महीना: मई 2018

VITAMINS AND MINERALS ARE NOT HELPFUL FOR HUMAN BODY ; NEW STUDIES SAY


It is surprising that Vitamins and Minerals are not helpful for humans in maintaining their health as it was perception earlier that Vitamins and Minerals helps humans health but recent studies showed that the earlier concept is wrong and no benefits can be gained by the supplements.

Perhaps this is the first studies so far have been done in comprehensive ways about the effects and therapeutic and prophylaxis uses of vitamins and minerals,which says that in many disease conditions the vitamins are not effective and of no use.

In my opinion, the subject matter is not very clear of the research, because the title and modus operandy of the research done have not been given. So this is confusing.

I will not like to criticize the results of research, but in clinical practice, it is seen that Vitamin Minerals combination helps to patients and I personally recommends the combination, when in need. It works, that is my observation because when I test Blood serum at our laboratory minerals and electrolytes and vitamins for diagnosis uses and on the ground of their deficiency, prescribed minerals and vitamin combination fulfills the body needs, when again their blood serum is tested.

This is perhaps wider research study so every body should accept and respect  the conclusion.

……………..

MIGRAINE ; ENCEPHALGIA ; HEADACHE ; सिर दर्द ; आयुर्वेदिक इलाज ; AYURVEDA TREATMENT


http://

Migraine and headache is a common as well as a chronic illness , which troubles the victim in very bad manner. The reason of the headache is very wide and can be due to Ear and nose and throat and ophthalmic and facial muscular and nerves anomalies. It can be due to spinal region of cervical area and blood anomalies. Blood pressure and circulation towards head and autonomic nervous system may cause the problem.The chemical chemistry may cause pain due to any imbalances and also the body system in coordination. There is many reasons of headache and therefore this is not a simple disease as it is understood.

Unless and until the reason of migraine is not traced, it is impossible to cure the disorder.

By virtue of Ayurveda diagnosis system “” ETG AyurvedaScan technology””, it is now possible to find the genesis of the any problem inside the body. The Ayurveda Blood examination and urine examination provides blood chemistry anomalies inside the body. Concluding the problem and diagnosis, appropriate Ayurveda remedies cures the condition.

ENLARGED PROSTATE ; AND RELATED PROBLEMS ; CURE BY AYURVEDA AND AYUSH TREATMENT; प्रोस्टेट यानी पौरुष ग्रन्थि का साइज या आकार बढ जाना ; आयुर्वेद और आयुष इलाज द्वारा बीमारी ठीक हो जाती है


ENLARGED PROSTATE is a condition of disease related to the Prostate. Prostate is an important organ of body where many sexual functions are controlled or supported or performed by this glands. There is many reasons, which are responsible to create the disorder. Prostatitis is a very common disorder, in which the urine passes with difficulty. Obstruction in urinary tract, burning during urination are primary sign of prostatic problem. Much enlarged size of prostate indicates “Cancer” syndromes.

The function of Prostate is the Gland secreting a thick whitish liquid that aids in the formation of sperm and contributes to the mobility of spermatozoa.

The diagnosis of the disorder can be done by the Ultrasound or CT Scan or MRI examination or Ayurveda Latest diagnosis system ETG AyurvedaScan. Manual examination by Surgeon is confirmatory. Prostate panel related Pathological Blood examination or Ayurveda Blood Test and Ayurveda Urine Test can help in diagnosis of the disorders intensity.

This is a curable condition in Ayurveda and Ayush therapies. A large number of remedies are available to meet the cure of this disorder.

प्रोस्टेट अथवा पौरुष ग्रन्थि की बीमारी केवल पुरुषो मे ही होती है / यह ग्रन्थि एक तरह का पतला सफेद चिपचिपा पदार्थ पैदा करती है जिससे मानव शुक्राणु को बनने मे मदद मिलती है / इस पदार्थ के होने से शुक्राणुओं की मोबाइलिटी मे मदद मिलती है / अगर प्रिस्टेट मे कोई बीमारी पैदा हो जाती है तो मान्व पुरुष को रिप्रोडक्टिव विकार पैदा हो जाते है /

प्रोस्टेट के आकार के बढ जाने का बहुत बेहतर इलाज आयुर्वेद और आयुष चिकित्सा मे मौजूद है / अगर इस बीमारी का इलाज आयुर्वेद की नई तकनीक के रिपोर्ट और आयुर्वेद के रक्त परीक्षण और आयुर्वेद के मूत्र परीक्षण के जान्च रिपोर्ट के आधार पर किया जाता है तो यह बीमारी अव्श्य ठीक होती है /

Listen in Hindi about the disease condition and treatment .

…………………………..

http://

PROSTATE PROBLEMS whatever they may be are curable by Ayurveda and Ayush Therapies. Treatment bases on the diagnosis done by ETG AyurvedaScan and Ayurveda Blood serum examination and Ayurveda Urine examination are very effective and condition is controlled within a little time.

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

Dr D.B.Bajpai iexamining patient Blood & Urine sample at Pathology Unit, K.P.C.A.R.C. 

मान००१ 016

 

 

 

 

…………………………………..

ENLARGED LIVER ; tOTAL CURE BY AYURVEDA AYUSH TREATMENT ; लीवर का आकार बढ जाना ; आयुर्वेद और आयुष इलाज से ठीक होता है /


ENLARGED LIVER AND RELATED PROBLEMS ; CURE BY AYURVEDA AND AYUSH TREATMENT; लीवर यानी यकृत का साइज या आकार बढ जाना ; आयुर्वेद और आयुष इलाज द्वारा बीमारी ठीक हो जाती है

ENLARGED LIVER is a condition of disease related to the Liver. Liver is the biggest organ of body where many functions are controlled or supported or performed. There is many reasons, which are responsible to create the disorder.

The diagnosis of the disorder can be done by the Ultrasound or CT Scan or MRI examination or Ayurveda Latest diagnosis system ETG AyurvedaScan. Pathological Blood examination or Ayurveda Blood Test and Ayurveda Urine Test can help in diagnosis of the disorders intensity.

This is a curable condition in Ayurveda and Ayush therapies. A large number of remedies are available to meet the cure of this disorder.

लीवर के आह्कार के बढ जाने का बहुत बेहतर इलाज आयुर्वेद और आयुष चिकित्सा मे मौजूद है / अगर इस बीमारी का इलाज आयुर्वेद की नई तकनीक के रिपोर्ट और आयुर्वेद के रक्त परीक्षण और आयुर्वेद के मूत्र परीक्षण के जान्च रिपोर्ट के आधार पर किया जाता है तो यह बीमारी अव्श्य ठीक होती है /

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

1

Contact; Dr ABBajpai
MOBILE NUMBER ; 08604629190
KANAK POLYTHERAPY CLINIC AND RESEARCH CENTER
67/70. BHUSATOLI ROAD, BARTAN BAZAR,
KANPUR SHAHAR, U.P., INDIA

KIDNEY STONE ; RENAL STONE ; TOTAL CURE BY AYURVEDA & AYUSH TREATMENT AND MANAGEMENT


KIDNEY STONES AND RENAL STONES are totally curable by Ayurveda and Ayush treatment. In general and particular cases of Renal stones are curable by Ayurveda and Ayush combination and integrated treatment. Yet there is no need of any kind of Surgical interventions up to the size of Calculus beginning from tiny to 15 millimeters and above and in numbers. The phyto-chemicals and Chemical substances containing anti-calculus properties remedies of Ayurveda and Homoeopathy and Unani works against the formation of calculus and melting them slowly and gradually with inhibiting the HYDRONEPHROSIS and renal pain.

In Ayurveda and in Homoeopathy and in Unani a large number of remedies persists to cure the condition. It is often seen that after removal of ..Calculus by Surgical interventions, calculus again reappears. By allowing Ayurveda and Ayush treatment repetition of the formation of calculus is not seen often…Once it is cured , it is been cured for all time…………..

किडनी यानी गुर्दा यानी रीनल स्टोन्स यानी पथरी अथवा ज्यादा सन्ख्या की छोटी अथवा बड़ी पथरियां जो गुर्दे के अन्दर हो जाती है ऐसी पतहरियों का इलाज आयुर्वेद और होम्योपैथी औए यूनानी दवाओं के काम्बीनेशन अथवा इन्टीग्रेटेद स्वरूप मे किया जाता है तो सभी प्रकार की गुर्दे की पथरिया धीरे धीरे मेल्ट होकर निकल जाती है /

गुर्दे की पथरियों का पता अल्ट्रासाउन्ड अथवा एक्स-रे अथवा सी०टी०स्कैन अथवा एम०आर०आई० से पता चलता है / हाइड्रोनेफ्रोसिस और पथरियो का पता आयुर्वेद की नई तकनीक ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन से पता चल जाता है लेकिन नई तकनीक मे पथरियों का साइज ठीक ठीक नही पता चल पाता है इसलिये अल्ट्रासाउन्ड पथरियो के साइज को जानने के लिये सबसे बेहतर तरीका है /

यहां इसका उल्लेख इस्लिये कर रहा हू कि आयुर्वेद और आयुष  के इलाज के लिये ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन सबसे बेहतर डायग्नोसिस विधि है / जब पथरी का इलाज करते है तो पथरी की जेनेसिस और उसका पाथ-वे जानना जरूरी होता है / लेकिन इलाज करते रहने के दरमियान मानीटरिन्ग के लिये यानी इलाज करने के कुछ हफ्ते बाद अल्ट्रासाउन्ड द्वारा यह पता लगाना जरूरी होता है कि पथरियो के साइज मे क्या और किस तरह के परिवर्तन आये हैं / इसी पर द्वाओ की डोज और अन्य बाते निर्भर करती है /

गुर्दे के अन्दर और मूत्राशय मे कुछ मरीजो मे एक्स रे और अल्ट्रा साउन्ड कराने के बाद पता चलता है कि उनके गुर्दे और मूत्राशय मे बहुत बड़ी बड़ी पथरिया मौजूद है / कभी कभी इस तरह की तकलीफ गलत साबित होती है / ऐसा इसलिये क्योन्कि गुर्दे अथवा मूत्राशय के अन्दर कैल्सियम और दूसरे मिनरल्स अन्दरूनी दीवार मे एक मोटी पर्त बना देते हैं जो एक मिलीमीटर से लेकर २ या ३ या अधिक मिलीमीटर की मोटाई की परत जमा देते है / एक्स रे मे यह अन्कित हो जाता है क्योन्कि एक्स रे की किरणे इस पर्त के कारण रुकती है जिससे एक भ्रम की स्थिति पैदा हो जाती है / यही अल्ट्रासाउन्ड मे भी होता है / जब अल्ट्रासाउन्ड को प्रोब के द्वारा  गुर्दे की ओर छोड़ते है तो इन पर्तो से टकरा कर आने वाले ध्वनि सन्केत पथरी का सन्केत देते है / इसलिये भ्रम की स्तिथि बनती है /

गुर्दे की पथरी एक पुरी तरह से ठीक होने वाली बीमारी है / ई०टि)जी० आयुर्वेदास्कैन आधारित इलाज और आयुर्वेद के मूत्र और रक्त परीक्षण आधारित इलाज कर्ने से यह बीमारी शत प्रतिशत ठीक हो जाती है / इस बीमारी मे आनन फानन मे आपरेशन नही करना चाहिये / आपरेशन अति इमर्जेन्सी की अवस्था मे ही कराना ठीक होता है /

SINUSITIS ; NASO-FACIAL DISEASE CONDITION ; सायनुसायटिस ; नाक और गले तथा कान और अन्दरूनी गला को एक साथ तकलीफ देने वाली बीमारी


सायनुसाइटिस को नाक से सम्बन्धित बीमारी समझा जाता है लेकिन इस बीमारी के रिफ्लेक्टिव सिन्ड्रोम्स पूरी नाक और कान और गला तथा ग्र्दन के अन्य भागो को भी विकार युक्त बना देती है / फेसियल न्य़ुरैल्जिया इसी बीमारी की देन है / अधिक एन्टीबायोटिक दवाओ के खाने से इसका असर मष्तिष्क के भागो पर भी पड़ता है ऐसा भी देखने मे आया है /

इसलिये इस बीमारी को हल्के मे नही लेना चाहिये /

यह बीमारी आयुर्वेद और आयुष की दवा करने से अव्श्य ठीक हो जाती है / जड़ बुनियाद से बीमारी को ठीक करने के लिये आयुर्वेद का इलाज करना बहुत फाय्देमन्द है /

जब सायनिसाइटिस की  बीमारी बेकाबू हो जाये और कोई भी इलाज कारगर न हो तो आयुर्वेद की आधुनिक तकनीक ई०टी०जी० आयुर्वेद स्कैन परीक्षण आधारित इलाज करना चाहिये / आयुर्वेद के रक्त परीक्षण और आयुर्वेद के मूत्र परीक्षण से तथा अन्य जान्चो से यह पता चल जाता है कि शरीर के अन्दर क्या गड़्बड़ी है और सायनुसायटिस की तकलीफ किस वजह से हो रही है ?

इस तरह से बीमारी का निदान हो जाने से इसका इलाज सटीक और अचूक  सम्भव हो जाता है / यह शत प्रतिशत ठीक होने वाली बीमारी है / यह बीमारी शरीर के नर्वस सिस्टम को और दूसरे सिस्टम को बहुत सेन्सिटिव बना देती है / यह ठन्डक से बढने वाली बीमारी है क्योन्कि जब यह बीमारी होती है तो शरीर की रेजिस्टेन्स पावर घटती है / रेजिस्टेन्स के घटने के कारण सायनुसायटिस के रोगी को बहुत शीघ्रता के साथ ठन्डक का एक्स्पोजर होता है इसीलिये यह बीमारी उनको ज्यादा होती है जो या तो दिन भर ए०सी० मे बैठते हैं या गर्मी से बचने के लिये  ठन्डक के लिये स्थान बदला करते है /

कहने का तात्पर्य यह कि सायनुसायटिस बीमारी ठन्डक से बढती है और इससे बचना चाहिये  / ऐसा न करने पर यह बीमारी बहुत जोर मारती है और ठीक होने का नाम नही लेती है /

 

DIABETES ; डायबिटीज ; AYURVEDA – AYUSH CURE ;आयुर्वेद – आयुष चिकित्सा क्योर


Diabetes is spreading in large number patient due to many reasons, which could be only find out by the Ayurveda Whole body Scanner ETG AyurvedaScan and its supplementary examinations, which are possible at our outdoor hospital. Ayurveda and Ayush combined and integrated treatment and diagnosis provides a complete cure to the patient who just diagnosed at an early stage.

KANAK POLYTHERAPY CLINIC AND RESEARCH CENTER
67/70. BHUSATOLI ROAD, BARTAN BAZAR,
KANPUR SHAHAR, U.P., INDIA
MOBILE; 08604629190

Listen Video contents

.

डायबिटीज एक लाइलाज बीमारी है ऐसा सम्झा जाता है / लेकिन ऐसा है नही और यह कुछ डाक्टरो द्वारा फैलाया गया प्रोपागन्डा है / हमारे सन्स्थान मे डायबिटीज के जितने भी मरीज आये है सब के सब ठीक हुये है और वे केवल आयुर्वेद के मैनेज्मेन्ट पर आधारित जीवन शैली और खान पान को अपनाकर शायबिटीज को कन्ट्रोल किये हुये है / जिन मरीजो को शुरुआती डायबिटीज का रोग का पता चला और उन्होने तुरन्त ही इलाज कराया वह ठीक हो गये और वे सामान्य जीवन यापन कर रहे है / जो मरीज इन्सुलीन लग्वा रहे थे उनकी इन्सुलीन छूट गयी और जो अन्य एन्टी-डायबेटिक दवाये ले रहे थे उनकी दवाओं की मात्रा बहुत कम हो गयी अथवा धीरे धीरे छूट गयी /

Pancrease is said to be one of the cause of Diebetis due to pathophysiology or pathology of the organ.But other organic pathophysiology and pathology should not be forgotten like Liver, Gall Bladder, Small Intestines, Large Intestines, Spleen, Kidney, Hormonal imbalances etc etc that affects the body and creates this disorder.

प्रस्तुत वीडियो मे डायबिटीज के बारे मे सुनिये

सम्पर्क करें ;
डा० ए०बी० बाजपेयी मोबाइल नम्बर ; 08604629190

 

PILES ; HEMORRHOIDS ; CURABLE BY AYURVEDA AND AYUSH TREATMENT ; बवासीर की बीमारी का सटीक और अचूक इलाज आयुर्वेद और आयुष चिकित्सा


Piles and Hemorrhoids are very very ugly disease condition. This is a painful condition, when stool passes from rectum. Piles are divided in two section one is bleeding and other is non-bleeding.

Contact; Dr ABBajpai mobile ; 8604629190
Kanak Polytherapy Clinic and research center,
67/70, Bhusatoli Road, Bartan Bazar, Kanpur, U.P., India

बवासीर की बीमारी बहुत खराब और गन्दे किस्म की बीमारी है / मरीज अपनी बीमारी के बारे मे दूसरों से कहने सुनने मे हिचकता है / पाखाना करने के बाद यह बीमारी दर्द पैदा करती है और कभी कभी किसी किसी को जलन और मिर्चे जैसी जलन का अहसास होता है /

यह लाइलाज बीमारी नही है और इसका इलाज आयुर्वेद और आयुष चिकित्सा मे मौजूद है / इलाज करने से यह बीमारी और इसके साथ साथ जुडु हुयी तकलीफे भी कम हो जाती है /

इस आडियो मे डा० देश बन्धु बाजपेयी क्या बता रहे है यह सब सुनिये ………

Listen in Hindi about the disease condition and treatment …………………

http://https://soundcloud.com/drdbbajpai/piles-heamorrhoids-curable-by-ayurveda-and-ayush-treatment

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

iso001

FISTULA ; OPEN OR BLIND ; TOTALLY CURABLE BY AYURVEDA & AYUSH DIAGNOSIS AND TREATMENT


FISTULA is an VERY VERY UGLY POSITIONED and dreaded disease condition, WHICH IS VERY DIFFICULT TO CURE in Allopathy medical system. The practitioners of Allopathy always sugget an OPERATION in every case of FISTULA.

Experience shows that most of the operations of Fistula are not successful even tried operation several times , say 2 to 11 operations are fail to recover the problem or cure the problem. Opening of Fistula reopen again and again, therefore it can be said that operations are not successful in this disease condition.

Ayurveda Kshar Sutra is also not very successful in many cases. Many patients came to us for treatment after KSHAR SUTRA with failure. We can not say why KHAR SUTRA failes in many  CASES.

क्षार सूत्र के द्वारा फिस्टुला / फिस्चुला क इलाज आयुर्वेद चिकित्सा विज्ञान मे बहु अचूक कहा गया है / लेकिन जब १५ साल पहले फिस्चुला के रोगी जि क्षार सूत्र की चिकित्सा करा चुके थे और इस क्षार सूत्र से नही ठीक हुये थे तब मुझे बहुत हैरानी और आश्चर्य की बात लगी / मै यही समझता था कि क्षार सूत्र द्वारा फिस्चुला रोग का इलाज बहुत सटीक और अचूक है / लेकिन मेरी इस धारणा को धक्का लगा जब एक के बाद एक और फिर कई मरीजो के आने का सिलसिला शुरू हुआ तब मुझे ज्ञात हुआ कि क्षार सूत्र द्वारा  फिस्चुला की चिकित्सा करना फेल साबित भी हो सकता है /

हमारे यहा रिसर्च  केन्द्र मे  जितने भी रोगी फिस्चुला का इलाज करा गये है सब के सब ठीक हुये है / क्योन्कि हमारे चिकित्सा केन्द्र मे सारे शरीर का परीक्षण आधुनिक आयुर्वेद की निदान ज्ञान की तकनीक ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन द्वारा परीक्षण किये जाते है और इसके साथ साथ आयुर्वेद का रक्त परीक्षण और आयुर्वेद का मूत्र परीक्षण भी किये जाते है जिससे यह पता चल जाता है कि बीमारी की असली जड़ कहा पर छुपी हुयी है /

बीमारी का कारण तलाश लेने के बाद उसका इलाज करना सरल होता है और सटीक होता है यही कारण है कि हमारे केन्द्र मे फिस्चुला के रोगियो का इलाज करने मे शत प्रतिशत सअलता मिलती है /

…………………….

http://

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

iso001