Ayurveda research

LATEST VIDEOS OF THIS WEEK ; 13 SEPTEMBER 2018 ; AYURVEDA AND AYUSH THERAPIES INNOVATION AND DEVELOPMENT


SEE THE LATEST VIDEOS OF AYURVEDA AND AYUSH INNOVATIONS AND DEVELOPMENT OF THE THERAPIES AND ITS ADVANTAGES IN FULFILLMENT OF THE REQUIREMENTS IN HEALTH MAINTENANCE.

LISTEN VIDEOS COMPLETELY AND KNOW WHAT IS ADVANTAGEOUS IN AYURVEDA AND AYUSH SYSTEM OF MEDICINE.

Advertisements

RENAL STONE ; KIDNEY STONE ; URETER STONE ; URINARY BLADDER STONE ; HYDRONEPHROSIS ; AYURVEDA-AYUSH CURE


RENAL STONES AND KIDNEY STONES are well treated by the Ayurveda and Ayush therapies combined and integrated treatment.

Renal stones are formed by the substances remains after filtration process of Kidney and excessive molecules or tiny particles of calcium and urea and uric acid and sulfur and sulfates, phosphates and bile salts and others, when remains inside deposits in the wall of kidney calyces, slowly and gradually molecules or tiny particles makes a layer of calcigenated shape. Its size increases slowly and gradually and when pathophysiology or pathology extends up to the marks, it causes inflammation and then pain arises as a signal to human body that something is wrong happening inside the body. The formation of calcium and others deposits make a round shape article which is called CALCULUS.

The condition can be diagnosed by the X-ray or Ultrasound / Sonography or MRI or CT Scan with a clear picture. Hydronephrosis occurs when there is obstruction inside the ureter, caused by the calculus. This is due to pressure of urine accumulation inside Kidney, which is a natural process because this natural pressure helps to goes down CALCULUS to reach in Urinary Bladder.

This is a curable condition by Ayurveda and Homoeopathy and Unani Combination treatment. By the use of Integrated treatment, Calculus size reduces in two ways, either calculus breaks into small pices or its size melted slowly and gradually and size becomes smaller and smaller, which passes in ureter smoothly and without pain. When flow of urine becomes normal, hydronephrosis is gone safely.

AYURVEDA and HOMOEOPATHY and UNANI integrated and combination therapies treatment is fruitful to over rid this disorder.

By virtue of latest Ayurveda diagnosis systems “” ETG AyurvedaScan “”, it is now possible to find out the genesis of the any disease problem inside the body. The Ayurveda Blood examination and AYURVEDA Urine examination provides opportunity to analyse and synthesis blood chemistry anomalies inside the body. Concluding the problem and diagnosis, appropriate and suitable Ayurveda and Homoeopathy and Unani remedies along with the suggestions of changing food habits and life style assures to meet the cure to the sick person’s condition.

In our research center and outdoor hospital , many cases of ANKYLOSING SPONDYLITIS have been treated well by AYURVEDA and AYUSH integrated and combined treatment and the cure results almost in some cases 100 percent.

Contact Person ;
Dr A.B.Bajpai, mobile ; 8604629190
Kanak Polytherapy Clinic and research center,
67/70, Bhusatoli Road, Bartan Bazar,
KANPUR, U.P.,
Republic of India

http://www.ayurvedaintro.wordpress.com
http://www.slideshare.net/drdbbajpai
http://www.youtube.com/drdbbajpai
http://www.soundcloud.com/drdbbajpai
http://www.etgayurveda.com
google business; kanak-polytherapy-clinic.business.site

e-mail; drdbbajpai@gmail.com

 

ENLARGED PROSTATE ; AND RELATED PROBLEMS ; CURE BY AYURVEDA AND AYUSH TREATMENT; प्रोस्टेट यानी पौरुष ग्रन्थि का साइज या आकार बढ जाना ; आयुर्वेद और आयुष इलाज द्वारा बीमारी ठीक हो जाती है


ENLARGED PROSTATE is a condition of disease related to the Prostate. Prostate is an important organ of body where many sexual functions are controlled or supported or performed by this glands. There is many reasons, which are responsible to create the disorder. Prostatitis is a very common disorder, in which the urine passes with difficulty. Obstruction in urinary tract, burning during urination are primary sign of prostatic problem. Much enlarged size of prostate indicates “Cancer” syndromes.

The function of Prostate is the Gland secreting a thick whitish liquid that aids in the formation of sperm and contributes to the mobility of spermatozoa.

The diagnosis of the disorder can be done by the Ultrasound or CT Scan or MRI examination or Ayurveda Latest diagnosis system ETG AyurvedaScan. Manual examination by Surgeon is confirmatory. Prostate panel related Pathological Blood examination or Ayurveda Blood Test and Ayurveda Urine Test can help in diagnosis of the disorders intensity.

This is a curable condition in Ayurveda and Ayush therapies. A large number of remedies are available to meet the cure of this disorder.

प्रोस्टेट अथवा पौरुष ग्रन्थि की बीमारी केवल पुरुषो मे ही होती है / यह ग्रन्थि एक तरह का पतला सफेद चिपचिपा पदार्थ पैदा करती है जिससे मानव शुक्राणु को बनने मे मदद मिलती है / इस पदार्थ के होने से शुक्राणुओं की मोबाइलिटी मे मदद मिलती है / अगर प्रिस्टेट मे कोई बीमारी पैदा हो जाती है तो मान्व पुरुष को रिप्रोडक्टिव विकार पैदा हो जाते है /

प्रोस्टेट के आकार के बढ जाने का बहुत बेहतर इलाज आयुर्वेद और आयुष चिकित्सा मे मौजूद है / अगर इस बीमारी का इलाज आयुर्वेद की नई तकनीक के रिपोर्ट और आयुर्वेद के रक्त परीक्षण और आयुर्वेद के मूत्र परीक्षण के जान्च रिपोर्ट के आधार पर किया जाता है तो यह बीमारी अव्श्य ठीक होती है /

Listen in Hindi about the disease condition and treatment .

…………………………..

http://

PROSTATE PROBLEMS whatever they may be are curable by Ayurveda and Ayush Therapies. Treatment bases on the diagnosis done by ETG AyurvedaScan and Ayurveda Blood serum examination and Ayurveda Urine examination are very effective and condition is controlled within a little time.

OLYMPUS DIGITAL CAMERA

Dr D.B.Bajpai iexamining patient Blood & Urine sample at Pathology Unit, K.P.C.A.R.C. 

मान००१ 016

 

 

 

 

…………………………………..

Tribhuvan Kirti Ras ; an Ayurvedic classical remedy for Winter Season


Every year winter season comes and while its commencement, it brings many health problems with the persons almost every one of all ages. Those who are living in those areas, where almost all months of a year, winter or winter like atmosphere persists, they also feel problems from more cold.

In those countries, where atmosphere of winter is persists around the year, in this region the skin of the person becomes more harder than comparatively to person of the tropical region. The persons, who are living in a cold atmosphere, their skin quality is somehow changed comparatively to those who are living in tropical regions and where cold or winter persists only few days or few months.

Case studies with the help of ETG AyurvedaScan system reveals that traces recorded from European countries and Tropical regions patients are differs from elevation , which is due to hard and soft skin of the patient belongs to specific regions. Where cold season is very prominent the skin of the person are thick and deposition of fat layer in under skin persists.

Although the diagnosis of disorders are same, ayurvedic fundamentals evaluations are same and no differences seen in between the results except the hights and longitudinal appearence of traces, which is due to skin of the subjects undergone for the test.

However, this dose not matter. Here TRIBHUVAN KIRTI RAS is beneficial in the following ailing conditions;

1- Cures exposure of cold either from cold of winter or wetting in rain
2- Used in almost all kinds of FEVER of any origin, whatever they may be.
3- Lower down HIGH FEVER just like PARACETAMOL do in feverish conditions.
4- suppressed sweat comes out after use of this remedy
5-= Very fast acts in Just appeared fever
6- acts fast in Phlegm-cough-Fever conditions
7- Useful in Pneumonia and Pneumonia like syndromes
8- Influenza of any origin and anywhere
9- Useful in small pox and measles and like syndromes

Doses; One /two tablets should be taken four hourly with tea or warm water or Ginger Tulasi tea

Ayurveda have many remedies for winter ailing conditions, TRIBHUVAN KIRTI RAS is one of them. Those who desire they should use this safe remedy.

गर्मी से कफ दोष के पीड़ित रोगियों को कैसे राहत मिलती है ? ETG AyurvedaScan studies shows , how KAPHA dosha is cured by PITTA dosha, at the commencement of SUMMER SEASON


CONTACT ; Dr D.B.B.ajpai, Ayurvedic Diagnostician and Inventor & Chief ETG AyurvedaScan Investigator, KANPUR Mobile; 09336238994

CONTACT ; Dr D.B.B.ajpai, Ayurvedic Diagnostician and Inventor & Chief ETG AyurvedaScan Investigator, KANPUR Mobile; 09336238994

आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान बताता है कि किस सीजन में कौन सा दोष कुपित होता है अर्थात बढता है और यह बढे हुये दोष किस सीजन में कम हो जाते हैं /

जाड़ा अथवा ठन्डक के दिन “कफ” दोष को बढाते हैं , ऐसा आयुर्वेद का सिध्धान्त कहता है / कफ दोष चूकि जल और आकाश के योग से मिलकर बना है, इसलिये यह शरीर में ठन्ड अथवा शीत के कारण बढता है और शरीर में कुपित होता है / ठन्ड अथवा शीत का प्रभाव गर्मी से कम होता है अथवा गर्म पदार्थ अथवा गर्म मिजाज के खाद्य पदार्थों के खाने से ठन्डक का प्रभाव शरीर को बचाता है / इसीलिये ठन्डक वाले शीत प्रधान देशों में गर्म पदार्थ खाने का रिवाज है जैसे विभिन्न प्रकार के मान्स खाना या शराब पीना ताकि शरीर को ठन्डक से बचने के लिये जरूरी उष्मा मिलती रहे /

रहन सहन के स्तर पर शरीर को गर्म रखने के लिये रहने के स्थान को गर्म बनाये रखने का रिवाज है / इसी कारण ठन्ड पड़ने वाले मुल्कों मे लोगों के मकान शीत प्रतिरोधी होते हैं / भारत में जहां जहां शीत अधिक पड़ती है जैसे हिमान्चल प्रदेश अथवा उत्तरान्चल प्रदेश अथवा काश्मीर जैसे इलाकों में ठीक वही स्तिथि है जैसी कि ठन्ड पड़ने वाले देशों में है /

फिल हाल बात करते हैं कफ दोष की / लुब्बेलुआब यह है कि ठन्ड से कफ दोष बढता है तो उसकी काट करने के लिये गरंम पदार्थॊ का सेवन , गरम जगह रहने और सोने का इन्तजाम करना होता है जिससे “क्फ” दोष शान्त होकर स्वास्थय को नार्मल कर देता है / लेकिन जिनको बहुत अधिक कफ की तकलीफ हो जाती है जैसे बृध्धावस्था का कफ की बीमारी, तब गर्मी का सीजन आरोग्य प्राप्ति के दॄष्टिकोण से सबसे अच्छा होता है / जितनी ही अधिक गरमी पडेगी कफ सम्बन्धित विकार शान्त होते है / इसका कारण यह है कि ठन्ड से पित्त की गर्मी उतनी नहि हो पाती जितने मे वह शरीर को गर्म रख सके / गर्मी के सीजन में कम्जोर पित्त सबल हो जाता है और इसी कारण से कफ सम्बन्धी रोग दूर हो जाते है /

चूकि रन्जक पित्त दोष-भेद लीवर और तिल्ली को प्रभावित करता है ्तथा इसके साथ ही भ्राजक पित्त सम्पूर्ण शरीर को प्रभावित करता है इससे कफ दोष को शान्त करने मे मदद मिलती है /

ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के डाटा के अध्ध्यन से यह पता चला है कि जब भ्राजक पित्त सामान्य से अधिक हो जाता है और Nervous system में Parietal Brain का measurement कम होता है तो व्यक्ति को “Exposure of Cold” अधिक होता है और उसे Thermal Sensitivity का जिस intensity का mesurement डाटा प्राप्त होता है उसी हिसाब से उसको Cold अथवा Heat का exposure होता है /

मानसिक रोगी का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन का ट्रेस रिकार्ड ; Psychosomatic Disorders of a patient , studies of ETG AyurvedaScan Traces


लगभग ३०० किलोमीटर दूर से आये एक पुरूष रोगी का नीचे दिया गया ट्रेस रिकार्ड है, जो दिनान्क १८ अक्टूबर २०११ को अन्कित किया गया / मरीज ने अनुरोध किया कि उसे अपने घर वापस जाने के लिये कानपुर सेन्ट्रल स्टेशन से चार पान्च घन्टे बाद रेल गाड़ी मिलेगी , इसलिये वह चाहता है कि उसकी रिपोर्ट बनाकर दवा आदि की जैसी व्यवस्था हो सके , सीमित समय के अन्दर करके दे तो बहुत अच्छा होगा, ताकि वह वापसी की गाड़ी पकड़ कर अपने घर वापस जा सके /
मैने उसका अनुरोध मान लिया और कहा कि अर्जेन्ट रिपोर्ट बनवाने में उसे रूपये ४०० अतिरिक्त और अधिक लग जायेन्गे और लगभग तीन घन्टे के अन्दर रिपोर्ट मिल जायेगी /

मैने रोगी की यह बात सुनकर कहा कि पहले आप अपना तुरन्त ETG AyurvedaScan करायें और फिर बाद में जब रिपोर्ट बन जायेगी तब देखून्गा कि क्या क्या आपके शरीर के अन्दर बीमारियां निकली हैं / मैने इस रोगी का पहले ई०टी०जी० रिकार्ड किया फिर उसके बाद जितनी जल्दी हो सका step by step सारे procedure निपटा करके लगभग ३ घन्टे बाद उसकी रिपोर्ट बन पायी /

इस व्यक्ति के निम्न रोगों का निदान ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के अध्ध्यन के पश्चात निर्धारित हुआ/

१- रोगी को लेटने [on lying position] की स्तिथि में High Blood Pressure की tendency है जिसके कारण उसे रात में नीन्द न आने की तकलीफ है /
२- रोगी का रक्त का प्रवाह सिर की ओर अधिक है , ऐसा ट्रेस रिकार्ड ‘ई’ मे देखने में आया है / जब भी इस तरह की पाजिटिव ट्रेसेस होती है , यह मानसिक रोग यानी psychological disorders दर्शाती हैं /
३- ३- ‘ई’, ‘एफ’, ‘जी’ ट्रेसेस रिकार्ड देखने में पाजिटिव और निगेटिव डिफ्लेक्सन एक जैसे नेचर के हैं / ‘जी’ ट्रेस के ट्रेस अन्र्तराल को देखने से पता चलता है कि इस व्यक्ति को “डायबिटीज” की बीमारी है / लगभग २८० पीका की नाप से यह स्थापित हुआ कि, जिस समय इस व्यक्ति का ट्रेस रिकार्ड किया गया था, उस समय इस व्यक्ति के रक्त में रक्त शर्करा को इसी सीमा में उपास्तिथि होना चाहिये / इसी समय तुरन्त ही Glucometer से जान्च करने में पता चला कि व्यक्ति की रक्त शर्करा Blood sugar level 268 mg per dilution उपस्तिथि है /

४- इसे हाई ब्लड प्रेशर की तकलीफ है, ट्रेस ‘a’ को देखने से पता चला कि रोगी को ब्लड प्रेशर की बीमारी है /

इसे अन्य बीमारियां भी निकली, जो उसकी रिपोर्ट बनने के बाद बतायी गयी /

रोगी ने बाद मे सारी बात बतायी कि उसकी पत्नी पागल है और उसका पारिवारिक जीवन सुखी नहीं है / उसे खाना भी हॊटलों में जाकर खाना पड़ता है /

मैने उसे प्रेस्क्रिप्सन लिख कर आयुर्वेदिक दवाये खाने के लिये कहा और उससे कहा कि उसे शारीरिक बीमारी कम है और मानसिक अधिक / इसलिये मानसिक दबाव जितना ही कम से कम होगा , उसकी तकलीफ उतनी ही तेजी से ठीक होगी /

Similarly another one case of Psychosomatic disorders case came for the treatment on 18th October 2011. His ETG AyurvedaScan Trace rcords are  having  similar pattern as to earlier. Although he have some other PSYCHOLOGICAL PROBLEMS , which tends him sick, below is his trace records  to evaluate in view of AYURVEDIC TREATMENT.

ETG AyurvedaScan , which examines the whole body for purpose of AYURVEDIC TREATMENT and management , have major diagnostic value for physical ailments detection.

दान्तों तथा मसूढों और मुख के अन्दर के तमाम विकारों के लिये आयुर्वेद का दन्त मन्जन ; Ayurvedic Tooth Powder for Dental and Oral Problems


आयुर्वेद पूर्ण चिकित्सा विग्यान है / आदि काल से हमारे चिकित्सा पूर्वजों ने समाज को स्वस्थय बनाये रखने के लिये बहुत से नुस्खे लिपिबध्ध करके दिये है , जो आज भी उसी तरह से कारगर और प्रभावशाली है, जैसे उस समय थे /

दान्तों के रोगों के उपचार के लिये आयुर्वेद के शास्त्रीय ग्रन्थों में प्राय:
सभी आचार्यों ने जितना भी अनुभव और ग्यान प्राप्त किया था , उसका वर्णन बहुत सूच्छमता के साथ किया है /

चिकित्सा चन्द्रोदय़ चिकित्सा ग्रन्थ में दान्त के रोगों के लिये एक नुस्खा दिया गया गया है, जो दान्त की बहुत सी बीमारियों में बहुत प्रभाव शाली साबित हुआ है / यह बहुत सरल और सफल योग है /

योग मे निम्न काष्ठौशधियों का मिश्रण है /

मिश्रन; हरड़, बहेडा, आमला, सोन्ठ, काली मिर्च, छोटी पीपल, शोधित तुथ्थ, सेन्धा नमक, रूचक नमक, विड नमक, पतन्ग, माजूफल , ये सब द्रव्य बराबर बराबर मात्रा मे लेना चाहिये / इन सभी द्रव्यों को महीन कूट पीसकर पाउडर जैसा बना लेना चाहिये और बाद में मैदा छानने वाली चलनी से छान लेना चाहिये और किसी एयर टाइट डिब्बे में बन्द करके रख लेना चाहिए /

उपयोग के लिये किसी छोटे प्लास्टिक के डिब्बे या कान्च की शीशी में इस चूरन को रख लेना चाहिये /

एक ग्राम चुर्ण को लेकर दान्तों में मलना चाहिये / जो ब्रश से इस मन्जन को लेकर उपयोग करना चाहे वे ब्रश के साथ इसे दान्तों में मल सकते है / जिन्हें दान्तों मे दर्द हो, मसूढों मे दर्द हो, जिनके दान्त सेन्सिटिव हो गये हों, ठन्डा या गरम पानी लगता हो, या हवा या छूने से दर्द होता हो या दान्तों की अन्य कोई तकलीफ हो , उन सबमे यह दन्त मन्जन असर करक है /

मन्जन करते समय यदि इसमें एक बून्द “नीम का तेल” मिला लें और फिर मन्जन करें तो मुख रोग के लिये यह एक उत्कृष्ठ औषधि हो जाती है /

जिनके दान्त कमजोर हो गये हैं , मसूढॊ के विकर हों, पायरिया से पीडित हों , दान्त हिलने लगे हों और जड़ से कमजोर हो रहे हों, उनको यह मन्जन अवश्य उपयोग में लेना चाहिये /

नीम के तेल को इस मन्जन में मिला लेने से यह मन्जन दान्तों के सभी प्रकार के infection को दूर कर देता है, दान्तों में लगे हुये कीड़ों को यह नष्ट कर देता है /

इस मन्जन को ब्रश से न लगाकर यदि उन्गलियों से मन्जन करते है तो अधिक फायदा करता है और शीघ्र लाभकारी है /

सफेद दाग बढने और न ठीक होने का कारण ; जीवन शैली में बदलाव , प्रतिकूल खान-पान और कुछ Allopathic दवायें ; LEUCODERMA & Life-style and some Remedies


बहुत से आयुर्वेदिक वैद्य और आयुर्वेदिक चिकित्सक अक्सर पूछते रहते हैं कि सफ़ेद दाग Leucoderma के रोगियों का रोग अचानक ही बहुत तेजी से बढने लगता है , जबकि वे दवा दे रहे होते है और अच्छे से अच्छा इलाज कर रहे होते हैं , उनके रोगी ठीक भी हो रहे होते है फिर ऐसा क्यॊं होता है कि सफेद दाग ठीक होने के बजाय बढते चले जाते है? इस तरह की रोग-बढने से रोकने के सारे उपाय कम नहीं होते, जिससे मरीज और चिकित्सक दोनो के सामने बहुत विचित्र स्तिथि पैदा हो जाती है ?

यद्यपि यह स्तिथि मेरे सामने पिछले २० सालों से कभी नहीं आयी / मैने इस सवाल पर और ऐसी स्तिथि के लिये जिम्मेदार कारणो का पता करने का प्रयास किया है /

पहला कारण मेरी समझ में यह आया है कि लियूकोडर्मा के मरीज स्वस्थय वृत्त के नियमों का पालन नहीं करते है, जिससे उनको पाचन सन्स्थान से सम्बन्धित कार्य- विकृति बनी रहती है / ऐसे रोगी अपचन, एसीडिटी, Irritable Bowel syndromes, Inflammatroy condition of bowels, constipation, irregular bowels आदि आदि से ग्रसित होते हैं / Digestive system से सम्बन्धित यह तकलीफें दूषित खान पान से पैदा होती हैं / कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे है जो सफेद दाग बढाने में सबसे आगे है / जैसे चाऊमिन, सिरका या Vinegar या सिरका युक्त खाद्य पदार्थ, non-veg foods, अत्यधिक मसाला और चर्बी युक्त खाद्य पदार्थ जैसे चाट, समोसा आदि आदि / इन और इन जैसे खाद्य पदार्थ खाने से सफेद दाग बढते है / ऐसे खाद्य पदार्थ Digestive system के लिये बहुत सेन्सिटिव होते है और यह एक तरह से sudden painless allergical reaction like action पैदा करते है जिससे त्वचा की melenine अचानक घटकर सफेद दाग को और अधिक बढाने का काम करती है /

बहुत से रोगियों के रोग-इतिहास chronological case-history को देखने और समझने के बाद यह बात दृस्टिगत हुयी हैं कि जीवन शैली के कारण और दूषित खानपान के कारण सफ़ेत दाग अधिक तेजी से विकसित हुये और उनके रोकने के सभी प्रयास फ़ेल हो गये / किसी किसी रोगी ने बताया कि उनके सफ़ेद दाग हर मिनट में बढते चले गये / किसी ने बताया कि उनके सफ़ेद दाग एक दो दिन में ही इतने बढ गये जो उनकी उम्मीद से परे थे / ऐसा तभी होता है जब शरीर का सिस्टम बहुत सम्वेदन शील हो जाये और अक तरफा कार्य करने लगे /

कई रोगियों के रोग इतिहास को देखने के बाद यह बात भी पता चली कि एलोपैथिक चिकित्सा विग्यान की कुछ दवायें सेवन करने के बाद शरीर में कुछ ऐसे परिवर्तन हुये , जिनके कारण सफ़ेत दाग अधिक तेजी से विकसित हुये और दागो को बढने से रोकने के सभी प्रयास फ़ेल हो गये /

इसी कारण से रोगियों कॊ हिदायत दी जाती है कि उन्हे चाहे कैसे भी acute problem हों या sudden ailments हो जायें , वे एलोपैथी की कुछ दवायें न लें तो बेहतर होगा / देखा गया है कि एलोपैथी की दवा खाने के बाद सफेद दाग किसी किसी रोगी के बहुत बढ जाते हैं फिर किसी तरह से ठीक नहीं होते है या ठीक होने में बहुत ज्यादा समय लग जाता है / इसलिये यदि तकलीफ हो तो फिर आयुर्वेदिक दवायें लें या प्राकृतिक उपचार लेना चाहिये /

Leucoderma के इलाज में बहुत सावधानी बरतनी होती है, यह बहुत sensitive disease condition है, इसलिये पथ्य परहेज , जीवन शैली में बदलाव, खान पान में परहेज और दूसरी हिदायतो को यदि follow किया जाये तो आरोग्य शीघ्र प्राप्त होता है /

A FEMALE case of HYPER-THYROIDISM with other gyneacological disorders एक महिला रोगी की हाइपेर-थायरायड के साथ साथ अन्य गायनोकोलाजिकल बीमारी की समस्या



यह केस एक ३५ साल की महिला का है , जिसको Hyper Thyroidism की शिकायत कई साल से थी / मरीजा ने दिनान्क २६.०६.२०१० को परामर्श किया था /

महिला को निम्न शिकायते थी, जिनके लिये वह परामर्श के लिये आयी थी /

१- अनियमित मासिक धर्म
२- मासिक होने से १० दिन पहले से मानसिक तनाव , अत्यधिक गुस्सा, झगड़ालू प्रवृति
३- मासिक के समय अत्यधिक रक्त श्राव, जिसके कारण रोगिणी बहुत कमजोर हो जाती थी
४- रोगिणी के स्तनॊं में सूजन और गान्ठे पड़ जाती है
५- पेट में सूजन

रोगिणी एलोपैथी का बहुत इलाज करा चुकी थी, उसको एलोपैथी के इलाज से कोई आराम नही मिला / मैने उसको सलाह दी कि अगर वह आयुर्वेदिक इलाज कराना चाहिती है तो वह एक ई०टी० जी० आयुर्वेदस्कैन का परीक्षण करा ले तो उसके सारे शरीर की बीमारियों के बारे मे पता चल जायेगा / दूसरा ऐसा कोई सरल तरीका नहीं है, जिससे उसकी बीमारी के बारे मे पता लगाया जा सके /

रोगिणी ने अपना ई०टी०जी० परीक्षण कराया, जिसकी फाइन्डिन्ग्स निम्न प्रकार से थी /

[अ] त्रिदोष;

कफ १३७.५२
पित्त ६८.७६
वात ५८.१५

[ब] सप्त धातु ;

मान्स १०२.०३
मेद ८१.००

[स] शरीर मे व्याप्त तकलीफॊं का अन्कलन

Mammery Glands 134.00
Lumber spine 122.22
Urinary Bladder 112.50
Mental/emotional/intellect 110.00
Sinusitis 110.00
Thyroid Pathophysiology 106.67
Uterus anomalies 88.50
Pelvic inflammatory disease 88.50
Renal anomalies 80.00
Menstrual anomalies 46.67

[द] रोग निदान ;

Bowel’s pathophysiology
Cervical spondylitis with Lymphadenitis
Epigastritis
Hormonal anomaly
Inflammatory and irritable bowel syndromes
Large intestines anomalies
Lumber pain
Mammary glands anomalies
Nervous temperaments
Tachycardia

इस रोगुणी को बताया गया कि उसे उक्त बीमारियां है / यह देखकर वह घबरा गयी कि इतनी बीमारियां एक साथ हो गयीं है / मैने उसको बताया कि ई०टी०जी० सिस्टम चूंकि सारे शरीर का स्कैन करता है इसलिये जो भी बीमारी या कार्य विकृति होती वह यह सब बता देता है / आयुर्वेद में सम्पूर्ण शरीर की चिकित्सा करने का विधान है, इसलिये जो भी फाइन्डिन्ग्स है उन सबका इलाज एक साथ होगा और आपको सारी तकलीफॊं में एक साथ आराम मिलेगा /

यह सुनकर मरीजा आश्वस्त हो गयी और उसको निम्न चिकित्सा व्यवस्था दी गयी /

अ- कान्चनार गुग्गुल १ गोली ; गले की गान्ठ के लिये
रज: प्रवर्तिनी वटी १ गोली ; मासिक धर्म की अनियमितता के लिये
ब्राम्ही वटी १ गोली ; नरवस्नेस और धड़कन के लिये
पुष्य्यानुग चूर्ण २ ग्राम के साथ दिन में दो बार सादे पानी से

ब- दश्मूलारिष्ट १० मिलीलीटर
कुमारीआसव १० मिलीलीटर
भोजन करने के बाद दोनों समय

मरीजा को १२० दिन दवा सेवन करायी गयी / दवा सेवनोपरान्त वह पूर्ण स्वस्थय है और उसे मासिक सम्बन्धी कोई तकलीफ नहीं है / उसकी थायरायड भी अब सामान्य कार्य कर रही है /

विटामिन की गोलियां खाने से कोई फायदा नहीं


यह हम नहीं कह रहे है, यह कह रहे है ब्रिटॆन के चिकित्सा शोध कर्ता / प्रकाशित खबर को पढ ले , आपको जानकारी हो जायेगी /

हम पहले भी कई बार कह चुके है कि विटामिन के अधिक उपयोग से शरीर मे “हाइपर विटमिनोसिस” की स्तिथि पैदा हो जाती है, जिसके परिणाम स्वरूप बहुत सी ऐसी बॊमारियां हो जाती है, जो बाद में असाध्य रोगॊ की श्रेणी में शुमार होने लगता है /