आयुर्वेद

DISORDERS OF UTERUS AND FEMALE GENITAL ORGANS ; AYURVEDA-AYUSH WAY OF SAFE TREATMENT


              MODEL OF FEMALE GENITAL ORGANS ; SHOWING THE  PARTS

FEMALES GENITAL ORGANS DISORDERS can be well treated by Ayurveda and Ayush treatment. A large number of categories of female disorders in the list of cure by Ayurveda and ayush therapies.

The most common disorder is irregular menstrual cycle. Means the periods are not in order. The problem looks very simple superficial and therefore nobody care for the such tiny symptoms, but the tiny symptoms may make a hazards for life long problem. This simple problem may cause endometritis to infertility.  I have seen in my 54 years of the clinical practice that women are not careful about their sexual health and due to this they suffers physical ailments as well as glands formation inside uterus which lastly converts in cancer in the line of extensions.

Menstrual cycle anomalies concern to other systems of human body. This involves Endocrine system or Autonomic system or musculo-skeletal system or digestive system or heamopoetic system etc etc.

In early age patient can bear the painful condition due to their physical strength but time passes creates serious consequences beginning.

         SHOWING UTERUS WITH ENDOMETRIUM ; DEVELOPMENT OF FETUS

        COMPLETE VIEW OF THE SECTIONS OF FEMALE GENITAL ORGANS

Irregular menstruation cycle have some features.

Generally menstruation appears after 28 / 29 days every month and persists for 4 or 5 days. This is a normal course of cycle. The flow of blood is first day is very limited in quantity second day some more third days some much more with mild flushing fourth day flushing minimizes and slowly gradually minimizes in 5th and 6th days and then stops. The output of  blood is bright red or red without any clotting and consistency is like slightly thick compare to milk. No fever , no pain , no discomfort is felt during the flow of menstruation. This is a normal cycle of menstruation.

Some complaints  are of serious nature and should be careful for early care and treatment. In which glands and adenoma and fibrosis and cysts are taken seriously. This may cause in very later stage hazarduous disease “Cancer” , so every women should be careful about these disorders. 

Ayurveda new invention diagnosis technology ETG AyurvedaScan and Ayurveda Blood tests and Urine tests are able to diagnose the disorders in early stage and their treatment and management solution at very beginning. It is advisable to be cautious for an early problem solution than becoming a full fledged disease ripe condition.

  E.T.G. AYURVEDA SCAN EXAMINATION OF A PATIENT IN RESTING POSITION

                       Dr. D.B.Bajpai  is testing patient BLOOD by PHOTOMETER.

Advertisements

H.I.V. DAY ; FATAL DISEASE HAVE SERIOUS CONSEQUENCES , IF CARELESSLY TREATED


HIV disorders is not an easy disease condition as it is being publicized. After treating a big number of disease condition by Combination and Integrated ways, this disease can be controlled in expansion, if increasing rapidly. its counts or CD3 / CD4 / and CD8 counts and their percentages. Our view about this disease is as following ;

1- This came in our observation that just before infection of HIV, few changes in chemical chemistry is seen. Changes in Serum Pottassium, serum Sodium and Serum Chloride are prominent. Serum Stannum is highly elevated. Serum Zinc comes below to normal level.

2- In this stage if blood is examined by HIV diagnosis card method, a weaker reaction in HIV 1 belt is seen. HIV 2 is absent always and is not reacted in this stage.

3- Some times disease features are seen for HIV infection but this is not seen in card test. In this stage , a VDRL Card test may give ”positive” result.

4- ESR becomes very high in HIV patient. The level raises start from  60 to 90 mm fall in first 15 minutes / one hr.

5- Hemoglobin percentage becomes down in HIV patient. It is often seen below normal borderline , say below 14 mg%.

6- Some early fatal warning signs are seen in HIV infected patient. Wight loss is a secondary problem to HIV patient. with this majority of patient feels Feverishness and the fever nature is just like appears as a Malaria / Typhoid / Dengue infection like features. This confuses the treating doctor. Physician feels that the syndromes leads to a infection and this create misleading in actual treatment.

7- Few disorders are also seen in this disease condition. Loss of Serum Iron and Lower level of Hemoglobin percentage . A typical condition is seen in this order that KIDNEY is most;y affected , as CREATININE level raises in ratio of Hemoglobin. For example if Creatinine level is 2.1 mg , hemoglobin can be 11 mg%. When Creatinine level raises more suppose 3.01 mg, hemoglobin could be at 9.40 mg%. Hemoglobin lowers down in ratio of increasing Creatinine level. In this critical condition KIDNEY failure is fatal to patient.

8- Complications  and consequences of HIV infections are very very fatal and ends the life, if not well treated. Carelessly treated patient may loss their life, if not well treated.

Initial stage and stage 2 infection level patient are well treated on the basic line of ETG AyurvedaScan examination and Ayurveda Blood examination and Ayurveda Urine examination , gives the correct blood chemistry, which helps in selection of Ayurvedic and Homoeopathic and Unani and some modern medicine food supplemnts, vitamin and minerals.

This way treated patient are monitored time to time by pathological examination by examining VIRAL LOAD and CD3 and CD4 and CD8 counts.  Regular and continuous Ayurveda treatment and management down the infection in normal level, which can be said cure of disease.

Recurrence of disorders can be possible , if care is not taken to maintain health.

 

KIDNEY DISORDERS ; गुर्दों की तकलीफें


                            KIDNEY MODEL SHOWING  THE DIFFERENT PARTS OF ORGAN

KIDNEY disorders can be well treated by Ayurveda and ayush treatment in combination and integrated ways.

Kidney is a very sensitive and important organ of human body. The most common problem is CALCULI / STONE, which can be placed in nay part of the kidney or ureters or urinary bladder. This causes Hydronephrosis and thus most of the sufferers have high Blood pressure problems or kidney pain or mental disorders or insomnia sleeplessness and many other physical disorders like loss of appetite, indigestion and so on.

AYURVEDA and AYUSH Combination and integrated treatment and life style management promises sure cure of the stone problem.

Si is of the other disorders of Kidney like Nephritis, Albuminuria, Ketonuria, Bloody Urine , Infection of Kidney and many disorders.

An E.T.G. AyurvedaScan including Ayurveda Blood and Urine examination bases Ayurveda and Ayush treatment assures the cure of the KIDNEY problems.

glimpses of our clinic ; kanak polytherapy clinic and research center, kanpur, india


कनक पालीथेरापी क्लीनिक एवम रिसर्च सेन्टर, 67 / 70, भूसाटोली रोड, बर्तन बाज़ार, कानपुर, उत्तर प्रदेश, 208001 , भारत , जहा आयुर्वेद की सबसे उत्तम कोटि की चिकित्सा व्यवस्था और रोग निदान की मशीने है, विश्व स्तर की आयुर्वेदिक चिकित्सा व्यवस्था मुहैया कराने वाला एक मात्र सन्स्थान है /

इस सन्स्थान के बारे मे glimpses के रूप मे जानकारी सन्क्षिप्त स्वरूप मे दी गयी है / यहा इस सन्स्थान मे सभी रोगो का इलाज आयुर्वेद और आयुष चिकित्सा व्यवस्था के माध्यम से किया जाता है / शरीर की कोई भी बीमारी हो, पूरे शरीर का परीक्षण करके बीमारी का निदान किया जाता है और उसके बाद आयुर्वेदिक या आयुष का इलाज क्रने के लिये दवाओ का प्रेस्क्रिप्शन लिखा जाता है / साथ मे परहेज भी बताया जाता है /

Contact person ; Dr A.B.Bajpai, mobile no; 08604629190

Download books written by Dr.D.B.Bajpai
http://www.slideshare.net/drdbbajpai/documents

 

http://

FACTS ABOUT LEUCODERMA ; CURABLE DISEASE ON THE LINE OF E.T.G. AYURVEDASCAN AND RELATED AYURVEDA BLOOD AND AYURVEDA URINE TESTS AND SUGGESTIVE AYURVEDA LIFE STYLE MANAGEMENT


Leucoderma is a skin pigment disorder, which is a complex disorders, unknown to the medical scientists, how it happens and why it is not curable in view of modern medical system.

In fact , the melanin, a kind of pigment of hair and skin, formation in human body is depend on some physiological process chain products, which Tyrosine produces. Melanin is a complex polymers in which a major constituents is formed from tyrosine via ”dihydroxy phenyl alanine” , sayDOPA.

The formation of melanins from tyrosine is occurs due to the action of polyphenol oxidases or tyrosinases.

Tyrosinases is a metal containing mixed oxidase, which carries in a sequence.

In human being, the melanin is derived from tyrosine and is distributed in some other chemical by physiological process and the type of melanin is recognized by the formation process. Thus melanin is distributed in the following categories;

1- dopa melanin
2- adrenalin melanin
3- homogentisic – melanin
4- p-phenylenediamine melanin
5- other forms

An interesting facts came out that melanin forms a reversible oxidation – reduction system, in which the reduced form is tan and the oxidized form is black. Melanines appear in tissues as regular , spheroid granules and represent formed elements rather than precipitated aggregates. Melanins are produced in pigment forming cells, the melanocytes and their formation is stimulated by adrenal cortex and specially pituitary hormones.

 

[Dr. Desh Bandhu Bajpai] ; Inventor, E.T.G. AyurvedaScan Technology and Ayurveda Blood Serum Bio-chemistry and Ayurveda Urine Tests and Chief Investigator

In Ayurveda, the treatment of Leucoderma is successful on the line of the findings of the E.T.G. AyurvedaScan and Ayurveda Blood serum examination and other tests , done at our clinic outdoor hospital.

A full E.T.G. Ayurvedascan R.P.1 and and E.T.G.AyurvedaScan W.P. 1 and ETG AyurvedaScan SP-1 with Ayurveda Blood serum and Ayurveda Urine test obtained reports and data provides opportunity to study and scrutiny of patient’s body hidden problems.

In Leucoderma patient, complex human body systems are involved and responsible to produce disease. A fair treatment of all the involved systems are necessary for treating this disorder.

The cure is possible, if treatment covers the complexity of the individual patient problem solution at a time and simultaneously. To find out the exact reason and genesis of disorders, is not a easy task and it consumes time. It takes four to six hours to complete the task. After that a complete picture of the genesis of leucoderma can be draw out.

Most difficult task is with the prescription given to patient which is depend on the classification of Ayurveda principles and management accordingly. The patient is some times suggested Ayurveda and Homoeopathy and Unani and Allopathy remedies simultaneously adjusting remedies natures and their actions on disease control.

Above mentioned  phenomenon is applied in whole skin and hairs relations of hyman beings , but apart from this condition this factor is not applicable  there, where white patches are seen and discolored patched creates problems. White patches problem is differ from the melanin in buffer.

Small patches on whole body or in a part of body or scattered patches , all have their different different phenomenon of disorders. All have dissimilarity in their origin  and are not accepted in generalization. This disease is an individual disorder and thus the treatment should be done in the individual to individual ways and not in general way.

PHOTO TAKEN  BEFORE  THE START OF LEUCODERMA TREATMENT IN APRIL, 2013

 PHOTO TAKEN AFTER 2 YEARS OF  LEUCODERMA   TREATMENT IN  YEAR , APRIL 2015

 NOW PATIENT  IS ALMOST CURED AS PER VERSION OF PARENTS,

CURED PHOTO NOT SENT BY PARENTS AFTER REQUEST

Leucoerma disease is not a simple disorder as it is understood by the patient. This is a very complex and fast raising and spreading disorder. Finding the exact reasons of the disorder and treating the cause/causes are the only way for treatment and control. This is not an easy job and treatment should be taken by the patient by expert Ayurveda Doctor.

Early detected Leucoderma cases responds by the treatment soon and can be covered possibly 4 to 8 months or few more months. Maltreated and old cases takes almost 6 to one year and this given period could expand more.

Patient hides their habits and disease suffering period to physician and tell a lie. Patient are not very clear to physician that what they have done treatment and used which types of remedies both internal and external. Some takes intoxication, some takes remedies, some takes alcohol and etc etc.

Lastly one point is very necessary for patient that this is not a simple disorder. Leucoderma heals slowly and gradually and some time speed of cure is very very slow. In observation it is seen that ones Leucoderma patches are starting their coloring process, either it is slow are fast , it is promised that the disease will certain cure, not including time limit.

We can not say authentically about the other Ayurveda Doctors , what they have experience about this disease, we have given here in this post, what we have gained experience in treating LEUCODERMA PATIE

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

NT.

 

 

पैरो के नी-ज्वायन्ट knee joints ,घुटने अथवा कमर के femur joints ज्वायन्ट के दर्दों और इन सभी ज्वायन्ट्स से जुड़ी तकलीफों का सटीक इलाज आयुर्वेद और आयुष चिकित्सा मे श्रेष्ठ है


पैरों के ज्वायन्ट यानी knee joints अथवा फीमर ज्वायन्ट्स femur joints यानी कमर के जोड़ो की तकलीफें बढती हुयी उम्र के साथ साथ

बीमारी का स्वरूप लेनी लगती है /

अजकल लोग पैदल कम चलते है और स्कूटर अथवा मोटर साइकिल अथवा कार या दूसरे चार पहिया वाहन का उपयोग करने लगे हैं / कम पैदल चलने या शारीरिक मेहनत कम करने के कारण य आ अधिक समय तक बैठने का काम करने से भी यह बीमारी जोर पकड़ लेती है /

फीजियोलाजी के हिसाब से यह बीमारी शरीर के केमिकल अस्न्तुलन के कारण धीरे धीरे वियर और टियर के कारण होती है जो जोड़ो के आर्टीकुलेशन मे आ रही विकृति की वजह से हो जाती है /

इस विकृति के होने के बहुत से कारण होते है / जिन्हे समझना बहुत जरूरी है / बिना कारण को समझे हुये चिकित्सा करने से हमेशा रोगी की तकलीफ बढती है /

अक्सर साधारण लोग इस बीमारी को बहुत मामूली समझते है  जो खतरनाक  है / शरीर के किसी भी हिस्से मे दर्द हो , यह इस बात का इन्डीकेशन होता है कि शरीर का जो हिस्सा दर्द कर रहा है , उस हिस्से मे कोई प्राब्लम है / यह प्राब्लम उस हिस्से की बनावट या अन्ग या हड्डियो या मान्शापेशियो य़ा रक्त के बहाव से सम्बन्धित हो सकती है /

सामान्य तौर पर लोग  और आम जन जिनको इस तरह की तकलीफ होती है , वे पेन किलर्स का उपयोग करने लगते है , जो उनको दर्द से कुछ मिनटॊ मे फायदा पहुन्चा देता है / चून्कि इसके अलावा उनको कुछ दूसरा सूझता नही है इसलिये वे इस तरह के इलाज के आदी हो जाते है /

पेन किलर्स से पहला फायदा यही होता है कि रोगी के दर्द से राहत मिल जाती है , यह शुरुआत की बात होती है , लम्बे समय तक पेन किलर्स खाने से पेन किलर्स की डोज बढानी पड़ जाती है, जिसका असर लीवर के खराब होने जिसमे लीवर का काम न करना अथवा लीवर का साइज बढ या घट जाना , तिल्ली का काम कम कर्ना अथवा काम अधिक बढ जाना जिससे खून की कमी या प्लेट्लेट्स या खून के सफेद रक्त कणो की सन्ख्या मे बदलाव आना अथवा किडनी खराब होना थवा हृदय या मष्तिष्क के रोगो का जन्म लेना शामिल है /

एक बीमार के दर्द को कम करने के लिये कितनी और अधिक बीमारिया जो गम्भीर किस्म की होती है कैसे पैदा हो रही है , यह समझने की बात है /

ठीक इसके विपरीत यदि दर्द का कारण समझ कर अथवा दर्द क्यो और किस कारण से पैदा हो रहा है यह बुनियादी बात समझ कर अग्र इलाज करते है तो तो जोड़ो से सम्बन्धित सभी तरह की बीमारिया अवश्य ठीक होती है /

इस तरह की बीमारियो के इलाज के लिये आयुर्वेद  और आयुष थेरेपी चिकित्सा अत्यधिक कारगर होती है / जोड़ो की बीमारिया जैसे एवैस्कुलर नेक्रोसिस, गाउट, रियुमेटिक आर्थराइटिस अथवा रियुमेटोइड आर्थराइटिस, साइनोवाइटिस, सरवाइकल अथवा लम्बर अथवा एन्काइलोजिन्ग स्पान्डिलाइटिस अथवा रीढ के जोड़ो के दर्द से सम्बन्धित बीमारी हो  या  ऐसे रोगी जिनके शरीर के सभी जोड़ चाहे वे छोटे हो या बड़े हो सभी दर्द करते है और यह बीमारी लाइलाज स्टेज पर पहुन्च जाती है /

यहा कह्ना उचित समझता हू कि हमारे चिकित्सा सन्स्थान मे साधारण से जोड़ो के दर्द की तकलीफो से लेकर विचित्रता से भरे जोड़ो के दर्द के मरीजो का इलाज किया जा चुका है /

यहा कहना अनुचित न होगा कि लगभग सभी मरीजो को उनकी बीमारियो मे आराम मिली है, जिनकी बीमारी एक साल पुरानी हो चुकी है, वे स्वस्थय है और अपना सारा काम कर रहे है / यानी कहने का तात्पर्य यह कि जिन रोगियो की तकलीफ जल्दी हुयी और इलाज के लिये जल्दी आ गये और उन्होने किसी तरह का इन्तजार नही किया वे सव्भी बहुत शीघ्रता से ठीक हुये /

दूसरी तरफ वे मरीज जिनका रोग पुराना हो चुका था और खूब तगड़ी से तगड़ी एलिपैथिक की द्वा खा कर इलाज के लिये अये उनको उनकी तकलीफ और समय के अनुपात मे आराम उतने ही धीरे धीरे आनुपातिक स्वरूप मे मिला है / लेकिन एक बात यह जरूर रही कि सभी रोगियो को आराम मिला और वे अपना जीवन यापन सुख पूर्वक कर रहे है /

यह सब सम्भव होता है हमारे यहा के विशेष शारीरिक परीक्षणो के द्वारा  जो मशीनो द्वारा किये जाते है /

पहले पता किया जाता है कि बीमारी की जड़ क्या है और यह पैदा कहा से हो रही है / इसके लिये इलेक्ट्रिकल स्कैन सारे शरीर का कई अवस्थाओं मे  करते है /

रक्त – सिरम की जान्च द्वारा  शरीर की पैथोलाजी और पैथोफीजियोलाजी का आंकल्न करते है और फिर कोरिलेट किया जाता है कि असल मे बीमारी किस वजह से पैदा हुयी है /

शरीर के परीक्षण करने मे अन्य मशीनी उपकरणों का सहारा लेते है ताकि पिन-पाइन्ट डायग्नोसिस हो सके /

“सन्क्षेपत: क्रिया योगो परिवर्जनम ” आयुर्वेद का यह सूक्त वाक्य हमेशा फल्दायी होता है / इसका मतलब यह है कि ” कारण का निवारण करना ही सूच्छ्म  चिकित्सा है / हमारे सन्स्थान मे यही किया जाता है / इसीलिये चिकित्सा कर्य मे सफलता अवश्य मिलती है /

 

WORKING SOLUTIONS AND REAGENTS FOR AYURVEDA BLOOD SERUM TEST AVAILABLE ; आयुर्वेदिक चिकित्सको के लिये अवसर ; अपना स्वयम का ”निदान ज्ञान केन्द्र ” खोलें / टेक्निकल गाइडेन्स और सहायता हमसे प्राप्त कर सकते है /


आयुर्वेद की आधुनिक रक्त परीक्षण  की तकनीक द्वारा रोगियो का रक्त परीक्षण करके रोगो का निदान करें और यश के भागी बनें /

 

आयुर्वेदिक चिकित्सक अपनी क्लीनिक मे लैबोरॆटरी स्थापित करके अपने रोगियो का रक्त परीक्षण करके उनके रोगो का निदान कर यश के भागी बन सकते है / लैबोरेटरी स्थापित  करने मे  इच्छुक आयुर्वेदिक चिकित्सक / चिकित्सकों को हमारी सन्स्था द्वारा  इस कार्य के लिये सलाह दी जा सकती है /

 

MODERN AYURVEDA आधुनिक आयुर्वेद

 

 

 

]

”मस्कुलर डिस्ट्राफी” के रोगियों मे बीमारी के कारणो मे सब कुछ एक जैसा नही होता है / मस्सकुलर डिस्ट्राफी के सभी मरीजो मे बीमारियों के कारण उनके ”इन्डिवीजुएलाइजेशन” के कारण अलग अलग होते हैं / इसलिये मस्कुलर अट्राफी या मस्कुलर डिस्ट्राफी के मरीजो की बीमारी के कारण पहचान कर उनका इलाज करने से सफलता प्राप्त होती है /


मस्कुलर डिस्ट्राफी के मरीजो के इलाज करने से इस बात का मन्तव्य सत्य के निकट लगता है , जैसा कि आयुर्वेद के मनीषियों ने अथवा यूनानी के हकीमो ने अथवा होम्योपैथी के स्तरीय चिकित्सकों ने अपने विचार बताये है /

अगर निष्कर्ष स्वरूप देखा जाय तो इसे ”इन्डिवीजुअल इन्टेरनल पैथोफीजियोलाजिकल डिसाअर्डर” ही समझा जाना चाहिये / मस्कुलर डिस्ट्राफी के मरीजों के सारे शरीर का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन परीक्षण यथा तीनो अवस्थाओं में यानी पहली अवस्था रेस्टिन्ग पोजीशन resting position और दूसरी अवस्था एक्सर्साइजीन्ग पोसीशन exercising position और तीसरी अवस्था लम्बे समय तक आराम और हिलने डुलने की अवस्था long term rest and movement position के साथ साथ कई तरह के मरीज की आव्श्यकतानुसार शारीरिक टेस्ट के साथ साथ रक्त परीक्षण और मूत्र परीक्षण भी किये जाते है / इसके अलावा अन्य जरूरी टेस्ट रोग की पहचान के लिये किये जाते है /

इस तरह के टेस्ट करने का मक्सद और उद्देश्य यह होता है कि मरीज के सारे शरीर का और उसके सिस्टम्स का अध्ध्य्यन करना होता है / सारे शरीर की जान्च इसीलिये की जाती है कि रोगी के शरीर मे कहां और किस तरह की कार्य विकृति अथवा विकृति शरीर के अन्गों मे मौजूद है / यह निर्धारण कर्ना आसान नही होता क्योन्कि इसमे समय बहुत लगता है /

लाक्षणिक उपचार मे कोई समय नही लगता है / उदाहरण के लिये सिर दर्द के लिये कोई भी दर्द नाशक दवा खा लीजिये , तुरन्त आराम मिल जायेगी / लेकिन सिर दर्द क्यो हो रहा है और बार ्बार किस कारण से हो रहा है यह जानना जरूरी होता है / तभी स्थायी फायदा हो सकेगा /

मस्कुलर डिस्ट्राफी के मरीजो मे थकान जल्दी होना, मान्शपेशियो का अकड़ाना थवा खिचाव होना, बुखार के साथ साथ मान्शपेशियो मे दर्द होना और सूजन आ जाना , यह सब लक्षण पैदा हो जाते है / इन सबके अलावा दूसरी तकलीफे हो जाती हैं /

आयुर्वेद के निदान ज्ञान की आधुनिक तकनीक ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन द्वारा मस्कुलर डिस्ट्राफी के मरीजो का इलाज करने के बाद पता चला है कि हर मरीज के शरीर के फीजियोलाजिकल फन्क्शन्स अलग अलग होते है और उनमे निदान ज्ञान की विविधता होने के कारण आयुर्वेद -आयुष के इलाज और मैनेजमेन्ट करने मे हर मरीज को उसके इन्डिवीजुअलाइजेशन के कारण दवाओ की व्यवस्था और पथ्य का निर्देश उसी अनुसार देने से मरीजो की तकलीफ मे आराम मिल और धीरे धीरे उनके स्वास्थय मे सुधार हुआ/

आयुर्वेद के रक्त सिरम परीक्षण ्से भी वातादिक दोषों के ज्ञान होने से निदान और चिकित्सा मे बहुत सहायता मिलती है / सात वातादि दोष और सात सप्त धातुओं के अलावा मलादि कैटाबालिक द्रव्यो का स्टेटस क्वान्टीफाई हो जाने से आयुर्वेद और आयुष की चिकित्सा करने से चिकित्सक को सहूलियत मिल जाती है /

प्रत्येक मरीज का परीक्षण डाटा एक जैसा नही होता है / हर मरीज के व्यक्तिगत लक्षण होते है /

आयुर्वेद की अथवा आयुष की चिकित्सा करने मे इन्ही व्यक्तिगत डाटा का महतव होता है और तभी इन डाटा के उपयोग से मस्कुलर डिस्ट्राफी का इलाज करने से सफलता मिलती है /

आयुर्वेद की नवीन आविष्कार की गयी तकनीक रोगी के खून अथवा रक्त के सिरम के परीक्षण करने से आयुर्वेद के सिध्धान्तों की  डायग्निसिस हो जाने से मस्कुलर अट्राफी या मस्कुलर डिस्ट्राफी दोनो ही बीमारियो का सटीक कारण पता चल जाने से आयुर्वेद और आयुष का इलाज करन्मे मे सटीकता आ जाती है /

इलेक्ट्रोलाइट और मिनरल्स की कमी क्ला पता चल जाने से इन कमियो का इलाज आयुर्वेदिक और आयुष दवाओं के आधार पर करने से बीमारी के इलाज और मैनेज्मेन्ट को करने मे बहुत सहायता मिलती है /

हमारे रिसर्च केन्द्र मे आधुनिक आयुर्वेद की दोनो तकनीको के कई सवरूप प्रयोग किये जाते है जिनसे लाइलाज बीमारियो का इलाज करना और ऐसी सभी बीमारियो को मैनेज करना रोगियो के हित के लिये अति आवश्यक सिध्ध हो रहा है /

 

COLORIMETRIC AYURVEDA BLOOD SERUM TEST AND ANALYSIS ; कलरीमीटर द्वारा रोगी के रक्त सिरम का परीक्षण करके आयुर्वेदिक सिध्धान्तों का आन्कलन और रोग निदान ; free download english and hindi bi-lingual AYURVEDA book and know about the Ayurveda Invention.


SPECIAL FEATURE OF THIS INVENTION ;

This new Ayurveda Colorimetric Invented technology is a fool-proof tools for studies of the effects of the Ayurveda Remedies and herbs on human beings including studies of toxic effects of the food and medicinal substances in human body according to Ayurveda principles.

आयुर्वेद की इस नयी आविष्कार की गयी आधुनिक तकनीक द्वारा मानव शरीर मे आयुर्वेदिक दवाओं के प्रभाव आयुर्वेदिक सिध्धान्तों के अनुसार किस तरह से हो सकते है, इसका अध्ध्य्यन किया जा स्कता है और इसके साथ साथ अष्टान्ग आयुर्वेद के एक अन्ग TOXICOLOGY यानी विष विग्यान और भूत विद्या का भी अध्ध्यन किया जा सकता है /

FREE DOWNLOAD AYURVEDA ENGLISH AND HINDI BI-LINGUAL BOOK, WRITTEN by Dr Desh Bandhu Bajpai on great invention of Ayurveda ”COLORIMETRIC AYURVEDA BLOOD SERUM TEST AND ANALYSIS”

Download link is given below;

http://www.slideshare.net/drdbbajpai/documents

 

In modern era, Ayurveda is flourishing with the introduction of new technologies in diagnosis mainly in two fields, in which, number one is STATUS QUANTIFICATION of the FUNDAMENTALS OF AYURVEDA PRINCIPALS and second is, recognition of the ailments / ailing parts / ailing systems / disease diagnosis and diagnosis related problems to human body.

COLORIMETER

MICRO AUTOMATIC PIPPETTE

BLOOD AND SERUM COLLECTION TUBES AND CONTAINERS

SYRINGES AND BLOOD COLLECTION AND SERUM COLLECTION GLASS TUIBES

REAGENTS AND WORKING SOLUTIONS

आधुनिक युग मे आयुर्वेद मे कुछ नयी तकनीकी विधिया निदान ग्यान के क्षेत्र मे आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान मे आ चुकी है और अब स्थापित हो चुकी है / इसमे आयुर्वेद के सिध्धान्तों का मूल्यान्कन और रोग निदान दोनो ही क्षेत्रों मे बिधियो का उपयोग विगत कई वर्षो से सफलता पूर्वक हो रहा है /

Electro-tridosho-graphy; E.T.G. AyurvedaScan is an electrical scanning system based Ayurveda technology. The Electrical scan quantifies the status of the Ayurveda principles with diagnosis of body disorders. The electrical scan system, recording the emitting electrical impulses from the areas, according to the mapping of human body from selective body parts and after that the E.T.G. AyurvedaScan recorder sends recorded data to computer for analysis and synthesis, where related software produce a report, after completion of analysis and synthesis of the related subject matters.

“इलेक्ट्रो-त्रिदोषो-ग्राफी / ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन” एक ऐसी विधि है जिसके द्वारा सारे या सम्पूर्ण मानव शरीर की जान्च करके पहला- आयुर्वेद के मौलिक सिध्धान्तो का नकलन और दूसरा शरीर के अन्दर व्याप्त रोगों का आन्कलन , यह दोनो बातो का निदान हो जाता है / हजारो रोगियो पर इस निदान ग्यान समाधान विधि का उपयोग किया जा चुका है और आज भी इस विधि का उपयोग आयुर्वेद की चिकित्सा मे किया जा रहा है /

Comparative to this electrical scan, no laboratory test has been developed for Ayurveda for status quantification of Ayurveda Fundamentals and diagnosis of the disorders according to Ayurveda. This newly developed Laboratory test AYURVEDA technology can quantifies the status of Ayurveda Basic Fundamentals and disorders through examining human Blood Serum.

यह परीक्षण एलेक्ट्रानिक मशीनो द्वारा आयुर्वेद के निर्देशानुसार बतायी गयी मैपिन्ग के आधार पर रोगी के शरीर के चुने हुये स्थानो से इलेक्ट्रोड के माध्यम से मशीन द्वारा रिकार्ड किये जाते है / जिसे बाद मे कम्प्यूटर आधारित साफ्ट वेयर द्वारा अनालाइसिस करके एक रिपोर्ट के रूप मे रिकार्ड करके प्रस्तुत किया जाता है /

लेकिन इसके अलावा दूसरी ऐसी किसी विधि का आविष्कार नही हुआ जिसके द्वारा पता लगाया जा सके कि रोगी के अन्दर आयुर्वेद के सिध्धान्तो का क्या हिसाब किताब है ? मरीजो की जान्च करने के लिये मेरी अपनी पैथोलाजिकल लैबोरेटरी है , जिसमे मे अपने और अपने सहयोगियों के साथ मरीजो का रक्त और मूत्र परीक्षण करता हू , यह सब पिछले कई सालो से चलता चला आ रहा है /

    Dr. D.B. Bajpai examining patient at Kasba Bhojapur, Raibareilly, U.P.,

Raibareilly is Loksabha Parliament constituency of Madam Sonia Gandhi.

कुछ दशक पहले मेरे मन मे यह भाव उठा कि क्या रक्त के परीक्षण से आयुर्वेद के मौलिक सिध्धान्तो का आन्कलन किया जा स्कता है ? यह विचार मुर्त रूप के देने मे मुझे ्बहुत समय लगा / सबसे पहले मैने यह पहचानने की कोशिश की कौन कौन से केमिकल आयुर्वेद के दोषो से मेल खाते है ? इन केमिकलों को पह्चान करके और प्रैक्टिकल की कसौटी पर कस कर देखने के बाद जब अनुकूल रिजल्ट मिलने लगे तब से लेकर मरीजो को सफलता पूर्वक रक्त परीक्षण करने की विधी का अपनी लैबोरेटरी मे अधिक विकास करने की दिशा मे कार्य किया जा रहा है /

In our research center, Blood serum test is being performed since few years with success. We have developed this technology at our center and is continuous being developed to its advance level.

With the help of these technologies, Ayurveda Diagnosis and Ayurveda treatment will be foolproof and exact and fruitful and without any deviations.

हम यह आशा करते है कि आयुर्वेद की इस नयी टेक्नोलाजी से आयुर्वेद के प्रति लोगो का वैग्यानिक दॄष्टिकोण समझ मे आयेगा /

In this book, introduction and technology is given to readers.
आधुनिक मशीन ”कलरीमीटर” द्वारा आयुर्वेद के लिये रक्त परीक्षण करने की विधि का विवरण इस पुस्तक मे दिया जा रहा ह / हम आशा करते है कि जिग्यासु पाठकों को इस नवीन आविश्कार के बारे मे जानकारी प्राप्त होगी /