्मिस कहते है और इसे चर्बी से युक्त भाग बताय गया है /

Below given Green color part in Figure is rich in FAT and is called HYPODERMIS part. Most of the metabolised Fat molecules are collected here.

fibrosis001 001

नीचे के चित्र मे बतया गया है कि मान्शपेशियो के तन्तु के साथ रक्त वाहिनियां लिम्फैटिक सिस्टम की भी सहायता लेकर किस प्रकार ्चर्बी को त्वचा के नीचे लाती है /

Muscle Fibers and Blood Vessels through Lymphatic system helps in deposition of Fat.

fibrosis001 002

नीचे के चित्र मे बताया गया है कि त्वचा के नीचे के सबसे गहरी पर्त मे किस जगह चर्बी जमा हो जाती है ?

Deepest layer of Skin is formed mainly of whitish Fat cells. Pathophysiology of Fat cells causes formation of Glands at deepest layer of Skin.

fibrosis001 003

वास्तविकता यह है कि त्वचा के नीचे होने वाली गान्ठ अक तरह की चयापचय से समबन्धित बीमारी है जो चर्बी की गान्ठ है और इसीलिये शरीर के सभी हिस्से इससे ग्रसित होते है / यह एक तरह की शारीरिक बीमारी है जो मानव शरीर के अन्दरूनी अन्गो की सही काम न करने की वजह से पैदा होती है /

The fact is that this Adipose Tissue Glands are the refelection of the metabolic disorders and fat chain chemistry anomalies. This is a physical disease , which is due to pathophysiology of the human Homeostatis system and its consequences.

बहुत से लोग इन गाम्ठो को देखकर डरते है कि कही यह कैन्सर की गान्ठे तो नही है ? अक्सर लोग इस तरह की गान्ठे देखकर भय्भीत हो जाते है और अनावश्य रूप से डाक्टरो को परेशान करते है / मै  यहां हलका   जोर देकर नही  बल्कि अपनी बात  बहुत  वजन  और बहुत जोर देकर कहता हू कि यह गान्ठे किसी भी तरह से कैन्सर की गान्ठ नही होती है और इससे कैन्सर हो जाने का भय नही पालना चाहिये /

आयुर्वेद मे इसक इलाज मौजूद है / कारण और उसका  निवारण करने से यह बीमारी ठीक हो जाती है / .

So many parient having this complaints, fears for cancerous glands. I will highly voiced that these glands are not Cancerous in any way and should not misguide themselves.

Ayurveda have this condition complete and fool-proof treatment and treating with ayurvedic remedies the disease is cured totally.

आयुर्वेद के सिध्धान्त के अनुसार इस रोगी को निम्न प्रकार के वातादिक दोष का आन्कलन किया गया है /

[१]  दोष ;  पित्त सबसे अधिक ; कफ सबसे कम

[२] दोष भेद ; भ्राजक पित्त भेद,; श्लेष्मन पित्त भेद ; ब्यान वात

[३] सप्त धातु ; रस धातु कम ; रक्त धातु अधिक ; मेद धातु अधिक ; मज्ज धातु अधिक

[४] श्रोतो दुष्टि ; मेदो श्रोतो दुष्टि ; रसश्रोतो दुष्टि

इस तरह से प्राप्त निदान के ग्यान से आयुर्वेद की औषधियो का बहुत सटीक चयन और मरीज को पथ्य परहेज बताने के लिये और क्या भोजन व्यवस्था और जीवन शैली को मरीज के लिये व्यकतिगत तौर पर बताने मे बहुत सहायता मिलती है /

इस तरह से औषधि व्यवस्था और पथ्य-जीवन शैली व्यवस्था से रोगी शीघ्र स्वस्थ्य होते है /

According to Ayurveda Principals, diagnosis of AYURVEDIC PRINCIPALS  have done as followings;

[1] Dosha ; PITTA HIGH  ; Kapha Low

[2] DODHA BHED ; BHRAJAK PITTA BHED ; SHLESHMAN PITTA BHED ; VYAN VAT BHED

[3] SAPTA  DHATU BHED ;  Ras Dhatu less ; Rakta Dhatu High ; Meda dhatu Higher, Majja Dhatu Highest

[4] CHANNEL ANOMALY ; MEDO CHANNEL ANOMALY PRESENT ; RAS CHANNEL ANOMALY PRESENT

Diagnosis of Ayurveda Principals leads a perfect solution of the patient’s problem both in selection of appropriate remedies and appropriet Life style and do and donts.

In this way , Ayurvedic treatment  becomes fool-proof and fast recovery of normal health gains rapidly.

prescription 001

Advertisements

5 टिप्पणियाँ

  1. Translate your site please.
    Many thanks.
    Witch is the treatment?

    ………..reply………..which country you belongs gentleman ?

    I will translate it in english with the Hindi main text.

    In future , if you desire for a particular post to be translated in English language you can tell it to me.

    Thanks.

  2. Please tell us what is the treatment of the disease.

    ——- REPLY ——-

    YOUR MENTIONED DISEASE CONDITION IS CURABLE BY OUR LATEST INVENTED METHODS OF AYURVEDA DIAGNOSIS BY HI-TECHNOLOGICAL MACHINES AND AYURVEDA AND AYUSH COMBINATION TREATMENT AND AYURVEDA MENTIONED LIFE STYLE MANAGEMENT PROCEDURE’S ADOPTIONS.

    ETG AYURVEDASCAN PARIKSHAN KARAKAR AYURVEDIC / AYUSH YANI AYURVEDA AUR HOMOEOPATHY AUR UNANI AUR YOGA PR——-AKRATIK CHIKITSA KA MILAJULA ILAJ KARANE SE SABHI TARAH KE ROG JINAKO LAILAJ BATA DIYA GAYA HO YAH SABHi AVASHY THIK HOTE HAI.

    See interview of cured patients and lectures on ETG AyurvedaScan technology. You can talk and conversation directly to patient by logging at our account at below ;
    http://www.youtube.com\drdbbajpai

    For Appointment and Fees and charges;
    ask Directly to Dr. A.B. Bajpai , Assistant to Dr. D.B.Bajpai and ETG AyurvedaScan Specialist Mobile no: 08604629190 Morning – 9 to 10 AM and Evening 7 to 8 PM
    अगर इलाज कराने के लिये APPOINTMENT और इलाज कराने की फीस के बारे मे जानकारी लेना चाहते है तो नीचे लिखे मोबाइल नम्बर पर सम्पर्क करें /08604629190
    PATIENTS FROM OTHER COUNTRIES / NEIBOURING States & COUNTRIES / OUT SIDE INDIA / CONTINENT’S CITIZENS / OVERSEAS SICK PERSONS , who want our treatment for any disorders, should contact Dr. D.B. Bajpai by e-mail because telephonic contacts / telephonic talks / telephonic conversations are not possible for us. E-mail; drdbbajpai@gmail.com
    हमारे यहां से ठीक हो चुके रोगियो और ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन टेक्नोलाजी के बारे मे जानकारी चाहते है तो आप हमारे नीचे लिखे यू ट्यूब एकाउन्ट मे लाग आन करे / आप हमारे द्वारा ठीक किये जा चुके मरीजो से सम्पर्क कर सकते है /
    http://www.youtube.com\drdbbajpai
    you can go for more details about our activities at log on
    http://www.ayurvedaintro.wordpress.com

  3. Please tell us what is the treatment of the disease (FIBROSIS)

    ——- REPLY ——-

    YOUR MENTIONED DISEASE CONDITION IS CURABLE BY OUR LATEST INVENTED METHODS OF AYURVEDA DIAGNOSIS BY HI-TECHNOLOGICAL MACHINES AND AYURVEDA AND AYUSH COMBINATION TREATMENT AND AYURVEDA MENTIONED LIFE STYLE MANAGEMENT PROCEDURE’S ADOPTIONS.

    ETG AYURVEDASCAN PARIKSHAN KARAKAR AYURVEDIC / AYUSH YANI AYURVEDA AUR HOMOEOPATHY AUR UNANI AUR YOGA PR——-AKRATIK CHIKITSA KA MILAJULA ILAJ KARANE SE SABHI TARAH KE ROG JINAKO LAILAJ BATA DIYA GAYA HO YAH SABHi AVASHY THIK HOTE HAI.

    See interview of cured patients and lectures on ETG AyurvedaScan technology. You can talk and conversation directly to patient by logging at our account at below ;
    http://www.youtube.com\drdbbajpai

    For Appointment and Fees and charges;
    ask Directly to Dr. A.B. Bajpai , Assistant to Dr. D.B.Bajpai and ETG AyurvedaScan Specialist Mobile no: 08604629190 Morning – 9 to 10 AM and Evening 7 to 8 PM
    अगर इलाज कराने के लिये APPOINTMENT और इलाज कराने की फीस के बारे मे जानकारी लेना चाहते है तो नीचे लिखे मोबाइल नम्बर पर सम्पर्क करें /08604629190
    PATIENTS FROM OTHER COUNTRIES / NEIBOURING States & COUNTRIES / OUT SIDE INDIA / CONTINENT’S CITIZENS / OVERSEAS SICK PERSONS , who want our treatment for any disorders, should contact Dr. D.B. Bajpai by e-mail because telephonic contacts / telephonic talks / telephonic conversations are not possible for us. E-mail; drdbbajpai@gmail.com
    हमारे यहां से ठीक हो चुके रोगियो और ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन टेक्नोलाजी के बारे मे जानकारी चाहते है तो आप हमारे नीचे लिखे यू ट्यूब एकाउन्ट मे लाग आन करे / आप हमारे द्वारा ठीक किये जा चुके मरीजो से सम्पर्क कर सकते है /
    http://www.youtube.com\drdbbajpai
    you can go for more details about our activities at log on
    http://www.ayurvedaintro.wordpress.com

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s