ETG machine

दान्तों तथा मसूढों और मुख के अन्दर के तमाम विकारों के लिये आयुर्वेद का दन्त मन्जन ; Ayurvedic Tooth Powder for Dental and Oral Problems


आयुर्वेद पूर्ण चिकित्सा विग्यान है / आदि काल से हमारे चिकित्सा पूर्वजों ने समाज को स्वस्थय बनाये रखने के लिये बहुत से नुस्खे लिपिबध्ध करके दिये है , जो आज भी उसी तरह से कारगर और प्रभावशाली है, जैसे उस समय थे /

दान्तों के रोगों के उपचार के लिये आयुर्वेद के शास्त्रीय ग्रन्थों में प्राय:
सभी आचार्यों ने जितना भी अनुभव और ग्यान प्राप्त किया था , उसका वर्णन बहुत सूच्छमता के साथ किया है /

चिकित्सा चन्द्रोदय़ चिकित्सा ग्रन्थ में दान्त के रोगों के लिये एक नुस्खा दिया गया गया है, जो दान्त की बहुत सी बीमारियों में बहुत प्रभाव शाली साबित हुआ है / यह बहुत सरल और सफल योग है /

योग मे निम्न काष्ठौशधियों का मिश्रण है /

मिश्रन; हरड़, बहेडा, आमला, सोन्ठ, काली मिर्च, छोटी पीपल, शोधित तुथ्थ, सेन्धा नमक, रूचक नमक, विड नमक, पतन्ग, माजूफल , ये सब द्रव्य बराबर बराबर मात्रा मे लेना चाहिये / इन सभी द्रव्यों को महीन कूट पीसकर पाउडर जैसा बना लेना चाहिये और बाद में मैदा छानने वाली चलनी से छान लेना चाहिये और किसी एयर टाइट डिब्बे में बन्द करके रख लेना चाहिए /

उपयोग के लिये किसी छोटे प्लास्टिक के डिब्बे या कान्च की शीशी में इस चूरन को रख लेना चाहिये /

एक ग्राम चुर्ण को लेकर दान्तों में मलना चाहिये / जो ब्रश से इस मन्जन को लेकर उपयोग करना चाहे वे ब्रश के साथ इसे दान्तों में मल सकते है / जिन्हें दान्तों मे दर्द हो, मसूढों मे दर्द हो, जिनके दान्त सेन्सिटिव हो गये हों, ठन्डा या गरम पानी लगता हो, या हवा या छूने से दर्द होता हो या दान्तों की अन्य कोई तकलीफ हो , उन सबमे यह दन्त मन्जन असर करक है /

मन्जन करते समय यदि इसमें एक बून्द “नीम का तेल” मिला लें और फिर मन्जन करें तो मुख रोग के लिये यह एक उत्कृष्ठ औषधि हो जाती है /

जिनके दान्त कमजोर हो गये हैं , मसूढॊ के विकर हों, पायरिया से पीडित हों , दान्त हिलने लगे हों और जड़ से कमजोर हो रहे हों, उनको यह मन्जन अवश्य उपयोग में लेना चाहिये /

नीम के तेल को इस मन्जन में मिला लेने से यह मन्जन दान्तों के सभी प्रकार के infection को दूर कर देता है, दान्तों में लगे हुये कीड़ों को यह नष्ट कर देता है /

इस मन्जन को ब्रश से न लगाकर यदि उन्गलियों से मन्जन करते है तो अधिक फायदा करता है और शीघ्र लाभकारी है /

Advertisements

ETG AyurvedaScan recorded traces of a case of CARDIAC SURGERY including grafting of arteries ; Impacts on body due to changes of Electrical behaviour


This is a case of Open Heart CARDIAC SURGERY including grafting of arteries, done eight years back.

The patient originally belongs to Ahamadabad , Gujarat and he came to his relative  at Kanpur during HOLI vacation, , where he heared about the newly invented Ayurveda technology ETG AyurvedScan by his relations.

When I recorded his ETG traces, it was an amazing  and wonderful experience to me at academic level in view of research , which  is unusual, rare and very peculiar.

OBSERVATION of the recorded traces;

1- See minutely the recorded traces and observe the ELECTRICAL BEHAVIOUR  of the patient, which is very peculiar

2- The ELECTRICAL BEHAVIOUR  is not met with the parameters of general recorded traces and in view of NORMAL ELECTRICAL BEHAVIOUR  of human body. 

3- In this case, we have observed that in every second and in every heart beat in “e” recorded trace, the waves “c” “d” “e” “s” are at one time in ‘upward’ [positive] direction and at the immediate next movement in  ‘downward’ [negative] defelection shows.

 4- The same lead shows absence of “c” wave in upward trace and “e” wave in down trace.

 5- The electrical behaviour of this patient is in ‘clock like direction’ that means the flow of body current is from right to left in circular nature. 

6- Due to frequentaly and second to second, electrical behaviour changes in body , patient have sudden HIGH and sudden LOW Blood pressure, which causes him uneasiness and uncomfort in his daily work. He is not able to sleep well in night and move in nightoff and on, when all members of his family sleeps.

 Many more anomalies have developed with the patient, which was not to patient earlier.

Below is the followup ETG AyurvedaScan , recorded on 20 / 08 /2011. See and observe the changes in Electrical Behaviour of the patient.

 Obsrvation with the comparision of the earlier recorded trace shows tremendous changes in the traces recorded afterwards.

First Follow-up ETG AyurvedaScan , recorded on 20 / 08 /2011. See and observe the changes in Electrical Behaviour of the patient.

First Follow-up ETG AyurvedaScan , recorded on 20 / 08 /2011. See and observe the changes in Electrical Behaviour of the patient.

 Obsrvation with the comparision of the earlier recorded trace shows tremendous changes in the traces recorded afterwards.

On 20 March 2011, when patient first visited in clinic , he gave the following complaints, which developed  after cardiac surgery . 

  1. 1.     Fever always persisted in between 99 F to 100 F degree.  After five months Ayurvedic treatment , fever is cured. No problem again reappeared.
  2. 2.     Rapid respiration , severe Dyspnea on least movement, even moving body and changing postures. After five months Ayurvedic treatment , resoiratory problem is cured. No problem again reappeared.
  3. 3.     Lumber pain since 7 years, now cured
  4. 4.     Gaining weight after cardiac surgery , which was 90 kgs on 20/08/2011. Now after five month the weight is 83 kgs.
  5. 5.     Swelling in whole body, now he have no swelling in his body
  6. 6.     Severe constipation and goes for stool after two / three days, now he is going daily stool. No constipation.
  7. 7.     Infection in blood was present before five months, now presently have no infection

 On 20th August 2011, patient followup was recorded. Patient belongs to Ahamadabad , Gujarat. He was happy with his progress of his problem aroused after grafting of artery in his heart.

 Conclusion; In conclusion, it shows that ETG AyurvedaScan system is beneficial on those disease conditions , where it is supposed no treatment. The patient is again given a fresh prescription on the new findings of the ETG report.

An ETG AyurvedaScan Tracings of 22 years old lady suffering from HYSTERIA disorders


This is a case of a 22 years old lady suffering from HYSTERICAL FITS, when she was 15 years old. She belongs to FAIZABAD district of UP. Her elder sister is suffering from LEUCODERMA disorders of whole body and is recovering with the black colors of the skin by my treatment basing on the line of the findings of ETG AyurvedaScan.

Seeing recovery of the disease condition of her elder sister’s LEUCODERMA and allied complaints, which is said an INCURABLE disease  and was maltreated earlier, her gaurdians decided to treat the lady by me. Her ETG AyurvedaScan was done. 

See and observe the above three traces, which provides the data of the complaints she have.

“a” trace is showing the tendency of LOW BLOOD PRESSURE and an acute sudden attack of anxiety, while traces were recorded. See the gaps of the waves, tall peaked waves at one instance have a gap of 15 , comparatively other one is having 17.5

“b” trace is showing the similar trend

“c” trace is showing the internal activity of BRAIN , marked arrow shows the abnormal waves pattern than recorded regular, sudden brain excitement changes the electrical behaviour of the visceral activities

Lady is suffering from Hysterical fits, when she was 15 years old. She took Allopathic treatment, Ayurvedic treatment and Homoeopathic treatment without any result,

Today, on 16 March 2011 her ETG AyurvedaScan recorded and we have studied that she is having more anomalies , which triggers her complaints.

We are starting treatment and time to time we will provide the progress of the patient for entire readers.

Second visute on SUNDAY,03rd April 2011 ; After 15 days Ayurvedic medicines intakes, she have almost no attack of HYSTERICAL FITS, while it was common to her  earlier that she have attack of the HYTERIA after two or three days.

She have again taken 15 days Ayurvedic medicine and we are watching the further followup.

Next followup on  01 May 2011 ;

The Lady Patient  belongs to FAIZABAD  DISTRICT , her father

came to Kanpur on 01 , May 2011 and collected medicine for further 15 days . Her father narrated to me that she is almost normal except some times she feels unesiness.

I clarified her father that it is due to tendency of the hysterical fits, earlier  she have , therefore due to this tendency , she is feeling uneasiness sometimes. 

A case of Chronic THROMBOCYTOPENIA ; Reduced Platelet production ; Treated successfully by Ayurvedic medicines on basis of the findings of Electro Tridosha Graphy; ETG AyurvedaScan Report


This is a case of an Allopathic physician aged 60 years, who suffered from Viral Dengue hyperpyrexia and allied syndromes like Muscular-skeletal joints and articulation problems in August, 2006. He took allopathic medicines for his ailments, which relieved his Dengue problem but he suffered from joints and other syndromes.

After Blood pathological examination , this came in his notice that his platelets counts became down upto 15 thousands, a normal count is 1 lack 50 thousands to 4 lack 50 thousand, that created an agony to physician. His Hemoglobin became 6 mg% and for that he required to transfuse blood. He was advised to take 40 milligrams STEROID daily. He was admitted SGPGI Lucknow for three months. The practice of treatment was in run throughout four and half years.

One patient of mine asked the Physician, that Dr DBBajpai is treating patient on the basis of the findings of a newly invented technology ETG, if he desire for Ayurvedic treatment, he should go to Dr Bajpai and consult him.

The physician came to me and narrated his all story, I suggested him to go for an ETG examination.

The following wordsheet will provide all the data.

On the basis of the data, it is concluded that the patient is having , three main problems;

1- Bowel’s pathophysiology is present
2- Hepatospleenomegaly is present
3- Blood anomaly is present

The following Ayurvedic medicines were prescribed;

a- Kutajghan vati one pills
b- Arogyavardhini vati one pills
c- Gandhak Rasaayan one pills

To be taken Morning and Evening one dose daily with plain water

d- Sarivadyaasav 20 milliliters with equal quantity of water after Lunch and after Dinner

Patient was advised to carry treatment 90 days continuous.

On 6th January 2011 , pt came and told me that he is not taking STEROID from last two months and his swelling of whole body is vanished and other syndromes are relieved. His Blood platelets count is now 80 Thousand and he is feeling well than before.

I advised him to carry similar medicines for again 60 days. I told him that medicines will be changed after second ETG AyurvedaScan findings.

Comments; Ayurvedic treatment based on the findings of ETG AyurvedaScan is always fruitful and result oriented, which we have experienced after treating thousands of cases in our practice.

ई०टी०जी० आधारित एक आरोग्य प्राप्ति का केस ; रक्त की प्लेट्लेट्स का अत्यधिक कम हो जाने की बीमारी ; A case of 15000 Fifteen Thousand PLATELETS Blood counts


यह केस एक एलोपैथी के ६० साल की उम्र के चिकित्सक का है, जिनको साढे चार साल पहले अगस्त, सन २००६ में “वाइरल डेन्गू बुखार” हुआ था / इनका कई माह तक एलोपैथी का इलाज चला, जिससे डेन्गू बुखार तो चला गया लेकिन जोड़ो और मान्स्पेशियों का दर्द तथा दूसरी शिकायतें बनी रही /

रक्त की जान्च करने पर पता चला कि इनके रक्त की प्लेट्लेट्स १५ हजार और हीमोग्लोबिन ६ मिलीग्राम प्रतिशत तक पहुन्च गया है / इस हालत में इनको रक्त चढवाना पड़ा और चिकित्सकों ने इनको ४० मिलीग्राम स्टेरायड प्रतिदिन लेते रहने के लिये कहा / लगभग चार साल से रक्त चढवाने और Steroid खाने का सिल्सिला चल रहा था / SGPGI, Lucknow मे तीन माह भर्ती रह कर इलाज करवाया लेकिन हालात में कोई सुधार नहीं हुआ /

किसी मरीज ने इन डाक्टर साहब को आयुर्वेद की नई आविष्कृत की गयी तकनीक ई०टी०जी० आयुर्वेदास्कैन के बारे मे बताया / दिनान्क ०६ अक्टूबर २०१० को यह चिकित्सक महोदय मेरे पास consultation के लिये आये / मैने उनसे कहा कि आपको एक ई०टी०जी० परीक्षण करना पड़ेगा तभी पता चल पायेगा कि आपके शरीर के अन्दर क्या गड़्बड़ी है /

उनका परीक्षण इसी दिन किया गया जिसमें निम्न फाइन्डिन्ग्स आयीं /

[१] त्रिदोष ; [समस्त पैरामीटर्स की सामान्य वैल्यू 95 e.v. से लेकर 99 e.v. तक]

कफ १३४.३१ ई०वी० प्रतिशत
पित्त १११.०९ ” ”
वात ६३.५६ ” ”

[२] त्रिदोष भेद ; [समस्त पैरामीटर्स की सामान्य वैल्यू 95 e.v. से लेकर 99 e.v. तक]

{सभी मान ई०वी० में e.v. means ETG value}

भ्राजक पित्त १४५.८७
लोचक पित्त १०४.८६
पाचक पित्त ८५.५५
साधक पित्त ८३.९४
अवलम्बन कफ ७८.०५
रन्जक पित्त ७६.१९
रसन कफ ७१.४४
उदान वात ६९.५९
श्लेष्मन कफ ६४.१७
व्यान वात ५९.२२
समान वात ४०.१५

[समस्त पैरामीटर्स की सामान्य वैल्यू 95 e.v. से लेकर 99 e.v. तक]

[3] सप्त धातुये ; [समस्त पैरामीटर्स की सामान्य वैल्यू 95 e.v. से लेकर 99 e.v. तक]
मेद १२२.१३
मान्स १२०.९३
रस ११४.८०
शुक्र १११.१३
मज्जा १०८.३४
रक्त १०५.८२
अस्थि १०४.५३

[४] शरीर में व्याप्त कार्य विकृति Pathophysiology और विकृति Pathology की उपस्तिथि की स्तिथियां [समस्त पैरामीटर्स की सामान्य वैल्यू 95 e.v. से लेकर 99 e.v. तक]
Autonomic Nervous system 157.14
Thoracic region/spine/cage 140.00
Body Fat 122.13
Liver/Pancrease/spleen 117.50
Metabolism 114.00
Blood Anomalies 105.80
Skin ailments 106.00
Thyroid pathophysiology 61.67
Spleen pathophysiology 60.00
Thymus pathophysiology 57.14
Liver pathophysiology 54.00
Epigastrium pathophysio 46.00
Abdomen/Intestines/colon 44.00
Prostate pathophysio 37.21
Intestines pathophysiology 35.56

[5] रोग निदान / Diagnosis of disease conditions
a- Blood anomaly
b- Bowel’s pathophysiology
c- Colon Inflammatory condition with swelling and hardness
d- Dull mental behaviour
e- Enlarged Liver with poor function
f- Hormonal anomalies
g- Pancreatic pathophysiology
h- Renal anomalies
i- Spleenomegaly ? Hepatospleenomegaly
j- Swelling in whole body

ई०टी० जी० आधारित रोग निर्धारण और औषधियों का चयन

रोगी जब परामर्श और चिकित्सा व्यवस्था के लिये आया तो ई०टी०जी० रिपोर्ट के आधार पर निष्कर्श निकाला गया कि इस रोगी को “कफ़ज पित्तज” व्याधि है / त्रिदोष भेद में यही बात सामने आयी /

सप्त धातुयें भी सामान्य से अधिक की ओर अपना झुकाव दर्शा रहीं है / इसका अर्थ यह निकला कि इस रोगी का मेटाबालिज्म की प्रक्रिया अधिक की ओर और तेज है / यह मरीज की Pathological condition को इन्गित कर रहा है /

इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी की पुरी रिपोर्ट का अध्ध्यन करने के पश्चात conclusion में तीन बातें समझ में आयी/

१- मरीज की आन्तों में सूजन है यानी Bowel’s Pathophysiology है /

२- यकृत और प्लीहा दोनों का बढा होना

३- रक्त की दुष्टि यानी Blood Anomaly

उक्त निष्कर्ष को ध्यान में रखते हुये इस मरीज को निम्न औषधियां prescribe की गयी /

अ- कुटज घन वटी १ गोली ; आन्तों की सूजन और विकृति के लिये
आरोग्य वर्धिनी वटी १ गोली ; यकृत प्लीहा के विकार के लिये
गन्धक रसायन १ गोली ; रक्त दुष्टि के लिये

सभी गोलियां एक साथ सुबह और शाम दिन में दो बार सादे पानी से खाने के लिये निर्देशित किया गया /

ब- सारिवद्यासव २५ मिलीलीटर बराबर पानी मिलाकर दोपहर और रात भोजन करने के बाद ; सप्त धातुओं की पुष्टि के लिये

रोगी से कहा गया कि वह इन सब दवाओं को लगातार ९० दिन तक सेवन करे , बाद मे प्रामर्श करे /

दिनान्क ०६ जनवरी २०११ को मरीज दिखाने आया / उसके सारे शरीर की सूजन एक्दम ठीक थी / मरीज रोजाना ४० मिलीग्राम steroid खाता था, वह अब उसने खाना बन्द कर दिया है , क्योंकि उसको steroid खाने की अब जरूरत नही लगी / उसका platelets count १५ हजार से बढ कर ८० हजार हो गया है, सामन्य तया शरीर में platelets की सन्ख्या रक्त में १ लाख पचास हजार से लेकर ४ लाख तक होती है / उसे बार बार हर पन्द्रह दिनों में रक्त चढवाना पड़्ता था, वह दो महीने से नही करना पड़ा / जो अन्य तकलीफें थी जैसे शरीर में फुन्सियां निकलना और शरीर में काले चकत्ते पड़ना, वह सब ठीक है /

चिकित्सक महोदय से मैने कहा कि आप अभि यही दवा खाते रहिये और मार्च २०११ में एक दूसरा ई०टी०जी० परीक्शण करा ले, उसके बाद जो भी फाइन्डिन्ग्स आयेंगी , तदनुसार दवा परिवर्तन कर दिया जायेगा /

Comments; आधुनिक चिकित्सा विग्यान में इस बीमारी  के इलाज के लिये केवल Steroid दवा के अलावा अन्य कोई दूसरी दवा है ही नहीं / सभी को पता है कि Steroid  का उपयोग शरीर के लिये कितना खतरनाक है / आयुर्वेद के इलाज के लिये ई०टी०जी० तकनीक आधारित चिकित्सा हमेशा फायदा देती है / 

What contains an Electro Tridosha Graphy ; ETG AyurvedaScan Report ?


Electo Tridosha Graph recorded by the ETG Machine

Electo Tridosha Graph recorded by the ETG Machine

An Electro Tridosha Graphy ETG AyurvedasScan Report contains the following pages ;

 

1-       The first page of the ETG report is having “relevant informations about the patient and institution”, where test is performed.

2-       The second page of the ETG report provides “information of the diseases and ailments.”

3-       The Third page of the ETG report is provides data of the “Selected and important Scanned Organs with their intensities.”

4-       The Fourth & Fifth & Sixth page of the ETG report provides data of the BODY SYSTEMS in segregated forms.

5-       The Seventh page of the ETG reports provides the data of the AYURVEDIC FUNDAMENTALS i.e. (a) Prakruti (b) Vikrati of Tridosha (c) Tridosha Bhed (d) Sapta Dhatu (e) Tridosha affected Sapta Dhatu (f) Three mala – purish,mutra,swed (g) Oaj & sampurn Oaj

6-       The eight page provides the data of the “Scanned Body Parts” i.e. evaluation of Head area, Hypochondrium, suptapubic etc etc.

7-       The Ninth page contains the Tridosha Vikrati in patient and  shows different characters, sign and symptoms evaluation of Vata, Pitta & Kappha in Alphabatical list wise.

8-       The contents of Ninth page is given in Tenth page, which is in Lowest to highest value of the characters of the Vata , Pitta and Kapphaa.

9-       The Eleventh page  contains the  Summery  of the main complaints in lowest to highest orders.

10-   The Twelth page provides the medicine selection points for accurate  prescribing. In this page AUTOMTIC SELECTION OF AYURVEDIC MEDICINE comes out for quick and easy and immediate prescribing to patient.

11-    The Thirtieth page  provides the data of the characters, sign and symptoms  of the Seven Sapta Dhatu from lowest level to highest level .

12-   The Fortienth page of the report  provides the data of the Seven Sapta Dhatu in Alphabetical order with their intensities.

13-   The Fiftienth page provides the recorded traces by ETG Machine for physicians evaluation

14-   The Sixtienth page provides the cardinal information about the ETG Technology to Ayurveda physicians.

15-   The Seventieth page provides the LOGO of the ETG and the Institute.

 

The ETG Technology is in progressive stage. New data are included time to time after hard clinical testing, clinical evaluation, clinical confirmation and patient examination.

 

Because of, this Ayurveda Scan is a Whole Body Scanner; therefore new datas are included accordingly. The pages of the report  thus increases , which helps the Ayurvedic physician, Ayurveda Doctor and Vaidya for better and confirmed management , diagnosis and remedial selection with confidence.

 

इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी ई०टी०जी० मशीन का निर्माण कार्य आज दिनान्क २६ सितम्बर २००९ शुभ दिन शनिवार “दुर्गा अष्टमी” के दिन से शुरू : Fabrication of Electro Tridosha Graphy E.T.G. Machine begins from today dated 26 September 2009 on the pious day of “Durga Ashtami”


ईश्वर की कृपा, भगवान धनवन्तरि देव के आशिर्वाद और माता दुर्गा भवानी की अनुकम्पा से आज दिनान्क २६ सितम्बर २००९ को कई वर्षों से लम्बित आयुर्वेद चिकित्सा विग्यान के लिये नवीन आविष्कृत रोगों के निदान ग्यान और आयुर्वेद के मौलिक सिद्धान्तों को साक्ष्य स्वरूप प्रस्तुत करने वाली तकनीक इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी ई०टी०जी० मशीन का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है ।

इसके निर्माण कार्य में लगे हुये हार्डवेयर और साफ़्ट वेयर इन्जीनियरों ने बताया है कि वे इस मशीन का निर्माण एक निश्चित समय सीमा के अन्दर कर देंगें ।

इस मशीन में २१ से अधिक लीड की रेकार्डिंग एक साथ होगी और रिकार्डिंग के साथ ही तत्काल रिपोर्ट मिल जायेगी जिसमे कुछ मिनटॊं का समय लगेगा ।

हमारा प्रयास रहेगा कि इस मशीन को अत्याधुनिक तकनीक से लैस किया जाये । हलाकि इसके साथ एक लैप्टाप कम्प्यूटर तथा एक प्रिन्टर की आवश्यकता होगी । मशीन और साफ्ट वेयर इनके साथ ही यू०एस०बी० पोर्ट से जोड़े जायेंगे । मशीन से जुड़े सेन्सर रोगियों के शरीर में निर्धारित स्थानों पर चिपकाये जायेंगे ।

जैसा कि सभी जानते हैं कि अभी तक इस परीक्षण के लिये हृदय रोग की जान्च के लिये प्रयोग की जाने वाली इलेक्ट्रो कार्डियो ग्राफी ई०सी०जी० मशीन के केवल रिकार्डर का उपयोग आयुर्वेद के इस स्कैन ई०टी०जी० के लिये किया जाता है । इस रिकार्ड किये गये ट्रेस को बाद में कम्प्य़ूटर की मदद से मैनुअली तरीके से रिपोर्ट बनायी जाती थी जिसमें लगभग २ घन्टे लग जाते थे । प्रस्तावित मशीन केवल कुछ मिनटॊ में यह काम पूरी कर देगी ।

एक्यूट मायेलायड ल्यूकीमिया: Acute Myeloid Leuceamia ; छह माह कप्रेग्नेन्ट महिला का ई०टी०जी० रिकार्ड और रिपोर्ट : E.T.G. Record of Six month’s Pregnent Lady with their complications


यह एक बीस साल की प्रेग्नेन्ट महिला का ई०टी०जी० ट्रेस रिकार्ड है । इसे देखिये और समझिये कि ई०टी०जी० किस प्रकार आयुर्वेद के शोध कार्यों में और समान्य चिकित्सा अभ्यास में फल दायी सिद्ध हो चुका है ।

इस  महिला के परिवार के जिम्मेदार व्यक्ति हमारे कैण्ट केन्द्र में पूर्व में किये गये इलाज और परीक्षण रिपोर्ट लेकर आये और हकीम शरीफ अन्सारी को कन्सल्ट किया । परीक्षण रिपोर्ट में खून की जान्च प्रमुख थी ।

खून की जान्च रिपोर्ट निम्न प्रकारहै :

Total Leucocyte counts : 43, 400  तेंतालिस हज़ार [Normal: 4000 -11000/cmm]

Heamoglobin 04.8 mg% [Normal 12- 16 mg/dl]

Sodium ,Pottassium  , Calcium Level  ये सब सामान्य से नीचे

अल्ट्रा साउन्ड परीक्षण से पता चला की रोगिनी के  छह माह की प्रेगनेन्सी है

pathology1

pathology;;2

pathology;;3

pathology;;4

रोगिणी ने कानपुर और लखनऊ शहर  के सभी बड़े चिकित्सा सन्सथानों मे जाकर दिखाया, सभी एलोपैथी के चिकित्सकों ने कहा किने कहा कि इस बीमारी की अवस्था का हमारे पास कोई इलाज नहीं है ।

 

रोगिणी की कोई रिश्तेदार हकीम शरीफ के पास इलाज करा चुकी थी , इसलिये रोगिणी कन्सल्टेशन के लिये हकीम सहब के पास आयी थी ।

 

pregnency-1

pregnancy-2

pregnency3

pregnancy4

pregnency-5pregnancy-6 

preganancy-11preganancy-7

preganancy-9

preganancy-10

हम इस रोगिणी की चिकित्सा कर रहे है  । इसे आयुर्वेदिक दवायें दे रहे हैं ।

समय समय पर इस रोगिणी की हालत के बारे में , इसी ब्लाग के माध्यम से , जानकारी देने का प्रयास किया जायेगा ।

Updated case report: [Dated 30 August 2009]

इस रोगिणी को सात दिन की आयुर्वेदिक दवा दी गयी थी । रोगिणी के पिता ने एक हफ्ता दवा खाने के बाद के परिणामों को बताते हुये कहा कि ” अब रोगिणी की हालत पहले से बेहतर है और उसके स्वास्थय में सुधार हुआ है” ।

रोगिणी के पिता एक हफ्ते की और दवा लेकर चले गये हैं ।

Updated report: 05.09.2009

Patient visited our center with cheerful smile. We examined her and asked several questions regarding her health condition.

She expressed her views about her health . We were satisfied about her health condition after examination. We asked her father to go for Blood examination DLC and TLC etc.

Patient belongs to Country side area and a remote district away from Kanpur.

Her General condition is much better , when we saw her earlier.Now she is running in her Eight month pregnency duration.

Update on 15 September 2009 ;;;

A pathological ivestigation done on the 09 September 2009.

 

The report copy is presented here. Anybody can see in the report that patient’s heamoglobin increased 2 percent and TLC becomes normal range.

pathology5

इलेक्ट्रो त्रिदोष ग्राफी ई०टी०जी० की विकास यात्रा का चतुर्थ वृतांत: Fourth developmental stage of ETG Tek


सन २००५ में ई०टी०जी० तकनीक में उसी प्रकार से सभी प्रयास किये जा रहे थे, जितना सम्भव हो सकता था । जैसा कि पहले कहा जा चुका है कि इस तकनीक के बारे में वैद्य समाज को सूचना देने के लिये पत्र तथा अखबारों का सहारा लिया गया था ।

जुलाई सन २००५ में मुझे आयुर्वेद-आयुष विभाग, स्वास्थय एवं परिवार कल्याण मन्त्रालय, भारत सरकार, नई दिल्ली द्वारा पत्र से सूचित किया गया कि ETG technology से सम्बन्धित कार्य, निदेशक, केन्द्रीय आयुर्वेद एवं सिद्ध अनुसन्धान परिषद, अनुसन्धान भवन, जनक पुरी, नई दिल्ली द्वारा सम्पन्न कराये जायेंगे, यदि इसे ठीक समझा गया तो ।

सितम्बर सन २००५ में Director, Central Council for Research in Ayurveda and Siddha, CCRAS द्वारा भेजा गया पत्र मिला, जिसमें अक्टूबर २००५ में मुझे कौन्सिल में आकर तकनीक का विस्तृत “वैज्ञानिक Presentation और सम्पूर्ण details ” देने के लिये अनुरोध किया गया था । मुझे कानपुर से दिल्ली आने जाने का 2nd Sleepar class का रेलवे टिकट का पैसा भी दिया गया ।

अक्टूबर २००५ में, मैं अपने ETG tek से सभी सम्बन्धित Documents, CD Presentation लेकर CCRAS, New Delhi गया तथा वहां कमेटी रूम में प्रोजेक्टर की सहायता से प्रेजेन्टेशन प्रस्तुत किया । यह Presentation एक Technical experts की टीम के सामने प्रस्तुत किया गया था । यहां भी इस तकनीक से समबन्धित तरह तरह के सवाल पूछे गये, जिनका मैने उत्तर दिया ।

etcmachine1

Picture shows : Changes done by Dr. Desh Bandhu Bajpai, according to the need of Ayurveda Medical science

पहली बार जब आयुष विभाग में मैने प्रेजेन्टेशन दिया था, उससे यह प्रेजेन्टेशन ज्यादा बेहतर था । क्योंकि मैने बहुत मेहनत के साथ इस तकनीक के सारे पहलुओं को वैज्ञानिक दृस्टिकोण के साथ प्रस्तुत करने की चेष्टा की थी । यहां जिन विषयों पर चर्चा की गयी थी, वे विषय Cardiology, Human Physiology, Human Anatomy, Physics, Maganetism, Electronics आदि आदि से सम्बन्धित थे ।

मैने Technical experts को बताया कि ECG machine एक “गैल्वेनिक रिकार्डर” है । शरीर के अन्दर के अन्ग जिस तरह की और जिस intensity level की Electro maganetic emissions होती है, उसे इन्टेन्सिटी के लेवल के हिसाब से यह रेकार्ड कर लेता है, जिसे ट्रेस रिकार्ड कहते हैं । इस प्रक्रिया में Electro Physiology, Action potencial, Ion potencial, Membrane Potential, Electrolytes आदि आदि का समावेश होता है । प्राप्त किये गये Trace record को जांचा जाता है और विशेष प्रकार से develop किये गये software में फीड करके आयुर्वेद के मौलिक सिद्धान्तों का आन्कलन किया जाता है । बाद में शरीर में व्याप्त रोगों की “रोग निदान” की प्रक्रिया की जाती है, जिसमें सेक्टर के हिसाब से Trace examine करते हैं । इस तकनीक में केवल ECG machine का उपयोग बहुत से परिवर्तन के साथ किया गया है और केवल मात्र इसका Galvenic Recorder ही इस्तेमाल करते हैं ।