COLORIMETRIC AYURVEDA BLOOD SERUM TEST AND ANALYSIS ; कलरीमीटर द्वारा रोगी के रक्त सिरम का परीक्षण करके आयुर्वेदिक सिध्धान्तों का आन्कलन और रोग निदान ; free download english and hindi bi-lingual AYURVEDA book and know about the Ayurveda Invention.


SPECIAL FEATURE OF THIS INVENTION ;

This new Ayurveda Colorimetric Invented technology is a fool-proof tools for studies of the effects of the Ayurveda Remedies and herbs on human beings including studies of toxic effects of the food and medicinal substances in human body according to Ayurveda principles.

आयुर्वेद की इस नयी आविष्कार की गयी आधुनिक तकनीक द्वारा मानव शरीर मे आयुर्वेदिक दवाओं के प्रभाव आयुर्वेदिक सिध्धान्तों के अनुसार किस तरह से हो सकते है, इसका अध्ध्य्यन किया जा स्कता है और इसके साथ साथ अष्टान्ग आयुर्वेद के एक अन्ग TOXICOLOGY यानी विष विग्यान और भूत विद्या का भी अध्ध्यन किया जा सकता है /

FREE DOWNLOAD AYURVEDA ENGLISH AND HINDI BI-LINGUAL BOOK, WRITTEN by Dr Desh Bandhu Bajpai on great invention of Ayurveda ”COLORIMETRIC AYURVEDA BLOOD SERUM TEST AND ANALYSIS”

Download link is given below;

http://www.slideshare.net/drdbbajpai/documents

 

In modern era, Ayurveda is flourishing with the introduction of new technologies in diagnosis mainly in two fields, in which, number one is STATUS QUANTIFICATION of the FUNDAMENTALS OF AYURVEDA PRINCIPALS and second is, recognition of the ailments / ailing parts / ailing systems / disease diagnosis and diagnosis related problems to human body.

COLORIMETER

MICRO AUTOMATIC PIPPETTE

BLOOD AND SERUM COLLECTION TUBES AND CONTAINERS

SYRINGES AND BLOOD COLLECTION AND SERUM COLLECTION GLASS TUIBES

REAGENTS AND WORKING SOLUTIONS

आधुनिक युग मे आयुर्वेद मे कुछ नयी तकनीकी विधिया निदान ग्यान के क्षेत्र मे आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान मे आ चुकी है और अब स्थापित हो चुकी है / इसमे आयुर्वेद के सिध्धान्तों का मूल्यान्कन और रोग निदान दोनो ही क्षेत्रों मे बिधियो का उपयोग विगत कई वर्षो से सफलता पूर्वक हो रहा है /

Electro-tridosho-graphy; E.T.G. AyurvedaScan is an electrical scanning system based Ayurveda technology. The Electrical scan quantifies the status of the Ayurveda principles with diagnosis of body disorders. The electrical scan system, recording the emitting electrical impulses from the areas, according to the mapping of human body from selective body parts and after that the E.T.G. AyurvedaScan recorder sends recorded data to computer for analysis and synthesis, where related software produce a report, after completion of analysis and synthesis of the related subject matters.

“इलेक्ट्रो-त्रिदोषो-ग्राफी / ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन” एक ऐसी विधि है जिसके द्वारा सारे या सम्पूर्ण मानव शरीर की जान्च करके पहला- आयुर्वेद के मौलिक सिध्धान्तो का नकलन और दूसरा शरीर के अन्दर व्याप्त रोगों का आन्कलन , यह दोनो बातो का निदान हो जाता है / हजारो रोगियो पर इस निदान ग्यान समाधान विधि का उपयोग किया जा चुका है और आज भी इस विधि का उपयोग आयुर्वेद की चिकित्सा मे किया जा रहा है /

Comparative to this electrical scan, no laboratory test has been developed for Ayurveda for status quantification of Ayurveda Fundamentals and diagnosis of the disorders according to Ayurveda. This newly developed Laboratory test AYURVEDA technology can quantifies the status of Ayurveda Basic Fundamentals and disorders through examining human Blood Serum.

यह परीक्षण एलेक्ट्रानिक मशीनो द्वारा आयुर्वेद के निर्देशानुसार बतायी गयी मैपिन्ग के आधार पर रोगी के शरीर के चुने हुये स्थानो से इलेक्ट्रोड के माध्यम से मशीन द्वारा रिकार्ड किये जाते है / जिसे बाद मे कम्प्यूटर आधारित साफ्ट वेयर द्वारा अनालाइसिस करके एक रिपोर्ट के रूप मे रिकार्ड करके प्रस्तुत किया जाता है /

लेकिन इसके अलावा दूसरी ऐसी किसी विधि का आविष्कार नही हुआ जिसके द्वारा पता लगाया जा सके कि रोगी के अन्दर आयुर्वेद के सिध्धान्तो का क्या हिसाब किताब है ? मरीजो की जान्च करने के लिये मेरी अपनी पैथोलाजिकल लैबोरेटरी है , जिसमे मे अपने और अपने सहयोगियों के साथ मरीजो का रक्त और मूत्र परीक्षण करता हू , यह सब पिछले कई सालो से चलता चला आ रहा है /

    Dr. D.B. Bajpai examining patient at Kasba Bhojapur, Raibareilly, U.P.,

Raibareilly is Loksabha Parliament constituency of Madam Sonia Gandhi.

कुछ दशक पहले मेरे मन मे यह भाव उठा कि क्या रक्त के परीक्षण से आयुर्वेद के मौलिक सिध्धान्तो का आन्कलन किया जा स्कता है ? यह विचार मुर्त रूप के देने मे मुझे ्बहुत समय लगा / सबसे पहले मैने यह पहचानने की कोशिश की कौन कौन से केमिकल आयुर्वेद के दोषो से मेल खाते है ? इन केमिकलों को पह्चान करके और प्रैक्टिकल की कसौटी पर कस कर देखने के बाद जब अनुकूल रिजल्ट मिलने लगे तब से लेकर मरीजो को सफलता पूर्वक रक्त परीक्षण करने की विधी का अपनी लैबोरेटरी मे अधिक विकास करने की दिशा मे कार्य किया जा रहा है /

In our research center, Blood serum test is being performed since few years with success. We have developed this technology at our center and is continuous being developed to its advance level.

With the help of these technologies, Ayurveda Diagnosis and Ayurveda treatment will be foolproof and exact and fruitful and without any deviations.

हम यह आशा करते है कि आयुर्वेद की इस नयी टेक्नोलाजी से आयुर्वेद के प्रति लोगो का वैग्यानिक दॄष्टिकोण समझ मे आयेगा /

In this book, introduction and technology is given to readers.
आधुनिक मशीन ”कलरीमीटर” द्वारा आयुर्वेद के लिये रक्त परीक्षण करने की विधि का विवरण इस पुस्तक मे दिया जा रहा ह / हम आशा करते है कि जिग्यासु पाठकों को इस नवीन आविश्कार के बारे मे जानकारी प्राप्त होगी /

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s