Ayurvedic Whole Body scan

Tribhuvan Kirti Ras ; an Ayurvedic classical remedy for Winter Season


Every year winter season comes and while its commencement, it brings many health problems with the persons almost every one of all ages. Those who are living in those areas, where almost all months of a year, winter or winter like atmosphere persists, they also feel problems from more cold.

In those countries, where atmosphere of winter is persists around the year, in this region the skin of the person becomes more harder than comparatively to person of the tropical region. The persons, who are living in a cold atmosphere, their skin quality is somehow changed comparatively to those who are living in tropical regions and where cold or winter persists only few days or few months.

Case studies with the help of ETG AyurvedaScan system reveals that traces recorded from European countries and Tropical regions patients are differs from elevation , which is due to hard and soft skin of the patient belongs to specific regions. Where cold season is very prominent the skin of the person are thick and deposition of fat layer in under skin persists.

Although the diagnosis of disorders are same, ayurvedic fundamentals evaluations are same and no differences seen in between the results except the hights and longitudinal appearence of traces, which is due to skin of the subjects undergone for the test.

However, this dose not matter. Here TRIBHUVAN KIRTI RAS is beneficial in the following ailing conditions;

1- Cures exposure of cold either from cold of winter or wetting in rain
2- Used in almost all kinds of FEVER of any origin, whatever they may be.
3- Lower down HIGH FEVER just like PARACETAMOL do in feverish conditions.
4- suppressed sweat comes out after use of this remedy
5-= Very fast acts in Just appeared fever
6- acts fast in Phlegm-cough-Fever conditions
7- Useful in Pneumonia and Pneumonia like syndromes
8- Influenza of any origin and anywhere
9- Useful in small pox and measles and like syndromes

Doses; One /two tablets should be taken four hourly with tea or warm water or Ginger Tulasi tea

Ayurveda have many remedies for winter ailing conditions, TRIBHUVAN KIRTI RAS is one of them. Those who desire they should use this safe remedy.

Advertisements

मानसिक रोगी का ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन का ट्रेस रिकार्ड ; Psychosomatic Disorders of a patient , studies of ETG AyurvedaScan Traces


लगभग ३०० किलोमीटर दूर से आये एक पुरूष रोगी का नीचे दिया गया ट्रेस रिकार्ड है, जो दिनान्क १८ अक्टूबर २०११ को अन्कित किया गया / मरीज ने अनुरोध किया कि उसे अपने घर वापस जाने के लिये कानपुर सेन्ट्रल स्टेशन से चार पान्च घन्टे बाद रेल गाड़ी मिलेगी , इसलिये वह चाहता है कि उसकी रिपोर्ट बनाकर दवा आदि की जैसी व्यवस्था हो सके , सीमित समय के अन्दर करके दे तो बहुत अच्छा होगा, ताकि वह वापसी की गाड़ी पकड़ कर अपने घर वापस जा सके /
मैने उसका अनुरोध मान लिया और कहा कि अर्जेन्ट रिपोर्ट बनवाने में उसे रूपये ४०० अतिरिक्त और अधिक लग जायेन्गे और लगभग तीन घन्टे के अन्दर रिपोर्ट मिल जायेगी /

मैने रोगी की यह बात सुनकर कहा कि पहले आप अपना तुरन्त ETG AyurvedaScan करायें और फिर बाद में जब रिपोर्ट बन जायेगी तब देखून्गा कि क्या क्या आपके शरीर के अन्दर बीमारियां निकली हैं / मैने इस रोगी का पहले ई०टी०जी० रिकार्ड किया फिर उसके बाद जितनी जल्दी हो सका step by step सारे procedure निपटा करके लगभग ३ घन्टे बाद उसकी रिपोर्ट बन पायी /

इस व्यक्ति के निम्न रोगों का निदान ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के अध्ध्यन के पश्चात निर्धारित हुआ/

१- रोगी को लेटने [on lying position] की स्तिथि में High Blood Pressure की tendency है जिसके कारण उसे रात में नीन्द न आने की तकलीफ है /
२- रोगी का रक्त का प्रवाह सिर की ओर अधिक है , ऐसा ट्रेस रिकार्ड ‘ई’ मे देखने में आया है / जब भी इस तरह की पाजिटिव ट्रेसेस होती है , यह मानसिक रोग यानी psychological disorders दर्शाती हैं /
३- ३- ‘ई’, ‘एफ’, ‘जी’ ट्रेसेस रिकार्ड देखने में पाजिटिव और निगेटिव डिफ्लेक्सन एक जैसे नेचर के हैं / ‘जी’ ट्रेस के ट्रेस अन्र्तराल को देखने से पता चलता है कि इस व्यक्ति को “डायबिटीज” की बीमारी है / लगभग २८० पीका की नाप से यह स्थापित हुआ कि, जिस समय इस व्यक्ति का ट्रेस रिकार्ड किया गया था, उस समय इस व्यक्ति के रक्त में रक्त शर्करा को इसी सीमा में उपास्तिथि होना चाहिये / इसी समय तुरन्त ही Glucometer से जान्च करने में पता चला कि व्यक्ति की रक्त शर्करा Blood sugar level 268 mg per dilution उपस्तिथि है /

४- इसे हाई ब्लड प्रेशर की तकलीफ है, ट्रेस ‘a’ को देखने से पता चला कि रोगी को ब्लड प्रेशर की बीमारी है /

इसे अन्य बीमारियां भी निकली, जो उसकी रिपोर्ट बनने के बाद बतायी गयी /

रोगी ने बाद मे सारी बात बतायी कि उसकी पत्नी पागल है और उसका पारिवारिक जीवन सुखी नहीं है / उसे खाना भी हॊटलों में जाकर खाना पड़ता है /

मैने उसे प्रेस्क्रिप्सन लिख कर आयुर्वेदिक दवाये खाने के लिये कहा और उससे कहा कि उसे शारीरिक बीमारी कम है और मानसिक अधिक / इसलिये मानसिक दबाव जितना ही कम से कम होगा , उसकी तकलीफ उतनी ही तेजी से ठीक होगी /

Similarly another one case of Psychosomatic disorders case came for the treatment on 18th October 2011. His ETG AyurvedaScan Trace rcords are  having  similar pattern as to earlier. Although he have some other PSYCHOLOGICAL PROBLEMS , which tends him sick, below is his trace records  to evaluate in view of AYURVEDIC TREATMENT.

ETG AyurvedaScan , which examines the whole body for purpose of AYURVEDIC TREATMENT and management , have major diagnostic value for physical ailments detection.

दान्तों तथा मसूढों और मुख के अन्दर के तमाम विकारों के लिये आयुर्वेद का दन्त मन्जन ; Ayurvedic Tooth Powder for Dental and Oral Problems


आयुर्वेद पूर्ण चिकित्सा विग्यान है / आदि काल से हमारे चिकित्सा पूर्वजों ने समाज को स्वस्थय बनाये रखने के लिये बहुत से नुस्खे लिपिबध्ध करके दिये है , जो आज भी उसी तरह से कारगर और प्रभावशाली है, जैसे उस समय थे /

दान्तों के रोगों के उपचार के लिये आयुर्वेद के शास्त्रीय ग्रन्थों में प्राय:
सभी आचार्यों ने जितना भी अनुभव और ग्यान प्राप्त किया था , उसका वर्णन बहुत सूच्छमता के साथ किया है /

चिकित्सा चन्द्रोदय़ चिकित्सा ग्रन्थ में दान्त के रोगों के लिये एक नुस्खा दिया गया गया है, जो दान्त की बहुत सी बीमारियों में बहुत प्रभाव शाली साबित हुआ है / यह बहुत सरल और सफल योग है /

योग मे निम्न काष्ठौशधियों का मिश्रण है /

मिश्रन; हरड़, बहेडा, आमला, सोन्ठ, काली मिर्च, छोटी पीपल, शोधित तुथ्थ, सेन्धा नमक, रूचक नमक, विड नमक, पतन्ग, माजूफल , ये सब द्रव्य बराबर बराबर मात्रा मे लेना चाहिये / इन सभी द्रव्यों को महीन कूट पीसकर पाउडर जैसा बना लेना चाहिये और बाद में मैदा छानने वाली चलनी से छान लेना चाहिये और किसी एयर टाइट डिब्बे में बन्द करके रख लेना चाहिए /

उपयोग के लिये किसी छोटे प्लास्टिक के डिब्बे या कान्च की शीशी में इस चूरन को रख लेना चाहिये /

एक ग्राम चुर्ण को लेकर दान्तों में मलना चाहिये / जो ब्रश से इस मन्जन को लेकर उपयोग करना चाहे वे ब्रश के साथ इसे दान्तों में मल सकते है / जिन्हें दान्तों मे दर्द हो, मसूढों मे दर्द हो, जिनके दान्त सेन्सिटिव हो गये हों, ठन्डा या गरम पानी लगता हो, या हवा या छूने से दर्द होता हो या दान्तों की अन्य कोई तकलीफ हो , उन सबमे यह दन्त मन्जन असर करक है /

मन्जन करते समय यदि इसमें एक बून्द “नीम का तेल” मिला लें और फिर मन्जन करें तो मुख रोग के लिये यह एक उत्कृष्ठ औषधि हो जाती है /

जिनके दान्त कमजोर हो गये हैं , मसूढॊ के विकर हों, पायरिया से पीडित हों , दान्त हिलने लगे हों और जड़ से कमजोर हो रहे हों, उनको यह मन्जन अवश्य उपयोग में लेना चाहिये /

नीम के तेल को इस मन्जन में मिला लेने से यह मन्जन दान्तों के सभी प्रकार के infection को दूर कर देता है, दान्तों में लगे हुये कीड़ों को यह नष्ट कर देता है /

इस मन्जन को ब्रश से न लगाकर यदि उन्गलियों से मन्जन करते है तो अधिक फायदा करता है और शीघ्र लाभकारी है /

A FEMALE case of HYPER-THYROIDISM with other gyneacological disorders एक महिला रोगी की हाइपेर-थायरायड के साथ साथ अन्य गायनोकोलाजिकल बीमारी की समस्या



यह केस एक ३५ साल की महिला का है , जिसको Hyper Thyroidism की शिकायत कई साल से थी / मरीजा ने दिनान्क २६.०६.२०१० को परामर्श किया था /

महिला को निम्न शिकायते थी, जिनके लिये वह परामर्श के लिये आयी थी /

१- अनियमित मासिक धर्म
२- मासिक होने से १० दिन पहले से मानसिक तनाव , अत्यधिक गुस्सा, झगड़ालू प्रवृति
३- मासिक के समय अत्यधिक रक्त श्राव, जिसके कारण रोगिणी बहुत कमजोर हो जाती थी
४- रोगिणी के स्तनॊं में सूजन और गान्ठे पड़ जाती है
५- पेट में सूजन

रोगिणी एलोपैथी का बहुत इलाज करा चुकी थी, उसको एलोपैथी के इलाज से कोई आराम नही मिला / मैने उसको सलाह दी कि अगर वह आयुर्वेदिक इलाज कराना चाहिती है तो वह एक ई०टी० जी० आयुर्वेदस्कैन का परीक्षण करा ले तो उसके सारे शरीर की बीमारियों के बारे मे पता चल जायेगा / दूसरा ऐसा कोई सरल तरीका नहीं है, जिससे उसकी बीमारी के बारे मे पता लगाया जा सके /

रोगिणी ने अपना ई०टी०जी० परीक्षण कराया, जिसकी फाइन्डिन्ग्स निम्न प्रकार से थी /

[अ] त्रिदोष;

कफ १३७.५२
पित्त ६८.७६
वात ५८.१५

[ब] सप्त धातु ;

मान्स १०२.०३
मेद ८१.००

[स] शरीर मे व्याप्त तकलीफॊं का अन्कलन

Mammery Glands 134.00
Lumber spine 122.22
Urinary Bladder 112.50
Mental/emotional/intellect 110.00
Sinusitis 110.00
Thyroid Pathophysiology 106.67
Uterus anomalies 88.50
Pelvic inflammatory disease 88.50
Renal anomalies 80.00
Menstrual anomalies 46.67

[द] रोग निदान ;

Bowel’s pathophysiology
Cervical spondylitis with Lymphadenitis
Epigastritis
Hormonal anomaly
Inflammatory and irritable bowel syndromes
Large intestines anomalies
Lumber pain
Mammary glands anomalies
Nervous temperaments
Tachycardia

इस रोगुणी को बताया गया कि उसे उक्त बीमारियां है / यह देखकर वह घबरा गयी कि इतनी बीमारियां एक साथ हो गयीं है / मैने उसको बताया कि ई०टी०जी० सिस्टम चूंकि सारे शरीर का स्कैन करता है इसलिये जो भी बीमारी या कार्य विकृति होती वह यह सब बता देता है / आयुर्वेद में सम्पूर्ण शरीर की चिकित्सा करने का विधान है, इसलिये जो भी फाइन्डिन्ग्स है उन सबका इलाज एक साथ होगा और आपको सारी तकलीफॊं में एक साथ आराम मिलेगा /

यह सुनकर मरीजा आश्वस्त हो गयी और उसको निम्न चिकित्सा व्यवस्था दी गयी /

अ- कान्चनार गुग्गुल १ गोली ; गले की गान्ठ के लिये
रज: प्रवर्तिनी वटी १ गोली ; मासिक धर्म की अनियमितता के लिये
ब्राम्ही वटी १ गोली ; नरवस्नेस और धड़कन के लिये
पुष्य्यानुग चूर्ण २ ग्राम के साथ दिन में दो बार सादे पानी से

ब- दश्मूलारिष्ट १० मिलीलीटर
कुमारीआसव १० मिलीलीटर
भोजन करने के बाद दोनों समय

मरीजा को १२० दिन दवा सेवन करायी गयी / दवा सेवनोपरान्त वह पूर्ण स्वस्थय है और उसे मासिक सम्बन्धी कोई तकलीफ नहीं है / उसकी थायरायड भी अब सामान्य कार्य कर रही है /

विटामिन की गोलियां खाने से कोई फायदा नहीं


यह हम नहीं कह रहे है, यह कह रहे है ब्रिटॆन के चिकित्सा शोध कर्ता / प्रकाशित खबर को पढ ले , आपको जानकारी हो जायेगी /

हम पहले भी कई बार कह चुके है कि विटामिन के अधिक उपयोग से शरीर मे “हाइपर विटमिनोसिस” की स्तिथि पैदा हो जाती है, जिसके परिणाम स्वरूप बहुत सी ऐसी बॊमारियां हो जाती है, जो बाद में असाध्य रोगॊ की श्रेणी में शुमार होने लगता है /

External Application on LEUCODERMA WHITE PATCHES triggers more violent effects and boosts metastasis of WHITE PATCHES in other parts of body


External Application on LEUCODERMA WHITE PATCHES triggers more violent effects and boosts metastasis of WHITE PATCHES in other parts of body

Our observational study shows that external applications like anti-vitiligo creams and oils for use in the treatment of the LEUCODERMA / VITILIGO, which are instructed by phyrician to apply on the white patches, causes suppressive effects and as a result, the metastasis of the hypomelinosis migrates to the other parts of the body, where the expression of the white patches becomes more prominent and strong.

Many cases treated by the other physician, using external application, patient history reveals the fact that external application causes suppression and more white patches grown in other parts within few hours to few days time rapidly.

After invention of ELECTRO TRIDOSHA GRAPHY ; ETG AyurvedaScan technology, treatment of the bodily disorders are totlly dependent on the findings of the ETG report. The development of the idea of the treatment bases on the ETG findings was successful, when AYURVEDIC MEDICINES were selected on the ground of the measured intesnsity of the Organs / parts of the body including AYURVEDIC FUNDAMENTALS.

In many LEUCODERMA cases, we have not used any external application of any kind and the treatment procedure was lend on the report and findings of the ELECTRO TRIDOSHA GRAPHY ; ETG AyurvedaScan totally. The Internal medicine were given according to the obtained pathophysiological measured intensity of the VISCERAS and other parts. These medicines were AYURVEDIC classical preparation over all.

Our study concludes that when internal organs beomes slowly and gradually normal in their own physiological activities, the pathophysiology of the organs normalizes, and as a result , pigmentation channel becomes free from any inhibition and hurdles and thus abnormal function of the skin becomes normal. This way again melenin pigments the skin with the normal functioning.

In my opinion, while treating LEUCODERMA, no external application should be used, either in any form of Oil or in cream.

LEUCODERMA CURE of a Medical Student [Allopathy] ; ETG AyurvedaScan report based AYURVEDIC Treatment relieved her other complaints including VITILIGO


 
================================================
An Allopathy Medical student consulted me for her LEUCODERMA problem on 6th February 2011. I recorded her ETG AyurvedaScan and the treatment was given her on the basis of the findings of the ETG report. The same day a Photo of the one part of the VITILIGO was taken by me for record purposes. The following PHOTO shows the anomaly.

She was having white patches on both the Lower Extremeties and some smaller ones on her back , Torso and her genital parts etc etc

See, observe and compare the PHOTOS taken after a few months period.

This Photo was taken on 6th February 2011 on her first visite to clinic. This is the Right Lower Extremity -  Right Leg white patches

This Photo was taken on 6th February 2011 on her first visite to clinic. This is the Right Lower Extremity - Right Leg white patches

COMPARE PHOTO RIGHT LEG White PATCHES from below PHOTO;

This Photo was taken on  29th May 2011 on her follow-up visite to clinic. This is the  RIGHT  Lower Extremity -  Leg white patches, see the changes in color of white patches

This Photo was taken on 29th May 2011 on her follow-up visite to clinic. This is the RIGHT Lower Extremity - Leg white patches, see the changes in color of white patches

 LEFT LEG Comparison ;

This Photo was taken on 6th February 2011 on her first visite to clinic. This is the  Left  Lower Extremity -  LEFT Leg white patches

This Photo was taken on 6th February 2011 on her first visite to clinic. This is the Left Lower Extremity - LEFT Leg white patches

This Photo was taken on 29th MAY 2011 on her follow-up visite to clinic. This is the  LEFT  Lower Extremity -  Leg white patches, see and compare the changes in colour of white patches

This Photo was taken on 29th MAY 2011 on her follow-up visite to clinic. This is the LEFT Lower Extremity - Leg white patches, see and compare the changes in colour of white patches

 
CONCLUSION; Leucoderma and all disease conditions can be well treated with expertise way, if the AYURVEDIC Treatment is taken after ETG AyurvedaScan findings. Cure can be asured af all the bodily ailments, whatever they may be lebelled or nomenclature.
 
===========================================
 
 
============================================== 

ETG AyurvedaScan recorded traces of a case of CARDIAC SURGERY including grafting of arteries ; Impacts on body due to changes of Electrical behaviour


This is a case of Open Heart CARDIAC SURGERY including grafting of arteries, done eight years back.

The patient originally belongs to Ahamadabad , Gujarat and he came to his relative  at Kanpur during HOLI vacation, , where he heared about the newly invented Ayurveda technology ETG AyurvedScan by his relations.

When I recorded his ETG traces, it was an amazing  and wonderful experience to me at academic level in view of research , which  is unusual, rare and very peculiar.

OBSERVATION of the recorded traces;

1- See minutely the recorded traces and observe the ELECTRICAL BEHAVIOUR  of the patient, which is very peculiar

2- The ELECTRICAL BEHAVIOUR  is not met with the parameters of general recorded traces and in view of NORMAL ELECTRICAL BEHAVIOUR  of human body. 

3- In this case, we have observed that in every second and in every heart beat in “e” recorded trace, the waves “c” “d” “e” “s” are at one time in ‘upward’ [positive] direction and at the immediate next movement in  ‘downward’ [negative] defelection shows.

 4- The same lead shows absence of “c” wave in upward trace and “e” wave in down trace.

 5- The electrical behaviour of this patient is in ‘clock like direction’ that means the flow of body current is from right to left in circular nature. 

6- Due to frequentaly and second to second, electrical behaviour changes in body , patient have sudden HIGH and sudden LOW Blood pressure, which causes him uneasiness and uncomfort in his daily work. He is not able to sleep well in night and move in nightoff and on, when all members of his family sleeps.

 Many more anomalies have developed with the patient, which was not to patient earlier.

Below is the followup ETG AyurvedaScan , recorded on 20 / 08 /2011. See and observe the changes in Electrical Behaviour of the patient.

 Obsrvation with the comparision of the earlier recorded trace shows tremendous changes in the traces recorded afterwards.

First Follow-up ETG AyurvedaScan , recorded on 20 / 08 /2011. See and observe the changes in Electrical Behaviour of the patient.

First Follow-up ETG AyurvedaScan , recorded on 20 / 08 /2011. See and observe the changes in Electrical Behaviour of the patient.

 Obsrvation with the comparision of the earlier recorded trace shows tremendous changes in the traces recorded afterwards.

On 20 March 2011, when patient first visited in clinic , he gave the following complaints, which developed  after cardiac surgery . 

  1. 1.     Fever always persisted in between 99 F to 100 F degree.  After five months Ayurvedic treatment , fever is cured. No problem again reappeared.
  2. 2.     Rapid respiration , severe Dyspnea on least movement, even moving body and changing postures. After five months Ayurvedic treatment , resoiratory problem is cured. No problem again reappeared.
  3. 3.     Lumber pain since 7 years, now cured
  4. 4.     Gaining weight after cardiac surgery , which was 90 kgs on 20/08/2011. Now after five month the weight is 83 kgs.
  5. 5.     Swelling in whole body, now he have no swelling in his body
  6. 6.     Severe constipation and goes for stool after two / three days, now he is going daily stool. No constipation.
  7. 7.     Infection in blood was present before five months, now presently have no infection

 On 20th August 2011, patient followup was recorded. Patient belongs to Ahamadabad , Gujarat. He was happy with his progress of his problem aroused after grafting of artery in his heart.

 Conclusion; In conclusion, it shows that ETG AyurvedaScan system is beneficial on those disease conditions , where it is supposed no treatment. The patient is again given a fresh prescription on the new findings of the ETG report.

“आयुर्वेद का इलाज कितने दिन तक करना चाहिये या किया जाये”,यह सवाल हर मरीज पूछता है What is duration of Ayurvedic Treatment ?


आज से लगभग चालिस पचास साल पहले तक लोग यह सब जानते थे कि आयुर्वेद का इलाज कितने दिन तक किया जाये, क्योंकि उस समय तक चिकित्सा के लिये केवल यही एक्मात्र चिकित्सा विग्यान था , जिसका लगभग सभी भारतीय परिवार उपयोग करते थे / होम्योपैथी अधिक उन्नत अवस्था में नहीं थी और इसे केवल बच्चों के इलाज तक ही सीमित था / यह इसलिये कि बच्चे एलोपैथी या आयुर्वेद की कड़वी दवा खाना पसन्द नहीं करते थे / मजबूरन बच्चों के इलाज के लिये होम्योपैथी की दवाओं का उपयोग करना पड़्ता था /

पुराने समय मे लोग आयुर्वेद के महत्व को समझते थे / इसलिये उनको जानकारी थी कि बीमारी के इलाज में कितना समय लगेगा , बड़े बूढे भी अपने अनुभव से बता देते थे और बता देते थे कि ” हर मर्ज के ठीक होने की एक मियाद होती है” या ” ये तो असाध्य या कष्ट साध्य या याप्य रोग है” या ” यह तो जिन्दगी भर चलने वाला रोग है और अब तो दवाओं के सहारे ही जीवन बिताना पड़ेगा” /

आज के जमाने में यह बताने वाला कोई है ही नहीं, न समझाने वाला कोई है, वजह साफ है , इन सब बातों के बारे मे ग्यान रखने वालों का एक दम अभाव / नतीजा अब यह है कि लोगो को पता ही नहीं कि जब वे बीमार हों तो उनको क्या करना चाहिये ?

मेरे यहां आने वाले मरीज मुझसे पूछते है कि वे कितने दिन आयुर्वेदिक दवा खायें , जिनसे उनकी बीमारी का ठीक ठीक इलाज हो सके / सवाल हर मरीज पूछता है और उसका सवाल पूछना भी जायज है /

आयुर्वेद का इस सम्बन्ध में क्या कहना है, उसे मै सार भाग में और अपने अनुभव को जोड़ कर आप सबके साथ अपने अनुभव को जोड़ने की कोशिश कर रहा हूं /

आयुर्वेद में ऐसा निर्देशित किया गया है कि किसी भी बीमारी का इलाज उसके पैदा होने, देश, काल और वातावरण तथा अन्य अनुकूल या प्रतिकूल परिस्तिथियों के ऊपर निर्भर करता है / इसलिये किसी भी बीमारी का इलाज कुछ घन्टे से लेकर एक दिन या कुछ दिन तक की मियाद मे हो सकता है और कुछ अन्य बीमारियां कुछ दिन से लेकर कई महीने या कई कई साल तक हो सकती है या फिर जीवन पर्यन्त तक /

मैने मानव शरीर में होने वाली बीमारियों का वर्गीकरण निम्न सात कैटेगरी में किया है / मेरे हिसाब से सारी दुनिया के लोग इन्ही सात कारणो से बीमार होते है / ये कारण है ;

१- भौतिक यानी Physical
२- मानसिक यानी Mental
३- इन्फेक्सियस यानी Infections
४- जेनेटिक यानी Genetics
५- ट्राउमैटिक यानी Traumatic
६- ईयट्रोगेनिक यानी Iatrogenic
७- अन्य कारण Others

उपरोक्त श्रेणी को देखने के बाद इस बात का अन्दाजा लगाया जा सकता है कि बीमारियों का निदान किस श्रेणी के अन्तरगत आता है / फिर इसमें यह तलाश करनी होगी कि जो भी बीमारिया है वे [a] Acute है या [b] Semi acute है या [c] Chronic है या [d] Long lasting Disease condition है /

कितने समय तक आयुर्वेद का इलाज कराना चाहिये, यह इस बात पर निर्भर करता है कि तकलीफ कैसी है /

१- अगर तकलीफ acute है तो यह कुछ घन्टे में ही दवाओं से response कर जाती है जैसे पेट का दर्द, सिर का दर्द, दान्त का दर्द, वमन होना, हिचकी आना, पेट में ऐठन होना आदि / लेकिन यहां इन सबमे एक फर्क है / अगर दर्द कैन्सर का है, अगर सिर दर्द स्पान्दिलाइटिस या माइग्रेन का है, अगर दान्त का दर्द सड़े  हुये दान्त का है तो फिर मूल रोग की चिकित्सा ही करना एक मात्र उपाय है, / अब इसमे कितना समय लगेगा यह बताना बहुत मुश्किल होता है /

२- अन्य सभी बीमारियों मे आयुर्वेद का निर्देश है कि कम से कम ३० दिन तक दवा करना चाहिये / अगर ३० दिन में लाभ न मिले तो ४० दिन या ६० दिन या ९० दिन या १२० दिन या १८० दिन तक इलाज कराना चाहिये /

३- कुछ बीमारियों ऐसी होती हैं जिनमे समय सीमा सही सही निर्धारित नहीं की जा सकती / इसलिये इनमे देश , काल, परिस्तिथि के अनुसार दवाओं तथा परहेज का निर्धारण किया जाता है, जिसे वैद्य / आयुर्वेदिक चिकित्सक के बिना करना सम्भव नहीं होता है / इस श्रेणी में कष्ट साध्य, अति कष्ट साध्य रोग और असाध्य रोग आते है /

४- सुख साध्य रोग के लिये ऊपर बताई गयी [कालम सन्ख्या -२ ] समय सीमा ठीक और सही अन्कित की गयी है / 

कुछ हद तक Homoeopathic चिकित्सा में भी यही समय सीमा तथा बतायी गयी परिस्तिथियां लागू होती है,  ऐसा मैने अनुभव किया है /

Ayurveda Eight fold’s among is RASAYANA ; an overview of this THERAPY


AYURVEDA is divided in eight folds to understand and cover over all in view of every corner coverage of the treatment. The olden practitioners never left any corner that could be said uncover the treatment of diseases. These eight folds are ;

1- Shalya that means Surgery. The Surgical procedures are narrated in classical books of Ayurveda
2- Salaakya that means Treatment including surgical procedures of ENT Ophthalmology etc.
3- Kaumar Bhritya that means Midwifery, Gynecology and pediatric
4- Kaay chikitsa that means General and specific practice of medicine
5- Agad tantra that means Toxicological treatment including environment, infections etc
6- Bhut vidya that means Psychiatry and mental health
7- Rasayan that means treatment of pathological disorders originated disease conditions, Geriatric, maintenance of health conditions etc etc
8- Bajikaran that means maintenance of health physically and mentally to achieve the goal of Long life

Here RASAYANA part is taken for discussion. The fact is that Rasayan is closely related to one of the fundamental basics of Ayurveda medical system SAPTA DHATU.. Sapta dhatus are seven in numbers and are recognized below;

1- RAS
2- RAKTA
3- MANS
4- MED
5- ASTHI
6- MAJJA
7- SHUKRA

The above mentioned titles are closely related with the PATHOLOGY of the Modern Western Medicine. It seems to us that our ancestors had recognized and perceived the disease phenomenon right from the beginning to the end. That’s why it looks they had categorized the pathology in seven section as they had conceived.

RAS dhatu is actually closely related to METABOLIC DISORDERS. RASAYANA word is divided in two words RAS + AYAN. If we see Charak samhita and read the RASAYANA chapter, we observe that this chapter covers the over all seven segments of SAPTA DHATU. The mentioned medications and formulae are covering the RAS and other anomalies of AYURVEDIC PATHOLOGY.

Ancestor Practitioner of Ayurveda observed that whatever we eat that is digested and assimilated and thus makes BLOOD, again this blood nourishes FLESH and FAT and BONES and BONE MARROW and lastly the vital part SEMEN, which provides body building and stamina. The systematic evaluation like this, can be treated easily by RASAYANA medicine, mentioned in the classical books of AYURVEDA.

We have evaluated the above mentioned statements in the light of Electro Tridosha Graphy ; ETG AyurvedaScan system’s findings and we have perceived that certain medicine work satisfactorily. We are working on this line and we are getting good results. Further research work is still in progress.