“PUTRA JIVAK” ; AYURVEDA REFERENCES


AYURVEDA REFERENCES OF PUTRA JIVAK SOLD BY BABA RAM DEO PHARMACY 

 

FOLLOWING REFERENCES ARE FROM THE CLASSICAL TEXT BOOKS OF AYURVEDA IN ORIGINAL VERSION.

 

आयुर्वेद मे पुत्र जीवक के बहुत से रेफेरेन्सेस दिये गये है और इस जडी के बारे मे बहुत विस्तार से बताया गया है / मेरे पास इस जड़ी के लिये जितने सनदर्भ ग्रन्थ है मैने उन सबको आप सभी पाठको के लिये  उपलब्ध करा दिये है /

सन्स्कृत भाषा मे मूल रूप से इस जड़ी के गुण बताये गये है / / मूल रूप से सन्स्कृत मे लिखा होने के कारण प्रत्येक टर्म की व्याख्या करने की जरूरत होती है / उदाहरण के लिये पुत्र जीवक के गुणो मे सबसे पहले भारी शब्द का  उपयोग किया गया है . व्याख्या मे इसका तात्पर्य गुऋता से है / यानी यह दवा हर एन्गल से महय्व पूर्ण है और इसका असर बहुत गहरा यी तक होता है / यह पचने मे या हजम होने मे थोड़ा समय लेती है लेकिन इसका शरीर मे असर बहुत शिद्द्त के साथ होता है /  इसलिये शारिरिक विकार को दूर करने मे यह दूसरी दवाओ की तुलना मे अधिक असर करने वाली है / इसके परिणाम अवश्य होते है ीलिये इसे भारी शब्द से उद्बोधित किया गया है /

सन्स्कऋत के शब्दो को टाइटिल समझ कर  उसकी व्याक्ल्ह्या करना चाहिये तभी इस औषधि के बारे मे समझने का प्यास होगा /

 

PUYRAJIVAK001 001

…………………………

PUYRAJIVAK001

///////////////////////////////////////

PUYRAJIVAK001 003

………………………………..

PUYRAJIVAK001 002

///////////////////////////////////////

PUYRAJIVAK001 007

//////////////////////////////////////

PUYRAJIVAK001 004

/////////////////////////////////////

PUYRAJIVAK001 005

/////////////////////////////////////

PUYRAJIVAK001 006

////////////////////////////////////

एक टिप्पणी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s